RBSE Solutions for Class 8 English Honeydew Chapter 10 The Great Stone Face 2

Rajasthan Board RBSE Solutions for Class 8 English Honeydew Prose Chapter 10 The Great Stone Face 2 Textbook Exercise Questions and Answers.

The questions presented in the RBSE Solutions Class 8 English are solved in a detailed manner. Get the accurate RBSE Solutions for Class 8 all subjects will help students to have a deeper understanding of the concepts. Our team has come up with Story Writing for Class 8 to ensure that students have basic grammatical knowledge.

RBSE Class 8 English Solutions Honeydew Chapter 10 The Great Stone Face 2

RBSE Class 8 English The Great Stone Face 2 Textbook Questions and Answers

Working with the Text 
 
Answer the following questions. 

निम्न प्रश्नों का

Question 1. 
How was Ernest different from others in the valley? 
अर्नेस्ट घाटी में अन्यों से भिन्न कैसे था? 
Answer:
Emest had wise thoughts in his mind. College professors, and active men of cities came to see and converse with him. He behaved with gentle sincerity. He spoke from his heart. Sometime his face would brighten on the visitor His words harmonised with his deeds. 

RBSE Solutions for Class 8 English Honeydew Chapter 10 The Great Stone Face 2

अर्नेस्ट के अपने मस्तिष्क में विवेकपूर्ण विचार थे। कॉलेज के प्रोफेसर व शहरों के सक्रिय व्यक्ति उससे मिलने व वार्ता करने आते थे। वह विनम्र सद्भाव से व्यवहार करता था। वह अपने हृदय से बोलता था। कभी-कभी उसका चेहरा आगंतुक पर चमक बिखेरने लगता। उसके शब्दों व कार्यों में समानता थी। 

Question  2. 
Why did Ernest think the poet was like the Stone Face? 
अर्नेस्ट ने क्यों सोचा कि कवि प्रस्तर चेहरे जैसा था? 
Answer:
Emest thought the poet was like the Stone Face because he was moved by the living images flung out of the poet's mind. 

अर्नेस्ट ने सोचा कि कवि प्रस्तर चेहरे जैसा था क्योंकि वह उन जीवन्त बिम्ब-चित्रों से प्रभावित था जो कवि के मस्तिष्क से बाहर निकले थे। 

Question 3. 
What did the poet himself say about his thoughts and poems? 
कवि ने स्वयं अपने विचारों व कविताओं के विषय में क्या कहा? 
Answer:
The poet said that his thoughts had distant voice of a heavenly song but they didn't correspond with his life. Sometimes he lacked faith in his own thoughts. About his poems he said that the life and character of Ernest were a nobler strain of poetry than he had ever written, 

RBSE Solutions for Class 8 English Honeydew Chapter 10 The Great Stone Face 2

कवि ने कहा कि उसके विचार ईश्वरीय गीत की दूरस्थ आवाज रखते थे किन्तु वे उसके जीवन से मेल नहीं खाते थे। कभी-कभी तो उसे अपने स्वयं के विचारों में विश्वास की कमी लगती थी। अपनी कविताओं के बारे में उसने कहा कि अर्नेस्ट का जीवन व चरित्र, कवि द्वारा लिखी गई सभी कविताओं से, उच्चतर प्रकार की कविता था। . 

Question 4.
What made the poet proclaim Ernest was the Stone, Face? 
किस बात ने कवि से यह घोषणा कराई कि अर्नेस्ट ही वह प्रस्तर चेहरा था? 
Answer:
Ernest preached what he practised. He had a life of good deeds and selfless love. He had mild, sweet and thoughtful face with white hair diffused about it and with white brows. When white mists appeared around the Great Stone Face, the poet found resemblance in their faces. This made the poet proclaim Ernest was the Stone Face.

अर्नेस्ट ने वह सीख दी जिसका उसने अभ्यास किया था। वह शुभ कर्मों व नि:स्वार्थ प्रेम का जीवन जीता था। उसका चेहरा मृदुल, मधुर व विचारशील था जिस पर सिर के सफेद बाल बिखरे हुए थे व सफेद भौंहें थीं। जब सफेद कोहरा विशाल प्रस्तर चेहरे के चारों ओर फैला, तो कवि को इन दोनों के चेहरे में समानता नजर आई। इस बात ने कवि से यह घोषणा कराई कि अर्नेस्ट ही वह प्रस्तर चेहरा था।

Question 5.
Write 'Ernest' or 'Poet', against each statement below.  
प्रत्येक कथन के नीचे अर्नेस्ट या कवि लिखें।
(i) There was a gap between his life and his words. 
(ii) His words had the power of truth as they agreed with his thoughts. 
(iii) His words were as soothing as a heavenly song but only as useful as a vague dream,  
(iv) His thoughts were worthy.
(v) Whatever he said was truth itself 
(vi) His poems were noble. 
(vii) His life was nobler than all the poems. 
(viii) He lacked faith in his own thoughts. 
(ix) His thoughts had power as they agreed with the life he lived. 
(x) Greatness lies in truth. Truth is best expressed in one's actions. He was truthful, therefore he was great. 
Answer:
(i) Poet 
(ii) Emest 
(iii) Poet 
(iv) Poet 
(v) Emest 
(vi) Poet 
(vii) Ernest 
(viii) Poet 
(ix) Ernest 
(x) Ernest.

RBSE Solutions for Class 8 English Honeydew Chapter 10 The Great Stone Face 2

Question 6.
(i) Who, by common consent, turned out to be like the Great Stone Face ? 
कौन, आम सहमति द्वारा, विशाल प्रस्तर चेहरे जैसा पाया गया? 

(ii) Did Ernest believe that the old prophecy had come true? What did he say about it ? 
क्या अर्नेस्ट ने विश्वास किया कि पुरानी भविष्यवाणी सत्य सिद्ध हो चुकी थी? उसने इसके बारे में क्या कहा? 

(i) Ernest, by common consent, tumed out to be like the Great Stone Face.
अर्नेस्ट, आम सहमति द्वारा, विशाल प्रस्तर चेहरे जैसा पाया गया।

(ii) No, Emest didn't believe that the old prophecy had come true. About it he said that some wiser and better man than himself would by and by appear, bearing a resemblance to the Great Stone Face. 

नहीं, अर्नेस्ट ने विश्वास नहीं किया कि पुरानी भविष्यवाणी सत्य सिद्ध हो चुकी थी। इसके बारे में उसने कहा कि कोई उससे अधिक बुद्धिमान व श्रेष्ठतर व्यक्ति बाद में प्रकट होगा जिसका चेहरा विशाल प्रस्तर चेहरे जैसा होगा। 

Comprehension Check 

Page 132 

Write 'True' or 'False against each of the following statements. 

1. Ernest's words reminded people of the wise old sayings.................... 
2. Total strangers from far away, who visited Ernest in the valley, found his face familiar.
3. The Great Stone Face confirmed Ernest's view that the poet could be worthy of its likeness.
4. When Ernest and the poet met, they respected and admired each other equally.
5. The poet along with Ernest addressed the inhabitants of the valley ........ 
6. The poet realised that Ernest's thoughts were far nobler than his own verses.
Answer:
1. False
2. True
3. True
4. True
5. False 
6. True. 

Working with Language: 

Question 1.
Mark the meaning that best fits the word or a pharse in the story?
उस अर्थ पर निशान लगाइये जो कहानी में आये शब्द या : 

(i) (sun) going down 
(a) becoming smaller
(b) weakening
(c) setting
Answer:
(c) setting

(ii) brightening 
(a) making (it) look bright and cheerful
(b) lending (it) a special glow
(c) causing (it) to appear hopeful
Answer:
(b) lending (it) a special glow

(iii) spacious 
(a) lonely and wild
(b) big and wide
(c) special and important
Answer:
(b) big and wide

RBSE Solutions for Class 8 English Honeydew Chapter 10 The Great Stone Face 2

(iv) prophecy 
(a) proverb
(b) prediction
(c) rumour
Answer:
(b) prediction

(v) marvellous
(a) wonderful
(b) surprising
(c) shocking
Answer:
(a) wonderful

(vi) proclaim
(a) reveal
(b) declare
(c) shout
Answer:
(b) declare

(vii) cease 
(a) happen
(b) stop
(c) remain
Answer:
(b) stop

(viii) (a night’s) shelter 
(a) stay
(b) safety
(c) hospitality
Answer:
(a) stay

(ix) gazed 
(a) wandered about
(b) stared at
(c) thought of 
Answer:
(b) stared at

(x) took on (an expression) 
(a) challenged
(b) resembled
(c) assumed 
Answer:
(c) assumed 

Question 2.
(i) Do yourself. 
(ii) Which form of the verb is more natural in these sentences? Encircle your choice. 
इन वाक्यों में क्रिया का कौन सा रूप आपके लिए अधिक स्वाभाविक है? अपनी पसंद को गोला लगाइए। 
(a) I'm not free this evening. I will work/am working on a project. 
(b) Have you decided where you will go for your higher secondary? Yes, I have. I will go/am going to the Kendriya Vidyalaya. 
(c) Don't worry about the dog. It won't hurt/ isn't hurting you. 
(d) The weatherman has predicted that it will snow/is snowing in Ranikhet tonight. 
(e) Swapna can't go out this evening. Her father will come/is coming to see her. 
Answer:
(a) am working 
(b) will go 
(c) won't hurt 
(d) will snow 
(e) is coming 

RBSE Solutions for Class 8 English Honeydew Chapter 10 The Great Stone Face 2

Question 3. 
(i) Complete these pieces of conversation using will or going to with the verbs given.
 will going to me बातचीत के इन अंशों को पूरा करें। 
 
(a) Rani : Why are you turning on the radio ?
Ravi: I ................... (listen to the news. 

(b) Rani : Oh, I can't buy this book. I have no
money Ravi: Don't worry. I ...............(lend) you some. 

(c) Rani : Look at those dark clouds.
Ravi: I think it .................. (rain). 

(d) Rani : What shall we have for dinner?
Ravi: I can't decide. 
Rani : Make up your mind. 
Ravi: All right, then. We......... (have) fried rice and dry beans.

(e) Rani : Why are you filling the kettle with water? 
Ravi: I ................ (make) coffee. 

(f) Rani : We need some bread and butter for breakfast. 
Ravi: All right. ............. (go) to the bakery and get some. (Before he goes out, Ravi talks to their father.) 
Ravi: I ............ (get) some bread and butter. Do you want any thing from the bakery ?
Father: Yes, I want some salt biscuits.
Ravi : Fine, I .............. (get) yoų a packet.
Answer:
(a) will listen 
(b) will lend 
(c) is going to rain 
(d) will have 
(e) will make 
(f) will go, am going to get, will get

Seen Passages For

Comprehension 

Read the given passages carefully and answer the questions that follow :

Passage 1.

The years hurried on, and brought white hairs upon the head of Emest, and made wrinkles across his forehead and furrows in his cheeks. He was an old man. But not in vain had he grown old; more numerous than the white hairs on his head were the wise thoughts in his mind And Emest had ceased to be obscure. Unsought for, undesired, had come the fame which so many seek.

He had become famous beyond the limits of the valley. College professors, and even the active men of cities, came from far to see and converse with Emest, and he received them with gentle sincerity, and spoke freely with them of whatever came uppermost, or lay deepest in his heart or their own. While they talked together, his face would brighten, unawares, and shine upon them, as with a mild evening light 

RBSE Solutions for Class 8 English Honeydew Chapter 10 The Great Stone Face 2

1. Who came to meet Ernest ? 
अर्नेस्ट से मिलने कौन आये? 

2. How did Ernest receive the visitors ? 
अर्नेस्ट ने आगंतुकों का स्वागत कैसे किया? 

3. What happened sometime when they talked 
जब वे बातें करते तो कभी-कभी क्या होता था?

4. How famous was Ernest ? 
अर्नेस्ट कितना प्रसिद्ध था?

5. Find the one word from the passage which means,"many".

6. Find the opposites of the following from the passage : 
(i) new
(ii) passive 
Answers : 
1. College professors and the active men of cities came to meet Ernest. 
कॉलेज के प्रोफेसर व शहर के क्रियाशील व्यक्ति अर्नेस्ट से मिलने आये। 

2. Ernest received the visitors with gentle sincerity. 
अर्नेस्ट ने आगंतुकों का स्वागत विनम्र सद्भाव से किया। 

3. When they talked, his face sometimes would brighten unawares. 
जब वे बातें करते, तो कभी-कभी अकस्मात् उसका चेहरा चमकीला हो जाता था। 

4. Ernest was famous beyond the valley. 
अर्नेस्ट उस घाटी के परे भी प्रसिद्ध था। 

5. numerous 

6. (i) old 
(ii) active

Passage 2.

As Ernest listened to the poet, he imagined that the Great Stone Face was bending forward to listen too. He gazed into the poet's eyes. "Who are you, my gifted guest ?” he asked. The poet laid his finger on the book that Ernest had been reading "You have read these poems," said he.

RBSE Solutions for Class 8 English Honeydew Chapter 10 The Great Stone Face 2

"You know me, then, for I wrote them." Again and again, Ernest examined the poet's features, he turned towards the Great Stone Face then back. He shook his head and sighed. "Why are you sad ?" inquired the poet. “Because," replied Ernest, "All through life I have awaited the fulfilment of a prophecy, and when I read these poems, I hoped that it might be fulfilled in you." 

1. What did Ernest imagine ?
अर्नेस्ट ने क्या कल्पना की?

2. Why did Ernest sigh?
अर्नेस्ट ने आह क्यों भरी?

3. What did Ernest wait for all through his like? 
अर्नेस्ट ने अपने पूरे जीवन भर किसकी प्रतीक्षा की? 

4. Who is the gifted guest ? 
कौन प्रतिभाशाली मेहमान है? 

5. Find the word from the passage which means, "distinctive characteristic" 

6. Find the opposites of the following from the passage. 
(i) backward
(ii) host 
Answers : 
1. Ernest imagined that the Stone Face was bending forward to listen to them.
अर्नेस्ट ने कल्पना की कि प्रस्तर चेहरा उन्हें सुनने के लिए आगे झुक रहा था। 

2. Ernest sighed because the poet's features didn't resemble with the Stone Face. 
अर्नेस्ट ने आह भरी क्योंकि कवि की आकृति प्रस्तर चेहरे। से नहीं मिल रही थी। 

3. Emest waited for the fulfilment of a prophecy. 
अर्नेस्ट ने एक भविष्यवाणी के पूर्ण होने के लिए प्रतीक्षा 

RBSE Solutions for Class 8 English Honeydew Chapter 10 The Great Stone Face 2

4. The poet is the gifted guest. 
कवि ही प्रतिभाशाली मेहमान है। 

5. features 

6. (i) forward 
(ii) guest

Passage 3.

Ernest threw a look of familiar kindness around upon his audience. He began to speak to the people what was in his heart and mind. His words had power, because they agreed with his thoughts; and his thoughts had reality and depth, because they harmonised with the life which he had always lived. It was not mere breath that the preacher uttered; they were the words of life.

A life of good deeds and selfless love was melted into them. The poet, as he listened, felt that thelife and character of Ernest were a nobler strain of poetry than he had ever written. His eyes filled with tears and he said to himself that never | was there so worthy a sage as that mild, sweet, thoughtful face, with the glory of white hair diffused about it.

1. What type of look did Ernest throw on his audience?
अर्नेस्ट ने अपने श्रोतागण पर किस प्रकार की नजर डाली? .

2. Why had his words power?
उसके शब्दों में शक्ति क्यों थी?
 
3. What type of life Ernest had ? 
अर्नेस्ट का जीवन किस प्रकार का था? 

4. Who was worthy sage? 
एक योग्य मनीषी कौन था?

5. Write the one word for the following sentence, "mental or moral qualities that make a person different from others". 

RBSE Solutions for Class 8 English Honeydew Chapter 10 The Great Stone Face 2

6. Find the opposites of the following from the passage : 
(i) unfamiliar 
(ii) unworthy 
Answers:
1. Ernest threw a look of familiar kindness on his audience.
अर्नेस्ट ने अपने श्रोतागण पर चिर-परिचित दयालुता की नजर डाली। 

2. His words had power because they agreed with his thoughts 
उसके शब्दों में शक्ति थी क्योंकि वे उसके विचारों से मेल खाते थे। 

3. Emnest had the life of good deeds and selfless love.
अर्नेस्ट का जीवन शुभ कर्मों व नि:स्वार्थ प्रेम का था। 

4. Ernest was a worthy sage. 
अर्नेस्ट एक योग्य मनीषी था। 

5. character 

6. (i) familiar 
(ii) worthy.

The Great Stone Face 2 Summary and Translation in Hindi

कठिन शब्दार्थ एवं हिन्दी अनुवाद 

The years hurried .............. at a stranger. (Pages 128-129)

कठिन शब्दार्थ -

hurried on (हरिड ऑन) = जल्द निकले, furrows (फरोज) = झुर्रियां, numerous (न्यूमॅरेंस) = बड़ी संख्या में, ceased (सीस्ड) = बंद हो गया, obscure (अबस्क्यु अर) = अप्रसि (अनसोट) = 'बिना कोशिश, undesired (अनडिजाइअड) = अनचाही, converse (कॅनवॅस) = बात करना, sincerity (सिनसेरॅटि) = सच्चाई/ईमानदारी, uppermost (अपमोस्ट) = उच्चतम, unawares (अनॅवेअज) = अनजाने में,

pouring out (पोरिंग आउट) = उँडेलते हुए, forgotton (फॅगॉटन) = विस्मृत, celebrated (सेलिब्रेटिड) = ख्याति दी, customary (कसटॅमॅरि) = सामान्य/दैनिक, toil (टॉइल) = परिश्रम, worthy (दि) = योग्य, shelter (शेल्टर) = शरण, gladly (ग्लैडलि) = हर्ष से, hospitably (हॉस्पिटॅबलि) = उदारता से। 

हिन्दी अनुवाद -

वर्ष शीघ्रता से निकलते गए और अर्नेस्ट के सिर पर सफेद बाल उग आए और उसके ललाट पर झुर्रियाँ बन गई और उसके गालों में रेखाएँ। वह एक वृद्ध व्यक्ति था। लेकिन व्यर्थ में ही वह बूढ़ा नहीं हो गया था; उसके सिर के बालों से अधिक बड़ी संख्या उसके मस्तिष्क में विचार थे। और अर्नेस्ट का अप्रसिद्धि में रहना समाप्त हो चुका था। बिना कोशिश के, बिना चाहे वह प्रसिद्धि आ चुकी थी जिसे बहुत से तलाशते हैं, वह घाटी की सीमा से परे तक प्रसिद्ध बन चुका था।

कॉलेज के प्रोफेसर और यहाँ तक कि शहर के क्रियाशील व्यक्ति, अर्नेस्ट से मिलने व वार्ता करने दूर-दूर से आते थे, और वह सभी का विनम्र सदभाव से स्वागत करता था और उनसे स्वतन्त्र रूप से (उन विषयों पर) करता था जो उसके हृदय में या उनके में सबसे ऊँचे थे या गहनतम स्थापित थे। जबकि वे साथ बातचीत करते, तो भी उसका चेहरा 

RBSE Solutions for Class 8 English Honeydew Chapter 10 The Great Stone Face 2

चमक उठता, अकस्मात् ही, और एक मंद सायंकालीन रोशनी के जैसे उन पर चमकने लगता। जबकि अर्नेस्ट वृद्ध होता जा रहा था, ईश्वर ने इस पृथ्वी को एक नया कवि प्रदान कर दिया था। वह भी घाटी का उसने अपना मधर संगीत सभी जगह उँडेलते हए, जीवन का बड़ा हिस्सा दर के शहर में व्यतीत किया था।

न ही विशाल प्रस्तर चेहरा भुलाया गया था, क्योंकि कवि ने इसे अपनी कविता में प्रख्यात किया था। इस कवि के गीत अपना रास्ता अर्नेस्ट तक निकाल पाये। वह अपनी नित्य की मेहनत के उपरान्त, अपने छोटे से घर के दरवाजे के सामने रखी बेन्च पर बैठ जाता व इनको पढ़ता। जैसे ही वह पढ़ता साथ ही वह पर्वत की ओर अपने नेत्र उठाता। "अरे विशाल प्रस्तर चेहरे", उसने कहा, "क्या यह व्यक्ति तुम्हारा प्रतिरूप बनने के योग्य नहीं है?" 

वह चेहरा मुस्कराता-सा प्रतीत होता, लेकिन उत्तर नहीं देता था। - अब ऐसा घटित हुआ कि कवि, यद्यपि वह बहुत दूर रहता था, ने न केवल अर्नेस्ट के बारे में सुन रखा था बल्कि उसके चरित्र के बारे में बहुत विचार किया था और इस व्यक्ति से मिलना चाहता था जिसकी बुद्धिमानी तथा उसके जीवन की उदात्त सरलता हाथ में हाथ लिये साथ चलती थी।

इसलिए, ग्रीष्म ऋतु के एक दिन, वह अर्नेस्ट के दरवाजे पर साथ आया, जहाँ उसने उस भले वृद्ध व्यक्ति को अपने हाथ में एक पुस्तक थामे पाया, जो उसने पढ़ी थी और, फिर, पन्नों के बीच में एक उँगली के साथ, विशाल प्रस्तर चेहरे की ओर प्रेम से देखा। "नमस्कार", कवि ने कहा, "क्या आप एक यात्री को एक रात की शरण दे सकते हो?" "खुशी से", अर्नेस्ट ने उत्तर दिया; और फिर उसने आगे कहा, मुस्कराते हुए, "मैं सोचता हूँ मैंने इस विशाल प्रस्तर चेहरे को किसी अजनबी पर इतनी उदारता से देखते हुए नहीं देखा।" 

The poet sat down ....................... be its likeness. (Page 130) 

कठिन शब्दार्थ -

flung out (फ्लंग आउट) = बाहर आई, sighed (साइड) = आह भरी, awaited (अवेटिड) = प्रतीक्षा की, fulfilment (फुलफिलमॅन्ट) = पूर्णता। 

हिन्दी अनवाद -

कवि उसकी बगल में बैठ गया और उसने व अर्नेस्ट ने एकसाथ बातें कीं। पहले कभी कवि ने अर्नेस्ट जैसे व्यक्ति से बातें नहीं की थीं, इतना बुद्धिमान, और सज्जन, और दयालु। दूसरी तरफ, अर्नेस्ट कवि के मस्तिष्क से बाहर आये जीवन्त बिम्ब-चित्रण से प्रभावित था। जब अर्नेस्ट कवि को सुन रहा था, तो उसने कल्पना की कि विशाल प्रस्तर चेहरा भी सुनने के लिए आगे झुका हुआ था। वह कवि की आँखों में टकटकी लगाकर देख रहा था। 

RBSE Solutions for Class 8 English Honeydew Chapter 10 The Great Stone Face 2

"आप कौन हैं, मेरे प्रतिभाशाली मेहमान?" उसने पूछा। कवि ने अपनी अंगुली उस पुस्तक पर रखी जिसे अर्नेस्ट पढ़ रहा था। "आपने इन कृविताओं को पढ़ लिया है," उसने कहा, "तब तो आप मुझे जानते हैं, क्योंकि मैंने उनको लिखा बारंबार, अर्नेस्ट ने कवि की विशेषताओं का परीक्षण किया; वह विशाल प्रस्तर चेहरे की ओर मुड़ा फिर पीछे घूमा।

उसने अपना सिर हिलाया और आह भरी। "आप उदास क्यों हैं?" कवि ने पूछा। "क्योंकि", अर्नेस्ट ने उत्तर दिया, "पूरे जीवनभर मैंने एक भविष्यवाणी के पूर्ण होने का इन्तजार किया है, और जब मैंने ये कविताएँ पढ़ीं, तो मैंने आशा की कि यह आप में पूर्ण हो सकती हैं।" "आपने आशा की", कवि ने, धीमे से, मुस्कराते हुए उत्तर दिया, "मुझ में विशाल प्रस्तर चेहरे का प्रतिरूप ढूँढ़ने की आशा की। मैं इस प्रतिरूपता के योग्य नहीं हूँ।" 

And why not ........................... Great Stone Face. (Pages 131-132) 

कठिन शब्दार्थ -

heavenly (हेवनलि) = ईश्वरीय, correspond (कॉरस्पॉन्ड) = मेल खाना, custom (कसटॅम) = आदत, audience (ओडिअन्स) = श्रोतागण, harmonised with (हामॅनाइज्ड विथ) = परस्पर 
सामंजस्य बैठाना, preacher (प्रीचर) = धर्मोपदेशक, good deeds (गुड डीड्ज) = शुभ कर्म, selfless love (सेल्फलॅस लव) = निःस्वार्थ प्रेम, sage (सेज) = मनीषी, diffused (डिफ्यूज्ड) = विसरण करना। 

हिन्दी अनुवाद -

"और क्यों नहीं?" अर्नेस्ट ने पूछा। उसने पुस्तक की ओर इशारा किया। "क्या वो विचार योग्य नहीं हैं?" - "आप उनमें ईश्वरीय गीत की दूरस्थ आवाज सुन सकते हैं। किन्तु मेरा जीवन, प्रिय अर्नेस्ट, मेरे विचारों से मेल नहीं खा पाया है। मैंने भव्य स्वप्न देखे हैं, किन्तु वे केवल स्वप्न ही रहे हैं। कभी-कभी मैं अपने स्वयं के विचारों में ही विश्वास की कमी पाता हूँ। फिर, भला आप जो नेकी व सच्चाई के विशुद्ध खोजक रहे हैं, मुझ में उस पर्वत जैसा |

चेहरा तलाशने की आशा क्यों करते हैं?"  कवि उदासी से बोला और उसकी आँखें आँसुओं से गीली हो गई थीं। उसी प्रकार से अर्नेस्ट की आँखें भी गीली हो गई थीं। सूर्यास्त के समय, जैसे कि लम्बे समय से उसकी आदत थी, अर्नेस्ट को अपने पड़ोसियों के समूह को खुली हवा में सम्बोधित करना था। वह और कवि साथ-साथ सभा-स्थल हाथ में हाथ लिये गये। वहाँ से विशाल प्रस्तर चेहरे को देखा जा सकता था। 

अर्नेस्ट ने अपने श्रोतागण पर जानी-पहचानी नजर डाली। उसने उसके दिल व दिमाग में जो कुछ था उसे लोगों को बताना आरम्भ किया। उसके शब्दों में शक्ति थी, क्योंकि वे उसके विचारों से सहमत थे और उसके विचारों में यथार्थ व गहरापन था, क्योंकि वे उस जीवन से मेल खाते थे जो वह हमेशा जीता था।

ये केवल श्वास (शब्द) नहीं थे जो धर्मोपदेशक बोलता था; वे जीवन के शब्द थे। एक शुभ कर्मों व नि:स्वार्थ प्रेम का जीवन जो उनमें द्रवित हो गया था। कवि ने, जैसे ही सुना, अनुभूति की कि अर्नेस्ट का जीवन व चरित्र उसकी अब तक की काव्य-रचना से अधिक श्रेष्ठ राग की कविता थी। 

RBSE Solutions for Class 8 English Honeydew Chapter 10 The Great Stone Face 2

उसकी आँखें आँसुओं से भर गईं और उसने स्वयं से कहा कि कभी भी इतना योग्य मनीषी नहीं हुआ था जितना कि यह मदुल, मधुर व विचारशील चेहरा जो अपने फैले हुए श्वेत बालों के यश के साथ था। दूरी पर, किन्तु स्पष्ट दृष्टिगोचर होते हुए, सूर्यास्त की स्वर्णिम रोशनी में ऊपर ऊँचे, विशाल प्रस्तर चेहरा अपने चारों ओर श्वेत कोहरे के साथ, अर्नेस्ट की भौंहों के चारों ओर के श्वेत बालों के जैसे, प्रकट हुआ।

ठीक उस ही क्षण, अर्नेस्ट के चेहरे ने इतनी भव्य अभिव्यक्ति ले ली कि कवि ने भावुक होकर अपने हाथ ऊपर उठाये और चिल्लाया। "देखो! देखो! अर्नेस्ट स्वयं विशाल प्रस्तर चेहरे का प्रतिरूप है।" फिर सभी लोगों ने देखा, और पाया कि कवि ने जो कहा था वह सत्य था। भविष्यवाणी पूर्ण हो गई थी। किन्तु अर्नेस्ट ने, जो उसे कहना था, को समाप्त कर, कवि का हाथ थामा, और धीरे-धीरे घर की ओर चलने लगा, अभी भी यह आशा करते हुए कि उससे अधिक बुद्धिमान व श्रेष्ठ व्यक्ति शीघ्र ही प्रकट होगा, जिसका चेहरा विशाल प्रस्तर चेहरे के सादृश्य होगा। 

Bhagya
Last Updated on June 9, 2022, 11:38 a.m.
Published June 1, 2022