RBSE Solutions for Class 8 Science Chapter 12 कृत्रिम उपग्रह

Rajasthan Board RBSE Class 8 Science Chapter 12 कृत्रिम उपग्रह

RBSE Solutions for Class 8 Science

RBSE Solutions for Class 8 Science Chapter 12 कृत्रिम उपग्रह

RBSE Class 8 Science कृत्रिम उपग्रह Intext Questions and Answers

पाठगत प्रश्नोत्तर

पृष्ठ 130.

प्रश्न 1.
क्या गुरुत्वाकर्षण के कारण कृत्रिम उपग्रहों को भी अंतरिक्ष की ओर भेजने पर पृथ्वी उन्हें अपनी ओर आकर्षित कर लेगी।
उत्तर:
नहीं, कृत्रिम उपग्रह गुरुत्वाकर्षण क्षेत्र के पार भेजे जाते हैं इसलिए इन पर गुरुत्वाकर्षण कार्य नहीं करता है।

पृष्ठ 130.

प्रश्न 2.
किस प्रकार कृत्रिम उपग्रहों को ऊपर की ओर भेजा जाए कि वे पुनः पृथ्वी पर न लौटे।
उत्तर:
कृत्रिम उपग्रहों को पलायन वेग (11.2 किलोमीटर) को पार कर जायेंगे तथा पृथ्वी पर वापस नहीं लौटेंगे।

पृष्ठ 131.

प्रश्न 3.
गेंद ऊपर की ओर उछालने पर पृथ्वी पर वापस क्यों आ जाती है?
उत्तर:
गेंद ऊपर की ओर उछालने पर पृथ्वी पर वापस पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण बल के कारण आ जाती है।

RBSE Solutions for Class 8 Science Chapter 12 कृत्रिम उपग्रह

पृष्ठ 131.

प्रश्न 4.
किसी पिण्ड को ऊपर की ओर किस प्रकार फेंका जाए कि वह पुनः पृथ्वी पर वापस न आ सके?
उत्तर:
किसी उच्चकोटि के रॉकेट द्वारा यदि पिण्ड को इतना वेग प्रदान किया जाए कि पृथ्वी की गुरुत्वाकर्षण सीमा को पार कर जाए तो वह पुनः पृथ्वी पर लौट कर नहीं आयेगा।

पृष्ठ 131.

प्रश्न 5.
पृथ्वी के लिए किसी वस्तु का पलायन वेग कितना होता है?
उत्तर:
11.2 किलोमीटर प्रति सेकण्ड।

पृष्ठ 131.

प्रश्न 6.
कृत्रिम उपग्रह को किसकी सहायता से प्रक्षेपित किया जाता है?
उत्तर:
कृत्रिम उपग्रह को रॉकेट या प्रक्षपेण यान की सहायता से प्रक्षेपित किया जाता है।

RBSE Class 8 Science कृत्रिम उपग्रह Text Book Questions and Answers

सही विकल्प का चयन कीजिए

Question 1.
यदि कोई वस्तु पृथ्वी से 11.2 किलोमीटर प्रति सेकण्ड से अधिक वेग से ऊपर की ओर प्रक्षेपित की जाती है, तो वह वस्तु …………………
(अ) पुनः पृथ्वी पर आएगी
(ब) पृथ्वी के कक्ष में चक्कर लगाएगी
(स) अंतरिक्ष में चली जाएगी
(द) इनमें से कोई नहीं।
उत्तर:
(स) अंतरिक्ष में चली जाएगी

Question 2.
भारत द्वारा अंतरिक्ष में भेजे गए प्रथम कृत्रिम उपग्रह र का नाम है …………………
(अ) भास्कर – 1
(ब) आर्यभट्ट
(स) कल्पना – 1
(द) इनसेट – 1
उत्तर:
(ब) आर्यभट्ट

RBSE Solutions for Class 8 Science Chapter 12 कृत्रिम उपग्रह

Question 3.
संचार के लिए प्रयोग किया जाने वाला उपग्रह कहलाता …………………
(अ) ध्रुवीय उपग्रह
(ब) एस. एल. वी.
(स) भू – स्थिर उपग्रह
(द) आई. आर. एस. – 1
उत्तर:
(स) भू – स्थिर उपग्रह

रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए

  1. वह न्यूनतम वेग, जिससे किसी वस्तु को प्रक्षेपित करने पर वह पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण को पार कर जाए …………………… कहलाता है।
  2. भू – स्थिर उपग्रह पृथ्वी के …………………… कक्षा में परिक्रमा करते हैं।
  3. प्रथम भारतीय उपग्रह जिसे 19 अप्रैल, 1975 को प्रक्षेपित किया गया, का नाम …………………… है।

उत्तर:

  1. पलायन वेग
  2. भूमध्य रेखीय
  3. आर्यभट्ट

लघु उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
कृत्रिम उपग्रह तथा प्राकृतिक उपग्रह में अन्तर स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
वे प्राकृतिक पिण्ड, जो ग्रहों के चारों ओर परिक्रमा कर रहे हैं, प्राकृतिक उपग्रह (Natural Satellite) कहलाते हैं; जैसे – पृथ्वी का प्राकृतिक उपग्रह चन्द्रमा है। दूसरी ओर मानव निर्मित उपग्रह जो पृथ्वी तथा अन्य ग्रहों की परिक्रमा कर रहे हैं, कृत्रिम उपग्रह (Artificial Satellites) कहलाते हैं। जैसे IRS श्रेणी के उपग्रह।

RBSE Solutions for Class 8 Science Chapter 12 कृत्रिम उपग्रह

प्रश्न 2.
पृथ्वी पर वस्तुएँ ऊपर की ओर फेंकने पर नीचे आती हैं जबकि कृत्रिम उपग्रह नहीं, क्यों?
उत्तर:
पृथ्वी पर वस्तुएँ ऊपर की ओर फेंकने पर नीचे आती हैं क्योकि इन पर पृथ्वी का गुरुत्वाकर्षण बल कार्य करता है। जबकि कृत्रिम उपग्रह पलायन वेग या उससे अधिक वेग से अन्तरिक्ष में प्रक्षेपित किया जाता है जहाँ उन पर पृथ्वी का गुरुत्वाकर्षण बल कार्य नहीं करता है इसलिए कृत्रिम उपग्रह पृथ्वी पर वापस नीचे नहीं आते हैं।

प्रश्न 3.
भूस्थिर उपग्रह तथा ध्रुवीय उपग्रह में उनके कक्ष में गति, पृथ्वी की सतह से दूरी तथा उपयोग के आधार पर अन्तर स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
RBSE Solutions for Class 8 Science Chapter 12 कृत्रिम उपग्रह 1

दीर्घ उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
कृत्रिम उपग्रह किसे कहते हैं? इसके विभिन्न उपयोग लिखिए।
उत्तर:
कृत्रिम उपग्रह (Artificial Satellites) – मानव निर्मित पिण्ड जो पृथ्वी तथा अन्य ग्रहों के चक्कर लगा रहे हैं। कृत्रिम उपग्रह (Artificial Satellites) – कहलाते हैं।

कृत्रिम उपग्रहों के उपयोग (Uses of Artificial Satellites):

  1. दूरसंचार के साधन; जैसे – टेलीफोन, मोबाइल, टेलीविजन, इंटरनेट आदि में यह पृथ्वी के किसी स्थान पर स्थित उपकरणों से तरंगें प्राप्त करता है और इन्हें पृथ्वी के अलग-अलग स्थानों पर भेजता है।
  2. इसकी सहायता से मौसम एवं भू-गर्भ सम्बन्धी सूचनाएँ एकत्र करके उनके बारे में विभिन्न उपयोगी जानकारी प्राप्त होती है।
  3. फसल के क्षेत्रफल एवं उत्पादन का आकलन करना।
  4. सूखा एवं बाढ़ की चेतावनी देना और उनसे होने वाली हानि ज्ञात करना।
  5. भूमिगत पानी की खोज करके जल संसाधन का प्रबन्ध करना।
  6. भूगर्भ में स्थित खनिज संसाधन का पता लगाना।
  7. वनों का सर्वेक्षण करके पर्यावरण संरक्षण के प्रयासों में सहायता करना।
  8. हवाई – अड्डों, बंदरगाहों तथा सैनिक ठिकानों की निगरानी रखना जिससे उनकी सुरक्षा के प्रबन्ध में आसानी हो।
  9. सैनिक गतिविधियों की जासूसी करना।
  10. अंतरिक्ष एवं वायुमण्डल में होने वाली घटनाओं की जानकारी प्राप्त करना।
  11. वायुयान, जहाज, व्यक्ति अथवा वस्तु के सही स्थान का पता लगाना।

प्रश्न 2.
किन्हीं 5 प्रमुख भारतीय उपग्रहों के नाम, प्रक्षेपण वर्ष तथा उपयोग लिखिए।
उत्तर:
RBSE Solutions for Class 8 Science Chapter 12 कृत्रिम उपग्रह 4

प्रश्न 3.
कृत्रिम उपग्रह के प्रकारों का वर्णन कीजिए।
उत्तर:
कृत्रिम उपग्रह के प्रकार (Types of Artificial Satellite) – उपग्रह को अंतरिक्ष में पृथ्वी के सापेक्ष दूरी तथा उपग्रह के उपयोग के आधार पर कृत्रिम उपग्रहों को दो वर्गों में वर्गीकृत किया जाता है

1. भू – स्थिर उपग्रह (Geo – Stationary Satellite)
2. ध्रुवीय उपग्रह (Polar Satellite)

1. भू – स्थिर उपग्रह (Geo – Stationary Satellite) – कोई उपग्रह जो पृथ्वी के चारों ओर परिक्रमा लगा रहा है और पृथ्वी पर किसी निश्चित स्थान से देखने पर स्थिर दिखाई देता है, भूस्थिर उपग्रह. कहलाता है। यह उपग्रह पृथ्वी की सतह से लगभग 36000 किमी. की ऊँचाई पर स्थित होता है। ये उपग्रह भूमध्य रेखीय कक्षा में चक्कर काटते हैं। भू – स्थिर उपग्रह का उपयोग सैटेलाइट, टेलीफोन, टेलीविजन, सैटेलाइट रेडियो और अन्य प्रकार के वैश्विक संचार के लिए किया जाता है इसलिए इन्हें संचार उपग्रह (Communication Satellites) भी कहते हैं।

2. ध्रुवीय उपग्रह (Polar Satellite) – ऐसे उपग्रह जो पृथ्वी पर ध्रुवीय कक्षा में परिक्रमण करते हैं, ध्रुवीय उपग्रह कहलाते हैं। ये उपग्रह पृथ्वी की सतह से कम ऊँचाई पर चक्कर काटते हैं। पृथ्वी की सतह से इनकी दूरी लगभग 500 से 800 किमी. होती है। ध्रुवीय उपग्रह से प्राप्त सूचनाएँ सुदूर संवेदन (Remote Sensings), मौसम विज्ञान तथा पर्यावरणीय अध्ययन के लिए उपयोगी हैं।

प्रश्न 4.
भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के योगदान पर लेख लिखिए।
उत्तर:
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (Indian Space Research Organisation : ISRO) – प्रसिद्ध भारतीय अंतरिक्ष परमाणु वैज्ञानिक होमो जहाँगीर भाभा के नेतृत्व में सन् 1962 में परमाणु ऊर्जा विभाग द्वारा इण्डियन नेशनल कमेटी फॉर स्पेस रिसर्च (INCOSPAR) का गठन किया गया। इसे 1969 में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान।

संगठन (ISRO : Indian Space Research Organisation) नाम से पुनर्गठित किया गया। भारत में कृत्रिम उपग्रहों का निर्माण, विकास तथा प्रक्षेपण इसरो (ISRO) द्वारा ही किया जा रहा है। इसरो के अंतरिक्ष आधारित प्रयोगों की सहायता से अंतरिक्ष तथा ग्रहों सम्बन्धी अनुसंधान तथा विकास कार्य किए जा रहे हैं। इसरो की कई महत्वपूर्ण परियोजनाओं पर कार्य करते हुए प्रसिद्ध भारतीय वैज्ञानिक डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम ने भारतीय उपग्रह प्रक्षेपण यान निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन किया था। आज भारत स्वयं के उच्चस्तरीय उपग्रह प्रक्षेपण यान निर्मित करने में आत्मनिर्भर हो गया है।

इसरो ने 50 से अधिक विदेशी उपग्रहों को अन्तरिक्ष में प्रक्षेपित किया है। इसरो के कई केन्द्र सम्पूर्ण भारत में हैं। इसका प्रमुख प्रक्षेपण केन्द्र श्री हरिकोटा (SHAR) आंध्र प्रदेश में है। साथ ही अंतरिक्ष सम्बन्धी अनुसंधान के लिए राष्ट्रीय केन्द्र अहमदाबाद की फिजिकल रिसर्च लेबोरेट्री (PRL) है तथा तिरुवनंतपुरम में विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केन्द्र है। राजस्थान के जोधपुर शहर में भी कृत्रिम उपग्रहों से प्राप्त चित्रों, सूचनाओं और आँकड़ों का अध्ययन करने के लिए दूर संवेदी केन्द्र (Remote Sensing Centre) स्थित है।

क्रियात्मक कार्य

प्रश्न 1.
समाचार पत्रों, विज्ञान पत्रिकाओं तथा इन्टरनेट की सहायता से कृत्रिम उपग्रह से सम्बन्धित समाचार तथा अन्य लेखों का संकलन कर स्क्रेप बुक तैयार कीजिए।
उत्तर:
संकेत – छात्र स्वयं करें।

प्रश्न 2.
इसरो के कार्य, उपलब्धियों तथा लक्ष्य पर लेख लिखिए।
उत्तर:
संकेत – इसरो के कार्य, उपलब्धियों तथा लक्ष्य पर विस्तृत जानकारी (htt://hindi.isro.gov.in) पर उपलब्ध है।

RBSE Solutions for Class 8 Science Chapter 12 कृत्रिम उपग्रह

प्रश्न 3.
प्रमुख भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान केन्द्रों के नाम एवं उनके स्थानों का पता लगाकर सूचीबद्ध कीजिए।
उत्तर:
संकेत:

  1. विक्रम साराभाई स्पेस सेन्टर, तिरुवनंतपुरम्।
  2. लिक्विड प्रोपल्सन सिस्टम सेन्टर, तिरुवनंतपुरम्।
  3. ISRO इनरशियल सिस्टम यूनिट, तिरुवनंतपुरम्।
  4. इण्डियन इंस्टीट्यूट ऑफ स्पेस साइंस, तिरुवनंतपुरम्।
  5. ISRO सैटेलाइट सेन्टर, बंगलुरु।
  6. लेबोरेट्री फॉर सिस्टम, बंगलुरु।
  7. ISRO टैलीमेट्री इलेक्ट्रिक ट्रेकिंग एण्ड कमाण्ड नेटवर्क सेन्टर बंगलुरु एवं लखनऊ।
  8. INSAT मास्टर कन्ट्रोल फैसेलिटी हासन (कर्नाटक) तथा भोपाल (मध्य प्रदेश)
  9. सतीश धवन स्पेस सेन्टर, श्री हरिकोटा, आन्ध्र प्रदेश।
  10. नेशनल एटमोस्फीयरिक रिसर्च लेबोरेट्री, तिरुपति (आन्ध्र प्रदेश)
  11. स्पेस ऐप्लीकेशन सेन्टर, अहमदाबाद।
  12. डेवलपमेण्ट एण्ड ऐजूकेशनल कम्यूनिकेशन यूनिट, अहमदाबाद।
  13. फिजीकल रिसर्च लेबोरेट्री, अहमदाबाद।
  14. नेशनल रिमोट सेण्टर, हैदराबाद, देहरादून, जोधपुर, नागपुर, बंगलुरु।

प्रश्न 4.
भारत के प्रमुख कृत्रिम उपग्रहों का एक चार्ट बनाकर अपने कक्षा कक्ष में लगाइए।
उत्तर:
विद्यार्थी निम्न तालिका को चार्ट पर बनाएँ –
भारत के प्रमुख कृत्रिम उपग्रह

  1. भू – स्थिर उपग्रह – इन्सेट – 4C, इन्सेट – 4A, जीसेट – 12, इन्सेट – 3C, इन्सेट – 2D, इन्सेट – 1A, 1B, इन्सेट – 2B, कल्पना – I.
  2. भू – प्रेक्षण उपग्रह – ओसनसेट – 2, कार्टोसेट – 2A, ISR – P – 6, IRS – P – 4, IRS – 1D, IRS – 1C, भास्कर – II, भास्कर – I.
  3. अंतरिक्ष मिशन – चन्द्रयान – 1, श्रोस-1
  4. प्रायोगिक/लघु उपग्रह – यूथसैट, SRE – 1, एप्पल, आर्यभट्ट, स्टुडसेट।
  5. अन्य – ओसनसेट, एरोज-बी।

RBSE Class 8 Science कृत्रिम उपग्रह Important Questions and Answers

वस्तुनिष्ठ प्रश्न

Question 1.
हमारे सौरमण्डल में उपस्थित ग्रहों की संख्या है ………………
(अ) 1
(ब) 2
(स) 4
(द) 8
उत्तर:
(द) 8

Question 2.
भू – स्थिर उपग्रह का परिक्रमण काल होता है ………………
(अ) 6 घण्टे
(ब) 24 घण्टे
(स) 48 घण्टे
(द) 72 घण्टे
उत्तर:
(ब) 24 घण्टे

Question 3.
प्रथम भारतीय महिला अन्तरिक्ष यात्री थीं ………………
(अ) कल्पना चावला
(ब) बछेन्द्री पाल
(स) सरोजिनी नायडू
(द) इन्दिरा गाँधी
उत्तर:
(अ) कल्पना चावला

RBSE Solutions for Class 8 Science Chapter 12 कृत्रिम उपग्रह

Question 4.
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन किस वर्ष स्थापित हुआ था?
(अ) 1980 में
(ब) 1969 में
(स) 2004 में
(द) 2008 में
उत्तर:
(ब) 1969 में

Question 5.
कल्पना – I कृत्रिम उपग्रह का सम्बन्ध है ………………
(अ) शिक्षा से
(ब) संचार से
(स) सुदूर संवेदन से
(द) मौसम विज्ञान से
उत्तर:
(द) मौसम विज्ञान से

रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए

  1. मानव निर्मित उपग्रह ……………… उपग्रह कहलाते हैं।
  2. ध्रुवीय उपग्रह पृथ्वी पर ……………… में परिक्रमण करते हैं।
  3. किसी वस्तु के सीधे सम्पर्क में आए बिना उस वस्तु के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त करना ……………… कहलाता है।
  4. केवल शिक्षा के लिए प्रक्षेपित भारतीय उपग्रह ……………… है।

उत्तर:

  1. कृत्रिम
  2. ध्रुवीय कक्षा
  3. सुदूर संवेदन
  4. EDUSAT

RBSE Solutions for Class 8 Science Chapter 12 कृत्रिम उपग्रह 2
उत्तर:
1. → C
2. → A
3. → E
4. → B
5. → D.

अतिलघु उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
हमारे सौरमण्डल में पाए जाने वाले उपग्रहों के नाम लिखिए।
उत्तर:
बुध, शुक्र, पृथ्वी, मंगल, बृहस्पति, शनि, अरुण तथा वरुण।

प्रश्न 2.
कृत्रिम उपग्रह से पृथ्वी पर कौन-सी व्यवस्था सुदृढ़ हुई है?
उत्तर:
संचार व्यवस्था।

प्रश्न 3.
ऊपर की ओर कम वेग से फेंकी गयी वस्तुएँ पृथ्वी पर वापस क्यों आ जाती हैं?
उत्तर:
पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण के कारण।

प्रश्न 4.
पृथ्वी के लिए वस्तु का पलायन वेग कितना होता है?
उत्तर:
11.2 किलोमीटर प्रति सेकण्ड।

प्रश्न 5.
पलायन वेग से अधिक वेग से वस्तु को पृथ्वी से फेंकने पर क्या होगा?
उत्तर:
वस्तु अंतरिक्ष में चली जायेगी।

RBSE Solutions for Class 8 Science Chapter 12 कृत्रिम उपग्रह

प्रश्न 6.
भू – स्थिर उपग्रह किस कक्षा में चक्कर लगाते हैं?
उत्तर:
भूमध्य रेखीय कक्षा में।

प्रश्न 7.
भू – स्थिर उपग्रह को संचार उपग्रह क्यों कहते हैं?
उत्तर:
भू – स्थिर उपग्रह का उपयोग सैटेलाइट टेलीफोन, सैटेलाइट, टेलीविजन, सैटेलाइट रेडियो और वैश्विक संचार के लिए किया जाता है इसलिए इन्हें संचार उपग्रह (Communication Satellite) भी कहते हैं।

प्रश्न 8.
भारत द्वारा प्रक्षेपित तीन सुदूर संवेदी उपग्रहों के नाम लिखिए।
उत्तर:
IRS – IA, IRS – 2B, IRS – 3C

प्रश्न 9.
इनसेट (INSAT) श्रेणी के उपग्रहों का उपयोग किस कार्य के लिए किया जा रहा है?
उत्तर:
इन उपग्रहों का उपयोग मौसम की भविष्यवाणी तथा दूरसंचार के लिए किया जा रहा है।

प्रश्न 10.
केवल शिक्षा क्षेत्र की आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए प्रक्षेपित उपग्रह का नाम तथा प्रक्षेपण वर्ष लिखिए।
उत्तर:
EDUSAT (प्रक्षेपण वर्ष – 2004)

प्रश्न 11.
कृत्रिम उपग्रह को किस प्रकार अंतरिक्ष में प्रक्षेपित किया जाता है?
उत्तर:
कृत्रिम उपग्रह को रॉकेट अथवा उपग्रह प्रक्षेपण यान की सहायता से अंतरिक्ष में प्रक्षेपित किया जाता है।

RBSE Solutions for Class 8 Science Chapter 12 कृत्रिम उपग्रह

प्रश्न 12.
सर्वथम कृत्रिम उपग्रह किस देश द्वारा भेजा गया?
उत्तर:
सर्वप्रथम कृत्रिम उपग्रह रूस द्वारा 4 अक्टूबर 1957 को भेजा गया।

प्रश्न 13.
राजस्थान के किस शहर में दूर संवेदी केन्द्र स्थित है?
उत्तर:
जोधुपर में।

प्रश्न 14.
भारत द्वारा मौसम सम्बन्धी जानकारी हेतु छोड़े गये कृत्रिम उपग्रह का नाम लिखिए।
उत्तर:
कल्पना – I

लघु उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
कृत्रिम उपग्रह प्रक्षेपण के लिए अनिवार्य शर्त लिखिए।
उत्तर:
कृत्रिम उपग्रह के प्रक्षेपण के लिए अनिवार्य शर्त यह है कि उसे पलायन वेग (11.2 किलोमीटर प्रति सेकण्ड)

प्रश्न 2.
भू – स्थिर उपग्रह पृथ्वी से देखने पर स्थिर क्यों दिखाई देता है?
उत्तर:
भू – स्थिर उपग्रह का परिक्रमण काल पृथ्वी के घूर्णनकाल (24 घण्टे) के बराबर होता है। अतः भू-स्थिर उपग्रह भी पृथ्वी की भाँति पश्चिम से पूर्व की ओर 24 घण्टे में पृथ्वी का अपने कक्ष में एक चक्कर लगाता है। इसलिए पृथ्वी से देखने पर यह स्थिर दिखाई देता है।

प्रश्न 3.
ध्रुवीय उपग्रह से क्या सूचनाएँ प्राप्त होती हैं? ये किस प्रकार उपयोगी हैं?
उत्तर:
ध्रुवीय उपग्रह द्वारा बादलों के चित्र, वायुमंडल सम्बन्धी जानकारी, ओजोन परत में छेद जैसी कई महत्वपूर्ण सूचनाएँ प्राप्त होती हैं। ध्रुवीय उपग्रह से प्राप्त सूचनाएँ सुदूर संवेदन (Remote Sensing), मौसम विज्ञान तथा पर्यावरण सम्बन्धी अध्ययन के लिए उपयोगी हैं।

RBSE Solutions for Class 8 Science Chapter 12 कृत्रिम उपग्रह

प्रश्न 4.
कृत्रिम उपग्रह दूरसंचार में किस प्रकार उपयोगी होते हैं?
उत्तर:
कृत्रिम उपग्रह दूरसंचार के साधनों; जैसे – टेलीफोन, मोबाइल, रेडियो, टेलीविजन, इंटरनेट आदि से तरंगें प्राप्त करता है और इन्हें पृथ्वी के अलग – अलग स्थानों पर भेजता है।

प्रश्न 5.
कृषि क्षेत्र में कृत्रिम उपग्रह किस प्रकार उपयोगी हैं?
उत्तर:
कृषि क्षेत्र में कृत्रिम उपग्रह निम्न योगदान देते:

  1. फसल के क्षेत्रफल एवं उत्पादन का आकलन करना।
  2. सूखा एवं बाढ़ की चेतावनी देना तथा उनसे होने वाली हानि का पता करना।
  3. भूमिगत जल की खोज करके जल संसाधनों का प्रबन्धन करना।

प्रश्न 6.
कृत्रिम उपग्रह रक्षा क्षेत्र में क्या योगदान देते हैं?
उत्तर:
कृत्रिम उपग्रह का रक्षा क्षेत्र में प्रमुख योगदान निम्नवत् हैं:

  1. हवाई अड्डों, बंदरगाहों तथा सैनिक ठिकानों की निगरानी रखना जिससे उनकी सुरक्षा के प्रबन्ध में आसानी हो।
  2. सैनिक गतिविधियों की जासूसी करना।
  3. वायुयान, जहाज, व्यक्ति अथवा वस्तु के सही स्थान का पता लगाना।
  4. GPS द्वारा शत्रु के विमानों पर निगरानी रखना।

प्रश्न 7.
भारत के प्रथम कृत्रिम उपग्रह पर संक्षिप्त टिप्पणी लिखिए।
उत्तर:
भारत के प्रथम कृत्रिम उपग्रह का नाम ‘आर्यभट्ट’ है। इसका नाम प्रसिद्ध प्राचीन भारतीय गणितज्ञ आर्यभट्ट के नाम पर रखा गया। इसे 19 अप्रैल, 1975 को सोवियत संघ (रूस) के बेकानूर अंतरिक्ष केन्द्र से प्रक्षेपित किया गया। इसका प्रमुख कार्य पृथ्वी के वायुमण्डल का अध्ययन करना है।

प्रश्न 8.
भारत के ध्रुवीय उपग्रहों पर संक्षिप्त टिप्पणी लिखिए।
उत्तर:
सन् 1980 के अन्त में भारत में ध्रुवीय उपग्रहों को अंतरिक्ष में भेजना प्रारम्भ किया। उन्हें भारतीय दूर संवेदी अर्थात् IRS श्रेणी के उपग्रह कहा गया। ये उपग्रह पृथ्वी के प्राकृतिक संसाधनों का प्रबन्धन, सर्वेक्षण, मौसम की भविष्यवाणी और अंतरिक्ष में प्रयोग करने में उपयोगी हैं।

प्रश्न 9.
इनसेट (INSAT) श्रेणी के उपग्रह क्या हैं?
उत्तर:
सन् 1980 के प्रारम्भ में इनसेट (INSAT) श्रेणी के उपग्रह यूरोपीय प्रक्षेपण यान की सहायता से छोड़े गये। इन उपग्रहों का मौसम की भविष्यवाणी तथा दूरसंचार के लिए प्रयोग किया जा रहा है।

RBSE Solutions for Class 8 Science Chapter 12 कृत्रिम उपग्रह

प्रश्न 10.
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) का योगदान लिखिए।
उत्तर:
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) कृत्रिम उपग्रह तथा उपग्रह प्रक्षेपण यान के निर्माण तथा विकास कार्य के साथ – साथ उपग्रह प्रक्षेपण तथा अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में महत्वपूर्ण कार्य कर रहा है।

प्रश्न 11.
भूस्थिर उपग्रह को संचार उपग्रह भी कहते हैं क्यों?
उत्तर:
भूस्थिर उपग्रह का उपयोग सेटेलाइट, टेलीफोन, सेटेलाइट टेलीविजन, सेटेलाइट रेडियो और अन्य प्रकार के वैश्विक संचार के लिए किया जाता है। इसलिए भूस्थिर उपग्रह को संचार उपग्रह (Commuinication Satallite) भी कहते हैं।

निबन्धात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
उपग्रह संचार व्यवस्था को केवल नामांकित चित्रों की सहायता से समझाइए। वर्णन की आवश्यकता नहीं है।
उत्तर:
RBSE Solutions for Class 8 Science Chapter 12 कृत्रिम उपग्रह 3

प्रश्न 2.
प्रसिद्ध भारतीय वैज्ञानिक डॉ. विक्रम अंबालाल साराभाई पर एक संक्षिप्त लेख लिखिए।
उत्तर:
डॉ. विक्रम अंबालाल साराभाई का जन्म 12 अगस्त, 1919 को गुजरात के अहमदाबाद शहर में हुआ था। ये भारत के प्रमुख वैज्ञानिक थे तथा सन् 1966 में भारत सरकार ने इन्हें विज्ञान एवं अभियांत्रिकी क्षेत्र में ‘पद्मभूषण’ उपाधि से अलंकृत किया। विक्रम साराभाई ने अंतरिक्ष अनुसंधान क्षेत्र में भारत को अंतर्राष्ट्रीय पहचान दिलाई। उन्होंने कैम्ब्रिज (इंग्लैण्ड) में कॉस्मिक रे भौतिकी में डाक्ट्रेट उपाधि प्राप्त की। इन्होंने 86 वैज्ञानिक शोध पत्र लिखे तथा विभिन्न क्षेत्रों में 40 संस्थान स्थापित किए जिनमें अंतरिक्ष अनुसंधान के लिए विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केन्द्र, तिरुवनंतपुरम् तथा स्पेस एप्लीकेशन सेन्टर, अहमदाबाद हैं। डॉ. विक्रम साराभाई एक वैज्ञानिक, भविष्यदृष्टा तथा औद्योगिक प्रबन्धक होने के साथ – साथ संगीत, फोटोग्राफी, पुरातत्व, ललित कलाओं में भी गहरी रुचि रखते थे। डॉ. साराभाई का तिरुवनंतपुरम् (केरल) में 30 दिसम्बर, 1971 को देहावसान हो गया। उन्हें भारत सरकार ने मरणोपरान्त – ‘पद्मविभूषण’ से सम्मानित किया।

RBSE Solutions for Class 8 Science Chapter 12 कृत्रिम उपग्रह

प्रश्न 3.
डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम पर एक संक्षिप्त लेख लिखिए।
उत्तर:
डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम का जन्म 15 अक्टूबर, 1931 को रामेश्वरम् (तमिलनाडु) में हुआ था। डॉ. कलाम ने एक वैज्ञानिक तथा अभियान्त्रिक के रूप में रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) और भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) की कई महत्वपूर्ण परियोजनाओं पर कार्य किया। ISRO में कार्य करते समय भारत के प्रथम स्वदेशी उपग्रह प्रक्षेपण यान SLV – III के निर्माण में इन्होंने महत्वपूर्ण योगदान दिया तथा इसकी सहायता से जुलाई 1980 में रोहिणी उपग्रह को सफलतापूर्वक पृथ्वी की कक्षा के निकट स्थापित किया। डॉ. कलाम ने भारत के मिसाइल विकास कार्यक्रम में महत्वपूर्ण योगदान दिया। इसलिए उन्हें भारत में मिसाइल मैन उपनाम से जाना जाता है। डॉ. कलाम भारत के 11वें राष्ट्रपति भी थे। इन्होंने अनेकों पुस्तकों की रचना की। भारत सरकार ने उन्हें पद्मभूषण, पद्म विभूषण, भारत रत्न सहित कई पुरस्कारों से अलंकृत किया। इनका निधन हृदयगति रुक जाने के कारण 27 जुलाई, 2015 में शिलोंग, मेघालय में हुआ था।

Leave a Comment