RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 6 औद्योगिक परिदृश्य

Rajasthan Board RBSE Class 8 Social Science Chapter 6 औद्योगिक परिदृश्य

RBSE Solutions for Class 8 Social Science

RBSE Class 8 Social Science औद्योगिक परिदृश्य Intext Questions and Answers

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 6 औद्योगिक परिदृश्य

पृष्ठ – 48

आओ करके देखें

प्रश्न 1.
आप अपने गाँव/शहर या मौहल्ले के विभिन्न उद्योगों की सूची तैयार कीजिए। यह भी पता लगाइए कि इन विभिन्न व्यवसायों/उद्योगों के लिए कच्चा माल क्या है और कहाँ से आता है?
उत्तर:
हमारे मौहल्ले में मुख्यतः कुटीर उद्योग संचालित हैं जिनमें दरी – गलीचा उद्योग, टोकरी उद्योग, झाडू उद्योग सम्मिलित हैं। इन उद्योगों को कच्चा सामान, घरों से प्राप्त पुराने कपड़ों, आस-पास से खजूर की डालियों व बाँस के पेड़ों से प्राप्त होता है।

पृष्ठ – 51

प्रश्न 2.
अपने शिक्षक की सहायता से आपके जिले में स्थित प्रमुख उद्योगों की सूची बनाकर इनमें से किसी एक से सम्बन्धित जानकारी एकत्र कर कक्षा में अपने साथियों से उसकी चर्चा कीजिए।
उत्तर:
हमारे जिले में स्थित उद्योगों की सूची निम्नलिखित है:

  • मूर्ति उद्योग
  • वस्त्र उद्योग
  • वनस्पति घी उद्योग
  • साबुन उद्योग
  • विभिन्न दैनिक उपयोगी सामग्री उद्योग
  • इलेक्ट्रॉनिक उद्योग आदि।

वस्त्र उद्योग की संक्षिप्त जानकारी – हमारे जिले में संचालित वस्त्र उद्योग हेतु कच्ची सामग्री के रूप में कपास की प्राप्ति समीपवर्ती किसानों से होती है। इस कच्ची सामग्री से बिनौले अलग करने के लिए छोटी व बड़ी मशीनों का प्रयोग किया जाता है। इसके बाद रूई से कुटीर व लघु उद्योगों में रेशा तैयार करके विभिन्न प्रकार के वस्त्र तैयार किये जाते हैं।

क्या आप जानते हैं।

पृष्ठ – 46

प्रश्न 1.
आर्थिक क्रियाएँ किसे कहते हैं?
उत्तर:
वे सभी क्रिया-कलाप जिनसे मानव अपने व अपने परिवार का भरण-पोषण और जीवनयापन करता है एवं जिनसे उसे धन की प्राप्ति होती है आर्थिक क्रिया कहलाती

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 6 औद्योगिक परिदृश्य

पृष्ठ – 51

प्रश्न 2.
विशिष्ट आर्थिक क्षेत्र क्या है?
उत्तर:
तीव्र औद्योगिक विकास एवं रोजगार के साधनों में वृद्धि के उद्देश्य से स्थापित क्षेत्रों को विशिष्ट आर्थिक क्षेत्र (सेज) कहा जाता है।

प्रश्न 3.
राज्य का सबसे बड़ा सेज (विशिष्ट आर्थिक क्षेत्र) कहाँ स्थापित किया गया है?
उत्तर:
राज्य का सबसे बड़ा सेज सीतापुरा, जयपुर में स्थापित किया गया है।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 6 औद्योगिक परिदृश्य

प्रश्न 4.
मेक इन इंडिया से क्या तात्पर्य है?
उत्तर:
मेक इन इंडिया एक ऐसी योजना है जिसके माध्यम से सरकार जीवन में काम आने वाली सभी प्रकार की आवश्यक वस्तुओं का निर्माण भारत में ही कराना चाहती है। इन सभी वस्तुओं पर मेड इन इण्डिया लिखा होगा।

प्रश्न 5.
वस्तुओं का निर्माण भारत में होने से क्या लाभ होगा?
उत्तर:
जब भारत में ही विभिन्न प्रकार की वस्तुओं का निर्माण होगा तो वस्तुओं की कीमत कम होगी तथा वस्तुओं का निर्यात अधिक होगा जिससे राजकीय आय में वृद्धि होगी।

RBSE Class 8 Social Science औद्योगिक परिदृश्य Text Book Questions and Answers

पाठ्यपुस्तक के प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1.
सही विकल्प को चनिए –

(i) निम्नलिखित में से कौन-सा उद्योग खनिज आधारित …………………..
(क) सूती वस्त्र उद्योग
(ख) सीमेंट उद्योग
(ग) चमड़ा उद्योग
(घ) शक्कर उद्योग
उत्तर:
(ख) सीमेंट उद्योग

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 6 औद्योगिक परिदृश्य

(ii) किस उद्योग को मौसमी उद्योग कहा जाता है …………………..
(क) आभूषण उद्योग
(ख) ग्रेनाइट उद्योग
(ग) शक्कर उद्योग
(घ) डेयरी उद्योग
उत्तर:
(ग) शक्कर उद्योग

प्रश्न 2.
सुमेलित कीजिए
RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 6 औद्योगिक परिदृश्य 1
उत्तर:
(i). (c)
(ii). (d)
(iii). (b)
(iv). (e)
(v). (a)

प्रश्न 3.
रिक्त स्थान की पूर्ति कीजिए –

  1. कुटीर एवं लघु उद्योगों के विकास के लिए ………………….. नगम प्रयासरत है।
  2. राजस्थान में पहला सीमेन्ट कारखाना ………………….. जिले के ………………….. में खोला गया था।
  3. जोधपुर की ………………….. खादी प्रसिद्ध है।
  4. जयपुर में ………………….. सोने चाँदी के आभूषणों एवं रत्नों के लिए एक विश्व विख्यात केन्द्र है।

उत्तर:

  1. राजस्थान लघु उद्योग
  2. बँदी, लाखेरी
  3. मेरिनो
  4. जौहरी बाजार

प्रश्न 4.
आकार के आधार पर उद्योगों का वर्गीकरण कीजिए।
उत्तर:
आकार के आधार पर उद्योगों को तीन भागों में वर्गीकृत किया जा सकता है:

  1. कुटीर उद्योग – इन्हें घरेलू उद्योग भी कहते हैं। ये छोटे पैमाने के वे उद्योग होते हैं जो अपने परिवार के सदस्यों की सहायता से अपने घर पर संचालित किए जाते हैं। उदाहरण-टोकरी बनाना, मुर्गीपालन, लिफाफे व रस्सी बनाना व स्वेटर बुनना आदि।
  2. लघु उद्योग – ये वे उद्योग होते हैं जिनमें 10 से 100 श्रमिक किसी छोटे कारखाने में उत्पादन करते हैं। इनमें मशीनें छोटे पैमाने की होती हैं, जैसे – माचिस उद्योग, रंगाई – छपाई उद्योग व बीड़ी उद्योग आदि।
  3. वृहत उद्योग-ये वे उद्योग होते हैं जिनमें श्रमिकों की संख्या व पूँजी का निवेश अधिक होता है तथा उच्च स्तरीय तकनीक का उपयोग कर उत्पादन किया जाता है। उदाहरण-सूती वस्त्र उद्योग, सीमेन्ट उद्योग, लौह-इस्पात उद्योग तथा ऑटोमोबाइल्स उद्योग आदि।

प्रश्न 5.
राजस्थान की वस्त्र नगरी किसे कहा जाता है? और क्यों?
उत्तर:
राजस्थान की वस्त्र नगरी भीलवाड़ा को कहा जाता है। क्योंकि राजस्थान की सर्वाधिक वस्त्र निर्माण इकाइयाँ भीलवाड़ा में कार्यरत हैं तथा यहीं से सर्वाधिक कपड़ा तैयार होता है।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 6 औद्योगिक परिदृश्य

प्रश्न 6.
‘मेक इन इण्डिया’ कार्यक्रम क्यों चलाया गया है?
उत्तर:
‘मेक इन इण्डिया’ कार्यक्रम इसलिए चलाया गया है क्योंकि भारत सरकार चाहती है कि इस योजना के माध्यम से हमारे जीवन में काम आने वाली सभी प्रकार की आवश्यक वस्तुओं का निर्माण भारत में हो। इससे यह लाभ होगा कि देश में बनी वस्तु की कीमत कम होगी तथा वस्तुओं का निर्यात कर राजकीय आय में वृद्धि की जा सकती है।

प्रश्न 7.
उद्योग को कितने प्रकार में विभाजित किया जा सकता है? उनके उदाहरणों की सूची बनाइए।
उत्तर:
उद्योगों का वर्गीकरण-उद्योगों को निम्नलिखित तीन प्रकारों में विभाजित किया जा सकता है –
(अ) आकार के आधार पर इस आधार पर उद्योगों को तीन भागों में बाँटा जा सकता –
1. कुटीर उद्योग – इन्हें घरेलू उद्योग भी कहते हैं, ये छोटे पैमाने के वे उद्योग होते हैं जो अपने परिवार के सदस्यों की सहायता से अपने घर पर संचालित किए जाते हैं। उदाहरण-टोकरी बनाना, मुर्गीपालन, लिफाफे व रस्सी बनाना व स्वेटर बुनना आदि।

2. लघु उद्योग – ये वे उद्योग होते हैं जिनमें 10 से 100श्रमिक किसी छोटे कारखाने में उत्पादन करते हैं। इनमें सामाजिक विज्ञान मशीनें छोटे पैमाने की होती हैं, जैसे – माचिस उद्योग, रंगाई-छपाई उद्योग व बीड़ी उद्योग आदि।

3. वृहत उद्योग – ये वे उद्योग होते हैं जिनमें श्रमिकों की संख्या व पूँजी का निवेश अधिक होता है तथा उच्च स्तरीय तकनीक का उपयोग कर उत्पादन किया जाता है। उदाहरण-सूती वस्त्र उद्योग, सीमेन्ट उद्योग, लौह – इस्पात उद्योग तथा ऑटोमोबाइल्स उद्योग आदि।

(ब) स्वामित्व के आधार पर इस आधार पर उद्योगों को निम्नलिखित चार भागों में बाँटा जा सकता है –
1. निजी क्षेत्र के उद्योग – ये वे उद्योग होते हैं जिनका स्वामित्व व संचालन या तो एक व्यक्ति द्वारा अथवा व्यक्तियों के समूह द्वारा किया जाता है। उदाहरण – जे. के. टायर्स लिमिटेड, टाटा मोटर्स आदि।

2. सार्वजनिक क्षेत्र के उद्योग – ये वे उद्योग होते हैं जिनका स्वामित्व व संचालन सरकार द्वारा होता है। उदाहरण – हिन्दुस्तानए एयरोनॉटिक्स लिमिटेड, हिन्दुस्तान कॉपर लिमिटेड आदि।

3. संयुक्त क्षेत्र के उद्योग – ये वे उद्योग होते हैं जिनका स्वामित्व एवं संचालन राज्यों और व्यक्ति समूहों द्वारा होता है। उदाहरण – मारुति उद्योग लिमिटेड।

4. सहकारी क्षेत्र के उद्योग – ये वे उद्योग होते हैं जिनका स्वामित्व और संचालन कच्चे माल के उत्पादकों, कामगारों अथवा दोनों द्वारा होता है। उदाहरण – सरस डेयरी सहकारी उपक्रम।

(स) कच्चे माल के आधार पर इस आधार पर उद्योगों को निम्नलिखित चार भागों में विभाजित किया जा सकता है –
1. कृषि आधारित उद्योग – ये वे उद्योग होते हैं, जो कच्चे माल के रूप में वनस्पति एवं जन्तु आधारित उत्पादों का उपयोग करते हैं। उदाहरण – सूती वस्त्र, वनस्पति तेल, डेयरी उत्पाद एवं चमड़ा उद्योग आदि।।

2. समुद्र आधारित उद्योग – ये वे उद्योग होते हैं, जो कच्चे माल के रूप में सागरों और महासागरों से प्राप्त उत्पादों का उपयोग करते हैं। उदाहरण – समुद्री खाद्य प्रसंस्करण उद्योग, मत्स्य तेल निर्माण उद्योग आदि।

3. खनिज आधारित उद्योग – ये वे उद्योग होते हैं जो कच्चे माल के रूप में खनिज अयस्कों का उपयोग करते हैं। उदाहरण – लौह – इस्पात उद्योग, रेल डिब्बा निर्माण उद्योग, सीमेन्ट उद्योग, ताँबा उद्योग, संगमरमर उद्योग तथा आभूषण उद्योग आदि।

4. वन आधारित उद्योग – ये वे उद्योग होते हैं जो वनों से प्राप्त उत्पादों का उपयोग कच्चे माल के रूप में करते हैं। उदाहरण – लुग्दी एवं कागज उद्योग, औषधि निर्माण | उद्योग, माचिस उद्योग व फर्नीचर उद्योग।

प्रश्न 8.
कुटीर उद्योग किसे कहते हैं? इनके कुछ उदाहरण दीजिए।
उत्तर:
कटीर उद्योग – छोटे पैमाने के ऐसे उद्योग जो परिवार के सदस्यों की सहायता से अपने घर पर चलाए जाते हैं तथा जिसमें शिल्पकारों के द्वारा उत्पादों का निर्माण हाथ से किया जाता है, कुटीर उद्योग कहलाते हैं। इन्हें घरेलू उद्योग के नाम से भी जाना जाता है। कुटीर उद्योग के उदाहरण हथकरघा उद्योग, खादी उद्योग, सूती, ऊनी व रेशम के धागों से बने विभिन्न प्रकार के वस्त्र, दरियाँ, कम्बल, चद्दर व शॉल बनाना, रंगाई, छपाई, बंधेज, मधुमक्खी पालन, अगरबत्ती निर्माण, चमड़ा उद्योग, तेलघाणी उद्योग, खल उद्योग, दाल उद्योग, गुड़ व खांडसारी उद्योग कुटीर उद्योग के प्रमुख उदाहरण हैं।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 6 औद्योगिक परिदृश्य

प्रश्न 9.
राजस्थान के वृहद् उद्योगों का वर्णन कीजिए।
उत्तर:
राजस्थान के वृहद् उद्योग – राजस्थान के प्रमुख वृहद् उद्योग निम्नलिखित हैं:

1. सूती वस्त्र उद्योग – सूती वस्त्र उद्योग राजस्थान का सबसे प्राचीन उद्योग है। राजस्थान में सूती वस्त्र का प्रथम कारखाना सन् 1889 में ब्यावर में स्थापित किया गया। राजस्थान बंधेज, रंगाई, छपाई व गोटा किनारी में अपनी एक विशिष्ट पहचान बनाए हुए है। भीलवाड़ा को राजस्थान की ‘वस्त्रनगरी’ तथा राजस्थान के ‘मेनचेस्टर’ के नाम से जाना जाता है। वस्त्रों की रँगाई, छपाई एवं बंधेज कार्य हेतु जोधपुर, जयपुर, सांगानेर, चूरू, बीकानेर व नागौर आदि प्रमुख केन्द्र हैं। सिले-सिलाए वस्त्र निर्माण का प्रमुख केन्द्र जयपुर व जोधपुर हैं।

2. सीमेन्ट उद्योग – राजस्थान में सीमेन्ट उद्योग की पर्याप्त सम्भावनाएँ हैं। यहाँ सीमेन्ट उद्योग के लिए आवश्यक कच्चा माल – चूना पत्थर व जिप्सम पर्याप्त.मात्रा में मिलता है। केवल कोयला ही राज्य के बाहर से मँगाया जाता है। राजस्थान में पहला सीमेन्ट कारखाना 1915 ई. में लाखेरी (बूंदी) में खोला गया। कच्चे माल की पर्याप्त उपलब्धता के कारण राजस्थान में चित्तौड़गढ़ जिला सीमेन्ट उत्पादन के लिए आदर्श जिला माना जाता है। इसके अतिरिक्त नागौर, कोटा, सवाईमाधोपुर, उदयपुर, जैसलमेर, अजमेर व बाँसवाड़ा जिलों में भी सीमेन्ट इकाइयाँ कार्यरत हैं।

3. शक्कर उद्योग – शक्कर उद्योग एक मौसमी उद्योग है। यह मुख्य रूप से गन्ना पर निर्भर है। यह उद्योग मुख्यतः गन्ना उत्पादक क्षेत्रों में ही स्थापित किया जाता है। राजस्थान की प्रथम शक्कर मिल सन् 1932 में चित्तौड़गढ़ जिले के भपालसागर में निजी क्षेत्र में स्थापित की गई थी। यह मिल वर्तमान में बन्द है। श्रीगंगानगर में एक शक्कर मिल कार्यरत है।

RBSE Class 8 Social Science औद्योगिक परिदृश्य Important Questions and Answers

वस्तुनिष्ठ प्रश्न

Question 1.
निम्न में से प्राथमिक व्यवसाय है ……………………
(क) कृषि
(ख) विनिर्माण
(ग) व्यापार
(घ) पर्यटन
उत्तर:
(क) कृषि

Question 2.
निम्न में से द्वितीयक व्यवसाय है ……………………
(क) मत्स्य पालन
(ख) पर्यटन
(ग) संचार
(घ) विनिर्माण
उत्तर:
(घ) विनिर्माण

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 6 औद्योगिक परिदृश्य

Question 3.
आकार के आधार पर कौन-सा उद्योगों का प्रकार नहीं ……………………
(क) कुटीर उद्योग
(ख) लघु उद्योग
(ग) वृहत उद्योग
(घ) सीमान्त उद्योग
उत्तर:
(घ) सीमान्त उद्योग

Question 4.
जिन उद्योगों का स्वामित्व और संचालन सरकार द्वारा किया जाता है, कहलाते हैं ……………………
(क) सहकारी क्षेत्र के उद्योग
(ख) सरकारी क्षेत्र के उद्योग
(ग) संयुक्त क्षेत्र के उद्योग
(घ) निजी उद्योग
उत्तर:
(ख) सरकारी क्षेत्र के उद्योग

Question 5.
हिन्दुस्तान कॉपर लिमिटेड है ……………………
(क) एक विदेशी उपक्रम
(ख) एक सार्वजनिक उपक्रम
(ग) एक निजी उपक्रम
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर:
(ख) एक सार्वजनिक उपक्रम

Question 6.
जिन उद्योगों का स्वामित्व और संचालन राज्यों और व्यक्ति समूहों द्वारा होता है, उन्हें कहा जाता है ……………………
(क) संयुक्त क्षेत्र के उद्योग
(ख) सार्वजनिक क्षेत्र के उद्योग
(ग) निजी क्षेत्र के उद्योग
(घ) सहकारी क्षेत्र के उद्योग
उत्तर:
(क) संयुक्त क्षेत्र के उद्योग

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 6 औद्योगिक परिदृश्य

Question 7.
कृषि पर आधारित उद्योग है ……………………
(क) सूती वस्त्र उद्योग
(ख) आभूषण उद्योग
(ग) रासायनिक उद्योग
(घ) सीमेन्ट उद्योग
उत्तर:
(क) सूती वस्त्र उद्योग

Question 8.
राजस्थान का सबसे पहला व प्राचीन उद्योग है ……………………
(क) सीमेन्ट उद्योग
(ख) शक्कर उद्योग
(ग) रासायनिक उद्योग
(घ) सूती वस्त्र उद्योग
उत्तर:
(घ) सूती वस्त्र उद्योग

Question 9.
राजस्थान का ‘मेनचेस्टर’ व ‘वस्त्र नगरी’ कौन – सा जिला कहलाता है ……………………
(क) भीलवाड़ा
(ख) जयपुर
(ग) अजमेर
(घ) उदयपुर
उत्तर:
(क) भीलवाड़ा

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 6 औद्योगिक परिदृश्य

Question 10.
हिन्दुस्तान जिंक लिमिटेड स्थापित है ……………………
(क) जयपुर में
(ख) उदयपुर में
(ग) भरतपुर में
(घ) कोटा में
उत्तर:
(ख) उदयपुर में

रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए

  1. …………………… वे आर्थिक क्रियाएँ हैं, जो वस्तुओं के उत्पादन और सेवाओं की व्यवस्था से सम्बन्धित हैं।
  2. शक्कर उद्योग एक …………………… उद्योग है जिसका कच्चा माल है।
  3. …………………… को सूती वस्त्रों की राजधानी कहा जाता है।
  4. आकार के आधार पर उद्योग को …………………… भागों में बाँटा जा सकता है।
  5. द्वितीयक व्यवसायों में कच्चे माल को परिष्कृत कर विभिन्न. का निर्माण किया जाता है।

उत्तर:

  1. उद्योग
  2. मौसमी, गन्ना
  3. मुम्बई
  4. तीन
  5. वस्तुओं

अतिलघूत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न.1.
प्राथमिक व्यवसाय में कौन – कौन सी गतिविधियों को सम्मिलित किया जाता है?
उत्तर:
प्राथमिक व्यवसाय में भोजन संग्रहण, आखेट, कृषि पशुपालन, खनन व मत्स्य पालन आदि गतिविधियों को सम्मिलित किया जाता है।

प्रश्न 2.
द्वितीयक व्यवसाय क्या है?
उत्तर:
कच्चे माल के द्वारा विनिर्माण व प्रसंस्करण की औद्योगिक प्रक्रिया से सम्बन्धित व्यवसाय द्वितीयक व्यवसाय कहलाता है। यथा – शक्कर, कपड़ा, बिस्कुट उद्योग आदि।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 6 औद्योगिक परिदृश्य

प्रश्न 3.
तृतीयक व्यवसाय से क्या आशय है?
उत्तर:
पर्यटन, व्यापार और संचार आदि गतिविधियों को तृतीयक व्यवसाय कहा जाता है।

प्रश्न 4.
उद्योग से आप क्या समझते हैं?
उत्तर:
कच्चे माल की सहायता से उपयोगी वस्तुओं का निर्माण करने वाली इकाइयों को उद्योग कहा जाता है।

प्रश्न 5.
कौशल विकास योजना किसे कहा जाता है?
उत्तर:
शिक्षित युवा वर्ग को विद्यालय स्तर से ही विभिन्न क्षेत्रों में व्यावसायिक शिक्षा का पाठ्यक्रम लागू करके रोजगार में दक्ष करने की योजना भारत सरकार द्वारा बनाई गई है, जिसे कौशल विकास योजना कहा जाता है।

प्रश्न 6.
कौशल विकास योजना का प्रमुख उद्देश्य क्या
उत्तर:
इस योजना का प्रमुख उद्देश्य उस प्रकार की शिक्षा प्रदान करना है जिससे कि युवक को अपनी शिक्षा ग्रहण करने के तुरन्त बाद ही स्थानीय स्तर पर रोजगार के अवसर प्राप्त हो सकें।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 6 औद्योगिक परिदृश्य

प्रश्न 7.
कौशल विकास योजना में सम्मिलित विभिन्न कार्यक्रमों को लिखिए।
उत्तर:
उद्यमिता विकास कार्यक्रम, उद्यमिता कौशल विकास कार्यक्रम, व्यावसायिक कौशल विकास कार्यक्रम, औद्योगिक प्रेरक अभियान तथा व्यावसायिक व शैक्षणिक प्रशिक्षण कौशल विकास में सम्मिलित विभिन्न कार्यक्रम हैं।

प्रश्न 8.
उद्योगों के आकार से क्या आशय है?
उत्तर:
उद्योगों के आकार से आशय निवेश की गई पूँजी, कार्य में संलग्न लोगों की संख्या तथा उत्पादन की मात्रा से है।

प्रश्न 9.
लघु उद्योग से क्या आशय है?
उत्तर:
लघु उद्योग वे उद्योग हैं जिनमें 10 से 100 श्रमिक किसी छोटे कारखाने में कार्य करते हैं तथा इनमें छोटे पैमाने की मशीनें लगी होती हैं।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 6 औद्योगिक परिदृश्य

प्रश्न 10.
वृहत उद्योग क्या होते हैं? उदाहरण दीजिए।
उत्तर:
वृहत आकार के उद्योगों में अधिक पूँजी का निवेश, उच्चस्तरीय प्रौद्योगिकी और श्रमिकों की संख्या अधिक होती है। सूती वस्त्र, सीमेंट, लोहा इस्पात, ऑटोमोबाइल्स उद्योग आदि वृहत उद्योगों के उदाहरण हैं।

प्रश्न 11.
स्वामित्व के आधार पर उद्योगों को वर्गीकृत कीजिए।
उत्तर:
RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 6 औद्योगिक परिदृश्य 2

प्रश्न 12.
निजी क्षेत्र के उद्योगों से क्या आशय है?
उत्तर:
वे सभी उद्योग जिनका स्वामित्व एवं संचालन एक या एक से अधिक व्यक्तियों के समूह द्वारा किया जाता है, निजी क्षेत्र के उद्योग कहलाते हैं।

प्रश्न 13.
सार्वजनिक क्षेत्र के उद्योगों के कोई दो उदाहरण लिखिए।
उत्तर:

  • हिन्दुस्तान कॉपर लिमिटेड
  • हिन्दुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड।

प्रश्न 14.
कच्चे माल के आधार पर उद्योगों को उदाहरण सहित वर्गीकृत कीजिए।
उत्तर:
RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 6 औद्योगिक परिदृश्य 3

प्रश्न 15.
कषि आधारित उद्योगों से क्या आशय है?
उत्तर:
ऐसे उद्योग जो कच्चे माल के रूप में कृषि उत्पादों का उपयोग करते हैं, उन्हें कृषि आधारित उद्योग कहते हैं।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 6 औद्योगिक परिदृश्य

प्रश्न 16.
किन्हीं दो कृषि आधारित उद्योगों के नाम लिखिए।
उत्तर:

  • सूती वस्त्र उद्योग
  • वनस्पति तेल उद्योग

धौलपुर में लाल पत्थर का, जैसलमेर में पीले पत्थर का तथा जालोर में ग्रेनाइट उद्योग का पर्याप्त विकास हुआ है। पत्थरों की कटाई तथा पॉलिश से सम्बन्धित छोटी औद्योगिक इकाइयाँ भी राज्य में कार्यरत हैं। इन इकाइयों से संगमरमर एवं ग्रेनाइट पत्थरों का निर्यात विदेशों को किया जाता है।

आभूषण उद्योग – राजस्थान में विभिन्न प्रकार के रत्नों की कटाई, घिसाई तथा उनकी पॉलिश एक प्रमुख कुटीर उद्योग बन चुका है। जयपुर सोने व चाँदी के आभूषणों का एक प्रसिद्ध केन्द्र है। चाँदी से बनी विभिन्न प्रकार की वस्तुएँ, जैसे-चेन, अंगूठी, बिछिया, पायजेब आदि राज्य के विभिन्न नगरों व कस्बों में बनायी जाती हैं। राज्य के आदिवासी क्षेत्रों में हाथी दाँत व पीतल के भी आभूषण बनाये जाते हैं।

बर्तन उद्योग – राजस्थान के कई शहरों व कस्बों में पीतल व ताँबे के बर्तन बनाये जाते हैं। वर्तमान समय में इनका स्थान स्टील के बर्तनों ने ले लिया है।

अन्य लघु व कटीर उद्योग – राजस्थान में विभिन्न स्थानों पर इलेक्ट्रिकल एवं इलेक्ट्रॉनिक्स से सम्बन्धित उद्योग, कम्प्यूटर द्वारा प्रिन्टिंग, निमंत्रण पत्र व ग्रीटिंग कार्ड आदि तैयार करने से सम्बन्धित उद्योग, छोटी मशीनें और उनसे सम्बन्धित उपकरण, लोहे के बोल्ट, कील आदि बनाने के लिए कुटीर उद्योग एवं लघु अद्योगिक इकाइयाँ कार्यरत हैं।

Leave a Comment