RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 5 खनिज और ऊर्जा संसाधन

Rajasthan Board RBSE Class 8 Social Science Chapter 5 खनिज और ऊर्जा संसाधन

RBSE Solutions for Class 8 Social Science

RBSE Class 8 Social Science खनिज और ऊर्जा संसाधन Intext Questions and Answers

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 5 खनिज और ऊर्जा संसाधन

पृष्ठ – 37

आओ करके देखें

प्रश्न 1.
हमारे जीवन में खनिजों के महत्व पर पाँच वाक्य लिखिए।
उत्तर:

  • खनिज हमारी जीवन-शैली का अभिन्न अंग हैं।
  • हमारे घर में प्रयुक्त दैनिक उपयोग के अधिकांश बर्तनों का निर्माण खनिजों द्वारा हुआ है।
  • कृषि में प्रयुक्त अधिकांश औजारों का निर्माण खनिजों से हुआ है।
  • अनेक उद्योगों में खनिजों का उपयोग कच्चे माल के रूप में होता है।
  • भवन निर्माण, परिवहन व दूरसंचार के क्षेत्र में खनिजों का महत्वपूर्ण योगदान रहता है।

पृष्ठ – 38

प्रश्न 2.
अपने आस-पास की ऐसी वस्तुओं की पहचान कर . सूची बनाइए जिनका निर्माण किसी खनिज से हुआ हो।
उत्तर:
RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 5 खनिज और ऊर्जा संसाधन 9

प्रश्न 3.
निम्नलिखित में से धात्विक तथा अधात्विक खनिजों को छाँटकर सूची बनाइए –
लोहा, अभ्रक, ताँबा, सीसा, जिप्सम, संगमरमर, चूना पत्थर, जस्ता, सोना, घीया पत्थर, चाँदी, ग्रेनाइट, बलुआ पत्थर
उत्तर:
RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 5 खनिज और ऊर्जा संसाधन 8
दी गई सारणी संख्या 1 को देखकर बताइए।
सारणी संख्या – 1
RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 5 खनिज और ऊर्जा संसाधन 7

पृष्ठ – 40

प्रश्न 4.
राजस्थान एकाधिकार वाले खनिज कौन – कौन – से हैं?
उत्तर:
वोलेस्टोनाइट तथा जस्पर राजस्थान के एकाधिकार वाले खनिज हैं।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 5 खनिज और ऊर्जा संसाधन

प्रश्न 5.
राजस्थान में देश के 80 प्रतिशत से अधिक उत्पादन वालेखनिजों के नाम लिखिए।
उत्तर:
राजस्थान में देश के 80 प्रतिशत से अधिक उत्पादन वाले खनिज हैं – घीया पत्थर (87 प्रतिशत); एसबेस्टस (89 प्रतिशत); संगमरमर (90 प्रतिशत); जिप्सम (93 प्रतिशत); फ्लोराइट (96 प्रतिशत);जस्ता (99 प्रतिशत); जस्पर (100 प्रतिशत) एवं वोलेस्टोनाइट (100 प्रतिशत)।

पृष्ठ – 41

प्रश्न 6.
राजस्थान के रूपरेखा मानचित्र पर सारणी संख्या 2 में दिए गए खनिजों के नाम सम्बन्धित जिलों में दर्शाइए।
सारणी संख्या – 2
RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 5 खनिज और ऊर्जा संसाधन 6
उत्तर:
RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 5 खनिज और ऊर्जा संसाधन 5
RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 5 खनिज और ऊर्जा संसाधन 4

प्रश्न 7.
आपके घर में बिजली से चलने वाले उपकरणों एवं उनके उपयोगों की सूची बनाइए और सोचिए कि उनके अभाव में हमें किन-किन कठिनाइयों का सामना करना पड़ता?
उत्तर:
RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 5 खनिज और ऊर्जा संसाधन 4
विद्युत उपकरणों के अभाव में हमें इनके उपयोग से प्राप्त होने वाले विभिन्न लाभों से वंचित रहना पड़ता और हमारा जीवन असुविधाजनक हो जाता।

पृष्ठ – 44

प्रश्न 8.
आप अपने दैनिक जीवन में किस – किस रूप में ऊर्जा का उपयोग करते हैं? ये ऊर्जा हमें कहाँ से प्राप्त होती हैं?
उत्तर:
दैनिक जीवन में खाना बनाने के लिए, घरेलू विद्युत उपकरणों के संचालन के लिए तथा यातायात के विभिन्न साधनों जैसे-मोटर साइकिल, बस, रेल, कार तथा हवाई जहाज आदि में हम ऊर्जा का उपयोग करते हैं। यह ऊर्जा हमें कोयला, खनिज तेल, प्राकृतिक गैस तथा जल विद्युत द्वारा प्रमुख रूप से प्राप्त होती है।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 5 खनिज और ऊर्जा संसाधन

प्रश्न 9.
आपके घर में भोजन पकाने के लिए किस ईंधन का उपयोग किया जाता है? चर्चा कीजिए।
उत्तर:
हमारे घर में भोजन पकाने के लिए द्रवित पेट्रोलियम गैस (एल. पी. जी.) का उपयोग किया जाता है। ग्रामीण अंचल के अधिकांश घरों में प्रायः लकड़ी व कोयले का उपयोग ईंधन के रूप में किया जाता है।

क्या आप जानते हैं

पृष्ठ – 37

प्रश्न 1.
धातुओं का किसके विकास में योगदान रहा है?
उत्तर:
धातुओं का हमारी सभ्यताओं के विकास में अहम योगदान रहा है।

प्रश्न 2.
हमारे इतिहास को धातुओं के आधार पर किन-किन युगों में बाँटा गया है।
उत्तर:
धातुओं के आधार पर इतिहास को मुख्यतः पाषाण युग, कांस्य युग व लौह युग में बाँटा गया है।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 5 खनिज और ऊर्जा संसाधन

पृष्ठ – 40

प्रश्न 3.
ताजमहल के निर्माण हेतु कहाँ का संगमरमर प्रयुक्त किया गया है?
उत्तर:
ताजमहल के निर्माण हेतु राजस्थान के नागौर जिले में स्थित मकराना की खानों से निकले संगमरमर का प्रयोग किया गया है।

RBSE Class 8 Social Science खनिज और ऊर्जा संसाधन Text Book Questions and Answers

पाठ्यपुस्तक के प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1.
सही विकल्प को चनिए –
(i) निम्नलिखित में से अधात्विक खनिज है ……………….
(क) संगमरमर
(ख) लोहा
(ग) सोना
(घ) तांबा
उत्तर:
(क) संगमरमर

(ii) किस राज्य को खनिजों का अजायबघर’ कहा जाता ……………….
(क) झारखण्ड
(ख) उड़ीसा
(ग) राजस्थान
(घ) कर्नाटक
उत्तर:
(ग) राजस्थान

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 5 खनिज और ऊर्जा संसाधन

प्रश्न 2.
रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए –

  1. राजस्थान की प्रमुख जल विद्युत परियोजनाएँ एवं ……………….
  2. कोयले के चार प्रकारों के नाम
    1. ……… 2……….. 3. ………. 4. …….
  3. किसी भी चलायमान वस्तु को ………………. की आवश्यकता होती है।
  4. खनिज निकालने की प्रक्रिया ………………. कहलाती है।

उत्तर:

  1. चम्बल, माही बजाज सागर
  2. एन्थ्रेसाइट, बिटुमिनस, लिग्नाइट, पीट
  3. ऊर्जा
  4. खनन।

प्रश्न 3.
खनिज किसे कहते हैं? उदाहरण सहित इनका वर्गीकरण कीजिए।
उत्तर:
खनिज – खनिज प्राकृतिक रूप से उपलब्ध ऐसी वस्तुएँ हैं जिसकी एक निश्चित आंतरिक तथा रासायनिक संरचना होती है। खनिजों का वर्गीकरण-खनिज तीन प्रकार के होते हैं:

  1. धात्विक खनिज – वे खनिज जिनमें मूल रूप से धातु विद्यमान रहती है तथा जो कठोर होते हैं, धात्विक खनिज कहलाते हैं; जैसे – लौह – अयस्क, सीसा, जस्ता, ताँबा, चाँदी, सोना. मैंगनीज आदि।
  2. अधात्विक खनिज – जिन खनिजों में धातु का अंश – नहीं पाया जाता है, वे अधात्विक खनिज कहलाते हैं, जैसे संगमरमर, बलुआ पत्थर, चूना-पत्थर, अभ्रक, जिप्सम, घीया पत्थर आदि।
  3. ऊर्जा खनिज – जिन खनिजों से हमें ऊर्जा मिलती है, वे ऊर्जा खनिज कहलाते हैं; जैसे- पेट्रोलियम, कोयला, प्राकृतिक गैस तथा परमाणु ऊर्जा के स्रोत यूरेनियम, थोरियम आदि।

प्रश्न 4.
परम्परागत एवं गैरपरम्परागत ऊर्जा संसाधनों में अन्तर स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
परम्परागत और गैर – परम्परागत ऊर्जा संसाधनों में अंतर
RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 5 खनिज और ऊर्जा संसाधन 10

प्रश्न 5.
खनन की प्रमुख विधियाँ कौन – कौन सी हैं? वर्णन कीजिए।
उत्तर:
खनन की प्रमुख विधियाँ-खनिजों को निकालने की साधारण प्रक्रिया खनन कहलाती है। खनिज निम्नलिखित खनन विधियों से निकाले जाते हैं:

  1. विवृत खनन – जब खनिज धरातल की सतह के समीप ही मिल जाते हैं तो उन्हें निकालने के लिए केवल ऊपरी परत को ही हटाना पड़ता है। खनन की इस विधि को विवृत खनन कहते हैं।
  2. कूपकी खनन – जब खनिज बहुत अधिक गहराई में होते हैं तो उन्हें निकालने के लिए कूप (कुएँ) बनाए जाते हैं। खनन की इस विधि को कूपकी खनन कहते हैं।
  3. प्रवेधन – खनिज तेल एवं प्राकृतिक गैस धरातल की अत्यन्त गहराई में मिलते हैं। इन्हें निकालने के लिए गहन कूपों की खुदाई की जाती है। खनन की इस विधि को प्रवेधन या ड्रिलिंग कहते हैं।
  4. आखनन – कुछ खनिज जैसे मिट्टी आदि सतह पर ही मिल जाते हैं। इस प्रकार के खनिजों की प्राप्ति विधि को आखनन कहते हैं।
    RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 5 खनिज और ऊर्जा संसाधन 2

प्रश्न 6.
राजस्थान को खनिजों का अजायबघर क्यों कहा जाता है? राजस्थान की खनिज सम्पदा के संदर्भ में संक्षिप्त लेख लिखिए।
उत्तर:
राजस्थान खनिजों का अजायबघर:
अपनी भूगर्भिक संरचना के कारण राजस्थान में अनेक प्रकार के खनिज पाये जाते हैं। यहाँ कुल 79 प्रकार के खनिज पाये जाते हैं। इतने अधिक प्रकार के खनिज पाये जाने के कारण राजस्थान को ‘खनिजों का अजायबघर’ कहा जाता है।

राजस्थान की खनिज सम्पदा:
खनिज भण्डारों की दृष्टि से राजस्थान भारत में झारखण्ड के पश्चात् दूसरा स्थान रखता है। वोलेस्टोनाइट तथा जस्पर नामक खनिजों के उत्पादन में तो राजस्थान राज्य का एकाधिकार है। राजस्थान में धात्विक, अधात्विक एवं ऊर्जा खनिज पाये जाते हैं। धात्विक खनिजों की दृष्टि से राजस्थान में प्रमुख रूप से ताँबा, सीसा, जस्ता व टंगस्टन आदि का उत्पादन होता है। वहीं अधात्विक खनिजों में रॉक फॉस्फेट, चूना पत्थर, बलुआ पत्थर, घीया पत्थर, अभ्रक, जिप्सम, संगमरमर, ग्रेनाइट एवं वोलेस्टोनाइट आदि प्रमुख हैं। ऊर्जा खनिजों में कोयला व प्राकृतिक गैस भी राजस्थान से प्राप्त होती है। इस प्रकार राजस्थान खनिजों की दृष्टि से एक समृद्ध प्रदेश होने के कारण ‘खनिजों का अजायबघर’ कहलाता है।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 5 खनिज और ऊर्जा संसाधन

प्रश्न 7.
ऊर्जा संसाधन किसे कहते हैं? राजस्थान के प्रमुख ऊर्जा संसाधनों को उदाहरण सहित समझाइए।
उत्तर:
ऊर्जा या शक्ति संसाधन-वे जैविक व अजैविक पदार्थ जिनके उपयोग से हमें ऊर्जा या शक्ति प्राप्त होती है, ऊर्जा या शक्ति संसाधन कहलाते हैं। राजस्थान के प्रमुख ऊर्जा संसाधन-कोयला, पेट्रोलियम, जल विद्युत, सौर ऊर्जा, पवन ऊर्जा तथा परमाणु ऊर्जा राजस्थान के प्रमुख ऊर्जा संसाधन हैं।
1. कोयला – राजस्थान में उत्तम किस्म का लिग्नाइट कोयला मिलता है जिसका खनन बीकानेर जिले के बरसिंहसर एवं पलाना तथा बाडमेर जिले के जालीपा, कपुरडी एवं गिरल नामक स्थानों पर किया जाता है। लिग्नाइट संचालित तापीय ऊर्जा संयंत्र कोटा तथा सूरतगढ़ में कार्यरत हैं।

2. खनिज तेल या पेट्रोलियम – प्राकृतिक गैस व पेट्रोलियम पश्चिमी राजस्थान के बाडमेर जिले के मंगला व सरस्वती, जैसलमेर जिले के घोटारू, तनोट व मनीहारी टिब्बा नामक स्थानों के अलावा बीकानेर तथा जालोर जिलों में मिलता है। प्राकृतिक गैस का खनन जैसलमेर जिले से किया जा रहा है।

3. जल विद्युत – राजस्थान की प्रमुख जल विद्युत परियोजनाएँ चम्बल तथा माही बजाज सागर हैं।

4. सौर ऊर्जा – पश्चिमी राजस्थान में सौर ऊर्जा विकास की अच्छी सम्भावनाएँ हैं। जैसलमेर तथा प्रतापगढ़ जिलों में सौर ऊर्जा आधारित पावर प्लांट स्थापित किए गए हैं।

5. पवन ऊर्जा – पश्चिमी राजस्थान के अनेक स्थानों पर पवन चक्कियाँ स्थापित की गई हैं। जैसलमेर तथा प्रतापगढ़ में पवन ऊर्जा उत्पादन की अपार सम्भावनाएँ हैं।

6. परमाणु ऊर्जा – राजस्थान में यूरेनियम नामक रेडियो सक्रिय खनिज मिलता है। कोटा के निकट रावत भाटा में एक परमाणु ऊर्जा संयंत्र स्थापित है।

RBSE Class 8 Social Science खनिज और ऊर्जा संसाधन Important Questions and Answers

वस्तुनिष्ठ प्रश्न

Question 1.
वे खनिज जिनमें मूल रूप से धातु विद्यमान रहती है तथा जो कठोर होते हैं, कहलाते हैं …………………
(क) धात्विक खनिज
(ख) ऊर्जा खनिज
(ग) अधात्विक खनिज
(घ) उपर्युक्त सभी
उत्तर:
(क) धात्विक खनिज

Question 2.
निम्न में से धात्विक खनिज है …………………
(क) संगमरमर
(ख) अभ्रक
(ग) चूना पत्थर
(घ) लौह – अयस्क
उत्तर:
(घ) लौह – अयस्क

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 5 खनिज और ऊर्जा संसाधन

Question 3.
निम्नलिखित में से अधात्विक खनिज समूह की पहचान कीजिए …………………
(क) संगमरमर, अभ्रक, जिप्सम
(ख) लोहा, अभ्रक, मैंगनीज
(ग) जिप्सम, मैंगनीज, सीसा
(घ) ताँबा, सोना, चूना – पत्थर
उत्तर:
(क) संगमरमर, अभ्रक, जिप्सम

Question 4.
निम्न में से ऊर्जा खनिज है …………………
(क) कोयला
(ख) लौह – अयस्क
(ग) बलुआ पत्थर
(घ) जिप्सम
उत्तर:
(क) कोयला

Question 5.
खनिज निष्कर्षण की वह विधि जिसमें गहराई में स्थित खनिजों तक पहुँचने के लिए कूपों का सहारा लेना पड़ता है, कहलाती है …………………
(क) विवृत खनन
(ख) कूपकी खनन
(ग) प्रवेधन विधि
(घ) उपर्युक्त सभी
उत्तर:
(ख) कूपकी खनन

Question 6.
निम्न में से किन खनिजों के उत्पादन में राजस्थान भारत में एकाधिकार रखता है ?
(क) रॉक फॉस्फेट व जस्ता
(ख) एस्बेस्टस व सीसा
(ग) वोलेस्टोनाइट व जस्पर
(घ) चूना पत्थर व केल्साइट
उत्तर:
(ग) वोलेस्टोनाइट व जस्पर

प्रश्न 7.
निम्न में से राजस्थान में मिलने वाला कोयले का प्रकार है
(क) बिटुमिनस
(ख) लिग्नाइट
(ग) पीट
(घ) एन्थ्रेसाइट।
उत्तर:
(ख) लिग्नाइट

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 5 खनिज और ऊर्जा संसाधन

प्रश्न 8.
निम्न में से कौन-सा खनिज तेल उत्पादक स्थान जैसलमेर में नहीं है-
(क) घोटारू
(ख) तनोट
(ग) मनीहारी टिब्बा
(घ) सरस्वती।
उत्तर:
(घ) सरस्वती।

प्रश्न 9.
निम्न में से ऊर्जा का गैर-परम्परागत स्रोत है-
(क) सौर ऊर्जा
(ख) जलविद्युत
(ग) कोयला
(घ) खनिज तेल।
उत्तर:
(क) सौर ऊर्जा

प्रश्न 10.
राजस्थान में प्राकृतिक गैस का खनन निम्न में से किस जिले में किया जाता है?
(क) बाड़मेर
(ख) बीकानेर
(ग) जैसलमेर
(घ) जालोर।
उत्तर:
(ग) जैसलमेर

रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए

  1. खनिज और अवयवों के मिश्रण को ……….. कहते हैं।
  2. …….. सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाला कोयला होता है।
  3. ………. खनिजों का अजायबघर कहलाता है।
  4. पवन ऊर्जा एक ………. स्रोत है।
  5. भारत में ………… प्रमुख रूप से राजस्थान तथा झारखण्ड में मिलता है।

उत्तर:

  1. अयस्क
  2. एन्थ्रेसाइट
  3. राजस्थान
  4. नव्यकरणीय
  5. यूरेनियम।

अतिलघूत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
धात्विक खनिज से क्या तात्पर्य है?
उत्तर:
ऐसे खनिज जिनमें मूल रूप से धातु विद्यमान रहती है और जो कठोर होते हैं धात्विक खनिज कहलाते हैं।

प्रश्न 2.
खनिज कितने प्रकार के होते हैं? नाम लिखिए।
उत्तर:
खनिज मुख्यतः तीन प्रकार के होते हैं-

  • धात्विक खनिज
  • अधात्विक खनिज
  • ऊर्जा खनिज।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 5 खनिज और ऊर्जा संसाधन

प्रश्न 3.
‘अयस्क’ शब्द से क्या आशय है?
उत्तर:
खनिज तथा अन्य अवयवों के मिश्रण को अयस्क कहते हैं।

प्रश्न 4.
किन्हीं चार अलौह धात्विक खनिजों के नाम लिखिए।
उत्तर:

  • सोना
  • चाँदी
  • ताँबा
  • सीसा।।

प्रश्न 5.
अधात्विक खनिज क्या होते हैं?
उत्तर:
अधात्विक खनिज वे होते हैं जिनमें धातु का अंश बिल्कुल भी नहीं पाया जाता है।

प्रश्न 6.
ऊर्जा खनिज से क्या आशय है?
उत्तर:
जिन खनिजों से हमें ऊर्जा की प्राप्ति होती है, वे ऊर्जा खनिज कहलाते हैं।

प्रश्न 7.
खनन किसे कहा जाता है?
उत्तर:
खनिज निकालने की सामान्य प्रक्रिया खनन कहलाती

प्रश्न 8.
विवृत खनन किसे कहा जाता है?
उत्तर:
खनिज निकालने के लिए केवल ऊपरी परत को हटाना पड़ता है। खनन की इस विधि को विवृत खनन कहा जाता है।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 5 खनिज और ऊर्जा संसाधन

प्रश्न 9.
खनिज भण्डारों की दृष्टि से राजस्थान का भारत में कौन-सा स्थान है?
उत्तर:
द्वितीय स्थान।

प्रश्न 10.
उन दो खनिजों के नाम बताइए जिनके उत्पादन में राजस्थान भारत में एकाधिकार रखता है?
उत्तर:

  • वोलेस्टोनाइट
  • जस्पर।

प्रश्न 11.
ऊर्जा के परम्परागत स्रोत से क्या आशय है?
अथवा
परम्परागत ऊर्जा संसाधन किसे कहा जाता है?
उत्तर:
ऊर्जा के वे स्रोत जिनका उपयोग पारम्परिक रूप से किया जा रहा है, परम्परागत ऊर्जा संसाधन कहलाते हैं।

प्रश्न 12.
परम्परागत ऊर्जा संसाधन के कोई दो उदाहरण लिखिए।
उत्तर:

  • कोयला
  • खनिज तेल।

प्रश्न 13.
ऊर्जा के किन्हीं चार गैर-परम्परागत स्त्रोतों के नाम लिखिए।
उत्तर:

  • सौर ऊर्जा
  • पवन ऊर्जा
  • परमाणु ऊर्जा
  • बायोगैस ऊर्जा।

प्रश्न 14.
राजस्थान के कौन-कौन से जिलों में पवन ऊर्जा के विकास की प्रबल सम्भावनाएँ हैं?
उत्तर:

  • जैसलमेर
  • प्रतापगढ़।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 5 खनिज और ऊर्जा संसाधन

प्रश्न 15.
परमाणु ऊर्जा किन – किन खनिजों से प्राप्त होती है?
अथवा
किन्हीं दो रेडियो सक्रिय ऊर्जा खनिजों के नाम बताइए।
उत्तर:

  • यूरेनियम
  • थोरियम।

लघूत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
धात्विक खनिज क्या हैं? उदाहरण सहित बताइए।
उत्तर:
धात्विक खनिज – वे खनिज जिनमें मूल रूप से धातु विद्यमान रहती है तथा जो कठोर होते हैं, धात्विक खनिज कहलाते हैं। धात्विक खनिज दो प्रकार के होते हैं-

  1. लौह खनिज जैसे-लौह-अयस्क, मैंगनीज व क्रोमाइट आदि।
  2. अलौह खनिज, जैसे-सोना, चाँदी, सीसा व ताँबा आदि। सामान्यतया ऐसे खनिज हमें अन्य अवयवों या तत्वों के साथ मिश्रित रूप से मिलते हैं, जिनमें से हमें इन धातुओं को रासायनिक प्रक्रिया द्वारा अलग करना पड़ता है।

प्रश्न 2.
अनव्यकरणीय ऊर्जा संसाधनों से क्या आशय है?
उत्तर:
ऐसे ऊर्जा संसाधन जिन्हें मानव अपने जीवन में कभी भी पुनः नहीं बना सकता है। उन्हें अनव्यकरणीय ऊर्जा संसाधन कहते हैं यथा-कोयला, खनिज तेल, प्राकृतिक गैस, यूरेनियम व थोरियम आदि।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 5 खनिज और ऊर्जा संसाधन

प्रश्न 3.
‘ऊर्जा के परम्परागत स्रोत के रूप में ‘कोयला’ विषय पर संक्षिप्त टिप्पणी लिखिए।
उत्तर:
ऊर्जा के परम्परागत स्रोत के रूप में कोयला अपना एक महत्वपूर्ण स्थान रखता है। कोयला चार प्रकार का होता है-एन्थ्रेसाइट, बिटुमिनस, लिग्नाइट व पीट। इनमें से एन्थ्रेसाइट कोयले की सर्वोत्तम किस्म है। इसमें 80 प्रतिशत से अधिक कार्बन होता है तथा यह कम धुआँ छोड़ता है। राजस्थान में लिग्नाइट किस्म का कोयला मिलता है। इसकी प्राप्ति बीकानेर के बरसिंहसर व पलाना से तथा बाड़मेर के जालीपा, कपुरडी व गिरल से होती है। इन क्षेत्रों से प्राप्त लिग्नाइट कोयले का उपयोग विद्युत ऊर्जा तैयार करने में होता है। राजस्थान में कोयले से विद्युत बनाने वाले प्रमुख तापीय ऊर्जा संयंत्र कोटा व सूरतगढ़ में स्थापित हैं।

प्रश्न 4.
खनिजों के प्रकारों को रेखाचित्र के द्वारा प्रदर्शित कीजिए।
उत्तर:
RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 5 खनिज और ऊर्जा संसाधन 1

प्रश्न 5.
‘राजस्थान में खनिज तेल’ विषय पर टिप्पणी लिखिए।
उत्तर:
खनिज तेल (पेट्रोलियम) यह ऊर्जा का एक प्रमुख परम्परागत स्रोत है। इसका उपयोग परिवहन के साधनों एवं ऊर्जा उत्पादन में किया जाता है। यह एक बहुमूल्य खनिज है जिसकी प्राप्ति प्रत्येक स्थान से नहीं होती है। राजस्थान से खनिज तेल एवं प्राकृतिक गैस की प्राप्ति राज्य के पश्चिमी भाग में स्थित जैसलमेर, बाड़मेर, बीकानेर एवं जालोर आदि जिलों से होती है। यहाँ की अवसादी चट्टानों से खनिज तेल व प्राकृतिक गैस प्राप्त होती है। जैसलमेर में घोटारू, तनोट, मनीहारी टिब्बा से, बाड़मेर में मंगला, सरस्वती तेल क्षेत्र से तथा बीकानेर व जालोर जिले में पाये जाने वाले विभिन्न क्षेत्रों में खनिज तेल व प्राकृतिक गैस की प्राप्ति होती है।

प्रश्न 6.
सौर ऊर्जा के बारे में संक्षेप में लिखिए।
उत्तर:
सूर्य की रोशनी से ही सौर ऊर्जा बनती है। जहाँ सूर्य की रोशनी एवं ऊष्मा प्रचुर मात्रा में मिलती है वहाँ इसका 1 उपयोग विद्युत निर्माण में किया जाता है। बिजली के अलावा इसका उपयोग कुकर एवं तापक आदि के रूप में भी किया जा सकता है। राजस्थान में, जहाँ आसमान प्रायः साफ रहता है वहाँ सौर ऊर्जा के विकास की अच्छी सम्भावना है राजस्थान में कई सौर ऊर्जा आधारित विद्युत संयंत्र स्थापित किये जा रहे हैं।

निबन्धात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
राजस्थान में पाये जाने वाले खनिज एवं उनके उत्पादक क्षेत्रों का वर्णन कीजिए।
अथवा
राजस्थान में पाये जाने वाले धात्विक एवं अधात्विक खनिजों का वर्णन कीजिए।
उत्तर:
राजस्थान में पाये जाने वाले खनिज

1. धात्विक खनिज:
राजस्थान में पाये जाने वाले धात्विक खनिज निम्नलिखित हैं-

  • ताँबा अयस्क-राजस्थान में इस खनिज की प्राप्ति झुंझुनूं, सीकर, अलवर तथा डूंगरपुर जिलों से होती है।
  • लौह – अयस्क-राजस्थान में यह खनिज जयपुर, झुंझुनूं, उदयपुर व भीलवाड़ा जिले से प्राप्त होता है।
  • सीसा – जस्ता-यह खनिज भीलवाड़ा, उदयपुर व राजसमंद जिले की खानों से प्राप्त होता है।
  • टंगस्टन – इसकी प्राप्ति नागौर व सिरोही जिलों से होती है।
  • चाँदी – यह उदयपुर, राजसमंद व भीलवाड़ा जिले से प्राप्त होती है।

2. अधात्विक खनिज:
राजस्थान में पाये जाने वाले अधात्विक खनिज निम्नलिखित-

  • जिप्सम – यह खनिज बीकानेर, जैसलमेर, नागौर व बाड़मेर जिले से प्राप्त होता है।
  • चूना पत्थर – राजस्थान में यह खनिज चित्तौड़गढ़, सिरोही, नागौर, कोटा, बूंदी व जैसलमेर जिलों से प्राप्त होता है।
  • रॉक फास्फेट – यह खनिज उदयपुर, जैसलमेर, जयपुर व बाँसवाड़ा से प्राप्त होता है।
  • अभ्रक – यह खनिज भीलवाड़ा, उदयपुर, अजमेर व जयपुर जिलों से प्राप्त होता है।
  • घीया पत्थर – यह खनिज उदयपुर, भीलवाड़ा, डूंगरपुर व दौसा जिलों से प्राप्त होता है।
  • वोलेस्टोनाइट – इस खनिज की प्राप्ति सिरोही, अजमेर, उदयपुर व पाली जिलों से होती है।
  • लिग्नाइट कोयला – यह राजस्थान के बीकानेर, बाड़मेर व नागौर जिलों से प्राप्त होता है।
  • संगमरमर – इस खनिज की प्राप्ति राजस्थान के राजसमंद, नागौर, उदयपुर, जयपुर व बाँसवाड़ा जिलों से। होती है।
  • बलुआ पत्थर – राजस्थान में बलुआ पत्थर जोधपुर, बूंदी, भीलवाड़ा, धौलपुर, कोटा व चित्तौड़गढ़ से प्राप्त होता
  • ग्रेनाइट – राजस्थान में ग्रेनाइट की प्राप्ति जालोर, जैसलमेर, पाली व सिरोही जिले से होती है।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 5 खनिज और ऊर्जा संसाधन

प्रश्न 2.
ऊर्जा के गैर-परम्परागत स्रोत क्या हैं? ऊर्जा के किन्हीं दो गैर-परम्परागत स्त्रोतों का वर्णन कीजिए।
उत्तर:
ऊर्जा के गैर – परम्परागत स्रोत ऊर्जा के परम्परागत स्रोतों की सीमितता और बढ़ती हुई मानवीय आवश्यकताओं ने हमें ऊर्जा के नए-नए स्रोत जानने और खोज करने के लिए मजबूर कर दिया है। ऊर्जा के उन नए स्रोतों को जिनकी उपलब्धता प्रचुर मात्रा में है, उन्हें ऊर्जा के गैर-परम्परागत स्रोत कहते हैं; जैसे-पवन ऊर्जा, सौर ऊर्जा, परमाणु ऊर्जा, भूतापीय ऊर्जा तथा बायोगैस आदि।

गैर – परम्परागत ऊर्जा स्त्रोत – गैर – परम्परागत ऊर्जा के दो स्रोतों का वर्णन निम्नलिखित है-
1. पवन ऊर्जा:
पवन ऊर्जा एक नव्यकरणीय अर्थात् पुनः उपयोग में आने वाला स्रोत है। पवन चक्कियों की सहायता से बहती वायु का उपयोग बिजली उत्पादन के लिए होता है। पश्चिमी राजस्थान में पवन चक्कियाँ स्थापित की गई हैं। जैसलमेर व प्रतापगढ़ जिलों में पवन ऊर्जा के विकास की पर्याप्त सम्भावनाएँ हैं। इससे प्रदूषण भी नहीं होता।

2. परमाणु ऊर्जा:
यूरेनियम तथा थोरियम रेडियो सक्रिय खनिज हैं। इन खनिजों का उपयोग परमाणु ऊर्जा उत्पन्न करने में किया जाता है। भारत में यूरेनियम प्रमुख रूप से राजस्थान व झारखण्ड में उपलब्ध है। केरल की मोनोजाइट मिट्टी में थोरियम मिलता है। राजस्थान में चित्तौड़गढ़ के रावत भाटा में परमाणु ऊर्जा संयंत्र स्थापित है।

Leave a Comment