RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 22 भारत की अर्थव्यवस्था पर अंग्रेजी शासन का प्रभाव

Rajasthan Board RBSE Class 8 Social Science Chapter 22 भारत की अर्थव्यवस्था पर अंग्रेजी शासन का प्रभाव

RBSE Solutions for Class 8 Social Science

RBSE Class 8 Social Science भारत की अर्थव्यवस्था पर अंग्रेजी शासन का प्रभाव Intext Questions and Answers

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 22 भारत की अर्थव्यवस्था पर अंग्रेजी शासन का प्रभाव

पृष्ठ – 147

गतिविधि

प्रश्न 1.
यूरोप के देशों में भारतीय सामान खरीदने लायक सम्पन्नता आ गई। कैसे?
उत्तर:
यूरोप के देशों में भारतीय सामान खरीदने लायक सम्पन्नता आ गई क्योंकि यूरोप के देशों ने अमेरिका की खोज के बाद वहाँ से काफी मात्रा में लूट-पाट करके सोना, चाँदी प्राप्त कर लिया था।

प्रश्न 2.
यूरोप से समुद्री रास्ते से होकर भारत आने का मार्ग एक पुर्तगाली नाविक ने खोज निकाला। उस नाविक का नाम क्या था?
उत्तर:
वास्कोडिगामा।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 22 भारत की अर्थव्यवस्था पर अंग्रेजी शासन का प्रभाव

प्रश्न 3.
नाके किसे कहते हैं?
उत्तर:
नाके चुंगी वसूल करने वाले स्थान को कहते हैं।

पृष्ठ – 148

प्रश्न 4.
मालगुजारी का क्या आशय है?
उत्तर:
मालगुजारी भारतीय किसानों के शोषण का दूसरा तरीका था अर्थात यह अंग्रेजों द्वारा भारतीय किसानों को मनमानी वसूली के नाम पर लूटने का सीधा तरीका था।

प्रश्न 5.
मालगुजारी द्वारा शोषण किस प्रकार होता था?
उत्तर:
मालगुजारी द्वारा शोषण निम्न प्रकार होता था –

  1. अंग्रेज किसानों से मनमानी ढंग से वसूली करते थे, जो निश्चित मापदण्डों के अनुसार नहीं थी।
  2. अंग्रेजों ने मालगुजारी को किसानों से वसूली द्वारा लूट का सीधा तरीका बना रखा था।

पृष्ठ – 149

प्रश्न 6.
ईस्ट इण्डियन मैन किसे कहा जाता था?
उत्तर:
ईस्ट इण्डियन मैन अंग्रेजों द्वारा भारत के साथ व्यापार करने के लिए प्रयोग किए गए बहुत बड़े जहाजों को कहा जाता था।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 22 भारत की अर्थव्यवस्था पर अंग्रेजी शासन का प्रभाव

प्रश्न 7.
सम्पत्ति के निकास का सबसे पहले विरोध करने वाले भारतीय व्यक्ति कौन थे?
उत्तर:
सम्पत्ति के निकास का सबसे पहले विरोध करने वाले भारतीय व्यक्ति दादा भाई नौरोजी थे।

प्रश्न 8.
इंग्लैण्ड की पार्लियामेण्ट ने भारतीय कपड़ों के इस्तेमाल पर पाबन्दी क्यों लगाई?
उत्तर:
इंग्लैण्ड की पार्लियामेण्ट ने भारतीय कपड़ों के इस्तेमाल पर पाबन्दी लगाई क्योंकि भारत से बड़ी मात्रा में सस्ते और बढ़िया कपड़ों के आयात से इंग्लैण्ड के उत्पादक गम्भीर रूप से डर गए थे।

पृष्ठ – 150

कक्षा में चर्चा करें

प्रश्न 1.
अंग्रेजों ने भारत में केवल वही उद्योग स्थापित किए, जिनकी स्थापना करना उनकी मजबूरी थी। शेष सारे उद्योग उन्होंने इंग्लैण्ड में स्थापित किए।
उत्तर:
क्योंकि अंग्रेज पूँजीपति भारत के औद्योगीकरण के विरोधी थे।

पृष्ठ – 151

गतिविधि

प्रश्न 1.
विश्व का नक्शा लेकर उसमें उन स्थानों को चिन्हित करें जहाँ से भारत का अन्य देशों के साथ विदेशी व्यापार होता था।
उत्तर:
प्राचीनकाल में भारत का विश्व के अनेक देशों के साथ व्यापार होता था –

  1. मध्य एशिया – तिब्बत, अफगानिस्तान, रूस, मंगोलिया।
  2. पूर्वी एशिया – चीन, कोरिया, जापान

श्रीलंका और दक्षिण पूर्व एशिया – म्यांमार, थाइलैण्ड, कम्बोडिया, वियतनाम, मलेशिया, इण्डोनेशिया।
RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 22 भारत की अर्थव्यवस्था पर अंग्रेजी शासन का प्रभाव 1प्रश्न 2.
ऐसी वस्तुओं की सूची बनाइए जिनकी प्राचीनकाल में विदेशों में माँग थी।
उत्तर:
भारत की संसाधनपूर्णता ने भारत के उत्पादों को यूरोप व अन्य देशों में लोकप्रिय बना दिया था। प्राचीनकाल से ही भारतीय उत्पादों की यूरोप के बाजारों में अत्यधिक माँग रही थी। भारत से प्राचीनकाल में जो वस्तुएँ निर्यात की जाती थी वे थीं –

  1. रेशम
  2. कपास से बने वस्त्र
  3. मसाले
  4. नील
  5. चीनी
  6. अफीम
  7. रत्न
  8. हाथ से निर्मित सजावट के सामान
  9. इत्र
  10. मसलिन (एक प्रकार का कपड़ा)
  11. जरी का काम किये हुए वस्त्र
  12. औषधियुक्त जड़ी – बूटियाँ
  13. चंदन
  14. मोती
  15. लौह अयस्क
  16. मूंगा

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 22 भारत की अर्थव्यवस्था पर अंग्रेजी शासन का प्रभाव

प्रश्न 3.
एक निबंध लिखें जिसमें भारत की प्राचीनकाल एवं औपनिवेशिक काल की अर्थव्यवस्था का तुलनात्मक विवरण हो।
उत्तर:
प्राचीन भारत की अर्थव्यवस्था कृषि प्रधान थी। लोगों की आय कृषि से जुड़े व्यवसायों जैसे पशुपालन, दुग्ध उत्पादन आदि पर निर्भर थी। मध्यकाल तक आते-आते अन्य कई उद्योग – धन्धों का विकास हुआ। पश्चिम एशिया व यूरोप के कई देशों से भारत का व्यापारिक सम्बन्ध स्थापित हुआ। इन देशों में कपास से बने हुए वस्त्र, रेशम, इत्र, मसलिन (एक प्रकार का कपड़ा), चंदन, औषधियों का आयात किया जाने लगा। यूरोप के बाजारों में इन वस्तुओं की माँग बढ़ गई।

माँग बढ़ने के फलस्वरूप उत्पादन अधिक किया जाने लगा जिससे आर्थिक व्यवस्था सुदृढ़ हो गई। विदेशी कम्पनियों के भारत में आने से पूर्व यहाँ के उद्योग-धन्धे उन्नत अवस्था में थे। धीरे-धीरे यूरोप के व्यापारी व्यापार करने के उद्देश्य से भारत आने लगे। इनमें डच, पुर्तगाली, स्पेनिश, फ्रांसीसी व ब्रिटिश प्रमुख थे। ब्रिटिशों ने अन्य कम्पनियों को हराकर भारत के व्यापार पर एकाधिकार स्थापित किया। ब्रिटिशों ने भारतीय संसाधनों का इस तरह शोषण किया कि यहाँ की समृद्ध अर्थव्यवस्था टूट गई और देश आर्थिक रूप से पिछड़ने लगा।

अंग्रेजों से पूर्व भारत में बुने हुए वस्त्र यूरोप के बाजार में बिकते थे जिसका पूर्ण लाभ कामगरों व कारीगरों को मिलता था परन्तु इंग्लैण्ड में मशीनी युग के आने के उपरांत भारत से कच्चा माल विदेश भेजा जाने लगा जिसका मूल्य बहुत कम था। साथ ही साथ मशीनों से तैयार माल यूरोप के बाजारों में बेचा जाने लगा। मशीनीकरण ने भारत के उद्योग-धन्धों को पूर्णतया नष्ट कर दिया, बहुत से कारीगर बेरोजगार हो गये। परिणामस्वरूप भारत की उन्नत अर्थव्यवस्था पतन की ओर अग्रसर हो गई।

RBSE Class 8 Social Science भारत की अर्थव्यवस्था पर अंग्रेजी शासन का प्रभाव Text Book Questions and Answers

प्रश्न संख्या एक वदो के सही उत्तर चुनकर लिखिए –

Question 1.
अंग्रेजों द्वारा किसानों को लूटने का सीधा तरीका था ………………..
(अ) प्रत्यक्ष लूटमार द्वारा
(ब) माल गुजारी द्वारा
(स) कानून बनाकर
(द) मुक्त व्यापार नीति द्वारा
उत्तर:
(ब) माल गुजारी द्वारा

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 22 भारत की अर्थव्यवस्था पर अंग्रेजी शासन का प्रभाव

Question 2.
सम्पत्ति के निकास का सबसे पहले विरोध किया था ………………..
(अ) मोती लाल नेहरू ने
(ब) महात्मा गाँधी ने
(स) दादा भाई नौरोजी ने
(द) सरदार पटेल ने
उत्तर:
(स) दादा भाई नौरोजी ने

भाग ‘अ’ को भाग ‘ब’ से सुमेलित कीजिए –

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 22 भारत की अर्थव्यवस्था पर अंग्रेजी शासन का प्रभाव 2
उत्तर:
1. (d)
2. (a)
3. (b)
4. (c)

निम्न प्रश्नों के उत्तर दीजिए –

प्रश्न 1.
विऔद्योगीकरण क्या होता है?
उत्तर:
विऔद्योगीकरण औद्योगीकरण की विपरीत प्रक्रिया है अर्थात् विऔद्योगीकरण परम्परागत उद्योगों के नष्ट होने की प्रक्रिया है।

प्रश्न 2.
एक तरफा मुक्त व्यापार नीति क्या है? इससे भारत के विदेशी व्यापार को किस प्रकार हानि हुई?
उत्तर:
एक तरफा मुफ्त व्यापार नीति वह होती है जिसके अन्तर्गत कोई भी देश अपने माल को किसी अन्य देश में बिना कोई शुल्क दिए बेचे तथा उस देश के माल को अपने देश में बेचे जाने पर भारी शुल्क लगाए। उदाहरण के लिए; इंग्लैण्ड में भारत के बने सूती वस्त्रों के आयात पर भारी शुल्क लगाया गया, जबकि भारत द्वारा इंग्लैण्ड से आयात पर किसी तरह का कोई शुल्क नहीं था। इससे भारत के विदेशी व्यापार का आयात-निर्यात संतुलन बिगड़ गया, जिससे भारतीय उद्योगों को बहुत हानि हुई।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 22 भारत की अर्थव्यवस्था पर अंग्रेजी शासन का प्रभाव

प्रश्न 3.
उन्नीसवीं सदी में यूरोप की औद्योगिक क्रान्ति का भारत की अर्थव्यवस्था पर क्या प्रभाव पड़ा?
उत्तर:
उन्नीसवीं सदी के यूरोप की औद्योगिक क्रान्ति का भारत की अर्थव्यवस्था पर निम्नांकित प्रभाव पड़ा

  1. भारतीय हाथ से बनी वस्तुओं की माँग बाजार में कम होने लगी, जिससे हाथ से काम करने वाले कारीगर हस्त शिल्पी आदि बेरोजगार हो गए।
  2. भारत के अनेक क्षेत्रों से हस्तशिल्प नष्ट हो गए।
  3. भारत में विऔद्योगीकरण की प्रक्रिया प्रारम्भ हो गई।

प्रश्न 4.
मछलीपट्टनम् बन्दरगाह का महत्व कम होने के कारण बताइए।
उत्तर:
मछलीपट्टनम् सत्रहवीं शताब्दी में एक महत्वपूर्ण बन्दरगाह के रूप में विकसित हुआ था किन्तु अठारहवीं सदी के आखिर में व्यापार बम्बई, मद्रास व कलकत्ता के नए ब्रिटिश बन्दरगाहों पर केन्द्रित होने लगा इसलिए मछलीपट्टनम् बन्दरगाह का महत्व घट गया।

RBSE Class 8 Social Science भारत की अर्थव्यवस्था पर अंग्रेजी शासन का प्रभाव Important Questions and Answers

वस्तुनिष्ठ प्रश्न

Question 1.
अमेरिका की खोज किस देश के लोगों ने की?
(अ) भारत
(ब) स्पेन
(स) इंग्लैण्ड
(द) फ्रांस
उत्तर:
(ब) स्पेन

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 22 भारत की अर्थव्यवस्था पर अंग्रेजी शासन का प्रभाव

Question 2.
भारत के साथ व्यापार करने वाली सबसे बड़ी यूरोपीय कम्पनी थी …………………
(अ) अंग्रेज कम्पनी
(ब) पुर्तगाली कम्पनी
(स) फ्रांसीसी कम्पनी
(द) डच कम्पनी
उत्तर:
(अ) अंग्रेज कम्पनी

Question 3.
मुगल सम्राट फर्रुखसियर ने कितने रुपये वार्षिक करके बदले अंग्रेज कम्पनी को बिना चुंगी व्यापार करने का फरमान दिया था?
(अ) 2000 रुपये
(ब) 3000 रुपये
(स) 4000 रुपये
(द) 5000 रुपये
उत्तर:
(ब) 3000 रुपये

Question 4.
किस क्षेत्र में कम्पनी के व्यापारी अपना कारोबार जोर – जबरदस्ती से करने लगे?
(अ) बम्बई
(ब) मद्रास
(स) अवध
(द) बंगाल
उत्तर:
(द) बंगाल

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 22 भारत की अर्थव्यवस्था पर अंग्रेजी शासन का प्रभाव

Question 5.
मलमल की साड़ी कहाँ की प्रसिद्ध थी?
(अ) चीन
(ब) यूरोप
(स) ढाका
(द) इंग्लैण्ड
उत्तर:
(स) ढाका

Question 6.
यूरोप में (विशेषकर इंग्लैण्ड में) औद्योगिक क्रान्ति हुई थी …………………
(अ) सत्रहवीं सदी में
(ब) अठारहवीं सदी में
(स) उन्नीसवीं सदी में
(द) बीसवीं सदी में
उत्तर:
(स) उन्नीसवीं सदी में

Question 7.
सत्रहवीं शताब्दी में भारत का कौन – सा बन्दरगाह विकसित हुआ?
(अ) बम्बई
(ब) मद्रास
(स) कलकत्ता
(द) मछलीपट्टनम्
उत्तर:
(द) मछलीपट्टनम्

रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए –

  1. पुर्तगालियों ने ………………… के समुद्री रास्ते पर नाके स्थापित कर रखे थे।
  2. अंग्रेज कम्पनी ने ………………… के दम पर मुगल सम्राट एवं बंगाल के नवाब को दबा दिया था।
  3. शोषण का दूसरा स्वरूप ………………… था।
  4. अंग्रेज पूँजीपति भारत में ………………… के विरोधी थे।
  5. ………………… 1780 के दशक से व्यापारिक बन्दरगाहों के रूप में विकसित होने लगे थे।

उत्तर:

  1. अरब सागर
  2. बन्दूक
  3. मालगुजारी
  4. औद्योगीकरण
  5. बम्बई, कलकत्ता

स्तम्भ’अ’को स्तम्भ’ब’सेसमेलित कीजिए –

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 22 भारत की अर्थव्यवस्था पर अंग्रेजी शासन का प्रभाव 3

उत्तर:
1. (b)
2. (c)
3. (d)
4. (a)

अति लघूत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
भारत की अर्थव्यवस्था पर अंग्रेजी उपनिवेश का वे सा प्रभाव पड़ा था?
उत्तर:
भारत की अर्थव्यवस्था पर अंग्रेजी उपनिवेश का प्र तिकूल प्रभाव पड़ा था।

प्रश्न 2.
अमेरिका की खोज कब और किसने की थी?
उत्तर:
अमेरिका की खोज पन्द्रहवीं-सोलहवीं सदी में स्पेन के लोगों ने की थी।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 22 भारत की अर्थव्यवस्था पर अंग्रेजी शासन का प्रभाव

प्रश्न 3.
अरब सागर के समुद्री रास्ते पर नाके किसने और कयों स्थापित किए थे?
उत्तर:
अरब सागर के समुद्री रास्ते पर नाके पुर्तगालियों ने वहाँ से निकलने वाले प्रत्येक जहाज से चुंगी वसूलने के लए स्थापित किए थे।

प्रश्न 4.
अंग्रेज कम्पनी के जहाजों ने किसके दम पर समुद्र में अपना सामरिक वर्चस्व स्थापित किया था?
उत्तर:
अंग्रेज कम्पनी के जहाजों ने तोपों के दम पर समुद्र में अपना सामरिक वर्चस्व स्थापित किया था।

पश्न 5.
वर्तमान यूरोप और अमेरिका के इतने विकसित होने का इतिहासकारों ने क्या कारण माना है?
उत्तर:
वर्तमान यूरोप और अमेरिका के इतने विकसित होने का इतिहासकारों ने भारतीय सम्पत्ति के निकास को कारण माना है।

प्रश्न 6.
भारत की प्राचीन अर्थव्यवस्था कैसे ट्ट गयी?
उत्तर:
भारत की प्राचीन अर्थव्यवस्था अंग्रेजों के शोषण से टूट गयी।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 22 भारत की अर्थव्यवस्था पर अंग्रेजी शासन का प्रभाव

प्रश्न 7.
हाथ से बनी वस्तुओं की माँग कम क्यों हुई?
उत्तर:
मशीनों से बने सामान की गुणवत्ता हाथ से बनी वस्तुओं की तुलना में श्रेष्ठ होती थी। साथ ही इनके दाम भी कम होते थे।

प्रश्न 8.
अंग्रेज कम्पनी द्वारा भारत में जूट उद्योग की स्थापना कहाँ की गई थी?
उत्तर:
अंग्रेज कम्पनी द्वारा भारत में जूट उद्योग की स्थापना बंगाल में की गई थी।

प्रश्न 9.
अंग्रेजों ने बागान उद्योगों के अन्तर्गत किन उद्योगों का विकास किया था?
उत्तर:
अंग्रेजों ने बागान उद्योगों के अन्तर्गत चाय, कहवा एवं नील उद्योगों का विकास किया था।

प्रश्न 10.
अंग्रेजों ने भारत के भीतरी हिस्सों एवं बन्दरगाहों को सड़कों और रेलों द्वारा क्यों जोड़ा था?
उत्तर:
अंग्रेजों ने भारत के भीतरी हिस्सों एवं बन्दरगाहों को सड़कों और रेलों द्वारा जोड़ा था ताकि वे भारतीय खनिज व सम्पत्ति को सुविधापूर्वक इंग्लैण्ड ले जा सकें।

लघूत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
प्राचीन काल में भारत का अन्य देशों के साथ व्यापारिक सम्बन्ध था। व्याख्या कीजिए।
उत्तर:
प्राचीन काल में भारत का अन्य देशों के साथ व्यापारिक सम्बन्ध था जिनमें दक्षिण, पश्चिम एवं पूर्व एशिया तथा रोम के साथ ये सम्बन्ध घनिष्ठ थे। भारत से इन देशों में कपड़ा, अनाज, धातु का सामान आदि भेजा जाता था और बदले में सोना-चाँदी प्राप्त किया जाता था। ऐसा प्रतीत होता है कि विदेशों के सामान की भारत में माँग नहीं थी। सम्भवतः इसी कारण विदेशों से प्राप्त सोना, चाँदी भारत में जमा था। प्राचीन समय में भारत के अन्य देशों के साथ स्थापित व्यापारिक सम्बन्ध कुछ परिवर्तन के साथ कई सदियों तक चलते रहे थे।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 22 भारत की अर्थव्यवस्था पर अंग्रेजी शासन का प्रभाव

प्रश्न 2.
उपनिवेश किसे कहते हैं?
उत्तर:
आधुनिक इतिहास में उपनिवेश शब्द आमतौर पर एक देश का दूसरे देश पर सैन्य अधिकार की स्थिति को दर्शाने के लिए किया जाता है। दूसरे शब्दों में जब कोई शक्तिशाली देश अन्य किसी देश पर आर्थिक एवं राजनीतिक दृष्टि से अधिकार कर लेता है तो वह देश जिस पर अधिकार कर लिया जाता है उसे उपनिवेश कहते हैं।

प्रश्न 3.
भारत में अंग्रेज कम्पनी ने किस प्रकार अपना वर्चस्व स्थापित किया था?
उत्तर:
भारत में अंग्रेज कम्पनी ने बन्दूक के दम पर अपना वर्चस्व स्थापित किया था। प्रारम्भ में मुगल सम्राट फर्रुखसियर से अंग्रेजी कम्पनी ने सन् 1717 ई. में 3000 रुपये सालाना पर सम्पूर्ण भारत में बिना चुंगी व्यापार करने का अधिकार प्राप्त करके अपना व्यापार भारत में बढ़ाने का मौका प्राप्त कर लिया। उसके बाद भारत में व्यापार कर रही लगभग समस्त यूरोपीय कम्पनियों को देश से बाहर भगाकर सम्पूर्ण भारतीय व्यापार पर अपना वर्चस्व स्थापित कर लिया। बाद में कम्पनी ने मुगल सम्राट एवं बंगाल के नवाब को भी बन्दूक के दम पर दबा दिया।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 22 भारत की अर्थव्यवस्था पर अंग्रेजी शासन का प्रभाव

प्रश्न 4.
भारतीय उद्योगों पर कम्पनी के प्रभाव का संक्षेप में वर्णन कीजिए।
उत्तर:
भारतीय उद्योगों पर कम्पनी के निम्नांकित प्रभाव पड़े थे –

  1. अंग्रेज भारतीय कारीगरों को कच्चा माल बढ़े दामों पर देते थे और उनसे बना हुआ सामान एक चौथाई से भी कम दामों पर खरीदते थे जिससे भारतीय कारीगर अपना काम छोड़कर भाग गए।
  2. अठारहवीं सदी के अन्त तक बंगाल का लगभग समस्त कपड़ा उद्योग नष्ट हो गया जबकि, पहले बंगाल से लगभग किस्म का कपड़ा बनकर यूरोप के बाजारों में जाता था।
  3. अंग्रेजी कम्पनी ने ढाका के मलमल बनाने वाले कारीगरों के अंगूठे काट दिए तथा उनका शोषण किया जिससे विश्व प्रसिद्ध ढाका का मलमल साड़ी व्यवसाय चौपट हो गया।

प्रश्न 5.
मालगुजारी का भारतीयों पर क्या प्रभाव पड़ा?
उत्तर:
मालगुजारी का भारतीयों पर निम्न प्रभाव पड़ा था –

  1. किसान अत्यधिक शोषित होते गये जिससे उनकी दशा ख पराब हो गयी।
  2. किसानों ने खेती करना बंद कर दिया।
  3. किसानों के खेत उजड़ गए।
  4. खेतों के अधिकांश हि इस्से बंजर हो गये थे।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 22 भारत की अर्थव्यवस्था पर अंग्रेजी शासन का प्रभाव

प्रश्न 6.
सम्पत्ति का निकास किसे कहते हैं?
उत्तर:
अंग्रेजों द्वारा भारतीय सम्पत्ति को कराधान एवं मुनाफे व के रूप में अपने देश ले जाया गया तथा उसका उपयोग भी कहीं पर किया गया जिससे भारत को अपनी ही सम्पत्ति का ह नाभ नहीं मिल सका। इस प्रक्रिया को सम्पत्ति का निकास कहते हैं।

निबन्धात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
अंग्रेजों द्वारा भारतीय अर्थव्यवस्था का शोषण केस प्रकार किया गया था? इस विषय पर विस्तृत लेख लिखिए।
उत्तर:
अंग्रेजों द्वारा भारतीय अर्थव्यवस्था का शोषण निम्न प्रकार किया गया था।
1. प्रत्यक्ष लूटमार – अंग्रेजों ने व्यापार के नाम पर भारत में प्रत्यक्ष लूटमार की थी। कम्पनी के ऐजेंट किसानों, व्यापारियों आदि को जबरदस्ती एक चौथाई कीमत देकर उनके माल और उत्पादन को हड़प लेते थे तथा कम्पनी की अनुचित माँगों को न मानने वाले लोगों को दण्ड दिया जाता था।

2. मालगुजारी – मालगुजारी शोषण का दूसरा स्वरूप थी। यह कम्पनी द्वारा किसानों को लूटने का सीधा तरीका था। इसके कारण किसानों को अपनी खेती बन्द करनी पड़ी थी। मालगजारी के विषय में एक अंग्रेज अधिकारी ने कहा था कि “बीते दिनों में बंगाल के गाँव विभिन्न जातियों के लोगों से भरे पड़े थे और पूर्व में वाणिज्य धन – सम्पदा व उद्योग के भण्डार थे लेकिन हमारे कुशासन ने 20 वर्षों में ही इन गाँवों के अनेक हिस्सों को बंजर बना दिया है। खेतों में अब खेती नहीं की जाती। किसान लुट चुके हैं। औद्योगिक निर्माताओं का दमन किया जा रहा है।

3. एकतरफा मुक्त व्यापार नीति – अंग्रेजों ने अपने कारखानों में बने माल को भारत में बेचने तथा भारतीय माल को हतोत्साहित करने के लिए भारत में एकतरफा मुक्त व्यापार नीति अपनाई, जिससे भारतीय अर्थव्यवस्था पर विपरीत असर पड़ा था।

4. सम्पत्ति का निकास – अंग्रेजी कम्पनी कराधान द्वारा एकत्रित राशि तथा मुनाफे के रूप में एकत्रित सम्पत्ति को अपने देश ले जाती रही एवं उसका प्रयोग भी अपने ही देश में किया, जिससे भारत की सम्पत्ति का लाभ भारतवासियों को नहीं मिल सका।

5. कानून बनाकर – अंग्रेजों ने सन् 1700 ई. एवं 1712 ई. में संसद द्वारा कानून बनाकर भारतीय व्यापार को हतोत्साहित किया।

6. औद्योगीकरण विरोधी नीति – अंग्रेज पूँजीपति भारत में औद्योगीकरण के विरोधी थे। इसलिए उन्होंने केवल वही उद्योग स्थापित किए जिसकी स्थापना करना वहाँ पर भौगोलिक रूप से मजबूरी थी। इसके अतिरिक्त समस्त उद्योग इंग्लैण्ड में स्थापित किये गए। भारत से कच्चा माल लेकर भारत में ही अपने यहाँ निर्मित सामान को ऊँचे दामों में बेचा। इससे भारत के उद्योगपति उनकी प्रतियोगिता में टिक नहीं सके।

 

Leave a Comment