RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 21 आधुनिक भारत में होने वाले वैचारिक परिवर्तन और समाज सुधार

Rajasthan Board RBSE Class 8 Social Science Chapter 21 आधुनिक भारत में होने वाले वैचारिक परिवर्तन और समाज सुधार

RBSE Solutions for Class 8 Social Science

RBSE Class 8 Social Science आधुनिक भारत में होने वाले वैचारिक परिवर्तन और समाज सुधार Intext Questions and Answers

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 21 आधुनिक भारत में होने वाले वैचारिक परिवर्तन और समाज सुधार

पृष्ठ – 139

गतिविधि

प्रश्न 1.
गौतम बुद्ध और महावीर स्वामी के कार्यों के बारे में जानकारी प्राप्त कीजिए।
उत्तर:
गौतम बुद्ध बौद्ध धर्म के संस्थापक थे। इन्होंने गया में ज्ञान प्राप्त करने के पश्चात् सारनाथ में अपना प्रथम उपदेश दिया। इनकी शिक्षाएँ थीं –

  1. विश्व निरन्तर बदल रहा है।
  2. यह संसार दु:खों का घर है।
  3. मध्यम मार्ग अपनाकर ही मनुष्य दुःखों से छुटकारा प्राप्त कर सकता है।
  4. अहिंसा का मार्ग अपनाने पर बल देना।

महावीर स्वामी – जैन धर्म के चौबीसवें तीर्थंकर थे। महावीर स्वामी ने जैन धर्म की शिक्षाओं का प्रचार-प्रसार किया। महावीर स्वामी ने निम्नलिखित पाँच व्रतों का पालन करने की शिक्षा दी:

  1. हत्या न करना
  2. चोरी न करना
  3. झूठ न बोलना
  4. धन संग्रह न करना
  5. ब्रह्मचर्य।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 21 आधुनिक भारत में होने वाले वैचारिक परिवर्तन और समाज सुधार

पृष्ठ – 140

प्रश्न 2.
प्रथा किसे कहते हैं? अपने आस – पास के समाज द्वारा पालन की जाने वाली कुछ प्रथाओं की सूची बनाओ। कुछ प्रथाएँ अच्छी भी होती हैं। ऐसी कुछ अच्छी प्रथाओं के नाम बताएँ। कुछ प्रथाएँ बुरी मानी जाती हैं। ऐसी प्रथाएँ कौन – कौन सी हैं?
उत्तर:
समाज से मान्यता प्राप्त पीढ़ी दर पीढ़ी हस्तान्तरित होने वाली सुव्यवस्थित दृढ़ जनरीतियाँ प्रथाएँ कहलाती हैं। हमारे आस – पास के समाज में कई प्रथाएँ समाज के कल्याण के लिए लाभकारी होती हैं जैसे – विधवा पुनर्विवाह, विवाह प्रथा, दान प्रथा, त्याग प्रथा। परन्तु कुछ प्रथाएँ ऐसी भी हैं जो मानवता के विरुद्ध हैं। इन्हें कुप्रथाएँ भी कहते हैं; जैसे – दहेज प्रथा, सती प्रथा, देवदासी प्रथा, बहुविवाह प्रथा, बाल विवाह प्रथा आदि।

पृष्ठ – 143

प्रश्न 3.
रामकृष्ण मिशन के प्रतीक चिह्न का चित्र बनाकर रंग भरिये।
उत्तर:
RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 21 आधुनिक भारत में होने वाले वैचारिक परिवर्तन और समाज सुधार 1

पृष्ठ – 145

प्रश्न 4.
भारत के प्रमुख समाज सुधारकों के चित्रों का संकलन कीजिए।
उत्तर:
RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 21 आधुनिक भारत में होने वाले वैचारिक परिवर्तन और समाज सुधार 2

प्रश्न 5.
भारत के समाज सुधारक के कार्यों की जानकारी का संकलन कीजिए।
उत्तर:
भारत में अनेक समाज सुधारक हुए हैं जिनमें से प्रमुख समाज सुधारक निम्नलिखित हैं –

  1. राजा राममोहन राय – इन्होंने सती प्रथा का अंत किया।
  2. ईश्वरचन्द्र विद्यासागर – इन्होंने विधवा पुनर्विवाह तथा बालिकाओं की शिक्षा पर बल दिया।
  3. महात्मा ज्योतिबा फुले – इन्होंने दलित वर्ग के कल्याण के लिए सत्यशोधक समाज की स्थापना की।
  4. स्वामी दयानन्द सरस्वती – इन्होंने मूर्तिपूजा का खण्डन किया तथा ईश्वर एक है, यह शिक्षा दी।
  5. स्वामी विवेकानन्द – इन्होंने हिन्दू धर्म की व्यापकता एवं विशालता का सम्पूर्ण दुनिया को संदेश दिया तथा रामकृष्ण मिशन की स्थापना की।
  6. एनीबीसेंट – इन्होंने हिन्दू धर्म व संस्कृति का अध्ययन कर भारत में समाज सुधार के कार्य किये।
  7. सर सैयद अहमद खाँ – इन्होंने मुस्लिम बालिकाओं की शिक्षा पर बल दिया एवं अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय की स्थापना की।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 21 आधुनिक भारत में होने वाले वैचारिक परिवर्तन और समाज सुधार

प्रश्न 6.
आज भी हमारे समाज में कई बुराइयाँ व्याप्त हैं। कक्षा में इसकी चर्चा करें व इसे दूर करने के लिए क्या करना चाहिए? सुझाव प्राप्त करें।
उत्तर:
आज भी हमारे समाज में कई बुराइयाँ व्याप्त हैं; जैसे पर्दा प्रथा, भ्रष्टाचार, घूसखोरी, दहेज प्रथा, घरेलू हिंसा, कन्या भ्रूण हत्या, छुआछूत आदि। इन बुराइयों को दूर करने के लिए समाज के लोगों को एक साथ मिलकर आवाज उठानी चाहिए तथा व्यावहारिक रूप से ऐसी कुप्रथाओं व बुराइयों का विरोध करना चाहिए।

RBSE Class 8 Social Science 1857 आधुनिक भारत में होने वाले वैचारिक परिवर्तन और समाज सुधार Text Book Questions and Answers

प्रश्न एक व दो के सही उत्तर चुनकर लिखें

Question 1.
भारत में थियोसोफिकल सभा का विकास किसने किया?
(अ) सुर्जी भगत
(ब) स्वामी विवेकानन्द
(स) सैयद अहमद खाँ
(द) ऐनीबीसेंट।
उत्तर:
(द) ऐनीबीसेंट।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 21 आधुनिक भारत में होने वाले वैचारिक परिवर्तन और समाज सुधार

Question 2.
‘सत्यशोधक समाज’ की स्थापना किसने की?
(अ) ज्योतिबा फुले
(ब) स्वामी दयानंद
(स) राजा राममोहन राय
(द) गोविन्द गुरु।
उत्तर:
(अ) ज्योतिबा फुले

प्रश्न 3.
‘ब्रह्म समाज’ की स्थापना किसने की?
उत्तर:
‘ब्रह्म समाज’ की स्थापना राजा राममोहन राय ने की।

प्रश्न 4.
सर सैयद अहमद खाँ के योगदान के बारे में बताइए।
उत्तर:
सर सैयद अहमद खाँ को मुसलमानों को शिक्षा की मुख्य धारा में लाने का श्रेय दिया जाता है। उन्होंने हिन्दू – मुस्लिम एकता पर बल दिया तथा मस्लिमों को सदियों पुरानी रूढ़िवादिता और मानसिकता को त्यागकर नई शिक्षा प्रणाली के तहत आधुनिक शिक्षा प्रदान कराने के लिए सन् 1875 में मोहम्डन एंग्लो ओरिएंटल कॉलेज तथा बाद में साइंटिफिक सोसायटी की स्थापना की।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 21 आधुनिक भारत में होने वाले वैचारिक परिवर्तन और समाज सुधार

प्रश्न 5.
मानगढ़ हत्याकांड की घटना का संक्षिप्त विवरण दीजिए।
उत्तर:
गोविन्द गुरु ने जनजातियों की स्थिति में सुधार के कार्य किए, जिसका अंग्रेजी सरकार और उसके समर्थकों ने विरोध किया। इन सुधारों से अप्रसन्न अंग्रेजी सेना ने सन् 1913 में मानगढ़ पहाड़ी पर चल रही सभा पर आक्रमण कर दिया जिसमें लगभग 1500 व्यक्ति, मारे गए। गोविन्द गुरु को सेना ने गिरफ्तार कर लिया।

प्रश्न 6.
स्वामी विवेकानन्द के जीवन से युवाओं को क्या प्रेरणा लेनी चाहिए?
उत्तर:
स्वामी विवेकानन्द के जीवन से युवाओं को निम्नांकित प्रेरणा लेनी चाहिए –

  1. दीन – दुखियों की सेवा।
  2. गरीबी व छुआछूत की समाप्ति।
  3. राष्ट्रीयता की भावना का विकास।
  4. सामाजिक उत्थान हेतु प्रयत्न।
  5. अध्यात्म का विकास।

प्रश्न 7.
ईश्वर चन्द्र विद्यासागर के योगदान को समझाइए।
उत्तर:
ईश्वर चन्द्र विद्यासागर ने बालिकाओं की शिक्षा के लिए कई बालिका विद्यालय खुलवाए व नारी शिक्षा के क्षेत्र में अनेक कार्य किए। इनके प्रयासों से ही सन् 1856 में विधवा पुनर्विवाह अधिनियम द्वारा विधवा विवाह को मान्यता मिली।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 21 आधुनिक भारत में होने वाले वैचारिक परिवर्तन और समाज सुधार

प्रश्न 8.
राजा राममोहन राय एवं स्वामी विवेकानन्द के समाज सुधार के प्रयासों का वर्णन कीजिए।
उत्तर:
राजा राममोहन राय ने निम्नलिखित प्रकार से समाज सुधार में योगदान दिया –

  1. उन्होंने सती – प्रथा तथा बाल – विवाह का विरोध किया।
  2. उन्होंने स्त्री – शिक्षा तथा विधवा पुनर्विवाह का समर्थन किया।
  3. उन्होंने धार्मिक कर्मकाण्ड तथा रूढ़िवादिता का विरोध किया।
  4. उन्होंने भारतीय समाज को आधुनिक शिक्षा से जोड़ने का प्रयास किया।
  5. राजा राममोहन राय ने जाति प्रथा का भी कड़ा विरोध किया।

स्वामी विवेकानन्द – ने निम्नलिखित प्रकार से समाज सुधार में योगदान दिया –

  1. विवेकानन्द ने लोगों से जाति प्रथा, कर्मकाण्ड, छुआछुत तथा अन्धविश्वासों के विरुद्ध संघर्ष करने के लिए कहा।
  2. विवेकानन्द ने लोगों से स्वतन्त्रता, समानता एव मुक्त चिन्तन को अपनाने की अपील की।
  3. उन्होंने ऐसी व्यवस्था अपनाने पर जोर दिया जिसमें गरीब व्यक्ति भी अपना आसानी से गुजारा कर सके।
  4. उन्होंने रामकृष्ण मिशन की स्थापना की जिसने मानव सेवा को ही अपना लक्ष्य माना। रामकृष्ण मिशन ने लोगों के लिए अस्पतालों, स्कूलों तथा कॉलेजों की स्थापना की।
  5. विवेकानन्द द्वारा स्थापित रामकृष्ण मिशन के कार्य-कर्ताओं ने लोगों में देश प्रेम की भावना भरी।
  6. रामकृष्ण मिशन ने दीन-दुखियों की सेवा को ईश्वर सेवा का रूप दिया।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 21 आधुनिक भारत में होने वाले वैचारिक परिवर्तन और समाज सुधार

प्रश्न 9.
आर्य समाज के योगदान का वर्णन कीजिए।
उत्तर:
आर्य समाज की स्थापना स्वामी दयानन्द सरस्वती ने 1875 ई. में बम्बई में की। आर्य समाज ने हिन्दू धर्म में सुधार करने का प्रयत्न किया। आर्य समाज ने रूढ़िवादिता, धार्मिक कर्मकाण्ड तथा मूर्ति – पूजा का विरोध किया। आर्य समाज ने जाति – प्रथा का विरोध किया। सती – प्रथा एवं बाल – विवाह जैसी सामाजिक बुराइयों का खंडन किया। शिक्षा के क्षेत्र में आर्य समाज ने लोगों को वैज्ञानिक तरीके से शिक्षा देने के लिए दयानंद ऐंग्लो वैदिक स्कूल की स्थापना की। आर्य समाज ने लोगों से कहा कि वे वेदों की शिक्षा को मानें, महिलाओं को वेदों का पाठ करवायें तथा यज्ञ में शामिल करें। आर्य समाज ने स्त्री शिक्षा का भी समर्थन किया। राजनीतिक जागृति लाने में भी आर्य समाज का योगदान महत्वपूर्ण है।

RBSE Class 8 Social Science 1857 आधुनिक भारत में होने वाले वैचारिक परिवर्तन और समाज सुधार Important Questions and Answers

वस्तुनिष्ठ प्रश्न

Question 1.
ब्रह्म समाज की स्थापना कब हुई थी?
(अ) सन् 1820
(ब) सन् 1828
(स) सन् 1829
(द) सन् 1856
उत्तर:
(ब) सन् 1828

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 21 आधुनिक भारत में होने वाले वैचारिक परिवर्तन और समाज सुधार

Question 2.
प्रार्थना समाज की स्थापना किस क्षेत्र में हुई थी?
(अ) बंगाल
(ब) गुजरात
(स) राजस्थान
(द) महाराष्ट्र
उत्तर:
(द) महाराष्ट्र

Question 3.
किस समाज सुधारक का जन्म दिल्ली में हुआ था?
(अ) राजा राममोहन राय
(ब) दयानंद सरस्वती
(स) सैयद अहमद खाँ
(द) स्वामी विवेकानन्द
उत्तर:
(स) सैयद अहमद खाँ

Question 4.
रामकृष्ण मिशन की स्थापना किसने की थी?
(अ) ईश्वर चन्द्र विद्यासागर
(ब) ज्योतिबा फुले
(स) स्वामी दयानंद सरस्वती
(द) स्वामी विवेकानन्द
उत्तर:
(द) स्वामी विवेकानन्द

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 21 आधुनिक भारत में होने वाले वैचारिक परिवर्तन और समाज सुधार

Question 5.
सम्प सभा की स्थापना की थी ……………….
(अ) श्रीमती ऐनीबीसेंट ने
(ब) सुर्जी भगत ने
(स) गोविन्द गुरु ने
(द) हरविलास शारदा ने
उत्तर:
(स) गोविन्द गुरु ने

रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए –

  1. ज्योतिबा फुले ने ……………….. नामक पुस्तक लिखी थी।
  2. साइंटिफिक सोसायटी की स्थापना ………………… ने की थी।
  3. स्वामी विवेकानंद का जन्म ……………….. को हुआ था।
  4. ऐनीबीसेंट का ………………… के विकास में महत्वपूर्ण योगदान रहा।
  5. सन् 1889 में ……………….. में राजपूत हितकारिणी सभा बनी थी।

उत्तर:

  1. गुलामगिरी
  2. सैय्यद अहमद खाँ
  3. 12 जनवरी सन् 1863
  4. थियोसोफिकल सोसायटी
  5. अजमेर

सुमेलित कीजिए

प्रश्न 1.
स्तम्भ ‘अ’ को स्तम्भ ‘ब’ से सुमेलित कीजिएस्तम्भ’अ'(समाज सधारको नाश”(गंम्शा)
RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 21 आधुनिक भारत में होने वाले वैचारिक परिवर्तन और समाज सुधार 3
उत्तर:
1. (b)
2. (c)
3. (d)
4. (a)

प्रश्न 2.
स्तम्भ ‘अ’ को स्तम्भ ‘ब’ से सुमेलित कीजिए –
RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 21 आधुनिक भारत में होने वाले वैचारिक परिवर्तन और समाज सुधार 4
उत्तर:
1. (b)
2. (c)
3. (d)
4. (a)

अति लघूत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
गोतम बुद्ध और महावीर स्वामी ने समाज में व्याप्त कुरीतियों को मिटाने का प्रयास कब किया था?
उत्तर:
गोतम बद्ध और महावीर स्वामी ने समाज में व्याप्त कुरीतियों को मिटाने का प्रयास लगभग 2500 वर्ष पूर्व किया था।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 21 आधुनिक भारत में होने वाले वैचारिक परिवर्तन और समाज सुधार

प्रश्न 2.
उन्नीसवीं सदी में भारत में व्याप्त प्रमुख कुरीतियाँ कौन – कौन सी थीं?
उत्तर:
उन्नीसवीं सदी में भारत में व्याप्त प्रमुख कुरीतियाँ क्रमशः सती प्रथा, बाल विवाह, पर्दा प्रथा, जाति प्रथा, कन्या वध आदि थीं।

प्रश्न 3.
भारतीय प्रबुद्ध वर्ग ने किस साहित्य का अध्ययन करके समाज को बताया कि उनकी सभ्यता व संस्कृति श्रेष्ठ है?
उत्तर:
भारतीय प्रबुद्ध वर्ग ने वैदिक साहित्य का अध्ययन करके भारतीय समाज को बताया कि उनकी सभ्यता व संस्कृति श्रेष्ठ है।

प्रश्न 4.
‘पुनर्जागरण’ का नाम किसे दिया गया था?
उत्तर:
‘पुनर्जागरण’ का नाम बंगाल में उन्नीसवीं सदी में उठी समाज सुधार की लहर को दिया गया था।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 21 आधुनिक भारत में होने वाले वैचारिक परिवर्तन और समाज सुधार

प्रश्न 5.
राजा राममोहन राय का जन्म कहाँ हुआ?
उत्तर:
राजा राममोहन राय का जन्म बंगाल के राधानगर में एक जमींदार ब्राह्मण परिवार में हुआ।

प्रश्न 6.
ज्योतिबा फुले किस सामाजिक कुरीति के विरुद्ध संघर्षरत थे?
उत्तर:
ज्योतिबा फुले जाति व्यवस्था नामक सामाजिक कुरीति के विरुद्ध संघर्षरत थे।

प्रश्न 7.
पत्रकार दुर्गादास की पुस्तक का नाम क्या था?
उत्तर:
पत्रकार दुर्गादास की पुस्तक का नाम ‘भारत कर्जन से नेहरू और उनके पश्चात्’ था।

प्रश्न 8.
सैयद अहमद खाँ का जन्म कब व कहाँ हुआ था?
उत्तर:
सैयद अहमद खाँ का जन्म सन् 1817 ई. को दिल्ली में हुआ था।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 21 आधुनिक भारत में होने वाले वैचारिक परिवर्तन और समाज सुधार

प्रश्न 9.
मोहम्डन एंग्लो ओरिएंटल कॉलेज का वर्तमान नाम क्या है?
उत्तर:
मोहम्डन एंग्लो ओरिएंटल कॉलेज का वर्तमान नाम अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय है।

प्रश्न 10.
स्वामी दयानंद सरस्वती के बचपन का नाम क्या था?
उत्तर:
स्वामी दयानंद सरस्वती के बचपन का नाम मूलशंकर था।

प्रश्न 11.
आर्य समाज की दो शैक्षिक संस्थाओं के नाम बताइए।
उत्तर:
आर्य समाज की दो शैक्षिक संस्थाओं के नाम क्रमशः गुरुकुल एवं डी. ए. वी. स्कूल हैं।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 21 आधुनिक भारत में होने वाले वैचारिक परिवर्तन और समाज सुधार

प्रश्न 12.
स्वामी विवेकानन्द के गुरु कौन थे?
उत्तर:
स्वामी विवेकानन्द के गुरु रामकृष्ण परमहंस थे।

प्रश्न 13.
स्वामी दयानंद ने राजस्थान के किन-किन स्थानों की यात्रा की थी?
उत्तर:
स्वामी दयानंद ने राजस्थान के क्रमशः करौली, अजमेर, चित्तौड़गढ़, उदयपुर, जोधपुर आदि स्थानों की यात्रा की थी।

प्रश्न 14.
उदयपुर में परोपकारिणी सभा की स्थापना कब और किसने की थी?
उत्तर:
उदयपुर में परोपकारिणी सभा की स्थापना सन् 1883 में स्वामी दयानंद सरस्वती ने की थी।

प्रश्न 15.
राजस्थान के प्रमुख समाज सुधारकों के नाम लिखिए।
उत्तर:
गोविन्द गुरु, सुर्जी भगत, हरविलास शारदा, चांदकरण शारदा, सुखदा देवी, पण्डित हरिनारायण शर्मा, ठक्कर बापा, कुंवर मदनसिंह, मामा बालेश्वर दयाल।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 21 आधुनिक भारत में होने वाले वैचारिक परिवर्तन और समाज सुधार

प्रश्न 16.
‘राजपूत हितकारिणी सभा’ ने क्या कार्य किए थे?
उत्तर:
‘राजपूत हितकारिणी सभा’ ने बहुविवाह और दहेज प्रथा को नियंत्रित करने सम्बन्धी कार्य किए थे।

प्रश्न 17.
किसके प्रयासों से अजमेर क्षेत्र में बाल विवाह पर रोक के लिए सन् 1929 में सरकार ने कानून बनाया था?
उत्तर:
हरविलास शारदा के प्रयासों से।

प्रश्न 18.
सुखदा देवी ने किस सामाजिक क्षेत्र में कार्य किए थे?
उत्तर:
सुखदा देवी ने दलितोद्धार नामक सामाजिक क्षेत्र में कार्य किए थे।

लघूत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
संक्षिप्त टिप्पणी लिखिए –

  1. राजा राममोहन राय
  2. ईश्वर चन्द्र विद्यासागर।

उत्तर:
1. राजा राममोहन राय:
समाज सुधारक राजा राममोहन राय का जन्म बंगाल के राधानगर में एक जमींदार ब्राह्मण परिवार में हुआ था। इन्होंने कई भाषाओं व वैदिक ग्रन्थों का अध्ययन किया तथा वैदिक ग्रन्थों का साधारण भाषा में अनुवाद किया। राजा राममोहन राय ने भारत के धर्म ग्रन्थों का विश्लेषण करके बताया कि कहीं भी यह नहीं कहा गया है कि स्त्री को पति की मृत्यु पर स्वयं को आग में झोंक देना चाहिए। उन्होंने सन् 1828 में अपने साथियों के साथ ब्रह्म सभा का गठन किया। अगले साल इसका नाम बदल कर ब्रह्म समाज रखा गया। राजा राममोहन राय की तर्कसंगत बात एवं दबाव के चलते अंग्रेजी सरकार को सन 1829 में सती प्रथा को गैर-कानूनी घोषित करना पड़ा था।

2. ईश्वर चन्द्र विद्यासागर:
समाज सुधारक ईश्वर चन्द्र विद्यासागर का जन्म बंगाल के एक गरीब परिवार में हुआ था। अपनी योग्यता के बल पर उन्होंने उच्च शिक्षा प्राप्त की तथा नारी शिक्षा के क्षेत्र में बहुत कार्य किए। वे विधवा विवाह के प्रबल समर्थक थे। इन्होंने अपना एवं अपने पुत्र का विवाह विधवा स्त्रियों से करके समाज में अनुकरणीय उदाहरण प्रस्तुत किया। इनके प्रयासों से सन् 1856 में विधवा पुनर्विवाह कानून द्वारा भारतीय समाज में विधवा विवाह को कानूनी मान्यता प्राप्त हुई थी।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 21 आधुनिक भारत में होने वाले वैचारिक परिवर्तन और समाज सुधार

प्रश्न 2.
सती प्रथा से आप क्या समझते हैं?
उत्तर:
सती प्रथा उन्नीसवीं सदी के भारत की एक प्रमुख सामाजिक कुरीति थी। जिसमें पति की मृत्यु पर स्त्री को जबरदस्ती पति के साथ आग में झोंक दिया जाता था।

प्रश्न 3.
ज्योतिबा फले पर संक्षिप्त टिप्पणी लिखिए।
उत्तर:
ज्योतिबा फुले महाराष्ट्र के प्रमुख समाज सुधारक थे। इन्होंने पुणे में सत्यशोधक समाज’ की स्थापना की तथा जाति व्यवस्था के विरुद्ध निरन्तर संघर्ष किया। गुलामगिरी नामक पुस्तक को लिखा। ज्योतिबा फुले ने लड़कियों को शिक्षित करने के लिए स्कूल खोला जिसमें पढ़ाने के लिए योग्य महिला न मिलने पर अपनी पत्नी सावित्रीबाई फुले को इसके योग्य बनाकर स्कूल को विधिवत चलाया।

प्रश्न 4.
उन्नीसवीं सदी में स्त्री शिक्षा की स्थिति क्या थी? बताइए।
उत्तर:
उन्नीसवीं सदी में स्त्री शिक्षा अत्यन्त दयनीय अवस्था में थी। समाज के रूढ़िवादी लोग स्त्री शिक्षा को आवश्यक नहीं मानते थे। समाज में बालिकाओं को पढ़ाने के लिए समाज सुधारकों को अत्यधिक संघर्ष करना पड़ा था। समाज में स्त्री शिक्षा के बारे में अनेक पूर्वाग्रह थे।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 21 आधुनिक भारत में होने वाले वैचारिक परिवर्तन और समाज सुधार

प्रश्न 5.
सैयद अहमद खाँ के जीवन चरित्र पर प्रकाश डालिए।
उत्तर:
सैयद अहमद खाँ का जन्म सन् 1817 को दिल्ली में हुआ था। पिता की मृत्यु के बाद उन्होंने आर्थिक कठिनाइयों के कारण ईस्ट इण्डिया कम्पनी में नौकरी कर ली थी। बाद में उन्होंने मुस्लिम समाज के पिछड़ेपन को देखकर मुस्लिमों को आधुनिक तरीके से शिक्षित करने तथा आगे बढ़ाने की मुहिम चलाई। मुसलमानों को शिक्षा की मुख्यधारा में लाने का श्रेय सैयद अहमद खाँ को जाता है। उन्होंने कौमी एकता पर बल दिया तथा हिन्दू एवं मुस्लिमों को भारत माता की दो आँखें बताया। सन् 1898 में उनकी अलीगढ़ मृत्यु में हो गई।

प्रश्न 6.
स्वामी दयानंद सरस्वती के जीवन एवं शिक्षाओं का वर्णन कीजिए।
उत्तर:
स्वामी दयानंद सरस्वती का जन्म गुजरात में हुआ था उनके बचपन का नाम मूलशंकर था। चौदह वर्ष की आयु में इन्होंने गृह त्याग कर दिया तथा मथुरा में स्वामी विरजानंद से ज्ञान प्राप्त किया। उन्होंने वेदों की शिक्षा पर बल दिया तथा इसके ज्ञान को भारतीय समस्याओं का समाधान माना। उन्होंने विदेशी दासता को अभिशाप माना तथा सर्वप्रथम स्वधर्म, स्वदेश व स्वभाषा शब्दों का प्रयोग किया। उन्होंने आर्य समाज की स्थापना की। स्वामी दयानंद की शिक्षाएँ निम्न हैं

  1. सत्य को ग्रहण करने और असत्य को त्यागने के लिए तत्पर रहना चाहिए।
  2. सबसे प्रेमपूर्वक धर्मानुसार यथायोग्य व्यवहार करना चाहिए।
  3. अविद्या का नाश और विद्या का विकास करना चाहिए।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 21 आधुनिक भारत में होने वाले वैचारिक परिवर्तन और समाज सुधार

प्रश्न 7.
श्रीमती ऐनीबीसेंट के बारे में आप क्या जानते हैं?
उत्तर:
श्रीमती ऐनीबीसेंट आयरिश मूल की महिला समाज सुधारक थीं। उन्होंने हिन्दू तीर्थों की यात्रा की तथा बनारस में समाज सुधार के कार्य किए। इन्होंने बनारस में एक सेन्ट्रल हिन्दू कॉलेज की स्थापना की जो कालान्तर में बनारस विश्वविद्यालय बन गया। ऐनीबीसेंट का. भारत में थियोसोफिकल सोसायटी के विकास में महत्वपूर्ण योगदान रहा। उन्होंने भारतीय हिन्दू धर्म व संस्कृति का अध्ययन किया। इससे प्रभावित होकर अपने वस्त्र, भोजन व तौर-तरीके सब भारतीय कर लिये। इसके अतिरिक्त उन्होंने भारतीय स्वाधीनता संग्राम में भी महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वाह किया था।

प्रश्न 8.
ऐनीबीसेंट के विषय में वेलेन्टाइन शिरोल के कथन को स्पष्ट कीजिए?
उत्तर:
ऐनीबीसेंट के विषय में वेलेन्टाइन शिरोल ने अपने कथन में स्पष्ट किया है कि उन्होंने भारतीयों को उनकी सभ्यता एवं संस्कृति का पुनर्बोध कराने में महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन किया था। ऐनीबीसेंट ने भारतीयों को उनकी पूजा पद्धति, दर्शन, नैतिकता के विषय में बोध कराकर बताया कि वह यूरोपीय संस्कृति एवं सभ्यता से श्रेष्ठ है।

प्रश्न 9.
संक्षिप्त टिप्पणी लिखिए

  1. गोविन्द गुरु
  2. सुर्जी भगत (सुरमल दास)

उत्तर:
1. गोविन्द गुरु:
गोविन्द गुरु का जन्म बंजारा परिवार में बाँसिया गाँव (डूंगरपुर) में हुआ था। इन्होंने जनजाति वर्ग के लोगों में समाज सुधार का कार्य किया। वे अंधविश्वासों को दूर कर जनजाति वर्ग में आत्मविश्वास एवं आत्मनिर्भरता को बढ़ावा देना चाहते थे। जनजातियों को शराब पीने से रोकना, चोरी, लूटमार जैसे कार्यों से दूर रखना एवं विद्यालय खोलने जैसे कार्य उनकी प्राथमिकता में थे। उन्होंने सन् 1883 में सम्प सभा की स्थापना की थी तथा आर्थिक सुधार कार्य के क्षेत्र में उन्होंने स्थानीय वस्तुओं का अधिक प्रयोग व बेगार न करना आदि बातों पर जोर दिया था।

2. सुर्जी भगत (सुरमल दास):
सुर्जी भगत का जन्म खराड़ी परिवार में लसोडिया गाँव में हुआ था। उन्होंने जनजाति वर्ग के लोगों में समाज सुधार का कार्य किया। वह समाज सुधार के साथ – साथ आदिवासियों का विकास भी करना चाहते थे।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 21 आधुनिक भारत में होने वाले वैचारिक परिवर्तन और समाज सुधार

प्रश्न 10.
राजस्थान के विभिन्न शासकों द्वारा कब और किन सामाजिक बुराइयों को दूर करने के लिए कानूनों का निर्माण किया गया था? एक सूची बनाइए।
उत्तर:
राजस्थान के विभिन्न शासकों द्वारा सामाजिक बुराइयों को दूर करने के लिए कानूनों का निर्माण किया गया था जिसकी सूची निम्नांकित है –
RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 21 आधुनिक भारत में होने वाले वैचारिक परिवर्तन और समाज सुधार 5

प्रश्न 11.
पण्डित हरिनारायण शर्मा के विषय में बताइए।
उत्तर:
पण्डित हरिनारायण शर्मा समाज सुधारक थे। इन्होंने अलवर में अपने घर के मंदिर के दरवाजे हरिजनों के लिए खोल दिए व जातिगत भेदभाव को नष्ट करने का प्रयास किया था। इनके सामाजिक कार्यों से प्रभावित होकर अलवर के महाराजा जयसिंह ने इन्हें अपना सलाहकार नियुक्त किया था।

निबन्धात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
स्वामी विवेकानन्द के जीवन पर एक लेख लिखिए।
उत्तर:
स्वामी विवेकानन्द का जन्म कलकत्ता (बंगाल) में 12 जनवरी, सन् 1863 को हुआ था। इनके बचपन का नाम नरेन्द्र दत्त था। इन्होंने अंग्रेजी कॉलेज से बी. ए. किया था। ये पाश्चात्य बुद्धिवाद से प्रभावित थे किन्तु इनको आध्यात्मिक शांति नहीं मिली। बाद में विवेकानन्द ने रामकृष्ण परमहंस को अपना गुरु बनाया और उनसे वेदान्त का ज्ञान प्राप्त किया। रामकृष्ण परमहंस ने इन्हें विविदिशानन्द नाम दिया था किन्तु बाद में खेतड़ी (राजस्थान) के महाराजा के कहने पर इन्होंने विवेकानन्द नाम अपना लिया।

विवेकानन्द ने सितम्बर सन् 1893 में अमेरिका के शिकागो शहर में हो रहे सर्व धर्म सम्मेलन में भारत की ओर से भाग लिया तथा विश्व के धार्मिक विद्वानों की इस सभा को दो दिनों तक हिन्दू धर्म के विषय में बताया। विवेकानन्द ने मूल रूप से हिन्दू धर्म की व्यापकता एवं विशालता का सम्पूर्ण दुनिया को संदेश दिया था। वे भारत की गरीबी और दरिद्रता से दुखी थे।

वे दीन – दुखियों की सेवा को ही सच्ची ईश्वर सेवा मानते थे। उन्होंने कहा था “कि धर्म मनुष्य के भीतर निहित देवत्व का विकास है, धर्म न तो पुस्तकों में है, न धार्मिक सिद्धान्तों में।” विवेकानन्द ने अपने संदेश के माध्यम से जनता में राष्ट्रीयता की भावना का निर्माण किया। उन्होंने अपने गुरु के नाम पर रामकृष्ण मिशन की स्थापना की थी, जो आज भी देशभर में समाज की सेवा कर रहा है।

 

Leave a Comment