RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 13 हमारे मौलिक अधिकार एवं कर्त्तव्य

Rajasthan Board RBSE Class 8 Social Science Chapter 13 हमारे मौलिक अधिकार एवं कर्त्तव्य

RBSE Solutions for Class 8 Social Science

RBSE Class 8 Social Science हमारे मौलिक अधिकार एवं कर्त्तव्य Intext Questions and Answers

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 13 हमारे मौलिक अधिकार एवं कर्त्तव्य

पृष्ठ – 97

गतिविधि

प्रश्न 1.
मौलिक अधिकारों कारंगीन चार्ट बनाकर कक्षा में प्रदर्शित कीजिा। विद्यार्थियों का समूह बनाकर प्रत्येक समूह से अलग – अलग अधिकार पर शिक्षक की सहायता से चर्चा कीजिए।
उत्तर:
विद्यार्थियों के समूह बनाकर प्रत्येक समूह से अलग – अलग अधिकार पर शिक्षक महोदय की सहायता से चर्चा की गई। इस चर्चा से यह निष्कर्ष निकला कि संविधान द्वारा नागरिकों को दिए गए विभिन्न प्रकार के अधिकारों की अवहेलना कदापि नहीं की जा सकती है। नोट-मौलिक अधिकारों का रंगीन चार्ट विद्यार्थी स्वयं बनाएँ।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 13 हमारे मौलिक अधिकार एवं कर्त्तव्य

पृष्ठ – 98

प्रश्न 2.
विद्यालय एवं परिवार के प्रति आपके कर्त्तव्यों की पहचान करके उनकी अलग-अलग सूची बनाइए।
उत्तर:
विद्यालय के प्रति हमारे कर्त्तव्य

  1. विद्यालय के अनुशासन को बनाए रखने में सहायता करना।
  2. शिक्षक/शिक्षिकाओं को उचित सम्मान देना।
  3. विद्यालय की वस्तुओं का सही तरीके से उपयोग करना।

परिवार के प्रति हमारे कर्त्तव्य

  1. परिवार के बड़े सदस्यों को उचित सम्मान देना।
  2. घरेलू कार्यों में अपनी क्षमता के अनुसार हाथ बटाना।
  3. सबसे मिल – जुलकर रहना।

RBSE Class 8 Social Science हमारे मौलिक अधिकार एवं कर्त्तव्य Text Book Questions and Answers

पाठ्यपुस्तक के प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1.
सही विकल्प को चुनिए –
(i) मौलिक अधिकारों का उल्लंघन होने पर न्यायालय में शरण लेने का अधिकार है …………………
(अ) समानता का अधिकार
(ब) शोषण के विरुद्ध अधिकार
(स) स्वतंत्रता का अधिकार
(द) संवैधानिक उपचारों का अधिकार।
उत्तर:
(द) संवैधानिक उपचारों का अधिकार।

(ii) 14 वर्ष से कम आयु के बच्चों से खतरनाक कार्य नहीं कराया जा सकता, इसका सम्बन्ध है …………………
(अ) स्वतन्त्रता के अधिकार से
(ब) शोषण के विरुद्ध अधिकार से
(स) संवैधानिक उपचारों के अधिकार से
(द) समानता के अधिकार से।
उत्तर:
(ब) शोषण के विरुद्ध अधिकार से

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 13 हमारे मौलिक अधिकार एवं कर्त्तव्य

प्रश्न 2.
निःशुल्क और अनिवार्य शिक्षा कौन से मौलिक अधिकार से सम्बन्धित है?
उत्तर:
निःशुल्क और अनिवार्य शिक्षा स्वतंत्रता के अधिकार से सम्बन्धित है।

प्रश्न 3.
कौन से मौलिक अधिकार के अन्तर्गत बालश्रम और बेगारी पर रोक लगाई गई है?
उत्तर:
शोषण के विरुद्ध अधिकार के अन्तर्गत बालश्रम और बेगारी पर रोक लगाई गई है।

प्रश्न 4.
अधिकारों और कर्तव्यों में क्या सम्बन्ध है?
उत्तर:
अधिकार व कर्त्तव्य एक – दूसरे के पूरक होते हैं। जब व्यक्ति अपने अधिकारों की बात करता है, तो प्रत्येक व्यक्ति को अपने कर्तव्यों का भी पालन करना चाहिए। एक व्यक्ति के अधिकार दूसरे व्यक्ति के कर्त्तव्य होते हैं। अर्थात् जो हमारे अधिकार हैं, वे सरकार के कर्त्तव्य हैं और जो हमारे कर्तव्य हैं, वे सरकार के अधिकार हैं।

प्रश्न 5.
‘समानता का अधिकार’ का वर्णन कीजिए।
उत्तर:
समानता का अधिकार – समानता लोकतंत्र का आधार है। इस अधिकार के अन्तर्गत कानून की दृष्टि में सभी को समान माना गया है, सभी को कानून की समान सहायता मिलेगी। सरकार किसी भी व्यक्ति से धर्म, नस्ल, जाति, लिंग या जन्म स्थान के आधार पर भेदभाव नहीं करेगी व छुआछूत को दण्डनीय अपराध माना गया है।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 13 हमारे मौलिक अधिकार एवं कर्त्तव्य

प्रश्न 6.
संविधान में वर्णित किन्हीं पाँच मौलिक कर्तव्यों का उल्लेख कीजिए।
उत्तर:
संविधान में वर्णित पाँच मौलिक कर्त्तव्य निम्नलिखित –

  1. संविधान का आदर व पालन करना और उसके आदर्शों, संस्थाओं, राष्ट्रध्वज और राष्ट्रगान का आदर करना।
  2. स्वतंत्रता के लिए हमारे राष्ट्रीय आन्दोलन को प्रेरित करने वाले उच्च आदर्शों को हृदय में बनाये रखना और उनका पालन करना।
  3. भारत की सम्प्रभुता, एकता और अखण्डता की रक्षा करना और उसे बनाये रखना।
  4. भारत के सभी लोगों में समरसता और समान भ्रातृत्व की भावना का निर्माण करें जो कि पंथ, भाषा और प्रदेश या वर्ग पर आधारित
  5. सभी भेदभावों से परे हो। ऐसी प्रथाओं का त्याग करें जो महिलाओं के सम्मान के विरुद्ध हों।
  6. प्राकृतिक पर्यावरण जिसके अन्तर्गत वन, झील, नदी और वन्य जीव आते हैं, की रक्षा करना और उन्हें संवर्द्धित करना। प्राणिमात्र के प्रति दयाभाव रखें।

RBSE Solutions for Class 8 Social Science Chapter 13 हमारे मौलिक अधिकार एवं कर्त्तव्य

प्रश्न 7.
संवैधानिक उपचारों के अधिकार का वर्णन कीजिए।
उत्तर:
इस अधिकार को डॉ. भीमराव अम्बेडकर ने ‘संविधान की आत्मा और हृदय’ कहा है क्योंकि उनका मानना था कि नागरिकों के मौलिक अधिकारों की घोषणा तब तक व्यर्थ है जब तक कि उन्हें प्रभावी बनाने का कोई साधन न दिया जाए। यह अधिकार मौलिक अधिकारों को प्रभावपूर्ण बनाने का एक साधन है। मौलिक अधिकारों की रक्षा के लिए व्यक्ति सर्वोच्च न्यायालय और राज्यों के उच्च न्यायालयों में जा सकता है। आपातकालीन स्थितियों में इन मौलिक अधिकारों को सीमित या कभी – कभी निलम्बित भी किया जा सकता है। वस्तुतः ये अधिकार स्वतन्त्रता की अवधारणा और व्यक्ति की गरिमा को सुरक्षा प्रदान करते हैं।

Leave a Comment