RBSE Solutions for Class 8 Sanskrit Chapter 15 स्वच्छ भारतम्

RBSE Solutions for Class 8 Sanskrit

Rajasthan Board RBSE Class 8 Sanskrit Chapter 15 स्वच्छ भारतम्

RBSE Class 8 Sanskrit स्वच्छ भारतम् पाठ्यपुस्तकस्य प्रश्नोत्तराणि

RBSE Class 8 Sanskrit स्वच्छ भारतम् मौखिकप्रश्नाः

प्रश्न 1.
अधोलिखितानां शब्दानाम् उच्चारणं कुरुत् –
(नीचे लिखे हुए शब्दों का उच्चारण कीजिए-)
स्वच्छता, संस्मरणम्, श्रावयन्तु, प्रबुद्धाः, सर्वकारः, अवकरपात्राणि, प्रभृतिः, इतस्ततः, उद्बोधितवान्।
नोट
छात्रगण अपने आप ही उच्चारण करें।

प्रश्न 2.
अधोलिखितानां प्रश्नानाम् उत्तराणि वदत –
(नीचे लिखे हुए प्रश्नों के उत्तर बताइये-)

(क) विद्यालये कः कार्यक्रमः आसीत्?
(विद्यालय में कौन सा कार्यक्रम था?)

(ख) अस्माकं प्रधानाचार्यः किम् उद्बोधितवान्?
(हमारे प्रधानाचार्य ने क्या बताया?)

(ग) समूहे कुत्र गत्वा छात्राः स्वच्छतां कृतवन्तः?
(समूह में कहाँ जाकर छात्रों ने सफाई की?)

RBSE Solutions for Class 8 Sanskrit Chapter 15 स्वच्छ भारतम्

(घ) केन प्रेरिताः सर्वे नेतारः स्वच्छताकार्ये प्रवृत्ताः सन्ति?
(किससे प्रेरित होकर सभी नेता सफाई कार्य में लग गए हैं?)

(ङ) अस्माकं देशे किम् अभियानं प्रचलति?
(हमारे देश में कौन-सा अभियान चल रहा है?)
उत्तराणि:
(क) स्वच्छताकार्यक्रमः
(ख) स्वच्छताकार्यक्रमस्य विषये।
(ग) सार्वजनिकेषु स्थानेषु
(घ) प्रधानमन्त्रिमहोदयेन।
(ङ) स्वच्छताभियानम्।

RBSE Class 8 Sanskrit स्वच्छ भारतम् लिखितप्रश्नाः

प्रश्न 1.
अधोलिखितानां प्रश्नानाम् उत्तराणि एक पदेन लिखत –
(नीचे लिखे हुए प्रश्नों के उत्तर एक पद में लिखिए-)

(क) के प्रबुद्धाः अभवन्?
(कौन सचेत हो गये?)

(ख) निर्धनानां शौचालयनिर्माणार्थं कः आर्थिक सहयोगं करोति?
(गरीबों के शौचालय निर्माण के लिए कौन आर्थिक सहायता करता है?)

(ग) छात्राः कुत्र परिश्रमं कृत्वा आगतवन्तः?
(सभी छात्र कहाँ परिश्रम करके आये हैं ?)

(घ) चायं पीत्वा जनाः अवकरं कुत्र क्षिपन्ति?
(चाय पीकर लोग कचरे को कहाँ फेंक देते हैं?)

RBSE Solutions for Class 8 Sanskrit Chapter 15 स्वच्छ भारतम्

(ङ) बालकाः गृहकार्येषु किं करिष्यन्ति?
(सभी बालक घर के कार्यों में क्या करेंगे?)
उत्तराणि:
(क) बालकाः
(ख) सर्वकारः
(ग) विद्यालये
(घ) इतस्ततः
(ङ) साहाय्यं।

प्रश्न 2.
अधोलिखितानां प्रश्नानाम् उत्तराणि एकवाक्ये लिखत –
(नीचे लिखे हुए प्रश्नों के उत्तर एक वाक्य में लिखिए-)

(क) चायं पीत्वा अवकरं कुत्र स्थापनीयम्?
(चाय पीकर कचरे को कहाँ रखना चाहिए?)

(ख) महात्मागान्धीः कुत्र स्वच्छताकार्यं करोति स्म?
(महात्मा गान्धी कहाँ सफाई कार्य करते थे?)

(ग) अस्माकं परिवेशः कथं स्वच्छं भविष्यति?
(हमारा वातावरण कैसे साफ होगा?)

(घ) देशस्य नागरिकाः स्वस्थाः कथं भवेयुः?
(देश के नागरिक स्वस्थ कैसे हों?)

(ङ) सार्वजनिकेषु स्थानेषु स्वच्छता करणाय के समूह कृतवन्तः?
(सार्वजनिक स्थलों को साफ करने के लिए किन्होंने समूह बनाये?)
उत्तराणि:
(क) चायं पीत्वा अवकरं अवकरपात्रेषु स्थापनीयम्।
(चाय पीकर कचरे को कूड़ेदानों में डालना चाहिए।)

(ख) महात्मागान्धीः साबरमती आश्रमे स्वच्छताकार्यं करोति स्म।
(महात्मा गान्धी साबरमती आश्रम में सफाई कार्य करते …….. थे।)

RBSE Solutions for Class 8 Sanskrit Chapter 15 स्वच्छ भारतम्

(ग) अस्माकं परिवेशः प्रतिज्ञां कृत्वा स्वच्छ भविष्यति।
(हमारा वातावरण प्रतिज्ञा करके साफ होगा।)

(घ) देशस्य नागरिकाः देशं सुन्दरं कृत्वा स्वस्थाः भवेयुः।
(देश के नागरिक देश को सुन्दर करके स्वस्थ होवें।)

(ङ) सार्वजनिकेषु स्थानेषु स्वच्छता करणाय छात्रा: समूह कृतवन्तः
(सार्वजनिक स्थलों को साफ करने के लिए छात्रों ने समूह बनाये।)

प्रश्न 3.
मञ्जूषातः पदानि चित्वा रिक्तस्थानानि पूरयत –
(मञ्जूषा से पदों को चुनकर रिक्तस्थानों को पूरा कीजिए)
उत्तराणि:
(क) एषः मम मित्रं कौस्तुभः।
(ख) अद्य विद्यालये स्वच्छता कार्यक्रमः आसीत्।
(ग) अस्माकं प्रधानाचार्यः उद्बोधितवान्।
(घ) तेषां कृते सर्वकारः आर्थिकसहयोगं करोति।
(ङ) कर्मकरेषु आश्रितः न आसीत्।

प्रश्न 4.
रेखाङ्कितपदमाधृत्य प्रश्ननिर्माणं कुरुत –
(रेखांकित पद के आधार पर प्रश्न निर्माण कीजिए)
(क) मम मित्रं कौस्तुभः।।
(ख) विद्यालयस्य स्वच्छताविषयकं संस्मरणं श्रावयन्ति।
(ग) तेन प्रेरिताः सर्वे नेतारः।
(घ) सर्वकारः आर्थिकसहयोगं करोति।
(ङ) चायचषकान् मह्यं ददतु।
उत्तराणि:
(क) कस्य मित्रं कौस्तुभः?
(ख) कस्य स्वच्छताविषयकं संस्मरणं श्रावयन्ति?
(ग) केन प्रेरिताः सर्वे नेतारः?
(घ) का आर्थिकसहयोगं करोति?
(ङ) कान् मह्यं ददतु?

RBSE Solutions for Class 8 Sanskrit Chapter 15 स्वच्छ भारतम्

प्रश्न 5.
अधोलिखितानां पदानां प्रकृतिप्रत्ययं पृथक् कुरुत –
(नीचे लिखे हुए पदों का प्रकृति प्रत्यय अलग कीजिए-)
उत्तराणि:
RBSE Solutions for Class 8 Sanskrit Chapter 15 स्वच्छ भारतम् - 1

प्रश्न 6.
अधोलिखितानां पदानां मूलशब्दं विभक्तिं वचनं च लिखत –
(नीचे लिखे हुए पदों के मूल शब्द, विभक्ति और वचन लिखिए-)
उत्तराणि:
RBSE Solutions for Class 8 Sanskrit Chapter 15 स्वच्छ भारतम् - 2

RBSE Class 8 Sanskrit स्वच्छ भारतम् अन्य महत्वपूर्णः प्रश्नाः

RBSE Class 8 Sanskrit स्वच्छ भारतम्  वस्तुनिष्ठप्रश्नोत्तराणि

प्रश्न 1.
शुचिः कुतः आगच्छति?
(अ) गृहात्
(ब) वनात्
(स) विद्यालयात्
(द) आपणात्।
उत्तराणि:
(स) विद्यालयात्

प्रश्न 2.
यशवर्धनः कुत्र उपविष्टः?
(अ) आलिन्दे
(ब) विद्यालये
(स) उपवने
(द) राजभवने।
उत्तराणि:
(अ) आलिन्दे

प्रश्न 3.
कौस्तुभः कस्य मित्रम्?
(अ) लोकेशस्य
(ब) श्रीशस्य
(स) यशवर्धनस्य
(द) शुच्याः।
उत्तराणि:
(ब) श्रीशस्य

RBSE Solutions for Class 8 Sanskrit Chapter 15 स्वच्छ भारतम्

प्रश्न 4.
गान्धीमहोदयः कुत्र निवसति स्म?
(अ) विद्यालये
(ब) स्वगृहे
(स) आश्रमे
(द) आपणे।
उत्तराणि:
(स) आश्रमे

प्रश्न 5.
अल्पाहारम् आदाय का प्रविशति?
(अ) रचना
(ब) शुचि
(स) सन्ध्या
(द) सीता।
उत्तराणि:
(स) सन्ध्या

RBSE Class 8 Sanskrit स्वच्छ भारतम्  अतिलघूत्तरीयाः प्रश्नाः

प्रश्न: 1.
यशवर्धनः कः अस्ति?
उत्तराणि:
यशवर्धनः परिवारस्य प्रमुखः अस्ति।

प्रश्न: 2.
यशवर्धनस्य पुत्रस्य किं नामस्ति?
उत्तराणि:
यशवर्धनस्य पुत्रस्य नाम लोकेशः अस्ति।

प्रश्नः 3.
के प्रबुद्धाः अभवन?
उत्तराणि:
बालकाः प्रबुद्धाः अभवन।

प्रश्न: 4.
कः अस्माकं प्रेरणापुरुषः आसीत्?
उत्तराणि:
गान्धी महोदयः अस्माकं प्रेरणापुरुषः आसीत्।

RBSE Solutions for Class 8 Sanskrit Chapter 15 स्वच्छ भारतम्

प्रश्न 5.
अवकरम् कुत्र न क्षिपेत्?
उत्तराणि:
अवकरम् इतस्ततः न क्षिपेत्।

RBSE Class 8 Sanskrit स्वच्छ भारतम्  लघूत्तरीयाः प्रश्नाः

प्रश्न: 1.
अस्य पाठस्य किं नाम्?
उत्तराणि:
अस्य पाठस्य स्वच्छं भारतम् इति नामास्ति।

प्रश्न: 2.
अस्मिन् पाठे कस्मिन् विषये वार्ता प्रचलति?
उत्तराणि:
अस्मिन् पाठे स्वच्छताभियाने विषये वार्ता प्रचलति।

प्रश्नः 3.
विद्यालयस्य छात्राः कुत्र स्वच्छतां कृतवन्तः?
उत्तराणि:
विद्यालयस्य छात्राः विद्यालयात् बहिः अपि सार्वजनिकेषु स्थानेषु छात्राणां समूहं निर्माय स्वच्छतां कृतवन्तः।

RBSE Solutions for Class 8 Sanskrit Chapter 15 स्वच्छ भारतम्

प्रश्न: 4.
शौचालयनिर्माण विषये कुत्र विज्ञापनम् आगच्छति?
उत्तराणि:
शौचालयनिर्माण विषये दूरदर्शने अपि विज्ञापनम् आगच्छति।

RBSE Class 8 Sanskrit स्वच्छ भारतम्  निबन्धात्मक प्रश्नोत्तरः

प्रश्न: 1.
‘स्वच्छ भारतम्’ इति पाठपधारे चर्चायाः सारं हिन्दी भाषायां लिखत।
उत्तर:
परिवार के मुखिया यशवर्धन बरामदे में बैठे हुए हैं। श्रीश नाम का पौत्र और शुचि नाम की पौत्री अपने मित्र और सहेली के साथ विद्यालय से आते हैं। विद्यालय से आने में विलम्ब होने पर उनकी दादी वन्दना कारण पूछती है। श्रीश बताता है कि आज स्वच्छता कार्यक्रम के अन्तर्गत अभियान के रूप में विद्यालय से बाहर जाकर सार्वजनिक स्थलों पर समूह बनाकर सफाई की गई। हमारे प्रधानाचार्य जी ने बताया कि हमारे देश में स्वच्छता अभियान चल रहा है इसलिए हमें अपने घर की तो सफाई करनी ही चाहिए।

सार्वजनिक स्थलों, बस स्टैण्ड, उद्यान और अस्पताल आदि की भी सफाई करनी चाहिए। दादी वन्दना ने बताया कि यह सब चमत्कार हमारे प्रधानमन्त्री जी का है। इसीलिए सभी नेता, अधिकारी और सभी नागरिक इस कार्य में लगे हुए हैं। पौत्री शुचि बताती है कि शौचालय निर्माण के सम्बन्ध में दूरदर्शन पर विज्ञापन भी आ रहा है। गरीबों के सम्बन्ध में पूछे जाने पर लोकेश बताते हैं कि उनके लिए तो सरकार आर्थिक मदद भी कर रही है। इसी बीच लोकेश की पत्नी सन्ध्या नाश्ता लेकर आती है। सभी नाश्ता कर रहे हैं।

RBSE Solutions for Class 8 Sanskrit Chapter 15 स्वच्छ भारतम्

शुचि कहती है कि लोग कचरे को बाजार में इधर-उधर फेंक देते हैं जबकि सरकार ने कूड़ेदान रखवा दिये हैं।  हम सभी को कड़े को उन्हीं कड़ेदानों में डालना चाहिए। शुचि अपनी प्रधानाचार्या के विषय में कहती है कि वह अपना कार्य स्वयं करती हैं। इसी बीच यशवर्धन कहते हैं कि प्रेरणापुरुष गान्धी जी तो नौकरों पर निर्भर न रहकर स्वयं कार्य करते थे। अतः हमें प्रतिज्ञा करनी चाहिए कि अपना गृह, कार्यालय, चिकित्सालय, धार्मिक स्थल, उद्यान आदि को साफ रखें ताकि देश सुन्दर बन सके और सभी नागरिक स्वस्थ रह सकें।

योग्यता विस्तारः

(क) स्वच्छ भारत विषय के आधार पर भित्तिचित्रों का निर्माण कीजिए।
नोट:
छात्रगण अपने विवेक तथा अध्यापक महोदय के सहयोग से भित्तिचित्रों का निर्माण करें।

(ख) हम भी सार्वजनिक स्थलों पर स्वच्छता सम्बन्धी सहयोग कैसे कर सकते हैं? छोटा लेख लिखो।
उत्तराणि:
देश हमारा है। इसे स्वच्छ रखना हमारा कर्तव्य है। जब हम अपने वातावरण को स्वच्छ रखेंगे तो देश सुन्दर भी बनेगा तथा हम सभी नागरिक स्वस्थ भी रहेंगे। इतना ही नहीं एक पशु या पक्षी या कुत्ता जब अपने स्थान पर बैठते हैं तो वे सबसे पहले उस स्थान को साफ करते हैं। यह स्वच्छता अभियान अभी ही प्रारम्भ नहीं हुआ, यह तो प्रेरणापुरुष गाँधी महोदय ने साबरमती आश्रम में रहते हुए चलाया था।

वह कर्मचारियों पर आश्रित न रहकर स्वयं सफाई करते थे। एक बार गान्धी जी एक विद्यालय के निरीक्षण में गए थे। वहाँ वे शौचालय को गन्दा देखकर स्वयं झाडू-बाल्टी लेकर सफाई करने लगे। इसे देखकर विद्यालय के प्रधानाचार्य, शिक्षक एवं छात्र प्रभावित होकर वे सब जगह सफाई करते हुए अपने को स्वच्छ रखने लगे। यदि हम ऐसा दृढ़-निश्चय कर लें तो हम विद्यालय, चिकित्सालय, बसस्टैण्ड, धार्मिक स्थल, सार्वजनिक स्थल,, उद्यान आदि की सफाई करके स्वच्छता अभियान में सहयोग कर सकते हैं।

RBSE Solutions for Class 8 Sanskrit Chapter 15 स्वच्छ भारतम्

(ग) नमामि गङ्गे अभियान की प्रेरणा से हम क्या कर सकते हैं ? सात कार्यों की सूची तैयार करो।
उत्तराणि:
यह अभियान केन्द्रीय मानव संसाधन मन्त्रालय द्वारा चलाया गया है। जिसका उद्देश्य स्कूलों एवं अन्यत्र स्वच्छता रखना है। इस कार्यक्रम के तहत 25 सितम्बर 2014 से 31 अक्टूबर, 2014 तक केन्द्रीय विद्यालय और नवोदय विद्यालय संगठनों में स्वच्छता क्रिया-कलाप आयोजित किए गये। इस आयोजन की प्रेरणा से हम भी अनेक कार्यों को आयोजित कर सकते हैं। जिनकी सूची इस प्रकार है –

  • विद्यार्थियों द्वारा स्वच्छता के विभिन्न पहलुओं पर चर्चा ।
  • महात्मा गान्धी की शिक्षा, स्वच्छता और स्वास्थ्य विज्ञान के विषय पर चर्चा ।
  • स्वच्छता क्रियाकलाप (कक्षा में, पुस्तकालय, प्रयोगशाला मैदान, बगीचा, किचनशेड, दुकान, खान-पान की जगह इत्यादि।)
  • स्कूल क्षेत्र में सफाई।
  • महान व्यक्तियों के योगदान पर भाषण।
  • निबन्ध लेखन प्रतियोगिता।
  • कला, फिल्म, चित्रकारी तथा स्वास्थ्य और स्वच्छता पर नाटक मञ्चन आदि।

(घ) सात सार्वजनिक स्थलों के नाम लिखिए जहाँ सफाई आवश्यक है।
उत्तराणि:
सात सार्वजनिक स्थलों के नाम इस प्रकार हैं –

  1. चिकित्सालय
  2. धार्मिक स्थान
  3. कुआँ
  4. तालाब
  5. उद्यान
  6. विद्यालय
  7. बसस्टैण्ड तथा रेलवे स्टेशन।।

(ङ) उन सात वस्तुओं के नाम लिखिए जिनसे वातावरण प्रदूषित होता है।
उत्तर:
पर्यावरण प्रदूषण आज की प्रमुख समस्या है। महानगरों में प्रदूषण इस सीमा तक बढ़ गया है कि लोगों के लिए साँस लेना भी दूभर हो गया है। प्रदूषण के प्रमुख कारण हैं –
(1) वायु प्रदूषण वायु में हानिकारक गैसों का अनुपात अधिक होना।
(2) जल प्रदूषण – इसका प्रमुख कारण नदियों में कारखानों द्वारा उपयोग में लाए गए दूषित जल का मिल जाना।।
(3) ध्वनिप्रदूषण – इससे मानव के नाड़ी तन्त्र पर तथा दिमाग पर बुरा असर पड़ता है।
(4) मृदा प्रदूषण – मिट्टी में दूषित रसायनों का मिल जाना। कीटनाशक दवाइयों के प्रयोग करने से तथा नाना प्रकार के उर्वरकों का प्रयोग करने से मृदा प्रदूषण होता है।
(5) रेडियोधर्मी प्रदूषण – यह प्रदूषण सबसे अधिक हानिकारक है। जब अनेक प्रकार की रेडियोधर्मी किरणें निकलती हैं जो वातावरण को प्रदूषित कर देती हैं।
(6) जंगल कटान से भी प्रदूषण बढ़ रहा है।
(7) पैट्रोल और डीजल वाहनों से निकलने वाले धुएँ से प्रदूषण फैल रहा है।

महत्वपूर्णानां शब्दार्थानां सूची शब्दः
RBSE Solutions for Class 8 Sanskrit Chapter 15 स्वच्छ भारतम् - 4

पाठ-परिचय:
स्वच्छ भारत अभियान भारत सरकार द्वारा चलाया गया एक स्वच्छता मिशन है। यह अभियान एक राजनीति मुक्त अभियान है जो देशभक्ति से प्रेरित है। इस अभियान में शिक्षक, छात्र और अभिभावक पूर्ण उत्साह और उल्लास के साथ सम्मिलित हो रहे हैं और स्वच्छ भारत अभियान को सफल बनाने के लिए प्रयासरत हैं। इस पाठ में एक | परिवार के सदस्य स्वच्छता कार्य की प्रतिज्ञा करते हैं।

पात्र परिचयः
लोकेशः – गृहस्वामी (घर का मालिक)
सन्ध्या – लोकेशस्य पत्नी (मालिक लोकेश की पत्नी)
शुचिः – लोकेशस्य पुत्री (लोकेश की पुत्री)
श्रीशः – लोकेशस्य पुत्रः (लोकेश का पुत्र)
कौस्तुभः – श्रीशस्य मित्रम् (श्रीश का मित्र)
यशवर्धनः- लोकेशस्य पिता (लोकेश के पिता)
वन्दना – यशवर्धनस्य पत्नी, लोकेशस्य माता
(यशवर्धन की पत्नी, लोकेश की माता)
रचना – शुच्याः सखी (शुचि की सहेली)

RBSE Solutions for Class 8 Sanskrit Chapter 15 स्वच्छ भारतम्

मूल अंश, शब्दार्थ, हिन्दी अनुवाद एवं प्रश्नोत्तर
1. (स्वमित्राभ्यां रचनाकौस्तुभाभ्यां सह शुचिश्रीशौ विद्यालयात् गृहम् आगच्छतः। आलिन्दे यशवर्धनः आसन्दे उपविष्ट:)
शुचिश्रीशौ – प्रणमावः पितामह ! (सर्वे प्रणमन्ति)
यशवर्धन: – आयुष्मान् भव। (रचनाकौस्तुभौ प्रति) एतौ कौ?
श्रीश: – एषः मम मित्रं कौस्तुभः।
शुचिः – एषा च मम सखी रचना। वन्दना (प्रविश्य) भोः! विद्यालयात् विलम्बः किमर्थम्?
श्रीश: – अद्य विद्यालये स्वच्छताकार्यक्रमः आसीत्।
यशवर्धनः – प्रतिदिवसं विद्यालये स्वच्छता न भवति किम्?
कौस्तुभ: – भवति किन्तु अद्य अभियानरूपेण विद्यालयात बहिः अपि सार्वजनिकष स्थानेषु छात्राणां समूह निर्माय स्वच्छता कृतवन्तः।

शब्दार्थ:
स्वमित्राभ्याम् = अपने मित्रों के। सह= साथ। आगच्छतः = आते हैं। आलिन्दे = बरामदे में। आसन्दे = आसन पर, कुर्सी पर। उपविष्टः = बैठा है। प्रणमावः = प्रणाम करते हैं। पितामह = दादा। प्रविश्य = प्रवेश करके। विलम्बः = देर। आसीत् = था। स्थानेषु = स्थलों पर। – निर्माय = बनाकर। कृतवन्तः = की। प्रणमन्ति = प्रणाम करते हैं। आयुष्मान भव = दीर्घायु हों। एतौ कौ = ये दोनों कौन हैं। एषः = यह (पुरुष)। एषा = यह (स्त्रीलिंग)। विद्यालयात् = विद्यालय से। किमर्थम् = किसलिए। विद्यालये = विद्यालय में। प्रति दिवसं = रोजाना। बहिः = बाहर। छात्राणां = छात्रों के।

हिन्दी अनुवादः
अपने मित्रों रचना और कौस्तुभ के साथ शुचि और श्रीश विद्यालय से घर आते हैं। बरामदे में यशवर्धन आसन पर बैठे हैं।
शुचि और श्रीश – दादाजी! (हम दोनों) प्रणाम करते हैं।(सभी प्रणाम करते हैं)
यशवर्धन – दीर्घायु हो! (रचना और कौस्तुभ की ओर) ये दोनों कौन हैं?
श्रीश – यह मेरा मित्र कौस्तुभ है।
शुचि – और यह मेरी सहेली रचना है।
वन्दना – (प्रवेश करके) अरे! विद्यालय से किसलिए देर हुई?
श्रीश – आज विद्यालय में सफाई कार्यक्रम था।
यशवर्धनः – प्रतिदिन विद्यालय में सफाई नहीं होती है क्या? कौस्तुभ होती है लेकिन आज अभियान के रूप में विद्यालय से बाहर भी सार्वजनिक स्थलों पर छात्रों के समूह बनाकर सफाई की।

RBSE Solutions for Class 8 Sanskrit Chapter 15 स्वच्छ भारतम्

(क) पितामहस्य नाम किम्?
उत्तराणि:
पितामहस्य नाम यशवर्धनः।

(ख) विद्यालयात को आगच्छतः?
उत्तराणि:
विद्यालयात् शुचिश्रीशौ आगच्छतः।

(ग) वन्दना का अस्ति?
उत्तराणि:
वन्दना लोकेशस्य माता अस्ति।

(घ) विद्यालये किम् आसीत्?
उत्तराणि:
विद्यालये स्वच्छताकार्यक्रम आसीत्।

(ङ) विद्यालयात् बहिः कुत्र स्वच्छतां कृतवन्तः?
उत्तरम्:
विद्यालयात् बहिः सार्वजनिकेषु स्थानेषु स्वच्छता कृतवन्तः।

(च) ‘शुचिश्रीशौ’ इति अत्र कः समास?
उत्तराणि:
‘शुचिः च श्रीशः च इति द्वन्द्वसमासः’

(छ) ‘आलिन्दे इति पदे का विभक्तिः ?
उत्तराणि:
‘आलिन्दे’ इति पदे सप्तमी विभक्तिः।

RBSE Solutions for Class 8 Sanskrit Chapter 15 स्वच्छ भारतम्

2. वन्दना – अस्मिन् विषये सर्वान् छात्रान् कः प्रेरितवान् ?
रचना – अस्माकं प्रधानाचार्यः उद्बोधितवान् ?
लोकेश: – (प्रविश्य) अरे किं प्रचलति अत्र?
यशवर्धन: – (विहस्य) विद्यालयस्य स्वच्छताविषयक संस्मरणं श्रावयन्ति।
लोकेश: – (आसन्दे उपविश्य) अहमपि श्रोतुम् इच्छमि, श्रावयन्तु।
कौस्तुभ: – पितृव्य! प्रधानाचार्यः बोधितवान् यत् अस्माकं देशे “स्वच्छताभियानम्” प्रचलति।
शुचि: – अपि च सः उक्तवान् यद् अस्माकं गृहस्य स्वच्छता तु करणीया एव सार्वजनिकस्थानेषु बसस्थाने, उद्याने, चिकित्सालये अपि स्वच्छतायाः अस्माकं दायित्वम्। |
लोकेश:- – केवलं दायित्व वा आचरणीयम्?
श्रीश: – -भोः पितः! अद्य तु वयं समूहे तत्र गत्वा स्वच्छतां कृतवन्तः।
यशवर्धनः – (हसन्) लोकेश! बालकाः प्रबुद्धाः अभवन्।

शब्दार्थ:
अस्मिन् विषये = इस विषय में। प्रेरितवान् = प्रेरित किया। उदबोधितवान् = बताया। श्रावयन्ति = सुनाये जा रहे हैं। श्रावयन्तु = सुनाये। पितृव्य = चाचा। उक्तवान् = कहा। स्वच्छतायाः = सफाई का। दायित्वम् = कर्तव्य है। आचरणीयम् = करने योग्य है। प्रबुद्धाः= सचेत। अभवन् = हो गये हैं। किं प्रचलति = क्या चल रहा है। विहस्य = हँसकर। उपविश्य = बैठकर। प्रविश्य = प्रवेश करके। श्रोतुम् इच्छामि = सुनना चाहता हूँ। बोधितवान् = बताया। अस्माकं = हमारे। गृहस्य स्वच्छता = घर की सफाई । तु = तो। करणीया एव = करनी ही चाहिए।

हिन्दी अनुवादः-
वन्दना – इस विषय में सभी छात्रों को किसने प्रेरित किया?
रचना – हमारे प्रधानाचार्य ने बताया।
लोकेश – (प्रवेश करके) अरे यहाँ क्या चल रहा है?
यशवर्धन – (हँसकर) विद्यालय के सफाई से सम्बन्धित यादगार को सुना रहे हैं। लोकेश (बरामदे में बैठकर) मैं भी सुनना चाहता हूँ, सुनायें।
कौस्तुभ – चाचा! प्रधानाचार्य जी ने बताया कि हमारे देश में सफाई अभियान चल रहा है।
शुचि – उन्होंने यह भी कहा कि हमें अपने घर की सफाई तो करनी ही चाहिए, सार्वजनिक स्थलों, बसस्थान, उद्यान और चिकित्सालय में भी सफाई करना हमारा कर्तव्य है। लोकेश केवल कर्तव्य है अथवा करने योग्य हैं? श्रीश-है पिताजी! आज तो हमने समूह में वहाँ जाकर सफाई की।
यशवर्धन – (हँसते हुए) लोकेश! सभी बालक सचेत हो गये हैं।

RBSE Solutions for Class 8 Sanskrit Chapter 15 स्वच्छ भारतम्

(क) सर्वान् छात्रान् कः प्रेरितवान्?
उत्तराणि:
सर्वान् छात्रान् प्रधानाचार्यः प्रेरितवान्।

(ख) विद्यालयस्य स्वच्छता विषयकं संस्मरणं के श्रावयन्ति?
उत्तराणि:
विद्यालयस्य स्वच्छताविषयकं संस्मरणं छात्राः श्रावयन्ति।

(ग) अस्माकं देशे “स्वच्छताभियानम्”प्रचलति इति कः बोधितवान्?
उत्तराणि:
अस्माकं देशे ‘स्वच्छताभियानम्’ प्रचलति इति प्रधानाचार्य:बोधितवान्।

(घ) स्वच्छताविषयकं संस्मरणं कः श्रोतुम् इच्छति?
उत्तराणि:
स्वच्छता विषयकं संस्मरणं लोकेशः श्रोतुम् इच्छति।

(ङ) ‘हसन्’ इति पदे कः प्रत्ययः प्रयुक्त?
उत्तराणि:
‘हसन्’ इति पदे शतृ प्रत्ययः प्रयुक्तः।

(च) ‘बालकाः इति पदे का विभक्तिः ?
उत्तरम्:
‘बालकाः’ इति पदे प्रथमा विभक्तिः।

(छ) ‘कृतवन्तः’ अस्मिन् पदे प्रत्ययस्य निर्देशनम् कुरुत।
उत्तराणि:
‘कृतवन्तः’ अस्मिन् पदे क्तवतु प्रत्ययः अस्ति।

RBSE Solutions for Class 8 Sanskrit Chapter 15 स्वच्छ भारतम्

(3) वन्दना – अरे एतत् तु अस्माकं प्रधानमन्त्रिमहोदस्य चमत्कारोऽस्ति।
लोकेश: – आम्! तेन प्रेरिताः सर्वे नेतारः अधिकारिणः नागरिकाश्च एतस्मिन् कार्ये प्रवृत्ताः सन्ति। मम कार्यालयेऽपि सर्व ………..
शुचिः – (मध्ये एव) दूरदर्शने अपि शौचालयनिर्माणविषये विज्ञापनम् आगच्छति।
कौस्तुभः – ये निर्धनाः सन्ति ते स्वगृहे शौचालयनिर्माणं कथं करिष्यन्ति। लोकेशः तेषां कृते सर्वकारः आर्थिकसहयोगं करोति।।
रचना – अस्मिन् वर्षे अस्माकं विद्यालयेऽपि शौचालयानां निर्माणम् अभवत्।
सन्ध्या – (अल्पाहारम् आदाय प्रविश्य) विद्यालये परिश्रम कृत्वा आगतवन्तः अतः अल्पाहारेण सह वार्तालापं कुर्वन्तु।
शचिः – (अल्पाहारं कुर्वन्) आपणे पूर्वं सर्वे चायं पीत्वा अवकरम् इतस्ततः क्षिपन्ति स्म, किन्तु इदानीं सर्वकारेण अवकरपात्राणि स्थापितानि तत्र अवकरपात्रेषु अवकरं स्थापनीयम्।
श्रीश: – इदानीं तु चायचषकान् मह्यं ददतु। अहमेव मार्जयामि।।
सन्ध्या – (आश्चर्येण) अहो! शोभनम् शोभनम्। वन्दना सन्ध्ये! अद्य प्रभृतिः एते बालकाः गृहकार्येषु अपि साहाय्यं करिष्यन्ति इति चिन्तयामि।
शुचिः – आम् पितामहि! अस्माकं प्रधानाचार्या अपि स्वगृहे स्वच्छतादीनि कार्याणि करोति।

शब्दार्थः
प्रेरिताः = प्रेरित किये गये। प्रवृत्ताः = लग गये। शौचालयनिर्माणाविषये = शौचालय बनाने के सम्बन्ध में। आगच्छति = आता है। स्वगृहे = अपने घर में। करिष्यन्ति = करेंगे। आर्थिक सहयोगं = आर्थिक सहायता। अभवत् = हुआ। अल्पाहारम् = नाश्ता। आदाय = लेकर। आगतवन्तः = आये हो। वार्तालापं = बातचीत। आपणेः = बाजार में। अवकरम् = कचरा। इतस्ततः = इधर-उधर। क्षिपन्ति स्म = फेंक देते थे।

अवकरपात्राणि = कूड़ेदान। स्थापितानि = रखवा दिये हैं। स्थापनीयम् = डालना चाहिए। चषकान् = प्यालों को। मार्जयामि = सफाई करता हूँ। साहाय्यं = सहायता। कुर्वन्तु = करें। कृत्वा = करके। विद्यालयेऽपि = विद्यालय में भी। करिष्यन्ति = करेंगे। आगच्छति = आता है। सर्वे = सभी। पीत्वा = पीकर। इदानीं = अब । सर्वकारेण = सरकार ने। मह्यम् = मुझे। ददतु = दो। करिष्यन्ति = करेंगे। चिन्तयामि = सोचता/सोचती हूँ। करोति = करता है/करती है।

RBSE Solutions for Class 8 Sanskrit Chapter 15 स्वच्छ भारतम्

हिन्दी अनुवादः
वन्दना – अरे यह तो हमारे प्रधानमन्त्री महोदय का चमत्कार है।
लोकेश – हाँ! उनके द्वारा प्रेरित किये गये सभी नेतागण, अधिकारीगण और नागरिक इस कार्य में लग गये हैं। मेरे कार्यालय में भी सभी ……… ।
शुचि – (बीच में ही) दूरदर्शन पर भी शौचालय बनाने के सम्बन्ध में विज्ञापन आ रहा है।
कौस्तुभ – जो गरीब हैं वे अपने घर में शौचालयों का निर्माण कैसे करेंगे? लोकेश उनके लिए सरकार आर्थिक सहायता करती है।
रचना – इस वर्ष हमारे विद्यालय में भी शौचालयों का निर्माण हुआ था।
सन्ध्या – (नाश्ता लेकर प्रवेश करके) विद्यालय में मेहनत करके आए हो इसलिए नाश्ते के साथ-साथ बातचीत करें।
शुचि – (नाश्ता करते हुए) बाजार में पहले सभी लोग चाय पीकर कचरे को
इधर – उधर फेंक देते थे लेकिन अब सरकार के द्वारा कूड़ेदान रखवा दिये गये हैं, उन कूड़ेदानों में कचरे को डालना चाहिए।
श्रीश – अब तो चाय के प्यालों को मुझे दो। मैं ही साफ करता हूँ।
सन्ध्या – (आश्चर्यपूर्वक) अरे! अच्छा, अच्छा।
वन्दना – सन्ध्या! अब तो ये बच्चे घर के कार्यों में भी सहायता करेंगे, यह सोचती है।
शुचि – हाँ दादी! हमारी प्रधानाचार्या भी अपने घर में सफाई आदि के कार्य करती है।

(क) स्वच्छताभियाने कस्य चमत्कारः?
उत्तराणि:
स्वच्छताभियाने प्रधानमन्त्रिमहोदयस्य चमत्कारः।

(ख) स्वच्छताभियाने के के प्रवृत्ताः सन्ति?
उत्तराणि:
स्वच्छताभियाने सर्वे नेतारः अधिकारिणः नागरिकाश्च प्रवृत्ताः सन्ति।

(ग) शौचालयनिर्माणविषये विज्ञापनं कुत्र आगच्छति?
उत्तराणि:
शौचालयनिर्माण विषये विज्ञापनं दूरदर्शने आगच्छति।

(घ) निर्धनानां कृते सर्वकारः किं करोति?
उत्तराणि:
निर्धनानां कृते सर्वकारः आर्थिकसहयोगं करोति।

RBSE Solutions for Class 8 Sanskrit Chapter 15 स्वच्छ भारतम्

(ङ) चायचषकान्कः मार्जयति?
उत्तराणि:
चाय चषकान् श्रीशः मार्जयति।

(च) ‘स्वच्छतादीनि’ इति पदस्य सन्धिविच्छेदः भविष्यति।
उत्तराणि:
स्वच्छता+आदीनि इति सन्धिविच्छेदः भविष्यति।

(छ) ‘करिष्यन्ति’ इति पदे कः लकारः?
उत्तराणि:
करिष्यन्ति’ इति पदे लुट्लकारः अस्ति।

(4) यशवर्धनः – भवत्याः प्रधानाचार्या एव न अस्माकं राष्ट्रपितामहात्मागान्धीः अपि साबरमती आश्रमे स्वयमेव स्वच्छताकार्यं करोति स्म। कर्मकरेषु आश्रितः नासीत्।
लोकेश: – सः तु अस्माकं प्रेरणापुरुषः अस्ति।
रचना – वयम् अपि विद्यालये प्रतिज्ञां कृतवन्तः यत् अस्माकं परिवेशं स्वच्छं करिष्यामः।
सन्ध्या – वयं गृहजनाः अपि प्रतिज्ञा करवाम यत् वयम् अस्माकं गृहं, कार्यालय, चिकित्सालयं, धार्मिकस्थलानि, उद्यानानि, सार्वजनिकस्थलानि च स्वच्छंकरवाम। तत्र अवकरम् इतस्ततः न क्षिपाम। येन अस्माकं देशः सुन्दरः नागरिकाः च स्वस्थाः भवन्तु।
सर्वे – आम्। सर्वे प्रतिज्ञा करवाम। (सर्वे प्रतिज्ञां कुर्वन्ति) (जवनिकापात:)

RBSE Solutions for Class 8 Sanskrit Chapter 15 स्वच्छ भारतम्

शब्दार्थः –
भवत्याः = आपकी। करोति स्म = करते थे। कर्मकरेषु = कर्मचारियों पर। आश्रितः = अधीन। परिवेशं = वातावरण। अवकरम् = कचरा।

हिन्दी अनुवादः – यशवर्धन आपकी प्रधानाचार्य ही नहीं, हमारे राष्ट्रपिता महात्मा गान्धीजी साबरमती आश्रम में अपने आप ही सफाई कार्य करते थे। कर्मचारियों के अधीन नहीं थे।
लोकेश – वह तो हमारे प्रेरणा पुरुष हैं।
रचना – हमने भी विद्यालय में प्रतिज्ञा की है कि हम वातावरण को साफ करेंगे।
सन्ध्या – हम सब घर के लोगों को भी प्रतिज्ञा करनी चाहिए कि हमें अपने घर को, कार्यालय को, चिकित्सालय को, धार्मिक स्थलों को, उद्यानों को और सार्वजनिक स्थलों को साफ रखना चाहिए। वहाँ कचरे को इधर – उधर नहीं फेंकना चाहिए। जिससे हमारा देश सुन्दर और नागरिक स्वस्थ होवें।
सभी – हाँ। सभी को प्रतिज्ञा करनी चाहिए। (सभी प्रतिज्ञा करते हैं।) (पर्दा गिर जाता है।)

(क) साबरमती आश्रमे कः स्वयमेव स्वच्छताकार्यं करोति स्म?
प्रधानाचार्यः, सर्वकारः, मम, कर्मकरेषु, प्रबुद्धा स्वच्छता
उत्तराणि:
साबरमती आश्रमे राष्ट्रपितामहात्मागान्धीः अपि। स्वयमेव स्वच्छताकार्यं करोति स्म।

(ख) महात्मागान्धीः केषु आश्रितः नासीत्?
उत्तराणि:
महात्मागान्धी कर्मकरेषु आश्रितः नासीत्।

(ग) अस्माकं प्रेरणापुरुषः कः अस्ति?
उत्तराणि:
अस्माकं प्रेरणापुरुष: महात्मागान्धीः अस्ति।

RBSE Solutions for Class 8 Sanskrit Chapter 15 स्वच्छ भारतम्

(घ) के कुत्र प्रतिज्ञां कृतवन्तः?
उत्तराणि:
सर्वे छात्राः विद्यालये प्रतिज्ञां कृतवन्तः।

(ङ) कानि कानि स्थलानि स्वच्छं कुर्युः?
उत्तराणि:
सर्वेजनाः स्व-स्वगृहं कार्यालयं चिकित्सालयं धार्मिकस्थलानि उद्यानानि सार्वजनिक स्थलानि च स्वच्छं कुर्युः।

(च) कुर्वन्ति इति पदे कः लकारः?
उत्तराणि:
कुर्वन्ति इति पदे लट्लकारः।

(छ) अस्माकं इति पदं कीदृशम्?
उत्तराणि:
अस्माकं इति सर्वनामपदम्।

Leave a Comment