RBSE Solutions for Class 7 Sanskrit Chapter 12 पर्यावरणचेतना

RBSE Solutions for Class 7 Sanskrit

Rajasthan Board RBSE Class 7 Sanskrit Chapter 12 पर्यावरणचेतना

RBSE Class 7 Sanskrit पर्यावरणचेतना पाठ्य-पुस्तक के प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1.
निम्नलिखितपदानाम् उच्चारणं कुरुत –
पृथिव्याकाशः, अनावृष्टिः, मृत्प्रस्तरकाष्ठादीनि, परिलुण्ठितानि, निर्बाधप्रचलनेन, कर्णविस्फोटकध्वनिः, अनिद्रारोगेण, स्वच्छभारताभियानम्, शिरष्छेदनम्, कारितवन्तः।
उत्तरम्:
[नोट-उपर्युक्त शब्दों का शुद्ध उच्चारण अपने अध्यापकजी की सहायता से कीजिए।]

प्रश्न 2.
एकेन शब्देन उत्तरत –
(क) वायवः कान् इतस्ततः नयन्ति ?
उत्तरम्:
कीटाणून्।

(ख) के अनिद्रारोगेण विक्षिप्ता इव सन्ति ?
उत्तरम्:
जनाः।

(ग) भारतीयसंस्कृतिः कस्य सम्पोषिका अस्ति ?
उत्तरम्:
पर्यावरणस्य।

RBSE Solutions for Class 7 Sanskrit Chapter 12 पर्यावरणचेतना

(घ) केषां कृते कठोरदण्डव्यवस्था अस्ति ?
उत्तरम्:
वृक्षच्छेदकानां कृते।

(ङ) केषां रोपणं फलदायकम् अस्ति ?
उत्तरम्:
वृक्षाणाम्।

प्रश्न 3.
अधोलिखितानां प्रश्नानाम् उत्तराणि लिखत –
(क) पर्यावरणे कानि-कानि तत्वानि सन्ति ?
उत्तरम्:
पर्यावरणे पृथिवी, आकाशः, वायुः, जलम्, अग्निः इत्येतानि पञ्चतत्वानि सन्ति।

(ख) खेजडलीग्रामे शमीवृक्षाणां संरक्षणार्थ कियन्तः जनाः शिरच्छेदनम् कारितवन्तः ?
उत्तरम्:
खेजडलीग्रामे शमीवृक्षाणां संरक्षणार्थं शतशः जनाः शिरष्छेदनम् कारितवन्तः।

(ग) पर्यावरणदिवसः कदा आयोज्यते ?
उत्तरम्:
पर्यावरणदिवसः प्रतिवर्षं जूनमासस्य पञ्चमे दिनाङ्के आयोज्यते।

(घ) वृक्षरक्षणार्थं स्वप्राणदानस्य घटना कस्मिन् ग्रामे अभवत् ?
उत्तरम्:
वृक्षरक्षणार्थं स्वप्राणदानस्य घटना खेजडलीग्रामे अभवत्।

(ङ) भारतसर्वकारः पर्यावरणसंरक्षणार्थं कानि अभियानानि चालयति ?
उत्तरम्:
भारतसर्वकार : पर्यावरणसंरक्षणार्थं ‘स्वच्छभारताभियानम्’ ‘निर्मलगङ्गायोजनां’ च चालयति।

RBSE Solutions for Class 7 Sanskrit Chapter 12 पर्यावरणचेतना

प्रश्न 4.
कोष्ठकेभ्यः उचितपदानि चित्वा वाक्यानि पूरयत –
(क) वाहनानां धूमः यन्त्रागारेभ्यः निर्गच्छत् वायुश्च …………… दूषयति। (जलमण्डलम् / वायुमण्डलम्)
(ख) वृक्षाणां रक्षणार्थं आलिङ्गनान्दोलनम् ………. अभवत्। (उत्तराखण्डे / उत्तरप्रदेशे)
(ग) जूनमासस्य पञ्चमे दिनाङ्के ………. भवति। (विश्वपर्यावरणदिवस: जलदिवसः)
(घ) पर्यावरणे ………….. तत्वानि सन्ति। (पञ्च / सप्त)
(ङ) प्रसिद्धखेजड़लीग्रामः ………….. समीपे वर्तते। (जयपुरस्य / जोधपुरस्य)
उत्तरम्:
(क) वायुमण्डलम्
(ख) उत्तराखण्डे
(ग) विश्वपर्यावरणदिवसः
(घ) पञ्च
(ङ) जोधपुरस्य।

प्रश्न 5.
उदाहरणानुसारं पदानां विभक्तिं वचनं च लिखत।
उत्तरम्:
RBSE Solutions for Class 7 Sanskrit Chapter 12 पर्यावरणचेतना - 3

प्रश्न 6.
उचितविलोमपदानि योजयित्वा स्वाभ्यासपुस्तिकायां लिखत –
(क) शुक्लपक्षः – तत्र
(ख) दूषितम् – अनावश्यकम्
(ग) तादृशी – कृष्णपक्षः
(घ) अत्र – निर्मलम्
(ङ) रक्षणम् – नाशनम
(च) आवश्यकम् – एतादृशी
उत्तरम्:
(क) शुक्लपक्षः – कृष्णपक्षः
(ख) दूषितम् – निर्मलम्
(ग) तादृशी – एतादृशी
(घ) अत्र – तत्र
(ङ) रक्षणम् – नाशनम
(च) आवश्यकम् – अनावश्यकम्

RBSE Solutions for Class 7 Sanskrit Chapter 12 पर्यावरणचेतना

प्रश्न 7.
भिन्नवर्गस्य पदं चिनुतयथा – कोकिला, चटका, लता, शुका – लता।
उत्तरम्:
(क) फलम्, पत्रम्, पुष्पम्, मित्रम् – मित्रम्
(ख) भोजनम्, जलम्, वार्तापत्रम्, दुग्धम् – वार्तापत्रम्
(ग) शिक्षिका, अध्यापिका, लेखिका, अभ्यासपुस्तिका – अभ्यासपुस्तिका
(घ) आकाशः, चन्द्रः, मेघः, कर्णः – कर्णः

प्रश्न 8.
निम्नाङ्कितपदेभ्यः उपसर्ग चिनुत।
उत्तरम्:
RBSE Solutions for Class 7 Sanskrit Chapter 12 पर्यावरणचेतना - 4

प्रश्न 9.
सत्यकथनस्य पुरतः “आम्” असत्यकथनस्य च पुरतः “न” इति लिखत।
उत्तरम्:
(क) प्रतिवर्षे जूनमासस्य सप्तमे दिनाङ्के “विश्वपर्यावरण-दिवसः” आचर्यते। (न)
(ख) उत्तराखण्डे सुन्दरलालबहुगुणास्य नेतृत्वे वृक्षाणां रक्षणार्थम् “आलिङ्गनान्दोलनम्” चालितम्। (आम्)
(ग) खेजडलीघटना वृक्षरक्षणार्थं जयपुरनगरस्य समीपे अभवत्। (न)
(घ) भारतीया संस्कृतिः पर्यावरणस्य सम्पोषिका अस्ति। (आम्)

RBSE Solutions for Class 7 Sanskrit Chapter 12 पर्यावरणचेतना

योग्यता – विस्तारः
1. वृक्षाणां महत्त्वस्य विषये पुराणेष्वपि उक्तम् –
(वृक्षों के महत्त्व के विषय में पुराणों में भी कहा गया है -)

दशकूपसमा वापी दशवापीसमो हृदः।
दशहदसमः पुत्रः दशपुत्रसमो द्रुमः॥
(दस कुओं के समान बावड़ी है, दस बावड़ियों के समान तालाब है। दस तालाबों के समान पुत्र है तथा दस पुत्रों के समान पेड़ है।)

वृक्षाणां रोपणं फलदायकम् अस्ति इति महाभारतेऽपि लिखितम् –
(वृक्षों को लगाना फल देने वाला है, ऐसा महाभारत में भी लिखा है।)

‘वृक्षाणां कर्तनं पापं वृक्षाणां रोपणं हितम्।’
(वृक्षों को काटना पाप है और वृक्षों को लगाना पुण्य

RBSE Solutions for Class 7 Sanskrit Chapter 12 पर्यावरणचेतना

2. सन्धिं जानीत – (सन्धि जानिए)
स्वर सन्धि का एक भेद यण सन्धि है। यण् अर्थात् य् व् र् ल् । य् व् र् ल् ये चार यणादेश हैं। ये कब और किसके स्थान पर होते हैं, यह निम्न तालिका में देखिए –
इ + भिन्नः स्वरः (अ, इ, उ, ऋ, ल, ए, ऐ, ओ, औ) = य्
उ + भिन्नः स्वरः (अ, इ, उ, ऋ, ल, ए, ऐ, ओ, औ) = व्
ऋ + भिन्नः स्वरः (अ, इ, उ, ऋ, लु, ए, ऐ, ओ, औ) = र्
तृ + भिन्नः स्वरः (अ, इ, उ, ऋ, लु, ए, ऐ, ओ, औ) = ल्

यथा – प्रति + अयः = प्रत्ययः।
परि + आवरणम् = पर्यावरणम्।
सु + आगतम् = स्वागतम्।
पितृ + आज्ञा = पित्राज्ञा।
तृ + आकृतिः = लाकृतिः।

RBSE Class 7 Sanskrit पर्यावरणचेतना अन्य महत्त्वपूर्ण प्रश्नोत्तर

RBSE Class 7 Sanskrit पर्यावरणचेतना वस्तुनिष्ठ प्रश्ना

प्रश्ना 1.
‘पर्यावरणचेतना’ पाठस्य क्रमः अस्ति –
(क) नवमः
(ख) दशमः
(ग) द्वादशः
(घ) त्रयोदशः।
उत्तरम्:
(ग) द्वादशः

प्रश्ना 2.
‘इत्येतानि’ पदस्य सन्धिविच्छेदं भवति –
(क) इति + एतानि
(ख) इत्य + एतानि
(ग) इत्ये + तानि
(घ) इत् + एतानि।
उत्तरम्:
(क) इति + एतानि

प्रश्ना 3.
‘पर्यावरणम्’ इति पदे उपसर्गः अस्ति –
(क) प्र
(ख) आ
(ग) प्रति
(घ) परि।
उत्तरम्:
(घ) परि।

RBSE Solutions for Class 7 Sanskrit Chapter 12 पर्यावरणचेतना

प्रश्ना 4.
वयं तस्य उपायान् अपि ……….।
(क) चिन्तयन्ति
(ख) चिन्तयामः
(ग) चिन्तयसि
(घ) चिन्तयावः।
उत्तरम्:
(ख) चिन्तयामः

कोष्ठकेभ्यः समुचितं पदं चित्वा रिक्त-स्थानानि पूरयत –

  1. पर्यावरणे …….. तत्वानि सन्ति ।(षट्, पञ्च, सप्त)
  2. तेन मानवस्य मनसः ………… विलुप्ता। (शान्तिः, क्रान्तिः, भक्तिः)
  3. अतः अस्माकं ……………. दायित्वमस्ति। (सर्वे, सर्वेषु, सर्वेषां)
  4. जूनमासस्य ………… दिनाङ्के ‘विश्वपर्यावरणदिवसः’ आयोज्यते। (तृतीये, पञ्चमे, दशमे)

उत्तरम्:

  1. पञ्च
  2. शान्तिः
  3. सर्वेषां
  4. पञ्चमे।

RBSE Class 7 Sanskrit पर्यावरणचेतना अतिलघूत्तरात्मक प्रश्ना

एकपदेन उत्तरत –

प्रश्न 1.
जीवमात्रस्य विकासाय कस्य शुद्धिः आवश्यकी वर्तते ?
उत्तरम्:
पर्यावरणस्य।

प्रश्न 2.
समस्ते भूमण्डले प्राकृतिकं किम् समुत्पन्नम् ?
उत्तरम्:
असन्तुलनम्।

प्रश्न 3.
कस्याः अभावेन जीवधारिणः न जीवन्ति ?
उत्तरम्:
वायोः।

RBSE Solutions for Class 7 Sanskrit Chapter 12 पर्यावरणचेतना

प्रश्न 4.
उत्तराखण्डे कस्य नेतृत्वे आलिङ्गनान्दोलनं सञ्चालितम् ?
उत्तरम्:
सुन्दरलालबहुगुणस्य।

RBSE Class 7 Sanskrit पर्यावरणचेतना लघूत्तरात्मक प्रश्ना

पूर्णवाक्येन उत्तरत

प्रश्न 1.
कदा ध्रुवक्षेत्रे हिमगलनेन जलप्रलयः भविष्यति ?
उत्तरम्:
यदा प्रदूषणेन तापवृद्धिः भवेत् तदा ध्रुवक्षेत्रे हिमगलनेन जलप्रलयः भविष्यति।

प्रश्न 2.
कथं पृथिव्याः अन्नफलादीनि प्रदूषितानि जातानि?
उत्तरम्:
कीटनाशकानां वर्धमानेन प्रयोगेण पृथिव्याः अन्नफलादीनि प्रदूषितानि जातानि।

RBSE Solutions for Class 7 Sanskrit Chapter 12 पर्यावरणचेतना

प्रश्न 3.
कथं जलं प्रदूषितं भवति ?
उत्तरम्:
नदीतडागनिर्झरे षु अवशिष्ट वस्तूनाम् आवाञ्छितवस्तूनां च क्षेपणेन जलं प्रदूषितं भवति।

प्रश्न 4.
वयं कान् चिन्तयामः ?
उत्तरम्:
अधुना वयं प्रदूषणनिवारणाय उपायान् चिन्तयामः।

पाठ-परिचय:
पर्यावरण के प्रति ज्ञान और जागरूकता आज के युग की अत्यधिक आवश्यकता है, क्योंकि वर्तमान में ध्वनि, वायु आदि के बढ़ते प्रदूषण से प्रत्येक प्राणी का जीवन संकट में है। प्रस्तुत पाठ में पर्यावरण के हानिकारक तत्त्वों का एवं पर्यावरण की रक्षा के उपायों के बारे में वर्णन किया गया है।

पाठ के कठिन-शब्दार्थ:
RBSE Solutions for Class 7 Sanskrit Chapter 12 पर्यावरणचेतना - 1

पाठ का हिन्दी-अनुवाद एवं पठितावबोधन –

(1) भौतिकपर्यावरणे ……. प्रदूषितं भवत्येव।

हिन्दी-अनुवाद:
भौतिक पर्यावरण में प्रकृति के द्वारा दिया गया प्राणतत्त्व और रक्षा-कवच है। प्रत्येक जीव के विकास के लिए पर्यावरण की शुद्धता आवश्यक है। हमारे चारों ओर जो आवरण है, वह पर्यावरण है। पर्यावरण में पृथ्वी, आकाश, वायु, जल और अग्नि-ये पाँच तत्त्व हैं। इन तत्त्वों के दूषित होने से पर्यावरण प्रदूषित (अशुद्ध) होता ही है।

पठितावबोधनम् –
निर्देश:
उपर्युक्तं गद्यांशं पठित्वा यथानिर्देशं प्रश्नान्
उत्तरत –
प्रश्ना – (क) एकपदेन उत्तरत
(i) कस्य विकासाय पर्यावरणशुद्धिः आवश्यकी वर्तते ?
(ii) भौतिकपर्यावरणे कया प्रदत्तं प्राणतत्त्वं वर्तते ?
(ख) पूर्णवाक्येन उत्तरत
(i) पर्यावरणे कानि पञ्चतत्त्वानि सन्ति ?
(ii) किम् पर्यावरणम् कथ्यते ?
(ग) पर्यावरणम्’ इति पदस्य सन्धिविच्छेदं कुरुत।
(घ) ‘अस्मान् परितः’ इत्यत्र ‘अस्मान्’ पदे का विभक्तिः प्रयुक्ता ?
(ङ) ‘पञ्चतत्त्वानि’ इत्यत्र विशेषणं किम् ?
उत्तरम्:
(क) (i) जीवमात्रस्य। (ii) प्रकृत्या।
(ख) (i) पर्यावरणे पृथिवी, आकाशः, वायुः, जलम्, अग्निः, इत्येतानि पञ्चतत्त्वानि सन्ति।
(ii) अस्मान् परितः यत् आवरणम् तत् पर्यावरणं कथ्यते।
(ग) परि + आवरणम्।
(घ) द्वितीया।
(ङ) पञ्च।

RBSE Solutions for Class 7 Sanskrit Chapter 12 पर्यावरणचेतना

(2) सम्प्रति न केवलं …….. जलप्रलयः भविष्यति।

हिन्दी-अनुवाद:
इस समय न केवल भारत में अपितु सम्पूर्ण भूमण्डल में प्राकृतिक असन्तुलन उत्पन्न हो गया है। इस समय कहीं पर अनावृष्टि (वर्षा का अभाव, अकाल), कहीं पर कम वर्षा और कहीं पर अत्यधिक वर्षा होती है। लोगों की आवश्यकता की पूर्ति के लिए उद्योगों संजीव पास बुक्स का, सड़कों का, बाँधों एवं पुलों का, रेल-मार्गों का और सञ्चार के साधनों का विस्तार आवश्यक है।

इसलिए स्वार्थवश मानव के द्वारा प्रकृति के खजाने से मिट्टी, पत्थर, धातुएँ, लकड़ी आदि को लूट लिया गया है। यदि इसी प्रकार प्रदूषण से ताप में वृद्धि होगी तो ध्रुव क्षेत्र में बर्फ के पिघलने से जल-प्रलय हो जायेगा।

पठितावबोधनम् –
निर्देशः
उपर्युक्तं गद्यांशं पठित्वा यथानिर्देशं प्रश्नान्
उत्तरत –
प्रश्ना – (क) एकपदेन उत्तरत
(i) समस्ते भूमण्डले कीदृशम् असन्तुलनं समुत्पन्नम् ?
(ii) ध्रुवक्षेत्रे हिमगलनेन किम् भविष्यति ?
(ख) पूर्णवाक्येन उत्तरत –
(i) जनानाम् आवश्यकतापूर्तये केषां विस्तारः अपेक्षितः?
(ii) मानवेन प्रकृतिकोषात् कानि परिलुण्ठितानि ?
(ग) ‘समुत्पन्नम्’ इति पदस्य सन्धिविच्छेदं कुरुत।
(घ) ‘अल्पवृष्टिः’ इत्यस्य विलोमपदं किम् ?
(ङ) ‘प्रदूषणेन’ इत्यत्र कः उपसर्गः ?
उत्तरम्:
(क) (i) प्राकृतिकम्। (ii) जलप्रलयः।
(ख) (i) जनानाम् आवश्यकतापूर्तये उद्योगानां, राजमार्गाणां, जलबन्धानां, रेलमार्गाणां सञ्चारसाधनानां च विस्तारः अपेक्षितः।
(ii) मानवेन प्रकृतिकोषात् मृत्तिका-प्रस्तर-धातु-काष्ठादीनि परिलुण्ठितानि।
(ग) सम् + उत्पन्नम्।
(घ) अतिवृष्टिः।
(ङ) प्र।

RBSE Solutions for Class 7 Sanskrit Chapter 12 पर्यावरणचेतना

(3) मुख्यरूपेण भूमि …….. उपायान् अपि चिन्तयामः।

हिन्दी-अनुवाद:
मुख्य रूप से भूमि, जल, वायु और ध्वनि-प्रदूषण चल रहे हैं। वायु कीटाणुओं को इधर-उधर ले जाती है, वायु के बिना जीवधारी जीवित नहीं रह सकते हैं। कीटनाशकों के बढ़ते हुए प्रयोग से पृथ्वी के अन्न, फल आदि प्रदूषित हो गये हैं। महानगरों में वाहनों के निर्बाध (बिना रोक-टोक के) प्रचलन से, ध्वनि-प्रसार के यन्त्रों द्वारा विज्ञापन से और नवीन यंत्रों की आवाज से कानों को फाड़ने वाली आवाज दिन-रात उत्पन्न होती है। उससे मानव के मन की शान्ति समाप्त हो गई है।

लोग अनिद्रा के रोग से पागल के समान हो रहे हैं। नदियों, तालाबों एवं झरनों में अवशिष्ट वस्तुओं (कचरा) और अवांछित (मृत पशु-पक्षी आदि) वस्तुओं के फेंकने से जल प्रदूषित होता है। वाहनों की धुआँ और कारखानों से निकलती हुई हवा वायुमण्डल को अशुद्ध करती है। इसलिए हम सभी का दायित्व है कि जो कुछ भी प्रदूषण को उत्पन्न करने वाले हैं, उनका निवारण करने के लिए प्रयास करें। प्रदूषण नहीं होवे, उस प्रकार के उपाय भी सोचने चाहिए।

पठितावबोधनम् –
निर्देश:
उपर्युक्तं गद्यांशं पठित्वा यथानिर्देशं प्रश्नान्
उत्तरत –
प्रश्ना – (क) एकपदेन उत्तरत
(i) काः कीटाणून् इतस्ततः नयन्ति ?
(ii) जनाः केन विक्षिप्ताः इव सन्ति ?
(ख) पूर्णवाक्येन उत्तरत
(i) केन मानवस्य मनसः शान्तिः विलुप्ताः ?
(ii) किम् वायुमण्डलं दूषयति ?
(ग) ‘कान्यपि’ इति पदस्य सन्धिविच्छेदं कुरुत।
(घ) ‘विलुप्ताः’ इत्यत्र कः उपसर्गः ?
(ङ) ‘पृथिव्याः’ इति पदे का विभक्तिः ?
उत्तरम्:
(क) (i) वायवः। (ii) अनिद्रारोगेण।
(ख) (i) ध्वनिप्रदूषणेन मानवस्य मनसः शान्तिः विलुप्ताः।
(ii) वाहनानां धूमः यन्त्रागारेभ्यः निर्गच्छद् वायुः च वायुमण्डलं दूषयति।
(ग) कानि + अपि।
(घ) वि।
(ङ) षष्ठी।

RBSE Solutions for Class 7 Sanskrit Chapter 12 पर्यावरणचेतना

(4) भारतीयसंस्कृतिः ………….. च सञ्चालयति।

हिन्दी-अनुवाद:
भारतीय संस्कृति पर्यावरण का पोषण करने वाली है। पौधों की रक्षा करना हमारी परम्परा है। पूर्वजों की श्रेष्ठ शिक्षा के कारण ही विक्रम संवत् 1787 में जोधपुर के पास खेजड़ली गाँव में अमृतादेवी के नेतृत्व में शमी वृक्षों की सुरक्षा के लिए सैकड़ों पुरुषों और महिलाओं ने अपने प्राणों की रक्षा की चिन्ता न करके अपने सिर कटवा लिये थे।

संसार में वृक्षों की रक्षा के लिए अपने प्राण देने की यह अद्वितीय घटना है। उत्तराखण्ड में सुन्दरलाल बहुगुणा के नेतृत्व में वृक्षों की रक्षा के लिए ‘चिपको आन्दोलन’ चलाया गया। प्रत्येक वर्ष जून माह की पाँच दिनांक को ‘विश्व पर्यावरण-दिवस’ मनाया जाता है। भारत सरकार पर्यावरण की सुरक्षा के लिए ही ‘स्वच्छ भारत अभियान’ और ‘निर्मल गंगा-योजना’ का संचालन कर रही है।

पठितावबोधनम् –
निर्देश:
उपर्युक्तं गद्यांशं पठित्वा यथानिर्देशं प्रश्नान्
उत्तरत –
प्रश्ना – (क) एकपदेन उत्तरत
(i) भारतीयसंस्कृतिः कस्य सम्पोषिका अस्ति ?
(ii) केषां संरक्षणम् अस्माकं परम्परा वर्तते ?
(ख) पूर्णवाक्येन उत्तरत
(i) ‘विश्वपर्यावरणदिवसः’ कदा आचर्यते ?
(ii) पर्यावरणसंरक्षणाय भारतसर्वकारः किम् सञ्चालयति ?
(ग) ‘रक्षार्थम्’ इति पदस्य सन्धिविच्छेदं कुरुत।
(घ) ‘अकृत्वा’ इति पदे कः प्रत्ययः ?
(ङ) ‘पूर्वजानाम्’ इत्यत्र का विभक्तिः किञ्च वचनम् ?
उत्तरम्:
(क) (i) पर्यावरणस्य। (ii) पादपानाम्।
(ख) (i) ‘विश्वपर्यावरणदिवसः’ प्रत्येकस्मिन् वर्षे जूनमासस्य पञ्चमे दिनाङ्के आचर्यते।
(ii) पर्यावरणसंरक्षणाय भारतसर्वकार : ‘स्वच्छभारताभियानम्’ ‘निर्मलगङ्गायोजनां’ च सञ्चालयति।
(ग) रक्षा + अर्थम्।
(घ) क्त्वा।
(ङ) षष्ठी, बहुवचनम्।

RBSE Solutions for Class 7 Sanskrit Chapter 12 पर्यावरणचेतना

(5) पर्यावरणप्रदूषणस्य ………. न्यूनं कर्तुं शक्यते।

हिन्दी-अनुवाद:
पर्यावरण प्रदूषण को रोकने के लिए लोगों को यहाँ-वहाँ मल-मूत्र का त्याग न करके प्रत्येक घर में शौचालय का निर्माण करना चाहिए। बालक, युवक, किसान और युवतियों को विद्यालयों, बगीचों, खेतों और घर के बगीचों में अधिक से अधिक पेड़ लगाने चाहिए। पेड़ काटने वालों को कठोर दण्ड की व्यवस्था होनी चाहिए। महानगरों के बीच-बीच में गहन हरे-भरे बगीचों के विकास से वायु प्रदूषण को कम कर सकते हैं।

पठितावबोधनम् –
निर्देश:
उपर्युक्तं गद्यांशं पठित्वा यथानिर्देशं प्रश्नान्
उत्तरत –
प्रश्ना – (क) एकपदेन उत्तरत
(i) प्रत्येकस्मिन् गृहे कस्य निर्माणं कर्त्तव्यम् ?
(ii) केषां कृते कठोरदण्डव्यवस्था भवेत् ?
(ख) पूर्णवाक्येन उत्तरत
(i) सर्वे जनाः कुत्र वृक्षारोपणं कुर्युः ?
(ii) केषां विकासेन वायुप्रदूषणं न्यूनं कर्तुं शक्यते ?
(ग) ‘गृहोद्यानेषु’ इति पदस्य सन्धिविच्छेदं कुरुत।
(घ) ‘क्षेत्रेषु’ इत्यत्र का विभक्तिः किञ्च वचनम् ?
(ङ) ‘कर्तुम्’ इत्यत्र कः प्रत्ययः ?
उत्तरम्:
(क) (i) शौचालयस्य। (ii) वृक्षच्छेदकानां कृते।
(ख) (i) सर्वे जनाः विद्यालयेषु, उद्यानेषु, क्षेत्रेषु, गृहोद्यानेषु च वृक्षारोपणं कुर्युः।
(ii) सघनानां हरितानाम् उद्यानानां विकासेन वायुप्रदूषणं न्यूनं कर्तुं शक्यते।
(ग) गृह + उद्यानेषु।।
(घ) सप्तमी, बहुवचनम्।
(ङ) तुमुन्।

Leave a Comment