RBSE Solutions for Class 7 Hindi Chapter 8 चंद्रशेखर आजाद

RBSE Solutions for Class 7 Hindi

Rajasthan Board RBSE Class 7 Hindi Chapter 8 चंद्रशेखर आजाद (जीवनी)

RBSE Class 7 Hindi चंद्रशेखर आजाद पाठ्य-पुस्तक के प्रश्नोत्तर

पाठ से

सोचें और बताएँ –

प्रश्न 1.
क्रान्तिकारियों ने सरकारी खजाना किस उद्देश्य से लूटा था?
उत्तर:
देशभक्त क्रान्तिकारियों को संगठन के लिए धन कहाँ से मिले, यह एक बड़ी समस्या थी। इसी उद्देश्य से उन्होंने सरकारी खजाना लूटा था।

प्रश्न 2.
अंग्रेज क्रान्तिकारियों को पकड़कर किस प्रकार की सजा देते थे?
उत्तर:
अंग्रेज अधिकारी क्रान्तिकारियों को पकड़कर उन्हें क्रूरतापूर्ण एवं कष्टदायक सजा देते थे।

प्रश्न 3.
चन्द्रशेखर को संस्कृत पढ़ने के लिए कहाँ भेजा गया?
उत्तर-चन्द्रशेखर को संस्कृत पढ़ने के लिए काशी भेजा गया था।

RBSE Solutions for Class 7 Hindi Chapter 8 चंद्रशेखर आजाद

लिखें –

RBSE Class 7 Hindi चंद्रशेखर आजाद बहुविकल्पी प्रश्न

प्रश्न 1.
क्रान्तिकारियों में अपने प्राणों की आहुति देने वाले अग्रगण्य थे –
(क) अज्ञेय
(ख) चन्द्रशेखर आजाद
(ग) राजेन्द्र लाहिड़ी
(घ) इनमें से कोई नहीं।
उत्तर:
(ख) चन्द्रशेखर आजाद

प्रश्न  2.
मजिस्ट्रेट ने कचहरी में चन्द्रशेखर से पिता का नाम पूछा तो-चन्द्रशेखर ने अपने पिता का नाम बताया –
(क) पंडित सीताराम
(ख) जगरानी देवी
(ग) स्वाधीनता
(घ) स्वतन्त्रता।
उत्तर:
(ग) स्वाधीनता

RBSE Solutions for Class 7 Hindi Chapter 8 चंद्रशेखर आजाद

रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए –
1. 07 सितम्बर, 1928 ई. को इन लोगों ने …….. को गोलियों से भून डाला।
2. मजिस्ट्रेट ने आज्ञा दी, “इसे ले जाओ और ………. लगाकर छोड़ दो?”
उत्तर:
1. पुलिस सुपरिटेंडेन्ट सैंडर्स
2. पन्द्रह बेंत।

RBSE Class 7 Hindi चंद्रशेखर आजाद अतिलघूत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
आजाद ने धनुष-बाण चलाना किससे सीखा था?
उत्तर:
आजाद ने भीलों से धनुष-बाण चलाना सीखा था।

RBSE Solutions for Class 7 Hindi Chapter 8 चंद्रशेखर आजाद

प्रश्न 2.
जलियांवाला बाग हत्याकाण्ड का आजाद पर क्या प्रभाव पड़ा?
उत्तर:
जलियांवाला बाग हत्याकाण्ड से आजाद की राजनीति में रुचि बढ़ गई और वे ब्रिटिश सरकार के विरुद्ध कुछ कर दिखाने का उपाय सोचने लगे।

RBSE Class 7 Hindi चंद्रशेखर आजाद लघूत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
क्रान्तिकारी दल के सामने क्या समस्या थी?
उत्तर:
क्रान्तिकारी दल के सामने बहुत-सी व्यावहारिक समस्याएँ थीं। सबसे बड़ी समस्या यह थी कि संगठन के लिए धन कहाँ से मिले और कैसे दल का खर्चा चल सके।

प्रश्न 2.
आजाद की किस घटना से नेहरूजी प्रभावित हुए थे?
उत्तर:
आजाद को मजिस्ट्रेट ने पन्द्रह बेंत लगाने की सजा दी थी। उन्हें नंगा करके पीठ पर बेंत का प्रहार किया जाता, जो कि उनकी चमड़ी उधेड़ डालता था। वे प्रत्येक बेंत के प्रहार पर चिल्लाते थे-“महात्मा गाँधी की जय।” नेहरूजी इस घटना से प्रभावित हुए थे।

RBSE Solutions for Class 7 Hindi Chapter 8 चंद्रशेखर आजाद

प्रश्न 3.
काकोरी-षड्यन्त्र के मुकदमे में किस-किस को फाँसी की सजा हुई थी?
उत्तर:
काकोरी-षड्यन्त्र के मुकदमे में रामप्रसाद बिस्मिल, रोशन सिंह, अशफाकउल्ला और राजेन्द्र लाहिडी को फाँसी की सजा हुई थी।

RBSE Class 7 Hindi चंद्रशेखर आजाद दीर्घ उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
कचहरी में मजिस्ट्रेट व आजाद के संवाद को अपने शब्दों में लिखिए।
उत्तर:
ब्रिटिश युवराज एडवर्ड के भारत आने पर उनके बहिष्कार का आन्दोलन चला। उसमें भाग लेने से बालक चन्द्रशेखर को गिरफ्तार किया गया। तब कचहरी में उनसे मजिस्ट्रेट ने पूछा, “तुम्हारा नाम क्या है?” चन्द्रशेखर ने अकड़कर उत्तर दिया, “आजाद।” तुम्हारे पिता का नाम क्या है? बालक ने कहा, “स्वाधीनता।” मजिस्ट्रेट ने पूछा, “तुम्हारा घर कहाँ है?” चन्द्रशेखर ने उत्तर दिया, “जेलखाना।” मजिस्ट्रेट ने आज्ञा दी, “इसे ले जाकर पन्द्रह बेंत लगाकर छोड़ दो।”

RBSE Solutions for Class 7 Hindi Chapter 8 चंद्रशेखर आजाद

प्रश्न 2.
उस घटना का वर्णन कीजिए जिससे बालक चन्द्रशेखर की बहादुरी प्रदर्शित होती है?
उत्तर:
एक बार बालक चन्द्रशेखर रोशनी देने वाली दियासलाई से खेल रहे थे। तब उन्होंने सोचा कि एक सलाई से ही जब इतनी रोशनी होती है, तो सब सलाइयों को एक-साथ जलाने से कितनी अधिक रोशनी होगी। यह काम काफी हिम्मत का था। इस काम के लिए उनका कोई साथी तैयार नहीं हुआ। क्योंकि यह खतरे का काम था। परन्तु चन्द्रशेखर सब सलाइयों को एकसाथ जलाने के लिए तैयार हो गये। उन्होंने ऐसा ही किया। इससे तमाशा तो खूब हुआ, परन्तु उनका हाथ भी इससे जल गया, परन्तु उन्होंने उफ् तक नहीं की। इस घटना से उनकी बहादुरी की चर्चा होने लगी।

भाषा की बात –
प्रश्न 1.
(क) धर्म शब्द में ‘इक’ प्रत्यय जुड़ने पर धार्मिक बनता है। आप भी ऐसे शब्द छाँटकर मूल शब्द व प्रत्यय 1 अलग-अलग लिखिए।
उत्तर:
RBSE Solutions for Class 7 Hindi Chapter 8 चंद्रशेखर आजाद - 1

(ख) ‘इक’ प्रत्यय जुड़ने पर मूल शब्द के आरम्भिक अक्षर में आये परिवर्तन की जानकारी प्राप्त कीजिए।
उत्तर:
जब ‘इक’ प्रत्यय जोड़ा जाता है, तो मूल शब्द के आरम्भिक अक्षर के स्वर-वर्ण में वृद्धि हो जाती है, अर्थात् ‘अ’ का ‘आ’ होता है, ‘इ’ का ‘ऐ’ होता है तथा ‘उ’ का ‘औ’ हो जाता है। जैसे –
(1) समाज + इक = सामाजिक।
(2) नीति + इक = नैतिक।
(3) भूत + इक = भौतिक।

प्रश्न 2.
पाठ में कई विशेषण शब्द आये हैं, उन्हें सूचीबद्ध कीजिए।
उत्तर:
साहसी, लाल, खुश, अच्छा, कम, बहुत, अधिक, वीर, योग्य, भयंकर, वृद्ध आदि।

RBSE Solutions for Class 7 Hindi Chapter 8 चंद्रशेखर आजाद

प्रश्न 3.
इन शब्दों को पढ़िए-संयोग, संविधान। इन दोनों शब्दों में अनुस्वार (-) का प्रयोग हुआ है। वास्तव में ये सम्+योग, सम्+विधान हैं। इन्हें सन्योग, सम्विधान लिखना ठीक नहीं है। य, र, ल, व, श, ष, स, ह इन आठ वर्णों से पूर्व यदि सम् उपसर्ग जुड़ा हो तो ये ‘सं’ द्वारा ही दर्शाए जाते हैं, जैसे-संयोग, संरचना.संसार आदि। इसी नियम को ध्यान में रखकर निम्नलिखित शब्दों को लिखिए।
उत्तर:
सम् + शय = संशय।
सम् + हारक = संहारक।
सम् + स्मरण = संस्मरण।
सम् + शोधन = संशोधन।

पाठ से आगे
प्रश्न 1.
चन्द्रशेखर आजाद’ के जीवन से आपको क्या सीखने को मिला? अपने विचार लिखिए।
उत्तर:
चन्द्रशेखर आजाद’ के जीवन से हमें सर्वप्रथम देशभक्ति एवं मातृभूमि की खातिर त्याग, बलिदान की भावना रखने की शिक्षा मिलती है। चन्द्रशेखर अपनी धुन के पक्के थे, साहसी और आत्मविश्वास से भरे रहते थे। वे साथियों से अच्छी मित्रता भी रखते थे और अपने वचन या प्रतिज्ञा का दृढ़ता से पालन करते थे। प्राणों की या अपने जीवन की कुछ भी परवाह न करके वे जो ठान लेते थे, वह कर दिखाते थे। हमें भी उनके जीवन से अटल निश्चय, निडरता, दृढ़ता, धैर्य, लगन, आत्मविश्वास, वचन-पालन एवं कर्त्तव्यपालन आदि गुणों की शिक्षा मिलती है।

RBSE Solutions for Class 7 Hindi Chapter 8 चंद्रशेखर आजाद

प्रश्न 2.
हमारे देश में आजाद की तरह अन्य कई क्रान्तिकारी हुए हैं, उनकी जानकारी कर सारणी भरिए –
उत्तर:
RBSE Solutions for Class 7 Hindi Chapter 8 चंद्रशेखर आजाद - 2

प्रश्न 3.
“तम मझेखन दो, मैं तम्हें आजादी दूँगा।” यह नारा नेताजी सुभाषचन्द्र बोस ने दिया था। आप भी ऐसे नारे और उन्हें देने वाले महापुरुषों के नाम लिखिए।
उत्तर:
स्वतन्त्रता हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है – लोकमान्य तिलक।
सरदार भगतसिंह – इंकलाब जिन्दाबाद।
जय जवान जय किसान – लालबहादुर शास्त्री।
सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्ताँ हमारा – इकबाल।
नोट – अध्यापक की सहायता से, पुस्तकालय से या संग्रहालय से संकलन करें।

यह भी करें –
प्रश्न – स्वतन्त्रता संग्राम के क्रान्तिकारियों के चित्रों का संग्रह कर मेरा संकलन में लगाएँ।
उत्तर:
स्वयं करें।

RBSE Class 7 Hindi चंद्रशेखर आजाद अन्य महत्त्वपूर्ण प्रश्न

RBSE Class 7 Hindi चंद्रशेखर आजाद वस्तुनिष्ठ प्रश्न

प्रश्न 1.
चन्द्रशेखर काशी से अपने बाबा के पास कहाँ गये?
(क) जयपुर
(ख) अलीपुर स्टेट
(ग) मैसूर स्टेट
(घ) मुजफ्फरपुर।
उत्तर:
(ख) अलीपुर स्टेट

प्रश्न 2.
चन्द्रशेखर जब दस-ग्यारह वर्ष के थे, तब क्या हुआ था?
(क) असेम्बली बम काण्ड
(ख) जलियांवाला हत्याकाण्ड
(ग) काकोरी लूट-काण्ड
(घ) साइमन विरोध-प्रदर्शन।
उत्तर:
(ख) जलियांवाला हत्याकाण्ड

प्रश्न 3.
लाला लाजपतराय की हत्या का बदला लेने का निश्चय किया –
(क) रामप्रसाद बिस्मिल ने
(ख) राजेन्द्र लाहिड़ी ने
(ग) राजगुरु ने
(घ) रोशनसिंह ने।
उत्तर:
(ग) राजगुरु ने

RBSE Solutions for Class 7 Hindi Chapter 8 चंद्रशेखर आजाद

प्रश्न 4.
काशी जाने का किसका विरोध किया गया ?
(क) जनरल डायर का
(ख) सैंडर्स का
(ग) साइमन का
(घ) युवराज एडवर्ड का।
उत्तर:
(घ) युवराज एडवर्ड का।

प्रश्न 5.
चन्द्रशेखर आजाद कब शहीद हुए?
(क) सन् 1931 में
(ख) सन् 1929 में
(ग) सन् 1928 में
(घ) सन् 1925 में।
उत्तर:
(क) सन् 1931 में

रिक्त स्थानों की पूर्ति
प्रश्न 6.
रिक्त स्थानों की पूर्ति कोष्ठक में दिये गये सही शब्दों से कीजिए –
(क) ऐसे क्रान्तिकारियों में चन्द्रशेखर आजाद का नाम …………. है। (अग्रगण्य / स्मरणीय)
(ख) चन्द्रशेखर संस्कृत पढ़ने के लिए ………. भेजे गए। (प्रयाग / काशी)
(ग) यह बालक आजाद के नाम से ………. हो गया। (विख्यात / प्रख्यात)
(घ) अन्तिम गोली उन्होंने ……….. को मार दी। (स्वयं / पुलिस)
उत्तर:
(क) अग्रगण्य
(ख) काशी
(ग) विख्यात
(घ) स्वयं।

RBSE Class 7 Hindi चंद्रशेखर आजाद अतिलघूत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 7.
चन्द्रशेखर आजाद के माता-पिता का क्या नाम था?
उत्तर:
चन्द्रशेखर आजाद के पिता का नाम श्री सीताराम तिवारी और माता का नाम जगरानी देवी था।

प्रश्न 8.
काशी में चन्द्रशेखर किनकी कथाएँ सुनते थे?
उत्तर:
काशी में चन्द्रशेखर कथा बाँचने वालों से रामायण, महाभारत और भागवत की कथाएँ सुनते थे।

प्रश्न 9.
जलियांवाला बाग में किसने गोलियाँ चलवायी थी?
उत्तर:
जलियांवाला बाग में अंग्रेज जनरल डायर ने निहत्थी भीड़ पर गोलियाँ चलवायी थीं।

RBSE Solutions for Class 7 Hindi Chapter 8 चंद्रशेखर आजाद

प्रश्न 10.
क्रान्तिकारियों ने कहाँ पर सरकारी खजाना लूटा था?
उत्तर:
क्रान्तिकारियों ने काकोरी स्टेशन के निकट चलती रेलगाड़ी से सरकारी खजाना लूटा था।

प्रश्न 11.
अंग्रेज सरकार ने सरदार भगतसिंह को कहाँ पर फाँसी दी?
उत्तर:
अंग्रेज सरकार ने सरदार भगतसिंह को लाहौर जेल में फाँसी दी।

प्रश्न 12.
चन्द्रशेखर आजाद कब और कहाँ पर शहीद
उत्तर:
चन्द्रशेखर आजाद इलाहाबाद के अल्फ्रेड पार्क में 27 फरवरी, सन् 1931 को शहीद हुए।

RBSE Class 7 Hindi चंद्रशेखर आजाद लघूत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 13.
बालक चन्द्रशेखर गाँधीजी के किस आन्दोलन में सम्मिलित हुए?
उत्तर:
जलियांवाला बाग की घटना के बाद ब्रिटिश युवराज एडवर्ड भारत की यात्रा पर आ रहा था। उसका काशी आने का कार्यक्रम था। गाँधीजी ने उसकी यात्रा के बहिष्कार का आन्दोलन चलाया। उस आन्दोलन में बालक चन्द्रशेखर भी सम्मिलित हुए। इस तरह वे क्रान्तिकारी बन गये।

प्रश्न 14.
चन्द्रशेखर आजाद आदि ने लाला लाजपतराय की हत्या का बदला कैसे लिया?
उत्तर:
चन्द्रशेखर आजाद आदि ने लाला लाजपतराय की हत्या का बदला लेने के लिए अंग्रेज अधिकारी स्काट या सैंडर्स को मार डालने का निश्चय किया। 7 सितम्बर, 1928 ई. को इन्होंने सैंडर्स को गोलियों से भून डाला, अर्थात् उसे मारकर हत्या का बदला लिया।

RBSE Solutions for Class 7 Hindi Chapter 8 चंद्रशेखर आजाद

प्रश्न 15.
लाला लाजपतराय का प्राणान्त कैसे हुआ था?
उत्तर:
ब्रिटिश सरकार के द्वारा साइमन की अध्यक्षता में एक आयोग भेजा गया था। लाहौर में उसके विरोध में प्रदर्शन किया गया। उसमें लाला लाजपतराय को पुलिस की लाठियों की खतरनाक चोटें आयीं। इन्हीं चोटों के कारण कुछ दिनों तक बिस्तर पर पड़े रहने के बाद उनका प्राणान्त हुआ था।

प्रश्न 16.
रामप्रसाद बिस्मिल और अन्य क्रान्तिकारियों को फाँसी क्यों दी गई?
उत्तर:
क्रान्तिकारी दल को अपने संगठन को चलाने के लिए धन की जरूरत थी। इसके लिए उन्होंने सरकारी खजाना लूटने की योजना बनाई और काकोरी स्टेशन पर रेलगाड़ी से सरकारी खजाना लूट लिया। इस घटना से बिस्मिल आदि गिरफ्तार हुए, उन पर मुकदमा चला और अंग्रेज सरकार ने उन्हें फाँसी दी।

प्रश्न 17.
चन्द्रशेखर आजाद ने क्या प्रतिज्ञा की थी?
उत्तर:
‘काकोरी’ की घटना के बाद जब क्रान्तिकारियों की गिरफ्तारियाँ होने लगीं, तो चन्द्रशेखर आजाद ने प्रतिज्ञा की थी कि उन्हें कोई अंग्रेज अधिकारी जीवित नहीं पकड़ सकेगा। अन्त में उनकी लाश को ही गिरफ्तार किया जा सकेगा। अर्थात् वे जीते-जी ब्रिटिश सरकार द्वारा गिरफ्तार नहीं किये जा सकेंगे।

RBSE Class 7 Hindi चंद्रशेखर आजाद निबन्धात्मक प्रश्न

प्रश्न 18.
चन्द्रशेखर आजाद ने अपनी प्रतिज्ञा अन्त तक कैसे निभायी?
उत्तर:
‘काकोरी-काण्ड’ के बाद अंग्रेज सरकार चन्द्रशेखर आजाद को गिरफ्तार करने का प्रयास करती रही, परन्तु सफल नहीं रही। 27 फरवरी, सन् 1931 को वे इलाहाबाद। के अल्फ्रेड पार्क में थे, तब खुफिया पुलिस ने उन्हें घेर लिया। आजाद ने अपनी पिस्तौल से लगातार गोलियां चलाई। पुलिस अधिकारी नॉट बावर ने आजाद पर गोली चलाई तो आजाद ने भी उस पर गोली चलाई, पूरे एक घण्टे तक पुलिस का सामना किया, लेकिन जब गोलियाँ खत्म होने लगीं, तो आजाद ने अन्तिम गोली स्वयं ही अपने पर मार दी। इस प्रकार वे शहीद हो गये और अपनी प्रतिज्ञा अन्त तक निभाई। उन्हें जीवित गिरफ्तार नहीं किया जा सका।

RBSE Solutions for Class 7 Hindi Chapter 8 चंद्रशेखर आजाद

प्रश्न 19.
चन्द्रशेखर आजाद के जीवन से क्या प्रेरणा मिलती है? बताइये।
उत्तर:
चन्द्रशेखर आजाद ऐसे युवक थे, जिन्हें मातृभूमि से सर्वाधिक प्रेम था। वे छोटी अवस्था में ही क्रान्तिकारी बन गये थे। ब्रिटिश युवराज के भारत आने के विरोध में उन्हें पन्द्रह बेंत की सजा दी गई। वे धैर्य और साहस से बेंतों की मार सहते रहे। काकोरी घटना के बाद अंग्रेज सरकार उन्हें गिरफ्तार नहीं कर सकी। अन्त तक उन्होंने अपनी प्रतिज्ञा निभाई। उनके जीवन से देश-भक्ति, साहस, धैर्य, आत्मबल, दृढ़ता, प्रतिज्ञा-निर्वाह के साथ ही आत्म-बलिदान की प्रेरणा मिलती है। स्वाधीनता के लिए संघर्ष करने तथा देश की खातिर अपना जीवन सहर्ष बलिदान करने की प्रेरणा भी उनसे मिलती है।

प्रश्न 20.
निम्नलिखित गद्यांशों की सप्रसंग व्याख्या कीजिए –
(क) उन्होंने साथियों से कहा कि एक सलाई से जब इतनी रोशनी होती है तो सब सलाइयों को एक-साथ जलाए जाने से न मालूम कितनी रोशनी होगी। सब साथी इस प्रस्ताव पर खुश हुए, पर किसी की हिम्मत नहीं पड़ी कि इतनी सारी सलाइयों को एक-साथ जलाए, क्योंकि रोशनी के साथ सलाई में तेज आँच भी होती है। एक सलाई की आँच झेलना तो कोई बात नहीं थी, पर सब सलाइयों की आँच एक-साथ झेलने का खतरा कौन मोल लेता?

प्रसंग – यह गद्यांश ‘चन्द्रशेखर आजाद’ शीर्षक पाठ से लिया गया है। इसके लेखक मन्मथनाथ गुप्त हैं। इसमें आजाद की बहादुरी की एक घटना का वर्णन किया गया है।
व्याख्या – एक बार बालक चन्द्रशेखर अपने साथियों के साथ रोशनी देने वाली दियासलाई से खेल रहे थे।

RBSE Solutions for Class 7 Hindi Chapter 8 चंद्रशेखर आजाद

उन्होंने अपने साथियों से कहा कि जब एक सलाई से इतनी तेज रोशनी होती है, तो सभी सलाइयाँ एक-साथ जलाने पर कितनी अधिक रोशनी होगी? उनके इस प्रस्ताव पर सब साथी खुश हुए। लेकिन कोई भी ऐसी हिम्मत या बहादुरी नहीं दिखा सका, कोई भी इस काम के लिए तैयार नहीं हुआ। क्योंकि एक-साथ सारी सलाइयाँ जलाने से काफी तेज आँच होगी और उससे हाथ जल जायेगा-ऐसा सोचकर सब उस काम से दूर हो गये। वे सब ऐसा खतरा मोल लेना नहीं चाहते थे। इस कारण वे एकसाथ सारी सलाइयों को जलाने और उनकी आँच झेलने से दूर रहे। परन्तु यह काम बालक चन्द्रशेखर ने कर दिखाया।

(ख) इस घटना के होते ही ब्रिटिश सरकार की ओर से गिरफ्तारियाँ होने लगीं, पर आजाद गिरफ्तार न हो सके। उन्हें पकड़ने के लिए बड़ा इनाम घोषित किया गया। आजाद ने भी ठान लिया था कि मुझे कोई जीवित नहीं पकड़ सकेगा, मेरी लाश को ही गिरफ्तार किया जा सकता है। वे आस-पास के स्थानों में छिपे रहे और गोली चलाने का अभ्यास करते रहे।

प्रसंग – यह अवतरण ‘चन्द्रशेखर आजाद’ शीर्षक पाठ से लिया गया है। इसके लेखक मन्मथनाथ गुप्त हैं। इसमें चन्द्रशेखर आजाद की प्रतिज्ञा का वर्णन किया गया है।
व्याख्या – काकोरी में सरकारी खजाना लूटने के कारण क्रान्तिकारियों को ब्रिटिश सरकार ने गिरफ्तार करने का प्रयास किया।

RBSE Solutions for Class 7 Hindi Chapter 8 चंद्रशेखर आजाद

इसकी वजह से गिरफ्तारियाँ होने लगीं, अर्थात् कई क्रान्तिकारी गिरफ्तार किये गये। परन्तु चन्द्रशेखर आजाद गिरफ्तारी से बचते रहे। उन्हें पकड़ने के लिए अंग्रेज सरकार ने इनाम देने की घोषणा भी की। लेकिन आजाद ने यह दृढ़ प्रण कर लिया था और यह ठान लिया था कि उन्हें कोई भी जीवित नहीं पकड़ सकेगा, वे अन्त तक आजाद ही रहेंगे और उनकी लाश को ही गिरफ्तार किया जा सकेगा। अर्थात् जीते-जी वे अंग्रेज सरकार के चंगुल में नहीं आयेंगे। वे गिरफ्तारी से बचने के लिए आसपास के स्थानों पर छिपे रहे और पिस्तौल से गोली चलाने का लगातार अभ्यास करते रहे।

प्रश्न 21.
निम्नलिखित गद्यांशों को पढ़कर नीचे दिये गये प्रश्नों के उत्तर दीजिए –
(क) उसने बिना कहे-सुने निहत्थी भीड़ पर गोलियाँ चलवाना शुरू कर दिया। कोई एक हजार आदमी मारे |गए और कई हजार घायल हो गए। सारे भारत में क्रोध की लहर दौड़ गई। आजाद ने भी इस दर्दनाक घटना का वर्णन सुना। यद्यपि उनकी अवस्था छोटी ही थी तो भी भारतीय राजनीति में उनकी रुचि जग गई और वे भी अंग्रेजों के विरुद्ध कुछ कर दिखलाने के उपाय सोचने लगे।
प्रश्न – (क) यह गद्यांश किस पाठ से लिया गया है?
(ख) रेखांकित शब्दों के अर्थ लिखिए।
(ग) किसने निहत्थी भीड़ पर गोलियाँ चलवायीं?
(घ) किस घटना से आजाद अंग्रेजों का विरोध करने की सोचने लगे?
उत्तर:
(क) यह गद्यांश ‘चन्द्रशेखर आजाद’ शीर्षक पाठ से लिया गया है।
(ख) निहत्थी = जिनके हाथ में कोई हथियार न हो। दर्दनाक = अत्यन्त दुःख देने वाली।
(ग) अंग्रेज जनरल डायर ने वहाँ पर निहत्थी जनता पर गोलियाँ चलवायीं।
(घ) जलियांवाला बाग की घटना से आजाद अंग्रेजों अर्थात् ब्रिटिश सरकार का विरोध करने की सोचने लगे।

RBSE Solutions for Class 7 Hindi Chapter 8 चंद्रशेखर आजाद

(ख) आजाद जिस स्थान पर शहीद हुए, वहाँ उनकी प्रतिमा स्थापित की गई है। वहाँ जाने वाला हर व्यक्ति उस वीरात्मा को श्रद्धांजलि अर्पित करता है, जिसने अपनी जन्मभूमि की पराधीनता की बेड़ियों को काटने के लिए अपना जीवन सहर्ष बलिदान कर दिया।
प्रश्न –
(क) यह गद्यांश किस पाठ से लिया गया है, इसका लेखक कौन है?
(ख) रेखांकित शब्दों के अर्थ लिखिए।
(ग) चन्द्रशेखर आजाद की प्रतिमा कहाँ पर स्थापित है?
(घ) हर व्यक्ति क्या अर्पित करता है?
उत्तर:
(क) यह गद्यांश ‘चन्द्रशेखर आजाद’ शीर्षक पाठ से लिया गया है तथा इसके लेखक मन्मथनाथ गुप्त हैं।
(ख) प्रतिमा = मूर्ति। अर्पित = सौंपना, भेंट करना।
(ग) चन्द्रशेखर आजाद की प्रतिमा इलाहाबाद के अल्फ्रेड पार्क में वहाँ पर स्थित है, जहाँ पर वे शहीद हुए थे।
(घ) वहाँ मूर्ति पर हर व्यक्ति अपनी ओर से श्रद्धांजलि अर्पित करता है।

RBSE Solutions for Class 7 Hindi Chapter 8 चंद्रशेखर आजाद

पाठ-परिचय:
इस पाठ में मन्मथनाथ गुप्त ने प्रसिद्ध क्रान्तिकारी शहीद चन्द्रशेखर आजाद की जीवनी प्रस्तुत की है। चन्द्रशेखर आजाद ने देश की आजादी के लिए अंग्रेज सरकार का विरोध किया और उसका सामना करते हुए अपने प्राणों का बलिदान कर दिया था। ऐसे देश-भक्त शहीद का सादर स्मरण करना चाहिए।

कठिन-शब्दार्थ:
परतन्त्रता = दूसरों के अधीन रहना, गुलामी। कटिबद्ध = कमर बाँधकर तैयार। आहुति = भेंट, बलिदान। अग्रगण्य = पहले गिना जाने वाला। घनिष्ठता = आपसी मेल-जोल। निरपराध = बिना अपराध वाले। दर्दनाक = बहुत पीड़ा देने वाली। स्वाधीनता = आजादी, स्वतन्त्रता। मजिस्ट्रेट = न्यायाधीश। अहिंसात्मक = हिंसा से रहित, शान्तिपूर्वक। प्राणान्त = मृत्यु। विक्षुब्ध = व्याकुल करने वाला। क्रूरतापूर्ण = निर्दयता से भरा हुआ, दुष्टतापूर्ण। सुपरिन्टेंडेंट = अधीक्षक या अधिकारी। दमन-नीति = कठोरता से दबाने-सताने की नीति। कचहरी = न्यायालय। षड्यन्त्र = साजिश। निस्पन्द = बिना चेतना का, निष्प्राण। प्रतिमा = मूर्ति। बेड़ियाँ = हथकड़ियाँ, जंजीरें।।

Leave a Comment