RBSE Solutions for Class 7 Hindi Chapter 12 वन-श्री

RBSE Solutions for Class 7 Hindi

Rajasthan Board RBSE Class 7 Hindi Chapter 12 वन-श्री (कविता)

RBSE Class 7 Hindi वन-श्री पाठ्य-पुस्तक के प्रश्नोत्तर

पाठ से

उच्चारण के लिए –

प्रश्न – उज्ज्वल, अंधियाली संध्या, वल्लरी।
उत्तर:
इन शब्दों का शुद्ध उच्चारण कीजिए। सोचें और बताएँ –
प्रश्न 1.
गिलहरियों के घर किस पर बने हैं?
उत्तर:
गिलहरियों के घर पेड़ों के कोटरों पर बने हुए हैं।

प्रश्न 2.
संसार कब सुनसान हो जाता है?
उत्तर:
रात होते ही संसार सुनसान हो जाता है।

प्रश्न 3.
जंगल में कौन-सा पक्षी नाचता है?
उत्तर:
जंगल में मोर नाचता है।।

RBSE Solutions for Class 7 Hindi Chapter 12 वन-श्री

लिखें –

प्रश्न – इन वाक्यों को अपनी कॉपी में लिखकर सही वाक्य पर सही (✓) व गलत वाक्य पर गलत (x) का निशान कोष्ठक में लगाएँ –

  1. पक्षी पत्तों से भी घर बनाते हैं।
  2. घर में नींद नहीं आती है।
  3. बेल पेड़ों से लिपट जाती है।
  4. राहगीर झरनों का पानी नहीं पीते हैं।

उत्तर:

  1. (✓)
  2. (x)
  3. (✓)
  4. (x)

प्रश्न – नीचे लिखे आशय की पंक्तियाँ कविता से छाँटकर लिखिए –

  1. चील और चकवे घर की ओर लौट आते हैं।
  2. जहाँ साल के पेड़ उगे हुए हैं।
  3. यह क्रम रोजाना होता है।
  4. बिना प्रयास के नींद आ जाती है।

उत्तर:

  1. चल पड़ते घर को चील कोक अंधियाली संध्या को विलोक।
  2. हैं खड़े जहाँ पर साल।
  3. फिर वही बात रे वही बात।
  4. निद्रा लग जाती अनायास।

RBSE Class 7 Hindi वन-श्री अतिलघूत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
रात भर कौन-सा पक्षी रोता है?
उत्तर:
रातभर चकोर पक्षी रोता है।

प्रश्न 2.
वसुधा का वन्य प्रान्त कैसा है?
उत्तर:
वसुधा का वन्य प्रान्त दूर-दूर तक एकदम सुनसान और शान्त है।

RBSE Class 7 Hindi वन-श्री  लघूत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
पशु-पक्षी घर कब लौट आते हैं?
उत्तर:
जब सूर्यास्त के बाद सन्ध्या का समय आता है और कुछ अंधियारा बढ़ने लगता है, तब सभी पशु-पक्षी अपने-अपने घर लौट आते हैं। अर्थात् रात होने तक सब लौट आते हैं।

RBSE Solutions for Class 7 Hindi Chapter 12 वन-श्री

प्रश्न 2.
चौपाये पश कैसी घास चरते हैं और कहाँ?
उत्तर:
चौपाये पशु कोमल एवं हरी घास चरते हैं। जंगल में जहाँ पर हरे-भरे पेड़ होते हैं, बाँसों के झुरमुटे होते हैं, झरने और नदी के आस-पास के क्षेत्र होते हैं, वहाँ पर वे घास चरते हैं।

RBSE Class 7 Hindi वन-श्री  दीर्घ उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
कविता का मूल भाव अपने शब्दों में लिखिए।
उत्तर:
कविता का मूल भाव वन की शोभा का वर्णन करना है। वन में पेड़ों के कोटरों पर पक्षियों के घोंसले होते हैं। सन्ध्या के बाद अंधेरा बढ़ने पर सब पक्षी एवं सारे पशु अपने-अपने कोटरों या घोंसलों में आ जाते हैं। रात में सब पशु सो जाते हैं, परन्तु चकोर पक्षी रोता रहता है। रात के बाद रोजाना की तरह दिन होता है, मोर नाचते हैं और चौपाये पशु नरम घास चरने लगते हैं। वन में झरने एवं नदी का पानी सुपेय होता है। वहाँ पर बेलें पौधों-पौधों पर लिपट जाती हैं और पथिक एकान्त शान्त स्थान पर विश्राम करते हैं और उन्हें अनायास नींद आ जाती है। इस प्रकार वन की प्राकृतिक शोभा सभी को सुखदायी लगती है।

भाषा की बात –

प्रश्न 1.
प्यारा गोपाल बंशी बजाता है। इस वाक्य में ‘गोपाल’ की विशेषता ‘प्यारा’ शब्द बता रहा है। यहाँ ‘प्यारा’ शब्द विशेषण है व ‘गोपाल’ शब्द विशेष्य। जो शब्द संज्ञा या सर्वनाम की विशेषता बताते हैं, उन्हें विशेषण कहते हैं और जिस शब्द की विशेषता बताई जाए, उसे विशेष्य कहते हैं। विशेषण के चार भेद होते हैं –
(क) गुणवाचक विशेषण – बूढ़ा, हरा, खट्टा, मूर्ख, बीमार, पीला आदि।

(ख) संख्यावाचक विशेषण –

  • निश्चित संख्यावाचक एक दर्जन, पाँच बच्चे आदि।
  • अनिश्चित संख्यावाचक – सैकड़ों रोटियाँ, कुछ लोग, खूब बातें।

RBSE Solutions for Class 7 Hindi Chapter 12 वन-श्री

(ग) परिमाणवाचक विशेषण –

  • निश्चित परिमाणवाचकदो मीटर कपड़ा, पाँच लीटर दूध।
  • अनिश्चित परिमाणवाचक-थोड़ा सा पानी, ढेर सारा घी।

(घ) सार्वनामिक या संकेतवाचक विशेषण- वह लड़का।
उत्तर:
परिभाषा पढ़कर उदाहरणों को समझिये।

पाठ में से विशेषण व विशेष्य शब्दों को छाँटकर सूची बनाएँ।
उत्तर:
RBSE Solutions for Class 7 Hindi Chapter 12 वन-श्री

प्रश्न 2.
श्रीकृष्ण और सुदामा मित्र थे। रेखांकित शब्द श्रीकृष्ण सुदामा शब्दों को जोड़ने के लिए प्रयुक्त हुआ है। ऐसे शब्द जो दो शब्दों, उपवाक्यों और वाक्यों को जोड़ने या अलग करने वाले हों समुच्चयबोधक अव्यय कहलाते हैं; जैसे-इसलिए, क्योंकि, परंतु, या आदि। अब आप उचित समुच्चयबोधक अव्यय का चयन कर वाक्य बनाइए।

(i) किसानों …………. मजदूरों की टूटी-फूटी झोंपड़ियों में ही प्यारा गोपाल बंशी बजाता मिलेगा।
(क) क्योंकि
(ख) और
(ग) इसलिए
(घ) लेकिन
उत्तर:
(ख) और

(ii) मैंने धन एकत्र करना शुरू किया …………… गरीबों की सहायता कर सकूँ।
(क) और
(ख) क्योंकि
(ग) ताकि
(घ) मगर
उत्तर:
(ग) ताकि

RBSE Solutions for Class 7 Hindi Chapter 12 वन-श्री

(iii) वे धनी होते हुए भी निर्धन हैं ………… वे गरीबों का। शोषण करते हैं।
(क) क्योंकि
(ख) तेज
(ग) के बाहर
(घ) धीरे-धीरे
उत्तर:
(क) क्योंकि

प्रश्न 3.
पाठ में कोटर-कोटर, घर-घर पद आए हैं। इस तरह संज्ञा पद दो बार आते हैं तो पूर्व पद का अर्थ ‘प्रत्येक’ होता है। जब संज्ञा पद दो बार आए तथा पूर्व पद का अर्थ ‘प्रत्येक’ होता है तो वहाँ अव्ययीभाव समास होता है। आप भी ऐसे पाँच पद लिखिए। जिस समास में द्वितीय पद प्रधान होता है तथा प्रथम पद अव्यय होता है उसे अव्ययीभाव समास कहते हैं।
उत्तर:

  1. दिन-दिन – प्रतिदिन
  2. पल-पल – प्रतिपल
  3. क्षण-क्षण – प्रतिक्षण
  4. वर्ष-वर्ष – प्रतिवर्ष
  5. एक-एक – प्रत्येक

प्रश्न 4.
नीचे लिखे शब्दों के विपरीत अर्थ वाले शब्द लिखेंनरम, अस्त, अंधियाली, चल।
उत्तर:
नरम – कर्कश अस्त – उदय, अंधियाली – उजियाली, चल – अचल

RBSE Solutions for Class 7 Hindi Chapter 12 वन-श्री

प्रश्न 5.
जैसे पंछी का समानार्थी शब्द है पक्षी, खग और द्विज। इसी तरह घर, सरिता, वसुधा, सूरज, रजनी के तीन-तीन समानार्थी शब्द लिखिए।
उत्तर:

  1. घर – गृह, सदन, निकेतन।
  2. सरिता – नदी, तटिनी, निम्नगा।
  3. वसुधा – भूमि, भू, धरा।
  4. सूरज – सूर्य, रवि, दिवाकर।
  5. रजनी – रात्रि, रात, त्रियामा।

पाठ से आगे –
प्रश्न 1.
जंगल हमारे लिए बहुत उपयोगी हैं, कैसे? अपने विचार लिखिए।
उत्तर:
जंगल और वृक्ष सभी प्राणियों के लिए उपयोगी हैं। इनसे गन्दी गैस या अशुद्ध वायु साफ की जाती है। ये हमें प्राणवायु ऑक्सीजन देते हैं जंगलों में अनेक तरह के पेड़पौधे उगते हैं, इनसे हरियाली फैलती है, जो कि पर्यावरण की रक्षा करती है। जंगलों में अनेक जंगली पशु रहते हैं, उनकी रक्षा होती है।

इनसे पालतू पशुओं को चारा-घास मिलता है। वृक्षों से इमारती लकड़ी मिलती है, ईंधन भी मिलता है। वनों में अनेक लताओं, पौधों से फल, फूल एवं औषधियों के काम आने वाली वस्तुएँ मिलती हैं। इस तरह | वृक्ष एवं जंगल काफी उपयोगी होते हैं।

प्रश्न 2.
पेड़-पौधे रात में अपना भोजन क्यों नहीं बना पाते हैं? कारण लिखिए।
उत्तर:
पेड़-पौधे रात में सूर्य की ऊष्मा नहीं पाते हैं। इस कारण ये रात में कार्बनडाइ-ऑक्साइड ग्रहण करते हैं और ऑक्सीजन छोड़ते हैं। इस तरह ये रात में अपना भोजन नहीं बना पाते हैं।

प्रश्न 3.
जंगल को बचाने के लिए हमें क्या-क्या करना चाहिए? लिखिए।
उत्तर:
जंगल को बचाने के लिए हमें यह करना चाहिए –

  1. वृक्षों एवं पौधों का रोपण करना चाहिए।
  2. पेड़-पौधों को नहीं काटना चाहिए।
  3. जंगलों में अवैध ढंग से खनन नहीं करना चाहिए।
  4. जंगलों में आग नहीं लगानी चाहिए।
  5. वृक्षावली और वनावली की रक्षा करनी चाहिए।

यह भी करें –

प्रश्न 1.
अपनी कल्पना से जंगल का चित्र बनाएँ।
उत्तर:
शिक्षक की सहायता से स्वयं चित्र बनाएँ।

RBSE Solutions for Class 7 Hindi Chapter 12 वन-श्री

प्रश्न 2.
‘वृक्षारोपण’ विषय पर बालसभा में अपने विचार प्रकट कीजिये।
उत्तर:
बालसभा में आप ये विचार प्रकट करें –

  1. वृक्षों को सही ढंग से रोपें।
  2. अनेक जाति के वृक्ष अलगअलग रोपें।
  3. पौधों की सिंचाई का ध्यान रखें।
  4. हानिकारक पौधों की छंटाई करें।
  5. फलदार एवं इमारती लकड़ी वाले वृक्षों को अधिक रोपें। इत्यादि।

यह भी जानें –

प्रश्न 1.
पाठ में जंगल में पाए जाने वाले साल, बाँस, वनस्पतियों के नाम आए हैं। वन में और कौन-कौनसी वनस्पतियाँ उगती हैं? सूची बनाएँ।
इनमें से हमारे लिए स्वास्थ्यवर्धक औषधीय पौधे कौन-कौनसे हैं? अपने से बड़ों को पूछकर सूची बनाएँ; ये कौनकौनसी बीमारियों में कैसे उपयोग में ली जाती हैं? यहाँ नीम का उपयोग उदाहरण के रूप में दिया जा रहा है।

बीमारी का नाम – उपयोग का तरीका
चर्मरोग – पत्तियों को उबालकर उस पानी से स्नान करना।
फोड़े-फुसी – इसकी छाल को पत्थर पर घिसकर लेप करना।
शीत-पित्ती – निम्बोली की मीजी को पीसकर गाय के घी के साथ सेवन करने से शीत पित्ती (दापड़) शान्त हो जाते हैं।
उत्तर:
वन में वनस्पतियाँ – कैर, अखरोट, कदम्ब, शीशम, चीड़, नीम, खदिर, पलाश, ढाक, जामुन, बेर, देवदारु, शिरीष, जामुन, सेमल, बबूल, आँवला, कटहल, कुटज, बाँझ, बेल आदि।
स्वास्थ्यवर्धक पौधे – शतावरी, घृतकुमारी, खदिर, बेल, जामुन, ढाक, आँवला, अखरोट आदि।
सूची बनाएँ – शिक्षक के सहयोग से स्वयं बनायें।

RBSE Solutions for Class 7 Hindi Chapter 12 वन-श्री

आप द्वारा बनायी गयी सूची में कौन-कौन से पौधे अपने आँगन / गमले में लगाना चाहेंगे?
उत्तर:
नीम, आँवला, शतावरी, घृतकुमारी, बेल, जामुन आदि।

RBSE Class 7 Hindi वन-श्री अन्य महत्त्वपूर्ण प्रश्न

RBSE Class 7 Hindi वन-श्री  वस्तुनिष्ठ प्रश्न

प्रश्न 1.
‘वनश्री’ कविता के रचयिता कवि हैं –
(क) जयशंकर प्रसाद
(ख) तुलसीदास
(ग) भवानीप्रसाद मिश्र
(घ) गोपालसिंह ‘नेपाली’
उत्तर:
(घ) गोपालसिंह ‘नेपाली’

प्रश्न 2.
पशु-पक्षियों की रात किससे कटती है?
(क) जागते रहने से
(ख) नींद लेने से
(ग) चहचहाने से
(घ) भूख-यास से
उत्तर:
(ख) नींद लेने से

RBSE Solutions for Class 7 Hindi Chapter 12 वन-श्री

प्रश्न 3.
‘वसुधा का यह वन्य प्रान्त’ इसमें ‘वन्य प्रान्त’ का आशय क्या है?
(क) वन का एक कोना
(ख) वन की भीतरी सीमा
(ग) वन का क्षेत्र
(घ) वन की हरियाली
उत्तर:
(ग) वन का क्षेत्र

प्रश्न 4.
जंगल में कौन नाचा करते हैं?
(क) चकोर
(ख) खरगोश
(ग) मोर
(घ) चील
उत्तर:
(ग) मोर

प्रश्न 5.
रात में चकोर किसे न देखकर रोता है?
(क) मोरनी को
(ख) चकोरी को
(ग) चाँदनी को
(घ) रजनी को।
उत्तर:
(ख) चकोरी को

रिक्त स्थानों की पूर्ति –

प्रश्न 6.
निम्न रिक्त स्थानों की पूर्ति कोष्ठक में दिये गये सही शब्दों से कीजिए –
(क) सन्ध्या को जब ……….. जाता ढल। (सूर्य / दिन)
(ख) इस वसुधा का यह ………….. प्रान्त। (वन्य / घना)
(ग) है जहाँ ………. का बन्धन। (पेड़ / वल्लरी)
(घ) घर-घर में आती ……….. उतर। (शीत / नींद)
उत्तर:
(क) दिन
(ख) वन्य
(ग) वल्लरी
(घ) नींद।

RBSE Class 7 Hindi वन-श्री  अतिलघूत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 7.
पेड़ के कोटर कब और किससे भर जाते हैं?
उत्तर:
सन्ध्या होते ही पेड़ के कोटर पक्षियों एवं गिलहरियों से भर जाते हैं।

प्रश्न 8.
रात कैसे कट जाती है?
उत्तर:
रात आराम से और चुपचाप नींद में पड़े रहने से कट जाती है।

RBSE Solutions for Class 7 Hindi Chapter 12 वन-श्री

प्रश्न 9.
पथिकों की प्यास कहाँ और कैसे बुझ जाती है?
उत्तर:
पथिकों की प्यास वनों में बहने वाले झरनों एवं नदियों का पानी पीने से बुझ जाती है।

प्रश्न 10.
सूर्य किन्हें समेट कर कहाँ जाता है?
उत्तर:
सूर्य अपनी उज्ज्वल किरणों को समेट कर अस्ताचल की ओर जाता है।

प्रश्न 11.
‘बन्धन क्या, वह तो आलिंगन’-कवि ने किसे आलिंगन कहा है?
उत्तर:
वन में बेलें व लताएँ अन्य पौधों एवं वृक्षों पर लिपट जाती हैं। कवि ने उसी को आलिंगन कहा है।

RBSE Class 7 Hindi वन-श्री  लघूत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 12.
वन में रात को कोटरों का दृश्य कैसा रहता है?
उत्तर:
वन में अनेक वृक्षों के तनों पर कोटर होते हैं। उन कोटरों में कई पक्षी रहते हैं, गिलहरियाँ एवं छोटे जीव भी रहते हैं। वे कोटर उनके घर जैसे होते हैं। रात में जब हरेक कोटर में कोई पक्षी सोता रहता है, नींद में करवटें बदलता है, तब वह दृश्य बहुत ही सुन्दर लगता है। ऐसे दृश्यों को बार-बार देखने का मन करता है

प्रश्न 13.
‘वनश्री’ कविता में चकोर और मोर के स्वभाव में क्या अन्तर बताया गया है?
उत्तर:
‘वनश्री’ कविता में बताया गया है कि चकोर रात भर रोता रहता है। वह रो-रोकर रात में जागता रहता है। मोर रात में सो जाता है, परन्तु सुबह हो जाने पर नाचने लगता है, अपनी सुरीली आवाज करता है। यही दोनों के स्वभाव में अन्तर बताया गया है।

RBSE Class 7 Hindi वन-श्री निबन्धात्मक प्रश्न

प्रश्न 14.
वनश्री’ कविता का भावार्थ सार रूप में लिखिए।
उत्तर:
‘वनश्री’ कविता में कवि ने वन की शोभा का वर्णन क्रिया है। इसका सार यह है – सूर्यास्त होने पर सभी पक्षी साप पात पुनरा एवं पशु अपने-अपने घोंसलों में आ जाते हैं। कोटरों में सारे पक्षी एवं गिलहरियाँ रात में सो जाते हैं। रात में चकोर पक्षी रोता रहता है। सुबह होने पर मोर नाचने लगता है।

चौपाया पशु हरी व कोमल घास चरने लगते हैं। वन में झरनों एवं नदियों का पानी स्वच्छ रहता है। उसे पथिक पीते हैं और अपनी प्यास बुझाकर विश्राम भी करते हैं । वनों में बेलों एवं लताओं से पेड़-पौधे लिपटे रहते हैं, जो कि बहुत ही सुन्दर लगते हैं। रात में तथा प्रात:काल वन की शोभा निराली लगती है।

पाठ-परिचय:
‘वनश्री’ कविता के रचयिता गोपालसिंह ‘नेपाली’ हैं। इस कविता में वन की प्राकृतिक शोभा का वर्णन किया गया है। वहाँ के पेड़-पौधों, नदी-नालों एवं पशुओं को सुन्दर बताया गया है।

RBSE Solutions for Class 7 Hindi Chapter 12 वन-श्री

सप्रसंग व्याख्याएँ –
1. जितने भी हैं ……….. कोटर-कोटर।

कठिन-शब्दार्थ:
कोटर वृक्ष के तने का खोखला भाग। अस्ताचल = अस्त की दिशा। कर = हाथ। कोक = चकवा पक्षी, एक विशेष पक्षी। पंछी = पक्षी। लोक = संसार। विलोक = देखकर।

प्रसंग – यह पद्यांश वनश्री’ शीर्षक पाठ से लिया गया है। इस कविता के रचयिता गोपालसिंह ‘नेपाली’ हैं। इसमें वन की शोभा का वर्णन किया गया है।
व्याख्या – कवि वर्णन करते हुए कहता है कि इन वन में जितने भी पेड़ों के कोटर (खोखले तने वाले भाग) हैं, उनमें सब पक्षी एवं गिलहरियाँ रहती हैं। ये सब उनके घर हैं।

शाम के समय जब दिन ढल जाता है और सूर्य अस्त की दिशा में जाते हुए अपनी स्वच्छ-श्वेत किरणों को समेटता है और सारा जगत जब सुनसान हो जाता है, तब सब पक्षी अपने-अपने घर अर्थात् घोंसलों की ओर चल पड़ते हैं। सन्ध्याकाल का कुछ धुंधलका देखकर चील, चकवा आदि सब पक्षी अपने-अपने घोंसलों पर आते हैं और तब सब कोटर उनसे भर जाते हैं।

RBSE Solutions for Class 7 Hindi Chapter 12 वन-श्री

2. बस जाते हैं ……….. नरम घास।
कठिन-शब्दार्थ:
निद्रा = नींद। वसुधा = धरती। वन्य प्रान्त = जंगल का क्षेत्र, जंगल

प्रसंग – यह पद्यांश ‘वनश्री’ पाठ से लिया गया है। इसके रचयिता गोपालसिंह ‘नेपाली’ हैं। इसमें वन की शोभा, प्रकृति की सुन्दरता एवं शान्त वातावरण का वर्णन किया गया है।
व्याख्या – कवि वर्णन करते हुए बतलाता है कि वन में झरने और नदी के आस-पास सारी रात चकोर पक्षी रोता रहता है और रोज रो-रोकर वह सुबह कर देता है, अर्थात् सारी रात से सुबह होने तक रोता रहता है। वन में मोर नाचते रहते हैं, वहाँ बेलों का बन्धन होता है, वह बन्धन क्या है, सचमुच में वह परस्पर लिपट जाने की स्थिति है।

वह बेलोंपौधों का आपस में लिपटना थोड़ी देर का नहीं बल्कि लम्बे समय का होता है। उस वन-क्षेत्र में राहगीरों की प्यास बुझती है और बिना प्रयास से अर्थात् अचानक नींद भी आ जाती है। इस तरह वन में नींद का निवास है। भाव यह है कि वन का वातावरण पूरी तरह शान्त रहता है, वहाँ पर सभी को सुख-शान्ति मिलती है।

Leave a Comment