RBSE Solutions for Class 6 Social Science Chapter 5 मानचित्र

Rajasthan Board RBSE Class 6 Social Science Solutions Chapter 5 मानचित्र

RBSE Solutions for Class 6 Social Science

RBSE Solutions for Class 6 Social Science Chapter 5 मानचित्र

RBSE Class 6 Social Science मानचित्र Text Book Questions and Answers

पाठ्यपुस्तक के प्रश्न

प्रश्न 1.
सही विकल्प को चुनिये –
(i) दिशासूचक यंत्र की सुई हमेशा दर्शाती है।
(क) दक्षिण दिशा
(ख) उत्तर दिशा
(ग) पूर्व दिशा
(घ) पश्चिम दिशा।
उत्तर:
(ख) उत्तर दिशा

(ii) वास्को डी गामा ने किस देश तक आने के लिए समुद्री मार्ग की खोज की ……………….
(क) भारत
(ख) अमेरिका
(ग) श्रीलंका
(घ) इटली।
उत्तर:
(क) भारत

RBSE Solutions for Class 6 Social Science Chapter 5 मानचित्र

प्रश्न 2.
रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए –

  1. ग्लोब ……………… का प्रतिरूप है।
  2. वास्को डी गामा भारत के ……………… राज्य के कालीकट सन् 1498 में पहुंचे थे।
  3. यूरोप में 16वीं सदी में ……………… मशीन का आविष्कार हुआ।
  4. भूसम्पत्ति मानचित्र साधारणत ……………… के पास होते हैं।

उत्तर:

  1. पृथ्वी
  2. केरल
  3. प्रिंटिंग
  4. पटवारी

प्रश्न 3.
ग्लोब और मानचित्र में क्या अन्तर है?
उत्तर:

  1. ग्लोब त्रिआयामी चित्रण है और मानचित्र द्विआयामी चित्रण है। ग्लोब पृथ्वी का प्रतिरूप है, लेकिन मानचित्र पृथ्वी का प्रतिरूप नहीं है।
  2. ग्लोब पर विषुवत् रेखा से ध्रुवों की तरफ बढ़ने पर अक्षांश रेखाओं की लम्बाई कम होती जाती है, लेकिन मानचित्रों में उसी अनुपात में अक्षांश रेखाओं की लम्बाई में कमी नहीं दर्शायी जाती है।
  3. ग्लोब पर ध्रुव एक बिन्दु के समान होता है किन्तु अधिकतर मानचित्रों में ध्रुवों को एक सीधी रेखा के द्वारा प्रदर्शित किया जाता है।

RBSE Solutions for Class 6 Social Science Chapter 5 मानचित्र

प्रश्न 4.
मानचित्र कितने प्रकार के होते हैं? उनमें से किसी दो के बारे में बताइये।
उत्तर:
मुख्य रूप से मानचित्र चार प्रकार के होते हैं, जैसे –

  1. भौतिक मानचित्र
  2. राजनैतिक मानचित्र
  3. विषयक मानचित्र
  4. भूसम्पत्ति मानचित्र

1. भौतिक मानचित्र – पृथ्वी की प्राकृतिक आकृतियों, जैसे – पर्वतों, पठारों, मैदानों, नदियों, महासागरों आदि को दर्शाने वाले मानचित्रों को भौतिक मानचित्र कहते हैं। ये मानचित्र हमें पृथ्वी या किसी भू-भाग के भौतिक स्वरूप की जानकारी देते हैं।

2. राजनैतिक मानचित्र – देश, राज्य, नगर, शहर तथा गाँव और विश्व के विभिन्न देशों व राज्यों की सीमाओं को दर्शाने वाले मानचित्रों को राजनैतिक मानचित्र कहते हैं।

प्रश्न 5.
रेखाचित्र, खाका और मानचित्र में क्या अन्तर है और उनके उपयोग क्या हैं? लिखिए।
उत्तर:
RBSE Solutions for Class 6 Social Science Chapter 5 मानचित्र

प्रश्न 6.
ग्लोब की तुलना में मानचित्रों का उपयोग अधिक क्यों किया जाता है? समझाइए।
उत्तर:

  1. ग्लोब की तुलना में मानचित्रों को बनाना आसान है।
  2. मानचित्रों को एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले जाना आसान है। जबकि ग्लोब को एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले जाने में परेशानी होती है।
  3. मानचित्र में छोटे स्थानों व गाँवों को भी दर्शाया जा सकता है। जबकि ग्लोब में इन्हें दर्शाना कठिन है। इन कारणों से दैनिक जीवन में
  4. मानचित्रों का उपयोग ग्लोब की अपेक्षा अधिक होता है।

RBSE Solutions for Class 6 Social Science Chapter 5 मानचित्र

प्रश्न 7.
पैमाना किसे कहते हैं? एक उदाहरण देकर समझाइये।
उत्तर:
मानचित्र पर दो स्थानों के बीच की दूरी तथा उन्हीं दो स्थानों के मध्य धरातल पर वास्तविक दूरी के अनुपात को पैमाना कहते हैं। उदाहरण – यदि धरातल पर दो स्थानों के मध्य की दूरी 10 (किलोमीटर है और मानचित्र पर इसे 1 से.मी. में दर्शाया गया है तो इस मानचित्र का पैमाना 1 से.मी. = 10 किलोमीटर होगा।

प्रश्न 8.
मानचित्रों की प्रमुख विशेषताएँ बताइए।
उत्तर:
मानचित्रों की विशेषताएँ मानचित्र की प्रमुख विशेषताएँ निम्नलिखित हैं –
1. दूरी का पता लगाना – दो स्थानों के मध्य दूरी का पता लगाना मानचित्रों की एक महत्त्वपूर्ण विशेषता होती है। इस विशेषता हेतु मानचित्र बनाते समय पैमाने का उपयोग किया जाता है। पैमाना मानचित्र पर दो स्थानों के मध्य दूरी तथा उन्हीं दोनों स्थानों के मध्य वास्तविक दूरी का अनुपात होता है।

2. दिशा ज्ञात करना – मानचित्र की एक अन्य विशेषता दिशा ज्ञात करना भी है। मानचित्र पर उत्तर दिशा एक तीर के द्वारा तथा N लिखकर इंगित की जाती है। तीर का ऊपरी सिरा उत्तर दिशा को तथा उसका विपरीत सिरा दक्षिण दिशा को इंगित करता है। जब मानचित्र पर उत्तर दिशा इंगित नहीं की गई हो तो ऐसी स्थिति में मानचित्र के सबसे ऊपरी भाग को उत्तर दिशा माना जाता है।

3. रूढ़ चिह्नों व प्रतीक चिह्नों का प्रयोग – मानचित्र में भू-भाग की विभिन्न विशेषताओं को रूढ़ चिह्नों या प्रतीक चिह्नों के माध्यम से दर्शाया जाता है। इस प्रकार मानचित्र इनके माध्यम से कम स्थान में अधिक जानकारी प्रदान करते

4. रंगों का प्रयोग – विभिन्न रंगों का प्रयोग करके पृथ्वी| के विभिन्न भूभागों को मानचित्र पर दर्शाया जाता है। सामान्यतया नदी, नाले, समुद्र आदि जलाशयों को नीले रंग, पर्वतों को भूरे रंग, पठारों को पीले रंग और मैदानों को हरे रंग में दिखाया जाता है।

5. छोटे आकार में प्रदर्शन-मानचित्र द्वारा हम पृथ्वी के एक भाग को छोटे आकार में प्रदर्शित करते हैं, जिसके निर्माण हेतु हम पैमाने का उपयोग करते हैं।

6. अन्य विशेषता – मानचित्र में दूरी, दिशा, आकार व आकृति को समतल सतह पर प्रदर्शित किया जा सकता है।

RBSE Class 6 Social Science मानचित्र Important Questions and Answers

वस्तुनिष्ठ प्रश्न

Question 1.
यदि मानचित्र का पैमाना 1 सेमी. = 10 किमी. है और इसमें दो स्थानों की दूरी 4 सेमी. दर्शायी गई हो तो इन दो स्थानों की वास्तविक दूरी होगी ………………
(अ) 10 किमी.
(ब) 20 किमी.
(स) 40 किमी.
(द) 25 किमी.
उत्तर:
(स) 40 किमी.

RBSE Solutions for Class 6 Social Science Chapter 5 मानचित्र

Question 2.
देश, राज्य, नगर, गाँव, राज्यों व देशों की सीमाओं को दर्शाने वाले मानचित्र को कहते हैं ………………
(अ) भौतिक मानचित्र
(ब) राजनैतिक मानचित्र
(स) थिमैटिक मानचित्र
(द) आर्थिक मानचित्र।
उत्तर:
(ब) राजनैतिक मानचित्र

Question 3.
मानचित्र में पुलिस स्टेशन का प्रतीक चिन्ह है ………………
(अ) PO
(ब) PTO
(स) PS
(द) PSS
उत्तर:
(स) PS

RBSE Solutions for Class 6 Social Science Chapter 5 मानचित्र

Question 4.
किसी को अपने घर का पता समझाने के लिए जब हम कच्चे चित्र में कुछ मुख्य स्थानों को दर्शाते हैं, तो उस चित्र को कहते हैं –
(अ) मानचित्र
(ब) रेखाचित्र
(स) खाका
(द) ग्लोब
उत्तर:
(ब) रेखाचित्र

Question 5.
नई दुनिया (अमेरिका) की खोज कोलम्बस ने किस वर्ष की थी?
(अ) 1462 में
(ब) 1492 में
(स) 1498 में
(द) 1503 में
उत्तर:
(ब) 1492 में

रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए

  1. ……………….. मानचित्र साधारणतः पटवारी के पास होते (कैडेस्ट्रल/थिमैटिक)
  2. मानचित्र बनाने की कला का विकास सर्वप्रथम प्राचीन ……………….. भूगोलवेत्ताओं ने किया। (यूनानी/भारतीय)
  3. जो मानचित्र किसी वस्तु विशेष की जानकारी प्रदान करते हैं, उन्हें ……………….. मानचित्र कहते हैं। (थिमैटिक/कैडेस्ट्रल)
  4. पृथ्वी की प्राकृतिक आकृतियों को दर्शाने वाले मानचित्रों को ……………….. कहते हैं। (भौतिक मानचित्र/राजनैतिक मानचित्र)
  5. मानचित्र पर उत्तर दिशा एक तीर के द्वारा तथा ……………….. इंगित की. जाती है। (N लिखकर/S लिखकर)

उत्तर:

  1. कैडेस्ट्रल
  2. यूनानी
  3. थिमैटिक
  4. भौतिक मानचित्र
  5. N लिखकर

निम्नलिखित को सुमेलित कीजिए

RBSE Solutions for Class 6 Social Science Chapter 5 मानचित्र
उत्तर:
1. (iii)
2. (iv)
3. (i)
4. (ii)

अतिलघूत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
मानचित्र क्या है?
उत्तर
मानचित्र पृथ्वी या उसके एक भाग का द्विआयामी चित्रण है।

RBSE Solutions for Class 6 Social Science Chapter 5 मानचित्र

प्रश्न 2.
पृथ्वी की प्राकृतिक आकृतियों को दर्शाने वाले मानचित्र को क्या कहते हैं?
उत्तर:
भौतिक मानचित्र।

प्रश्न 3.
विश्व की विभिन्न देशों व राज्यों की सीमाओं को दर्शाने वाले मानचित्र को क्या कहते हैं?
उत्तर:
राजनैतिक मानचित्र।

प्रश्न 4.
जो मानचित्र किसी वस्तु विशेष की जानकारी प्रदान करते हैं, उसे क्या कहते हैं?
उत्तर:
थिमैटिक मानचित्र

RBSE Solutions for Class 6 Social Science Chapter 5 मानचित्र

प्रश्न 5.
मानचित्र की दो विशेषताएँ लिखिये।
उत्तर:

  1. दो स्थानों के मध्य दूरी का पता लगाना।
  2. दिशा ज्ञात करना।

प्रश्न 6.
मानचित्र में प्रायः कौनसी दिशा, किस प्रकार इंगित की जाती है?
उत्तर:
उत्तर दिशा एक तीर के द्वारा तथा N लिखकर इंगित की जाती है।

प्रश्न 7.
जब मानचित्र पर उत्तर दिशा इंगित नहीं की गई हो ऐसी स्थिति में मानचित्र के किस भाग को उत्तर दिशा माना जाता है?
उत्तर:
ऊपरी भाग को उत्तर दिशा माना जाता है।

RBSE Solutions for Class 6 Social Science Chapter 5 मानचित्र

प्रश्न 8.
भू-भाग की विभिन्न विशेषताओं को मानचित्र में दर्शाने हेतु किनका प्रयोग किया जाता है?
उत्तर:
विभिन्न रूढ़ या प्रतीक चिह्नों का।

प्रश्न 9.
सामान्यतः नदी, नाले, समुद्र आदि जलाशयों को मानचित्र में किस रंग का दिखाया जाता है?
उत्तर:
नीले रंग का।

प्रश्न 10.
मानचित्र के कोई दो महत्त्व बताइए।
उत्तर:

  1. मानचित्र को एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाना आसान है।
  2. मानचित्र से दूरी, स्थिति, दिशा व वितरण का सही ज्ञान प्राप्त होता है।

लघूत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
भौतिक मानचित्र किसे कहते हैं?
उत्तर:
पृथ्वी की प्राकृतिक आकृतियों, जैसे पर्वतों, पठारों, मैदानों, नदियों, महासागरों आदि को दर्शाने वाले मानचित्रों को भौतिक मानचित्र कहते हैं। ये पृथ्वी या किसी भू-भाग के भौतिक स्वरूप की जानकारी देते हैं।

प्रश्न 2.
राजनैतिक मानचित्र को स्पष्ट कीजिये।
उत्तर:
देश, राज्य, नगर, शहर तथा गाँव और विभिन्न देशों व राज्यों की सीमाओं को दर्शाने वाले मानचित्रों को राजनैतिक मानचित्र कहते हैं।

RBSE Solutions for Class 6 Social Science Chapter 5 मानचित्र

प्रश्न 3.
थिमैटिक (विषयक) मानचित्र किसे कहते हैं?
उत्तर:
जो मानचित्र किसी वस्तु विशेष की जानकारी प्रदान करते हैं, उन्हें थिमैटिक मानचित्र कहते हैं। जैसे—परिवहन, ताप, वर्षण, वन, उद्योग, जनसंख्या आदि के वितरण को दर्शाने वाले मानचित्र।

प्रश्न 4.
मानचित्र की क्या विशेषता होती है?
उत्तर:
मानचित्र की यह विशेषता होती है कि उसमें दूरी, दिशा, आकार व आकृति को समतल सतह पर यथासंभव प्रदर्शित किया जा सकता है। इसके लिए इसमें पैमाना, N लिखकर उत्तर दिशा की इंगति, रूढ़ चिह्नों तथा रंगों का प्रयोग किया जाता है।

प्रश्न 5.
मानचित्र में दूरी को किस प्रकार प्रदर्शित किया जाता है?
उत्तर:
दो स्थानों के मध्य दूरी को दर्शाना मानचित्रों की एक महत्त्वपूर्ण विशेषता होती है। मानचित्र में दूरी को प्रदर्शित करने के लिए पैमाने का उपयोग किया जाता है। पैमाना, मानचित्र पर दो स्थानों के मध्य दूरी तथा उन्हीं दोनों स्थानों के मध्य वास्तविक दूरी का अनुपात होता है।

RBSE Solutions for Class 6 Social Science Chapter 5 मानचित्र

प्रश्न 6.
मानचित्र में दिशा कैसे ज्ञात की जा सकती है?
उत्तर:
मानचित्र पर उत्तर दिशा एक तीर के द्वारा तथा N लिखकर इंगित की जाती है। तीर का ऊपरी सिरा उत्तर दिशा को तथा इसका विपरीत सिरा दक्षिण दिशा को इंगित करता है। जब मानचित्र में उत्तर दिशा इंगित नहीं की गई हो तो ऐसी स्थिति में मानचित्र के ऊपरी भाग को उत्तर दिशा माना जाता है। इस प्रकार W\(\frac { N }{ S }\)E सूत्र के माध्यम से मानचित्र में दिशा ज्ञात की जा सकती है।

प्रश्न 7.
मानचित्र में रूढ़ चिह्नों या प्रतीकों की क्या उपयोगिता है?
उत्तर:
रूढ़ चिह्न या प्रतीक चिह्न-मानचित्र में भू-भाग की विभिन्न विशेषताओं को दर्शाने के लिए विभिन्न रूढ़ चिह्नों या प्रतीक चिह्नों का प्रयोग किया जाता है। ये कम स्थान में अधिक जानकारी प्रदान करते हैं अन्तर्राष्ट्रीय अनुबंध के आधार पर सभी देशों में एक समान प्रतीक चिह्नों का उपयोग होता है। इनके माध्यम से हम किसी भी देश के मानचित्र का अध्ययन कर सकते हैं।

प्रश्न 8.
मानचित्र में रंगों की क्या भूमिका है?
उत्तर:
विभिन्न रंगों का प्रयोग करके पृथ्वी के विभिन्न भू-भागों को मानचित्र पर दर्शाया जाता है। सामान्यतः नदी, नाले, समुद्र आदि जलाशयों को नीले रंग से, भूरे रंग से पर्वतों, पीले रंग से पठारों और हरे रंग से मैदानों को दर्शाया जाता है।

RBSE Solutions for Class 6 Social Science Chapter 5 मानचित्र

प्रश्न 9.
रेखाचित्र से क्या आशय है?
उत्तर:
ऐसा कच्चा चित्र जिसमें कुछ मुख्य स्थानों को दर्शाते हैं, रेखाचित्र कहते हैं। यह पैमाने के आधार पर नहीं बनाया जाता। इसलिए इसमें दूरियाँ व दिशाएँ सही रूप में नहीं दर्शायी जातीं।

प्रश्न 10.
खाका क्या है?
उत्तर:
किसी छोटे क्षेत्र का बड़े पैमाने पर खींचा गया रेखाचित्र खाका कहलाता है। इसमें उस क्षेत्र की अधिक जानकारी दर्शायी जाती है। इसका सीमित उपयोग होता है।

प्रश्न 11.
कैडेस्ट्रल मानचित्र क्या है?
उत्तर:
जमीन की खातेदारी से संबंधित मानचित्रों को कैडेस्ट्रल मानचित्र कहा जाता है। ये साधारणतः पटवारी के पास होते हैं जिनमें गाँव के खेतों का नक्शा या मानचित्र होता है जिनसे यह पता चलता है कि कौनसी जमीन किसकी है।

RBSE Solutions for Class 6 Social Science Chapter 5 मानचित्र

प्रश्न 12.
हेकेटिअस द्वारा दिये गए विश्व मानचित्र का वर्णन कीजिये।
उत्तर:
हेकेटिअस का विश्व मानचित्र ईसा पूर्व पांचवीं या छठी शताब्दी में तैयार हुआ था। उस समय पृथ्वी को एक वृत्त के रूप में देखा गया था और इस वृत्त के केन्द्र में ग्रीस को दिखाया गया था। इस समय संसार को तीन महाद्वीपोंयूरोप, एशिया और अफ्रीका में बांटा जाता था। एशिया की जानकारी केवल सिंधु नदी के पश्चिम तक ही थी।

प्रश्न 13.
ग्लोब क्या है? इसकी रचना क्यों और किस प्रकार की गई?
उत्तर:
ग्लोब पृथ्वी का प्रतिरूप है। पृथ्वी की सम्पूर्ण जानकारी एक ही स्थान पर बैठकर प्राप्त कर सकें इसलिए पृथ्वी के प्रतिरूप के रूप में ग्लोब की रचना की गई। पृथ्वी के इस छोटे प्रतिरूप पर मनुष्य ने काल्पनिक अक्षांश व देशान्तर रेखाएँ बनाई हैं, जिनके माध्यम से किसी भी स्थान की स्थिति की सही जानकारी प्राप्त की जा सकती है।

निबन्धात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
मानचित्र बनाने की कला कैसे विकसित हुई?
उत्तर:
मानचित्र बनाने की कला का विकास मानचित्र बनाने की कला का विकास निम्न प्रकार हुआ –
1. प्राचीन यूनान – मानचित्र बनाने की कला का विकास सर्वप्रथम प्राचीन यूनानी भूगोलवेत्ताओं ने किया। हेकेटिअस का मानचित्र ईसा पूर्व पाँचवीं या छठी शताब्दी में तैयार हुआ था। उस समय पृथ्वी को एक वृत्त के रूप में देखा गया था और इस वृत्त के केन्द्र में यूनान को दिखाया गया था। इस समय संसार को केवल तीन महाद्वीपों यूरोप, एशिया और अफ्रीका में बांटा जाता था। एशिया की जानकारी केवल सिंधु नदी के पश्चिम तक ही थी।

2. रोमन साम्राज्य में मानचित्र कला का विकास – ग्रीक राज्य के पतन के बाद रोमन साम्राज्य का उदय हुआ। रोमन साम्राज्य का विस्तार मध्य यूरोप, फ्रांस, इटली, ब्रिटेन तथा एशिया माइनर में था। इस समय के महान् भूगोलवेत्ता टॉलमी ने मानचित्र बनाने में अक्षांश व देशान्तर रेखाओं की महत्ता को पहचाना तथा इस आधार पर यूरोप व संसार के मानचित्र बनाये। सजाव आल इन वन इस समय यूरोप महाद्वीप की पूर्वी सीमा चीन द्वारा तथा पश्चिमी स्पेन इत्यादि के तटों तक मानचित्रों में दिखाई गई।

3. अंधकार युग में मानचित्र कला का विकास नहींरोमन साम्राज्य के पतन के पश्चात् दूसरी सदी से सातवीं सदी तक अंधकार युग रहा। इस काल में मानचित्र कला का विकास नहीं हुआ।

4. मानचित्र कला का पुनः विकास ( 13वीं सदी के पश्चात्) – मानचित्र कला का पुनः विकास 13वीं शताब्दी पश्चात् हुआ जब यूरोप में समुद्री यात्राओं के लिए सही दिशाओं की जानकारी की आवश्यकता महसूस की जाने लगी। इस समय ग्लोब का भी निर्माण हुआ। इस समय मार्को पोलो, कोलम्बस, वास्को डी गामा, मैगलीन व कैप्टन कुक ने लम्बी यात्राएँ कीं। महाद्वीपों व महासागरों के ज्ञान को आगे बढ़ाया। 16वीं सदी में प्रिंटिंग मशीन के आविष्कार से मानचित्रों का निर्माण आसान हो गया। समुद्री यात्राओं के कारण मानचित्र निर्माण कला से विज्ञान बन गया।

RBSE Solutions for Class 6 Social Science Chapter 5 मानचित्र

प्रश्न 2.
मानचित्रों के महत्त्व को संक्षेप में बताइये।
उत्तर:
मानचित्र विश्व या उसके किसी भू – भाग का द्विआयामी चित्रण है। मानचित्र में आकृति, आकार और दिशा में परिवर्तन आने की संभावना के कारण, यह ग्लोब का प्रतिरूप नहीं हो सकता। फिर भी मानचित्र के निम्नलिखित लाभ हैं –

  1. ग्लोब की अपेक्षा मानचित्रों को बनाना आसान है।
  2. मानचित्रों को एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाना आसान है।
  3. मानचित्र में छोटे स्थान गाँव/शहर को भी दर्शाया जा सकता है।
  4. एटलस विभिन्न प्रकार के मानचित्रों का एक संकलन होता है, जो हमें विस्तार से जानकारी प्रदान करते हैं।
  5. इस कारण दैनिक जीवन में मानचित्रों का उपयोग ग्लोब की अपेक्षा अधिक होता है।

Leave a Comment