RBSE Solutions for Class 6 Social Science Chapter 1 हमारा ब्रह्मांड

Rajasthan Board RBSE Class 6 Social Science Solutions Chapter 1 हमारा ब्रह्मांड

RBSE Solutions for Class 6 Social Science

RBSE Solutions for Class 6 Social Science Chapter 1 हमारा ब्रह्मांड

RBSE Class 6 Social Science हमारा ब्रह्मांड Intext Questions and Answers

प्रश्न 1.
सूर्यास्त होने के बाद आसमान में तारों का अवलोकन कर सप्तर्षि मण्डल की स्थिति का पता लगाइए।
उत्तर:
सूर्यास्त होने के बाद आसमान में तारों का अवलोकन करने से पता चलता है कि आकाश में सप्तर्षि मण्डल की स्थिति ध्रुव तारे के नीचे उत्तर दिशा में है।

प्रश्न 2.
अपने परिवार के बड़े सदस्यों से तारों के बारे में पौराणिक किस्से-कहानियाँ सुनिए और उन्हें अभ्यास पुस्तिका में लिखिए।
उत्तर:
ध्रुव तारे की कहानी ध्रुव तारे के बारे में एक पौराणिक कहानी यह है कि ध्रुव नामक बालक राजा उत्तानपाद एवं रानी सुनीति का पुत्र था। राजा के एक और पुत्र उत्तम था जो उसकी दूसरी रानी सुरुचि का पुत्र था। रानी सुरुचि राजा को अधिक प्रिय थी। इस कारण वह राजा पर अधिक अधिकार जताती थी। एक दिन राजा उत्तानपाद उत्तम को गोद में बिठाकर खिला रहे थे। उसी समय ध्रुव ने भी राजा की गोद में बैठना चाहा। किन्तु रानी सुरुचि को यह पसन्द नहीं था।

वह ध्रुव को गोद से उतार कर बोली “तुम्हें राजा की गोद में बैठने का अधिकार नहीं है, क्योंकि तुम मेरी संतान नहीं हो। तुम्हें राजा की गोद में बैठने का अधिकार तभी मिल सकता है, जब तुम भगवान नारायण की आराधना कर उनकी कृपा से मेरे गर्भ में आकर जन्म लो।” उसी समय बालक ध्रुव ने भगवान नारायण की आराधना का दृढ़ संकल्प लिया। तब माता सुनीति एवं नारदजी ने बालक ध्रुव को समझाया कि वह अभी बच्चा है और सुरुचि की बातों पर ध्यान न देवें लेकिन ध्रुव नहीं माना।

ध्रुव ने लगभग छः माह तक भगवान नारायण की कठोर आराधना की। बालक की आराधना से प्रसन्न होकर भगवान नारायण प्रकट हुए। उन्होंने ध्रुव को आशीर्वाद दिया कि वह इस पृथ्वी पर महान और बुद्धिमान राजा बनेगा एवं मृत्यु के बाद ध्रुव तारे के रूप में अमर होगा। माना जाता है कि उसी ध्रुव को ब्रह्माण्ड में सप्तर्षि मण्डल के पास ध्रुव तारे के रूप में स्थान प्राप्त है जो आज भी अपने स्थान पर अटल है।

RBSE Solutions for Class 6 Social Science Chapter 1 हमारा ब्रह्मांड

प्रश्न 3.
तारों के समूह के अनुसार उनकी आकृति पहचान कर इन्हें नाम देने का प्रयास कीजिए।
उत्तर:
ध्रुव तारे के पास एक सात तारों का समूह दिखाई देता है जिसकी आकृति खेत जुताई करने वाले हल के समान या हत्थे वाली देगची के समान प्रतीत होती है, इसे सप्तर्षि मण्डल कहा जाता है। इसके अतिरिक्त सप्त ऋषि मंडल सहित 23 तारों के समूह जिसे यूनान में ग्रेट बियर के नाम से जाना जाता है क्योंकि इनकी आकृति भालू के समान है। इसी प्रकार सप्तऋषि मण्डल के चार तारों के समूह को चारपाई कहते हैं क्योंकि इनकी आकृति चारपाई के समान है।

RBSE Class 6 Social Science हमारा ब्रह्मांड Text Book Questions and Answers

पाठ्यपुस्तक के प्रश्न

प्रश्न 1.
सही विकल्प को चुनिये –
(i) तारे चमकते हैं ………………..
(क) स्वयं के प्रकाश से
(ख) दूसरे के प्रकाश से
(ग) चन्द्रमा के प्रकाश से
(घ) ग्रहों के प्रकाश से।
उत्तर:
(क) स्वयं के प्रकाश से

(ii) ध्रुव तारे द्वारा दिशा निर्धारित होती है ………………..
(क) उत्तर
(ख) दक्षिण
(ग) पूर्व
(घ) पश्चिम
उत्तर:
(क) उत्तर

प्रश्न 2.
नीचे दिए आकाशीय पिंडों को उनकी विशेषताओं से सुमेलित कीजिए।
RBSE Solutions for Class 6 Social Science Chapter 1 हमारा ब्रह्मांड
उत्तर:
RBSE Solutions for Class 6 Social Science Chapter 1 हमारा ब्रह्मांड

प्रश्न 3.
रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए –

  1. भारत में आसमान में दिखने वाले सात तारों के समूह को ……………….. के नाम से जाना जाता है।
  2. सभी ग्रह एवं उपग्रह ………………. के प्रकाश से चमकते हैं।
  3. हमारी पृथ्वी का सबसे निकटतम तारा ………………. है।
  4. विभिन्न नक्षत्रमण्डलों के अन्दर ………………. स्थित है।

उत्तर:

  1. सप्तर्षि मण्डल
  2. सूर्य
  3. सूर्य
  4. तारकीय मण्डल

RBSE Solutions for Class 6 Social Science Chapter 1 हमारा ब्रह्मांड

प्रश्न 4.
हैली क्या है? इसकी विशेषताएँ बताइए।
उत्तर:
हैली सबसे प्रसिद्ध पुच्छल तारा है। इसकी विशेषता यह है कि यह प्रति 76 वर्ष बाद दिखाई देता है, इसे 1986 में देखा गया था, अब यह पुनः 2062 में दिखाई देगा।

प्रश्न 5.
खगोलीय पिंड क्या हैं? यह किन पदार्थों से बने हैं?
उत्तर:
खगोलीय पिण्ड – आसमान में फैले तारे, ग्रह, उपग्रह, उल्का, धूमकेतु आदि जिनमें सूर्य, पृथ्वी एवं चन्द्रमा भी शामिल हैं, खगोलीय पिंड कहलाते हैं। कुछ खगोलीय पिंड गैसीय होते हैं, जैसे – तारे, जो हाइड्रोजन एवं हीलियम के सम्मिश्रण से बने होते हैं। कुछ खगोलीय पिंड ठोस, द्रव और गैसीय पदार्थों के सम्मिश्रण से बने हैं तथा कुछ ग्रह, उपग्रह, उल्काएँ आदि केवल ठोस पदार्थों से बने हैं।

प्रश्न 6.
ब्रह्मांड की उत्पत्ति कब और कैसे हुई?
उत्तर:
ब्रह्मांड की उत्पत्ति – ब्रह्मांड की उत्पत्ति का सर्वमान्य सिद्धान्त ‘बिग बैंग’ है। इस सिद्धान्त के अनुसार आज से 13.7 अरब वर्ष पहले एक वृहद् प्रभावशाली विस्फोट हुआ जिसे बिग बैंग कहा जाता है। विस्फोट के बाद ब्रह्मांड और खगोलीय पिंडों की उत्पत्ति हुई और तब से इसका विस्तार हो रहा है।

RBSE Solutions for Class 6 Social Science Chapter 1 हमारा ब्रह्मांड

प्रश्न 7.
आकाशगंगा क्या है? समझाइए।
उत्तर:
आकाशगंगा – तारों, तारों के अवशेषों, तारों के मध्य गैसों और धूलकणों के ऐसे जमाव को, जो गुरुत्वाकर्षण के कारण एक – दूसरे से बंधा है, आकाशगंगा कहा जाता है।

प्रश्न 8.
रात में चमकने वाले तारे दिन में क्यों नहीं दिखते
उत्तर:
रात में चमकने वाले तारे दिन में सूर्य के उदय होने पर दिखाई नहीं देते हैं क्योंकि सूर्य की रोशनी अन्य तारों से अधिक होती है।

प्रश्न 9.
‘बिग बैंग सिद्धान्त’ को समझाइए।
उत्तर:
बिग बैंग सिद्धान्त – वर्तमान समय में ब्रह्माण्ड की उत्पत्ति सम्बन्धी यह सर्वमान्य सिद्धान्त है। इस सिद्धान्त के अनुसार आज से 13.7 अरब वर्ष पूर्व एक वृहद् प्रभावशाली विस्फोट हुआ जिसे बिग बैंग कहते हैं। विस्फोट के बाद ब्रह्माण्ड और खगोलीय पिंडों की उत्पत्ति हुई तथा तब से इसका विस्तार हो रहा है।

RBSE Class 6 Social Science हमारा ब्रह्मांड Important Questions and Answers

वस्तुनिष्ठ प्रश्न

Question 1.
‘हैली’ क्या है ………………..
(अ) पुच्छल तारा
(ब) उल्का पिंड
(स) उपग्रह
(द) ग्रह
उत्तर:
(अ) पुच्छल तारा

RBSE Solutions for Class 6 Social Science Chapter 1 हमारा ब्रह्मांड

Question 2.
यूनान में सात तारों के समूह को कहा जाता है ………………..
(अ) सप्तर्षि मंडल
(ब) स्माल बीयर
(स) सॉसपेन
(द) खेत जुताई वाला हल।
उत्तर:
(ब) स्माल बीयर

Question 3.
किसी दूसरे के प्रकाश से चमकने वाले पिंड हैं …………………
(अ) तारे
(ब) धूमकेतु
(स) ग्रह और उपग्रह
(द) उल्का
उत्तर:
(स) ग्रह और उपग्रह

RBSE Solutions for Class 6 Social Science Chapter 1 हमारा ब्रह्मांड

Question 4.
असीम आसमान, जिसमें समस्त खगोलीय पिंड बिखरे हुए प्रतीत होते हैं, को कहा जाता है ………………..
(अ) ब्रह्मांड
(ब) अंतरिक्ष
(स) प्रकाश वर्ष
(द) आकाशगंगा।
उत्तर:
(ब) अंतरिक्ष

Question 5.
आखिरी बार हैली धूमकेतु को देखा गया था ………………..
(अ) 1986 में
(ब) 1992 में
(स) 1996 में
(द) 2006 में
उत्तर:
(अ) 1986 में

RBSE Solutions for Class 6 Social Science Chapter 1 हमारा ब्रह्मांड

Question 6.
हमारी पृथ्वी है ………………..
(अ) ग्रह
(ब) उपग्रह
(स) तारा
(द) उल्कापिंड
उत्तर:
(अ) ग्रह

Question 7.
प्रकाश वर्ष मापक है ………………..
(अ) भार का
(ब) दूरी का
(स) समय का
(द) दबाव का
उत्तर:
(ब) दूरी का

Question 8.
ऐरावत पथ नाम है ………………..
(अ) अंतरिक्ष का
(ब) ब्रह्माण्ड का
(स) तारे का
(द) आकाश गंगा का
उत्तर:
(द) आकाश गंगा का

रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए

  1. पृथ्वी सहित सौर परिवार ……………… नामक आकाशगंगा में स्थित है। (सप्तर्षि मण्डल/मंदाकिनी)
  2. ……………… का सिर हमेशा सूर्य की तरफ एवं पूँछ विपरीत दिशा में रहती है। (धूमकेतु/सॉसपेन)
  3. आकाश में फैले तारे, उल्का, ग्रह, उपग्रह, धूमकेतु ……………… आदि जिनमें हमारी पृथ्वी, सूर्य व चन्द्रमा भी शामिल हैं ……………… कहलाते हैं। (खगोलीय पिंड/ब्रह्माण्ड)
  4. सभी ग्रह एवं उपग्रह ……………… के प्रकाश से चमकते हैं। (सूर्य/धूमकेतु)।
  5. प्रकाश वर्ष ………………. का मापक है। (भार/दूरी)

उत्तर:

  1. मंदाकिनी
  2. धूमकेतु
  3. खगोलीय पिंड
  4. सूर्य
  5. दूरी

निम्नलिखित को सुमेलित कीजिए

RBSE Solutions for Class 6 Social Science Chapter 1 हमारा ब्रह्मांड
उत्तर:
1. (iii)
2. (iv)
3. (i)
4. (ii)

अतिलघूत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
भारत में सात तारों के समूह को क्या कहते हैं?
उत्तर:
भारत में सात तारों के समूह को सप्तर्षि मंडल कहते हैं।

प्रश्न 2.
सात तारों के समूह को किस देश में खेत जुताई वाला हल कहते हैं?
उत्तर:
ब्रिटेन में।

RBSE Solutions for Class 6 Social Science Chapter 1 हमारा ब्रह्मांड

प्रश्न 3.
खगोलीय पिंडों के बीच की दूरी मापने के लिए किसका उपयोग किया जाता है?
उत्तर:
प्रकाश वर्ष का।

प्रश्न 4.
प्रकाश एक वर्ष में कितनी दूरी तय करता है एवं इसकी गति कितनी है?
उत्तर:
प्रकाश एक वर्ष में लगभग 95 खरब किलोमीटर की दूरी तय करता है तथा इसकी गति लगभग 3 लाख किलोमीटर प्रति सैकण्ड होती है।

प्रश्न 5.
हमारा सौरमण्डल क्या है?
उत्तर:
हमारा सौरमण्डल एक तारकीय मंडल है।

RBSE Solutions for Class 6 Social Science Chapter 1 हमारा ब्रह्मांड

प्रश्न 6.
वर्तमान में ब्रह्मांड की उत्पत्ति सम्बन्धी सर्वमान्य सिद्धान्त कौनसा है?
उत्तर:
वर्तमान में ब्रह्मांड की उत्पत्ति सम्बन्धी सर्वमान्य सिद्धान्त बिग बैंग सिद्धान्त है।

प्रश्न 7.
हैली पुच्छल तारा कितने वर्ष बाद दिखाई देता है?
उत्तर:
हैली पुच्छल तारा प्रति 76 वर्ष बाद दिखाई देता है।

प्रश्न 8.
ध्रुव तारे की कोई दो विशेषताएँ बताइए।
उत्तर:

  1. ध्रुव तारे से उत्तर दिशा का सटीक निर्धारण किया जाता है।
  2. ध्रुव तारा हमेशा एक ही स्थान पर स्थिर रहता है।

RBSE Solutions for Class 6 Social Science Chapter 1 हमारा ब्रह्मांड

प्रश्न 9.
खगोलीय पिंड किसे कहते हैं?
उत्तर:
आसमान में फैले तारे, उल्का, ग्रह, उपग्रह, धूमकेतु आदि जिसमें हमारी पृथ्वी, सूर्य व चन्द्रमा भी शामिल हैं खगोलीय पिंड़ कहलाते हैं।

प्रश्न 10.
अन्तरिक्ष किसे कहते हैं?
उत्तर:
असीम आसमान, जिसमें समस्त आकाशीय या खगोलीय पिंड बिखरे हुए प्रतीत होते हैं, को अन्तरिक्ष कहा जाता है।

प्रश्न 11.
आकाशगंगा और ब्रह्माण्ड क्या हैं?
उत्तर:
अनन्त आकाश में बिखरे खगोलीय पिण्डों के असंख्य समूहों को आकाशगंगा तथा असंख्य आकाश गंगाओं के समूह को ब्रह्माण्ड कहते हैं।

प्रश्न 12.
हमारा सौरमण्डल किस आकाशगंगा में स्थित है?
उत्तर:
हमारा सौरमण्डल ‘ऐरावत पथ’ या मन्दाकिनी नामक आकाश गंगा में स्थित है।

RBSE Solutions for Class 6 Social Science Chapter 1 हमारा ब्रह्मांड

प्रश्न 13.
आकाशगंगा का निर्माण किससे होता है?
उत्तर:
आकाशगंगा का निर्माण लाखों नक्षत्रमण्डलों, तारों के मध्य गैसों एवं धूल-कणों से होता है।

लघत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
अलग – अलग संस्कृतियों और देशों में सप्तर्षि तारों को किन-किन नामों से जाना जाता है?
उत्तर:
सप्तर्षि तारों को भारत में सप्तर्षि मण्डल, यूनान में स्माल बीयर या डिप्पर, फ्रांस में सॉसपेन (हत्थे वाली ढेगची), ब्रिटेन में खेत जुताई वाला हल तथा चीन में बादशाह के रथ के नाम से जाना जाता है।

प्रश्न 2.
मानव ने पुराने समय में तारों को पहचानने के लिए क्या – क्या तरीके निकाले?
उत्तर:
प्राचीन समय में मानव ने तारों को पहचानने के लिए विभिन्न नाम दिए तथा स्थानीय कहानियों की रचनाएँ कीं। प्राचीन समय में अधिकांश मानव जातियाँ कृषि एवं पशुपालन का कार्य करती थीं। अतः इन तारों के समूह में उन्हें जिस पशु-पक्षी की आकृति नजर आती थी, उस तारा समूह को उसी पशु – पक्षी का नाम दिया जाता था।

प्रश्न 3.
सूर्य एक तारा है, लेकिन वह अन्य तारों से बड़ा क्यों दिखाई देता है?
उत्तर:
सूर्य एक तारा है तथा यह पृथ्वी का सबसे निकटवर्ती तारा है। सूर्य पृथ्वी के निकट होने के कारण अन्य तारों से बड़ा दिखाई देता है जबकि अन्य तारे पृथ्वी से अधिक दूरी पर होने के कारण हमें अत्यन्त छोटे दिखाई देते हैं।

RBSE Solutions for Class 6 Social Science Chapter 1 हमारा ब्रह्मांड

प्रश्न 4.
आकाशगंगा क्या है? उसकी विशेषताएँ बताइए।
उत्तर:
तारों, तारों के अवशेषों, तारों के मध्य गैसों और धूलकणों का एक ऐसा जमाव है जो गुरुत्वाकर्षण के कारण एक-दूसरे से बंधा है। इसे आकाशगंगा कहा जाता है। इसकी विशेषताएँ निम्न प्रकार हैं –

  1. आकाशगंगा लाखों प्रकाश वर्ष की लम्बाई – चौड़ाई में फैली होती है।
  2. आकाशगंगा का अधिकांश भाग तारों से बना होता है।
  3. आकाशगंगा में तारों के मध्य गैसें एवं धूलकण भी होते हैं।
  4. ब्रह्माण्ड असंख्य आकाशगंगाओं से मिलकर बना है।

प्रश्न 5.
प्रकाश वर्ष क्या है?
उत्तर:
प्रकाश वर्ष – प्रकाश वर्ष दूरी का मापक है। इसका उपयोग खगोलीय पिंडों के बीच दूरी मापने के लिए किया जाता है। एक वर्ष की अवधि में प्रकाश तीन लाख किलोमीटर प्रति सेकंड की गति से जितनी दूरी तक जाता है, उसी दूरी को प्रकाश वर्ष कहा जाता है।

RBSE Solutions for Class 6 Social Science Chapter 1 हमारा ब्रह्मांड

प्रश्न 6.
तारे क्या हैं?
उत्तर:
तारे विशाल और अति गर्म प्रज्वलित गैसीय पिंड हैं जो हाइड्रोजन और हीलियम गैसों के सम्मिश्रण से बने हैं। ये प्रबल ऊष्मा और ऊर्जा विकिरित करते हैं। सूर्य भी ऐसा ही एक तारा है। तारे स्वयं प्रकाशमान होते हैं।

प्रश्न 7.
ग्रह क्या हैं?
उत्तर:
ग्रह किसी दूसरे के प्रकाश से चमकने वाले पिंड हैं। हमारी पृथ्वी एक ग्रह है जो सूर्य के प्रकाश से चमकती है। सूर्य के ग्रह सूर्य के चारों ओर एक निश्चित पथ पर परिक्रमा करते हैं।

प्रश्न 8.
अंतरिक्ष क्या है?
उत्तर:
समस्त खगोलीय पिंड असीम आसमान में छाये हुए प्रतीत होते हैं। इस असीम आसमान को अंतरिक्ष कहा जाता है। अंतरिक्ष का विस्तार असीमित है। इसी में हमारा ब्रह्मांड व्याप्त है। अंतरिक्ष का न कोई आदि है और न अन्त।

RBSE Solutions for Class 6 Social Science Chapter 1 हमारा ब्रह्मांड

प्रश्न 9.
पुच्छल तारा या धूमकेतु क्या है? इसकी रचना और विशेषताएँ बताइये।
उत्तर:
पुच्छल तारा या धूमकेतु एक अत्यन्त आकर्षक तथा निराला तारा है। पुच्छल तारों की रचना बर्फ, धूल, छोटी चट्टानों और गैसीय पदार्थों से होती है। इनकी गति अत्यधिक तीव्र होने के कारण इनमें उपस्थित गैसीय पदार्थ पूँछ की तरह की संरचना बना लेते हैं। इसका सिर हमेशा सूर्य की ओर तथा पूँछ विपरीत दिशा में रहती है। यह सूर्य के चारों ओर एक निश्चित पथ पर परिक्रमा करते हैं। इसकी गति बहुत तेज होती है। ये कभी सूर्य के निकट और कभी दूर चले जाते हैं।

निबन्धात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
ब्रह्मांड क्या है? समझाइये।
उत्तर:
ब्रह्मांड – तारों, तारों के अवशेषों, तारों के बीच गैसों और धूलकणों का एक ऐसा जमाव जो गुरुत्वाकर्षण के कारण परस्पर बंधा है, आकाशगंगा कहा जाता है, जो लाखों प्रकाश वर्ष की लम्बाई – चौड़ाई में फैली है। अनगिनत आकाशगंगाओं के समूह को ब्रह्माण्ड कहते हैं। तारों के समूह को नक्षत्रमंडल कहते हैं और लाखों नक्षत्रमंडल और – तारों के मध्य गैसों, धूलकणों से आकाशगंगा का निर्माण होता है। हमारी आकाशगंगा मन्दाकिनी है। अन्य आकाशगंगाएँ हैं वृहत् मैगलेनिक, लघु मैगलेनिक, अर्सा माइनर आदि। आकाशगंगा का अधिकांश भाग तारों से ही बना है। आकाशगंगाएँ लगातार एक-दूसरे से दूर जा रही हैं। इससे ब्रह्माण्ड का निरन्तर विस्तार हो रहा है।

Leave a Comment