RBSE Class 8 Sanskrit व्याकरण उपसर्ग प्रकरण

RBSE Solutions for Class 8 Sanskrit

Rajasthan Board RBSE Class 8 Sanskrit व्याकरण उपसर्ग प्रकरण

धातोः पूर्वम् उपसर्गान् योजयित्वा वयं नूतनक्रियापदानां निर्माणं कुर्मः (धातु से पहले उपसर्गों को जोड़कर हम नये क्रिया पदों का निर्माण करते हैं।) सूत्र “उपसर्गः क्रियायोगे” अर्थात् क्रिया के योग में उपसर्ग संज्ञा होती है।

उपसर्ग – जब प्र, परा, अप, अब आदि अव्यय धातु के पूर्ण जोड़े या लगाए जाते हैं तब वे उपसर्ग कहे जाते हैं। सूत्र- “उपसर्गः क्रियायोगे”। उपसर्ग का प्रयोग करने से धातु के अर्थ में विशेषता आ जाती है। कहीं धातु का अर्थ परिवर्तित होकर एक नया अर्थ प्रकट करता है तो कहीं अर्थ का विपर्यय या विलोम हो जाता है और इस प्रकार अर्थ में सौन्दर्य आ जाता है। उपसर्ग के योग से धातु के अर्थ में कुछ परिवर्तन हो जाता है।

RBSE Class 8 Sanskrit व्याकरण उपसर्ग प्रकरण

  1. प्र – प्रकर्ष, उत्तम, अधिक।
  2. परा – विरुद्ध, तिरस्कार।
  3. अप – विपरीत, पश्चात्, हद्, दूर, अनुचित, हीन।
  4. सम् – समीप, मिलकर, अत्यन्त, अच्छा, नाश संभव है।
  5. अनु – पीछे, समान, अनुसार, अनुनय-विनय करना।
  6. अव – नीचे, न्यून।
  7. निस् – निषेध, बिना, शून्य, विपरीत, रहित।
  8. निर् – अच्छी प्रकार, पूर्णतया, शून्य, रहित, मुक्त, बाहर।
  9. दुस् – कठिन, असाध्य, बुरा।
  10. दुर् – बुरा, कठिन।
  11. वि – विशिष्ट, बिना, रहित, अधिक, भिन्न, रुकना।
  12. आङ (आ) – तक लेकर, ओर, विपरीत।
  13. नि – नीचे, समीप, समूह विशेष।
  14. अधि – बड़ा, ऊपर, प्रधान।
  15. अति – अधिक, अतिशय।
  16. अपि – निकट, ढकना, प्रश्न।
  17. सु – अच्छा, सरल, श्रेष्ठ।
  18. प्रति – हर एक, ओर, आदि।
  19. परि – चारों ओर।।
  20. अभि – आगे, ऊपर, ओर।
  21. उप – समीप, गौण।
  22. उत् – अतिशय, ऊपर।

RBSE Class 8 Sanskrit व्याकरण उपसर्ग प्रकरण

अभ्यासः – 1

प्रश्ना 1.
अधोलिखित पदेषु ‘सम्’ उपसर्गः युक्तं पदम् अस्ति
(अ) समागत्य
(ब) शुभम्
(स) सविता
(द) सपदि।
उत्तर:
(अ) समागत्य

प्रश्ना 2.
‘निर्’ उपसर्गः युक्तं पदम् अस्ति
(अ) नमस्ते
(ब) नामि
(स) निकर्षणम्
(द) निरगच्छत्।
उत्तर:
(द) निरगच्छत्।

प्रश्ना 3.
‘परि’ उपसर्गः युक्तं पदम् अस्ति
(अ) परे
(ब) पर्ण
(स) परिश्रमः
(द) परोक्षः।
उत्तर:
(स) परिश्रमः

RBSE Class 8 Sanskrit व्याकरण उपसर्ग प्रकरण

प्रश्ना 4.
‘उप’ उपसर्गः युक्तं पदम् अस्ति
(अ) उपसृत्य
(ब) उत्तेजक
(स) उत्पार
(द) उदरक्त्।
उत्तर:
(अ) उपसृत्य

प्रश्ना 5.
‘प्र’ उपसर्गः युक्तं पदम् अस्ति|
(अ) प्रविशति
(ब) परिष्कृतः
(स) प्राचीन
(द) प्रतिज्ञानम्।
उत्तर:
(अ) प्रविशति

प्रश्ना 6.
‘वि’ उपसर्गः युक्तं पदम् अस्ति
(आ) विषयाणाम्
(ब) विद्यालयम्
(स) विश्वम्
(द) विस्तीर्य।
उत्तर:
(द) विस्तीर्य।

प्रश्ना 7.
‘अव’ उपसर्गः युक्तं पदम् अस्ति
(अ) अवर
(ब) अवगच्छति
(स) आवश्यक
(द) आवर्तकः।
उत्तर:
(ब) अवगच्छति

RBSE Class 8 Sanskrit व्याकरण उपसर्ग प्रकरण

प्रश्ना 8.
‘आ’ उपसर्गः युक्तं पदम् अस्ति
(अ) आगच्छ
(ब) आपणः
(स) आप्तः
(द) आम्।
उत्तर:
(अ) आगच्छ

प्रश्ना 9.
‘सु’ उपसर्गः युक्तं पदम् अस्ति
(अ) सुस्वाद
(ब) सूक्ष्म
(स) सूत्रम्
(द) सूची।
उत्तर:
(अ) सुस्वाद

प्रश्ना 10.
‘प्रति’ उपसर्गः युक्तं पदम् अस्ति
(अ) प्रकृतिः
(ब) प्रतिभाति
(स) प्रकाशित
(द) प्रकीर्ण।
उत्तर:
(ब) प्रतिभाति

RBSE Class 8 Sanskrit व्याकरण उपसर्ग प्रकरण

अभ्यासः – 2

प्रश्ना 1.
‘निर्वाहयति’ पदे प्रयुक्तम् उपसर्गः अस्ति
(अ) निर्
(ब) नि
(स) प्रति
(द) उप।
उत्तर:
(अ) निर्

प्रश्ना 2.
“परिभ्रमणम्’ पदे प्रयुक्तम् उपसर्गः अस्ति
(अ) प्र
(ब) परि
(स) सम्
(द) नि।
उत्तर:
(ब) परि

प्रश्ना 3.
“समागच्छत्’ पदे प्रयुक्तम् उपसर्गः अस्ति|
(अ) सम्
(ब) स
(स) सम् + आ
(द) अति।
उत्तर:
(स) सम् + आ

RBSE Class 8 Sanskrit व्याकरण उपसर्ग प्रकरण

प्रश्ना 4.
‘उपविशामः’ पदे प्रयुक्तम् उपसर्गः अस्ति
(अ) अप्
(ब) अति
(स) उप
(द) उ।
उत्तर:
(स) उप

प्रश्ना 5.
‘प्रमादम्’ पदे प्रयुक्तम् उपसर्गः अस्ति
(अ) परि
(ब) अति
(स) प्राक
(द) प्र।
उत्तर:
(द) प्र।

प्रश्ना 6.
‘निर्गता’ पदे प्रयुक्तम् उपसर्गः अस्ति
(अ) नि
(ब) अप्
(स) अव
(द) निर्।
उत्तर:
(द) निर्।

प्रश्ना 7.
‘परिदृश्यानाम्’ पदे प्रयुक्तम् उपसर्गः अस्ति
(अ) प्र
(ब) उत्
(स) वि
(द) परि।
उत्तर:
(द) परि।

RBSE Class 8 Sanskrit व्याकरण उपसर्ग प्रकरण

प्रश्ना 8.
“समागताः’ पदे प्रयुक्तम् उपसर्गः अस्ति
(अ) सम् + आंङ्
(ब) सम्
(स) अव
(द) अनु।
उत्तर:
(अ) सम् + आंङ्

प्रश्ना 9.
“उपकरणम्’ पदे प्रयुक्तम् उपसर्गः अस्ति
(अ) अव
(ब) उप
(स) अनु
(द) करण।
उत्तर:
(ब) उप

प्रश्ना 10.
‘प्रदीप्तः’ पदे प्रयुक्तम् उपसर्गः अस्ति
(अ) अनु
(ब) उप
(स) प्र
(द) अति।
उत्तर:
(स) प्र

RBSE Class 8 Sanskrit व्याकरण उपसर्ग प्रकरण

Leave a Comment