RBSE Class 8 Hindi व्याकरण वाक्य-विचार एवं वाक्य शुद्धि

Rajasthan Board RBSE Class 8 Hindi व्याकरण वाक्य-विचार एवं वाक्य शुद्धि

RBSE Solutions for Class 8 Hindi

(I) वाक्य-विचार

वाक्य- शब्दों का ऐसा समूह जिसका कुछ अर्थ हो, वाक्य कहलाता है।
वाक्य के तत्व-वाक्य के लिए निम्नलिखित तत्व आवश्यक है।

1. सार्थकता-वाक्य के लिए शब्दों का सार्थक होना अनिवार्य शर्त है।

2. योग्यता-वाक्य में प्रयुक्त शब्द प्रसंग के अनुसार अर्थ देते हों। जैसे-राम रोटी पीता है। यहाँ रोटी के साथ पीता शब्द प्रसंगानुसार नहीं है। अत: पीता शब्द का प्रयोग यहाँ नहीं किया जा सकता है।

3. आकांक्षा-वाक्य का पूर्ण अर्थ निकलता हो। प्रति प्रश्न की संभावना नहीं रहनी चाहिए। जैसे-ईमानदार है। यहाँ प्रति प्रश्न उठता है कि कौन ईमानदार है? अतः ‘ईमानदार है’ शब्द समूह वाक्य नहीं है।

4. आसक्ति या निकटता-वाक्य में प्रयुक्त शब्दों में निकटता होना अनिवार्य है। “राम …….. पुस्तक …….. पढ़ …….. रहा ……… है।” शब्द दूर-दूर होने से अर्थ में गतिरोध आता है, अतः यह वाक्य नहीं है। शब्दों को पास-पास होना चाहिए। जैसे-राम पुस्तक पढ़ता है।

5. पदक्रम-वाक्य में प्रयुक्त शब्दों का सही क्रम होना भी आवश्यक है। इसके अभाव में शब्द समूह वाक्य नहीं कहा जा सकता। जैसे-करते उत्थान परिश्रम वाले हैं करने का देश, यह तभी वाक्य कहा जाएगा जब इसका पदक्रम-परिश्रम करने वाले देश का उत्थान करते हैं होगा।

6. अन्वय-वाक्य में प्रयुक्त क्रिया के साथ लिंग, वचन, कारक, पुरुष, काल आदि का सामंजस्य होना आवश्यक है।

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण वाक्य-विचार एवं वाक्य शुद्धि

वाक्य के अवयव

वाक्य में दो अवयव होते हैं:

  1. उद्देश्य
  2. विधेय

1. उद्देश्य-जिस वस्तु के विषय में कुछ कहा जाता है, उसे सूचित करने वाला शब्द उद्देश्य कहलाता है। जैसे- राम जाता है। यहाँ ‘राम’ उद्देश्य है।
2. विधेय-उद्देश्य के सम्बन्ध में जो कुछ कहा जाता है वह विधेय कहलाता है। राम जाता है- में ‘जाता है’ विधेय है।

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण वाक्य-विचार एवं वाक्य शुद्धि

वाक्य-भेद
वाक्यों का वर्गीकरण दो दृष्टियों से किया जा सकता है-

  1. रचना की दृष्टि से
  2. अर्थ की दृष्टि से

I. रचना की दृष्टि से वाक्य-भेद रचना की दृष्टि से वाक्यों के निम्नलिखित तीन भेद हैं-
(1) सरल या साधारण वाक्य-जिस वाक्य में एक उद्देश्य और एक विधेय हो, अर्थात् एक मुख्य क्रिया हो उसे सरल या साधारण वाक्य कहते हैं।
उदाहरण:
राम पुस्तक पढ़ता है।
एक उद्देश्य – ‘राम’
विधेय – पुस्तक पढ़ता है।
राम, श्याम और मोहन गा रहे हैं।
एक उद्देश्य – राम, श्याम, मोहन
विधेय – गा रहे हैं।
(यहाँ राम, श्याम, मोहन तीनों मिलकर एक ही विधेय (कार्य) में संलग्न होने के कारण एक ही उद्देश्य के अन्तर्गत आते हैं।)

(2) मिश्र या मिश्रित वाक्य-जिस वाक्य में एक प्रधान उपवाक्य तथा एक या अधिक आश्रित उपवाक्य हों, उसे मिश्र या मिश्रित वाक्य कहते हैं। इस प्रकार के वाक्यों में मुख्य उददेश्य और मुख्य विधेय के अतिरिक्त एक या अनेक समापिका क्रियाएँ होती हैं। मुख्य उद्देश्य और मुख्य विधेय वाला वाक्य प्रधान उपवाक्य होता है, शेष उपवाक्य आश्रित उपवाक्य होते हैं।

प्रधान उपवाक्य और आश्रित उपवाक्य को कुछ संयोजक शब्दों से जोड़ते हैं, जैसे- कि, जो, जिसने, जहाँ, ज्यों, जब, जब-तक, जब-कभी, जहाँ-तहाँ, जहाँ तक, जैसे-वैसे, ज्यों-त्यों आदि।
उदाहरण:

  • राम ने कहा कि वह जा रहा है।
  • जब राम आएगा तब मैं चला जाऊँगा।

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण वाक्य-विचार एवं वाक्य शुद्धि

(3) संयुक्त वाक्य-संयुक्त वाक्य में एक प्रधान उपवाक्य और एक या एक से अधिक प्रधान उपवाक्य के समकक्ष होते हैं। संयुक्त वाक्यों में प्रधान उपवाक्य और समानाधिकरण उपवाक्यों को जोड़ने के लिए- और, किन्तु, परन्तु, एवं, तथा, या, अथवा, आदि सम्बन्धबोधक अव्ययों का प्रयोग किया जाता है।
उदाहरण:

  • राम तब घर जाएगा जब मध्यान्तर होगा परन्तु रमेश पहले ही घर चला जाएगा।
  • राम पुस्तक पढ़ रहा है किन्तु मोहन खेल रहा है।

II. अर्थ की दृष्टि से वाक्य-भेद:
अर्थ के आधार पर वाक्य आठ प्रकार के होते हैं-

  1. विधानवाचक वाक्य-जिस वाक्य में क्रिया के होने या करने का सामान्य कथन हो अर्थात् सीधा अर्थ निकलता हो, उसे विधानवाचक वाक्य कहते हैं। उदाहरण-सूर्य गर्मी देता है। मोहन पढ़ता है।
  2. निषेधवाचक वाक्य- जिस वाक्य में क्रिया के न होने का बोध हो, उसे निषेधवाचक वाक्य कहते हैं। उदाहरणमोहन नहीं पढ़ता है। राम नहीं जाता है।
  3. प्रश्नवाचक वाक्य-जिस वाक्य में प्रश्न किये जाने का बोध हो, उसे प्रश्नवाचक वाक्य कहते हैं। उदाहरण- तुम क्या कर रहे हो? मोहन क्या पढ़ रहा है?
  4. विस्मयादिवाचक वाक्य-जिस वाक्य में हर्ष, शोक, घृणा, विस्मय आदि का बोध हो उसे, विस्मयादिवाचक वाक्य कहते हैं। विस्मयादिवाचक वाक्य का प्रारम्भ- आह! अहा! अरे ! छि:! हे राम ! आदि से होता है। उदाहरणअहा! तुम आ गए। हाय ! यह क्या हो गया।
  5. आज्ञावाचक वाक्य-जिस वाक्य से किसी प्रकार की आज्ञा या अनुमति का बोध हो, उसे आज्ञावाचक वाक्य कहते हैं। उदाहरण- आप यहाँ से जाइए (आज्ञा)। आप यहाँ से जा सकते हैं (अनुमति)।
  6. इच्छावाचक वाक्य-जिस वाक्य में वक्ता की इच्छा, आशीर्वाद, शुभकामना आदि का भाव प्रकट हो उसे इच्छावाचक वाक्य कहते हैं। उदाहरण- आज तो वर्षा हो जाए। ईश्वर तुम्हें सुखी रखे।
  7. संदेहवाचक वाक्य-जिस वाक्य में कार्य के होने में संदेह या संभावना प्रकट हो, उसे संदेहवाचक वाक्य कहते हैं। उदाहरण- वह शायद ही उत्तीर्ण हो। संभवतः वह पढ़ रहा होगा। (8) संकेतवाचक वाक्य-जिस वाक्य में एक बात का होना दूसरी बात पर निर्भर हो, उसे संकेतवाचक वाक्य कहते हैं। संकेतवाचक वाक्य मिश्रित वाक्य होता है। उदाहरण-यदि वर्षा होती तो फसल अच्छी होती। यदि तुम पढ़ोगे तो उत्तीर्ण हो जाओगे।

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण वाक्य-विचार एवं वाक्य शुद्धि

(II) वाक्य-परिवर्तन

किसी वाक्य के अर्थ में बिना कुछ परिवर्तन किये उसे किसी अन्य वाक्य में परिवर्तित कर देना ही वाक्य-परिवर्तन कहलाता है। यह ध्यान रहे कि वाक्य-परिवर्तन करते समय वाक्य के समग्र अर्थ में किसी प्रकार का अन्तर न आने पाए। वाक्य-परिवर्तन के कुछ उदाहरण दिये जा रहे हैं
(1) कर्तृवाच्य से कर्मवाच्य-
(क) राम पुस्तक पढ़ता है। (कर्तृवाच्य)
राम के द्वारा पुस्तक पढ़ी जाती है। (कर्मवाच्य)
(ख) बन्दर आम खाता है। (कर्तृवाच्य)
बन्दर के द्वारा आम खाया जाता है। (कर्मवाच्य)

(2) कर्तृवाच्य से भाववाच्य-
(क) राम पढ़ता है। (कर्तृवाच्य)
राम से पढ़ा जाता है। (भाववाच्य)
(ख) मोहन गाता है। (कर्तृवाच्य)
मोहन से गाया जाता है। (भाववाच्य)

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण वाक्य-विचार एवं वाक्य शुद्धि

(3) विधानवाचक से निषेधवाचक-
(क) राम अच्छा लड़का है। (विधानवाचक)
राम बुरा लड़का नहीं है। (निषेधवाचक)
(ख) फूल सबको अच्छे लगते हैं। (विधानवाचक)
फूल किसे अच्छे नहीं लगते हैं? (निषेधवाचक)

(4) विस्मयादिवाचक से साधारण वाक्य-
(क) अहा! कितना सुन्दर फूल है। (विस्मयादिवाचक)
बहुत सुन्दर फूल है। (साधारण वाक्य)
(ख) क्या ही सुन्दर नगर है! (विस्मयादिवाचक)
बहुत सुन्दर नगर है। (साधारण वाक्य)

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण वाक्य-विचार एवं वाक्य शुद्धि

(5) सरल वाक्य से मिश्रित वाक्य-
(क) मैं उसका नाम नहीं जानता (सरल वाक्य)
मैं नहीं जानता कि उसका नाम क्या है।(मिश्रित वाक्य)
(ख) परिश्रम करने वाला उत्तीर्ण होगा। (सरल वाक्य)
जो परिश्रम करेगा, वह उत्तीर्ण होगा। (मिश्रित वाक्य)

(6) सरल वाक्य से संयुक्त वाक्य-
(क) अवकाश होते ही छात्र घर चले गये। (सरल वाक्य)
अवकाश हुआ और छात्र घर चले गये। (संयुक्त वाक्य)
(ख) गरीब होने पर भी वह ईमानदार है। (सरल वाक्य)
वह गरीब है परन्तु ईमानदार है। (संयुक्त वाक्य)

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण वाक्य-विचार एवं वाक्य शुद्धि

(7) संयुक्त वाक्य से मिश्रित वाक्य-
(क) परिश्रम करो और सफलता प्राप्त करो। (संयुक्त वाक्य)
यदि परिश्रम करोगे तो सफलता प्राप्त करोगे। (मिश्रित वाक्य)
(ख) मैंने बाजार से पुस्तक खरीदी थी, वह खो गयी। (संयुक्त वाक्य)
जो पुस्तक मैंने बाजार से खरीदी थी, वह खो गयी। (मिश्रित वाक्य)

(III) वाक्य-शुद्धि

प्रायः निम्न प्रकार की अशुद्धियाँ वाक्यों में देखने को मिलती हैं-
1. अनावश्यक शब्द के कारण वाक्य अशुद्धिसमान अर्थ वाले दो शब्दों या विलोम अर्थ वाले दो शब्दों के एक साथ प्रयोग होने पर तथा एक ही शब्द का बार-बार प्रयोग होने पर वाक्य अशुद्ध हो जाता है। जैसे –
अशुद्ध – 1. मैं प्रात:काल के समय पढ़ता हूँ।
2. तुम वापस लौट जाओ।

शुद्ध – 1. मैं प्रात:काल पढ़ता हूँ।
2. तुम वापस जाओ।

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण वाक्य-विचार एवं वाक्य शुद्धि

2. अनुपयुक्त शब्द के कारण – वाक्य में अनुपयुक्त शब्द प्रयुक्त हो जाने से भी वाक्य अशुद्ध हो जाता है।
अशुद्ध – 1. आकाश में तारे चमक रहे हैं।
2. आकाश में झंडा लहरा रहा है।

शुद्ध – 1. आकाश में तारे टिमटिमा रहे हैं।
2. आकाश में झंडा फहरा रहा है।

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण वाक्य-विचार एवं वाक्य शुद्धि

3. लिंग संबंधी अशुद्धियाँ – उचित लिंग का प्रयोग न होने से भी वाक्य अशुद्ध हो जाता है।
अशुद्ध – 1. बेटी पराये घर का धन होता है।
2. मेरे मित्र की पत्नी विद्वान है।

शुद्ध – 1. बेटी पराये घर का धन होती है।
2. मेरे मित्र की पत्नी विदुषी है।

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण वाक्य-विचार एवं वाक्य शुद्धि

4. वचन संबंधी अशुद्धियाँ – हिंदी में कुछ शब्द सदैव बहुवचन में प्रयुक्त होते हैं। अतः उनका उचित बोध न होने पर तथा कर्ता एवं कर्म के वचन के अनुसार क्रिया प्रयुक्त न होने पर वाक्य अशुद्ध हो जाता है।
अशुद्ध – 1. मैंने अनेकों कहानियाँ पढ़ीं।
2. अब आप पढ़ो।

शुद्ध – 1. मैंने अनेक कहानियाँ पढ़ीं।
2. अब आप पढ़िए।

5. क्रम भंग संबंधी अशुद्धियाँ – शब्द के उचित स्थान पर प्रयुक्त न होने से भी वाक्य अशुद्ध हो जाता है।
अशुद्ध – 1: मैंने बहते हुए पत्ते को देखा।
2. वास्तव में तुम चतुर हो।

शुद्ध – 1. मैंने पत्ते को बहते हुए देखा।
2. तुम वास्तव में चतुर हो ।।

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण वाक्य-विचार एवं वाक्य शुद्धि

6. कारक संबंधी अशुदधियाँ-वाक्य में प्रयुक्त कारक के अनुसार उचित विभक्ति न लगने से या अनावश्यक विभक्ति लगने से भी वाक्य अशुद्ध हो जाता है।
अशुद्ध – 1. जनता ने सैनिकों को उपहार भेजे।
2. गुरुजी के ऊपर श्रद्धा रखें।।

शुद्ध – 1. जनता ने सैनिकों के लिए उपहार भेजे।
2. गुरुजी के प्रति श्रद्धा रखें।

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण वाक्य-विचार एवं वाक्य शुद्धि

7. सर्वनाम संबंधी अशदधियाँ-सर्वनाम के सही रूप में प्रयोग न होने से भी वाक्य अशुद्ध हो जाता है।
अशुद्ध – 1. हमारे वाला मकान खाली है।
2. पिताजी ने मुझको कहा।

शुद्ध – 1. हमारा मकान खाली है।
2. पिताजी ने मुझसे कहा।

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण वाक्य-विचार एवं वाक्य शुद्धि

8. क्रिया संबंधी अशुद्धियाँ
अशुद्ध – 1. हम रात में भोजन खाते हैं।
2. गत सोमवार वह जयपुर जाएगा।

शुद्ध – 1. हम रात में भोजन करते हैं।
2. गत सोमवार वह जयपुर गया।

9. मुहावरे के कारण अशदधियाँ-मुहावरे का सही प्रयोग न होने या पाठांतर होने से भी वाक्य अशुद्ध हो जाता है।
अशुद्ध – 1. तुम्हारी बातें सुनते-सुनते मेरे कान भर गये।
2. आजकल भ्रष्टाचार के बाजार गर्म है।

शुद्ध – 1. तुम्हारी बातें सुनते-सुनते मेरे कान पक गये।
2. आजकल भ्रष्टाचार का बाजार गर्म है।

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण वाक्य-विचार एवं वाक्य शुद्धि

10. संयोजक शब्द संबंधी अशुद्धियाँ-सही संयोजक शब्द नहीं लगाने पर भी वाक्य अशुद्ध हो जाता है।
अशुद्ध – 1. यदि वह रुपये माँगता तब मैं अवश्य देता।
2. क्योंकि वह छोटा है अतः वह धीरे चलता है।

शुद्ध – 1. यदि वह रुपये माँगता तो मैं अवश्य देता।
2. क्योंकि वह छोटा है इसलिए वह धीरे चलता है।

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण वाक्य-विचार एवं वाक्य शुद्धि

11. अशद्ध वर्तनी के कारण अशदधियाँ-वाक्य में प्रयुक्त अशुद्ध वर्तनी से भी वाक्य अशुद्ध हो जाता है।
अशुद्ध – 1. गाँधी भवन की सौंदर्यता अनुपम है।
2. महात्मा के सदोपदेश सुनने चाहिए।

शुद्ध – 1. गाँधी भवन का सौंदर्य अनुपम है।
2. महात्मा के सदुपदेश सुनने चाहिए।

अभ्यास के लिए प्रश्न

1. वाक्य किसे कहते हैं?
2. वाक्य के तत्त्व कौन-कौन से हैं?
3. उद्देश्य तथा विधेय में क्या अन्तर है? उदाहरण द्वारा स्पष्ट कीजिए।
4. अर्थ की दृष्टि से वाक्य के कितने भेद होते हैं?
5. रचना की दृष्टि से वाक्य के कितने भेद होते हैं?
6. सरल वाक्य तथा मिश्रित वाक्य में क्या अन्तर है?
7. ‘राम जाता है’ को अर्थ की दृष्टि से वाक्य के सभी रूपों में परिवर्तित करके लिखिए
विधानवाचक वाक्य – राम जाता है।
निषेधवाचक वाक्य  – …………………
प्रश्नवाचक वाक्य     – ………………..
विस्मयादिवाचक वाक्य – ……………….
आज्ञावाचक वाक्य  –  …………….
इच्छावाचक वाक्य  –  ………………
संदेहवाचक वाक्य  –  ………………
संकेतवाचक वाक्य  –  ………………

8. मिश्रित वाक्य एवं संयुक्त वाक्य में क्या अन्तर है?

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण वाक्य-विचार एवं वाक्य शुद्धि

9. निम्नलिखित मिश्रित वाक्योंसेसरल वाक्य बनाओ
RBSE Class 8 Hindi व्याकरण वाक्य-विचार एवं वाक्य शुद्धि - 1

10. साधारण वाक्य में होता है-
(क) एक उद्देश्य।
(ख) एक उद्देश्य और एक विधेय।
(ग) एक विधेय।
(घ) एक उद्देश्य और अनेक विधेय।

11. संयुक्त वाक्य बनता है-
(क) एक उद्देश्य और एक विधेय से।
(ख) दो उद्देश्य और दो विधेयों से।
(ग) दो या अधिक प्रधान उपवाक्यों से।
(घ) एक प्रधान तथा एक या अनेक समानाधिकरण उपवाक्यों से।

12. ‘मुगल सम्राट अकबर ने दीन-ए-इलाही धर्म चलाना चाहा था।’ इस वाक्य उद्देश्य होगा
(क) दीन-ए-इलाही धर्म
(ख) मुगल सम्राट
(ग) मुगल सम्राट अकबर ने
(घ) चलाना चाहा था।

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण वाक्य-विचार एवं वाक्य शुद्धि

13. ‘कवि कुलगुरु कालिदास ने मेघदूत की रचना की है।’ इस वाक्य का विधेय कौन-सा है?
(क) कवि कुलगुरु।
(ख) कालिदास ने मेघदूत की।
(ग) कवि कुलगुरु ने रचना की है।
(घ) मेघदत की रचना की है।

14. निम्नलिखित में साधारण वाक्य कौन-सा है?
(क) उठो और पाठ याद करो।
(ख) तुमने कहा तो मैंने ले लिया।
(ग) हम कल बम्बई जा रहे हैं।
(घ) जब शाम होगी तब उसे याद आयेगी।

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण वाक्य-विचार एवं वाक्य शुद्धि

15. निम्नलिखित में संयुक्त वाक्य कौन-सा है
(क) जब जब वह आया तब-तब तुम नहीं मिल सके।
(ख) मुझे बताओ कि तुम्हारा भाई कहाँ है।
(ग) राम ने रावण को मारा और कृष्ण ने कंस को मारा।
(घ) इन पक्षियों की अनेक प्रजातियाँ भारत में मिलती हैं।

16. निम्नलिखित वाक्यों को शुद्ध करके लिखिए
(क) मैंने अनेकों कहानियाँ पढीं।
(ख) मैंने बहते हुए पत्तों को देखा।
(ग) जनता ने सैनिकौं को उपहार भेजे।
(घ) हमारे वाला मकान खाली है।

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण वाक्य-विचार एवं वाक्य शुद्धि

Leave a Comment