RBSE Class 8 Hindi व्याकरण शब्द-रचना

Rajasthan Board RBSE Class 8 Hindi व्याकरण शब्द-रचना

RBSE Solutions for Class 8 Hindi

(i) उपसर्ग

बहुविकल्पीय प्रश्न

प्रश्न 1.
‘परीक्षा’ शब्द में प्रयुक्त उपसर्ग है
(अ) परि
(ब) परी
(स) पर
(द) प
उत्तर:
(अ) परि

प्रश्न 2.
‘अनुपयोग’ शब्द में प्रयुक्त उपसर्ग है
(अ) अनु
(ब) अन्
(स) अनुप
(द) अ
उत्तर:
(ब) अन्

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण शब्द-रचना

प्रश्न 3.
‘नीरोग’ शब्द में प्रयुक्त उपसर्ग है
(अ) नी
(ब) नि
(स) निः
(द) निर्
उत्तर:
(स) निः

प्रश्न 4.
‘संकल्प’ शब्द में प्रयुक्त उपसर्ग है
(अ) सं
(ब) संग
(स) संकल्
(द) सम्
उत्तर:
(द) सम्

प्रश्न 5.
‘प्रोज्ज्वल’ शब्द में प्रयुक्त उपसर्ग है
(अ) प्र
(ब) प्रो
(स) प्रोज्
(द) परि
उत्तर:
(अ) प्र

प्रश्न 6.
अन् उपसर्ग का प्रयोग हुआ है
(अ) अनुगामी
(ब) अनुपयोग
(स) अनुज
(द) अनुप्रयोग
उत्तर:
(ब) अनुपयोग

प्रश्न 7.
कौन-सा शब्द उपसर्ग युक्त नहीं है
(अ) भरपेट
(ब) प्रतिदिन
(स) अध्यक्ष
(द) रसोईघर
उत्तर:
(द) रसोईघर

प्रश्न 8.
‘हार’ में कौन-सा उपसर्ग लगाएँ कि उसका अर्थ छोड़ना बन जाए
(अ) अप
(ब) वि
(स) प्रति
(द) परि
उत्तर:
(द) परि

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण शब्द-रचना

प्रश्न 9.
‘उन्नीस’ शब्द में उपसर्ग एवं मूल शब्द का पृथक् रूप होगा
(अ) अत् + नीस
(ब) उन और बीस
(स) उन् + बीस
(द) उन और ईश।
उत्तर:
(द) उन और ईश।

प्रश्न 10.
“दुष्कर्म’ शब्द में उपसर्ग का प्रयोग हुआ है
(अ) दुष्
(ब) दुस्
(स) दुः
(द) दुश्
उत्तर:
(द) दुश्

प्रश्न 11.
संस्कृत में मुख्यतः उपसर्ग माने गए हैं
(अ) बीस
(ब) बाईस
(स) अठारह
(द) तीस
उत्तर:
(ब) बाईस

रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए

  1. छात्र अध्यापक का ………… मानते हैं। (सम्मान, अनुदेश, अधिकार)
  2. राममोहन हर काम में …………. करता है। (सहयोग, सहानुभूति, विराम)
  3. वन का राजा सिंह अब ……………. रहता है। (आधा भूखा, अशांत, उन्मन)
  4. सबके …………. से शादी सम्पन्न हुई। (सहयोग, सहानुभूति, सहमति)
  5. घर के लोग उनकी ………. करते हैं। (सम्मान, सहायता, सहयोग)

उत्तर:

  1. अनुदेश
  2. सहयोग
  3. आधा भूखा
  4. सहयोग
  5. सहायता।

अतिलघु/लघूत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 12.
उपसर्ग किसे कहते हैं?
उत्तर:
उपसर्ग वे शब्दांश हैं, जो किसी शब्द के पर्व (पहले) जुड़कर उसके अर्थ में कुछ परिवर्तन ला देते हैं अथवा उसके अर्थ को पूरी तरह बदल देते हैं।

प्रश्न 13.
हिंदी में उपसर्ग कितने प्रकार के माने गए हैं?
उत्तर:
हिंदी में उपसर्ग तीन प्रकार के होते हैं:

  1. संस्कृत उपसर्ग
  2. हिंदी उपसर्ग
  3. विदेशी उपसर्ग।।

प्रश्न 14.
भाषा में उपसर्ग का क्या महत्त्व है? उदाहरण सहित समझाइए।
उत्तर:
भाषा में इन शब्दांशों का स्वतंत्र रूप नहीं होता परन्तु शब्द से पूर्व लगकर उस शब्द का विशेष अर्थ हो जाता है।
जैसे – ‘हार’ उपसर्ग से – आहार = भोजन, उपहार = भेंट, प्रहार = चोट आदि नए शब्द बन गये।

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण शब्द-रचना

प्रश्न 15.
निम्न में उपसर्ग एवं मूल शब्द पृथक् कीजिए
अनन्त, परीक्षा, प्रोज्ज्वल, अनुपयोग, नीरोग, संकल्प, नास्तिक, परिच्छेद।
उत्तर:
अनन्त = अन् + अन्त नीरोग = निः + रोग
परीक्षा = परि + इच्छा संकल्प = सम् + कल्प
प्रोज्ज्वल = प्र + उत् + ज्वल नास्तिक = न + आस्तिक
अनुपयोग = अन् + उपयोग परिच्छेद = परि + छेद

प्रश्न 16.
विदेशी उपसर्ग किसे कहते हैं? किन्हीं चार का उल्लेख कीजिए।
उत्तर:
हिंदी भाषा में अन्य भाषाओं के शब्द भी प्रयुक्त होते हैं फलतः उनके उपसर्गों को हिन्दी में विदेशी उपसर्ग कहते हैं। जैसे-
बे = रहित – बेघर, बेदर्द
दर = में – दरअसल, दरहकीकत
हम = साथ – हमसफर, हमदर्द
हेड = प्रमुख – हेड मास्टर, हेड आफिस

प्रश्न 17.
उपसर्ग लगाकर प्रत्येक के दो-दो शब्द बनाइए : अ, अति, अध, निर्, निस्, उन, खुश, दुर्, दुस्, परा
उत्तर:
अ = नहीं – अनाथ, अबोध
अति = अधिक/परे – अतिशय, अत्याचार
अध = आधा – अधमरा, अधपका
निर् = बिना/बाहर – निरक्षर, निरादर
निस्. = बिना/बाहर – निस्तेज, निष्काम
उन = एक कम – उनतीस, उनसठ
खुश = श्रेष्ठ – खुशबू, खुशदिल
दुर् = कठिन/बुरा/विपरीत – दुराचार, दुर्गम
दुस् = कठिन/बुरा/विपरीत – दुस्साहस, दुष्कर्म
परा = पीछे/विपरीत – पराजय, पराक्रम

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण शब्द-रचना

प्रश्न 18.
निम्नलिखित शब्दों में से उपसर्ग छाँटकर लिखिए-
प्रतिदिन, विजय, सुमार्ग, आहार
उत्तर:
प्रति, वि, सु, आ।

प्रश्न 19.
निम्नलिखित शब्दों में से उपसर्ग छाँटकर लिखिए-
अतिशय, अधमरा, निरक्षर, निस्तेज।
उत्तर:
अति, अध, निर्, निस।

प्रश्न 20.
निम्नलिखित शब्दों में से उपसर्ग छाँटकर लिखिए-
खुशदिल, दुर्गम, दुस्साहस, पराजय।
उत्तर:
खुश, दुर्, दुस्, परा।।

प्रश्न 21.
निम्नलिखित शब्दों में से उपसर्ग छाँटकर लिखिए
अनंत, परीक्षा, प्रोज्ज्वल, अनुप्रयोग।
उत्तर:
अन्, परि, प्र + उत्, अनु।

प्रश्न 22.
निम्नलिखित शब्दों में से उपसर्ग छाँटकर लिखिए
बेदर्द, दरअसल, हमसफर, नास्तिक।
उत्तर:
बे, दर, हम, न।

(ii) प्रत्यय

बहुविकल्पात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
किस शब्द में सही प्रत्यय का प्रयोग नहीं हुआ है
(अ) स्वाभाविक
(ब) भिखारी
(स) ठाकुराइन
(द) भुलक्कड़
उत्तर:
(स) ठाकुराइन

प्रश्न 2.
‘पुराण’ में ‘इक’ प्रत्यय लगाने से सही शब्द होगा-
(अ) पुराणिक
(ब) पौराणिक
(स) पोराणिक
(द) पुराणेक
उत्तर:
(ब) पौराणिक

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण शब्द-रचना

प्रश्न 3.
‘य’ प्रत्यय युक्त शब्द नहीं है
(अ) भारतीय
(ब) आदित्य
(स) सौंदर्य
(द) औदार्य
उत्तर:
(अ) भारतीय

प्रश्न 4.
निम्न में से कृदंत प्रत्यय प्रयुक्त हुआ है
(अ) मिठाई
(ब) चढ़ाई
(स) ऊँचाई
(द) सफाई
उत्तर:
(ब) चढ़ाई

प्रश्न 5.
किस शब्द में ‘इनी’ प्रत्यय का सही प्रयोग है
(अ) हंसिनी
(ब) सरोजिनी
(स) हथिनी
(द) भिखारिनी
उत्तर:
(द) भिखारिनी

प्रश्न 6.
किस शब्द में ‘आ’ प्रत्यय का सही प्रयोग है
(अ) परिन्दा
(ब) अनुजा
(स) शर्मिदा
(द) पूजा
उत्तर:
(ब) अनुजा

रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए

  1. देश की …….. बढ़ने के साथ खाद्य वस्तुओं के दाम बढ़े हैं। (आबाद)
  2. किसी की ………. में मदद करना सबसे बड़ा धर्म है। (गरीब)
  3. वह ………. है इसलिए लोग उसका भरोसा नहीं करते हैं।
  4. आजादी की ……… में बहुत लोग शहीद हो गए। (लड़ना)

उत्तर:

  1. आबादी
  2. गरीबी
  3. धोखेबाज
  4. लड़ाई।

अतिलघु/लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 7.
प्रत्यय किसे कहते हैं?
उत्तर:
प्रत्यय वे शब्दांश हैं, जो किसी शब्द के अंत में जुड़कर उसके अर्थ में कुछ परिवर्तन कर देते हैं या पूरी तरह बदल देते हैं; जैसे – हिरन + ई = हिरनी, बल + हीन = बलहीन।

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण शब्द-रचना

प्रश्न 8.
प्रत्यय कितने प्रकार के होते हैं?
उत्तर:
प्रत्यय दो प्रकार के होते हैं

  1. कृत् – जो प्रत्यय धातु शब्दों के अंत में प्रयुक्त हों वे ‘कृत्’ प्रत्यय कहलाते हैं उन्हें कृदंत भी कहते हैं जैसे- अक, बैठ + अक = बैठक।
  2. तद्धित – जो प्रत्यय धातु के अतिरिक्त अन्य शब्दों के साथ जोड़े जाते हैं, उन्हें तद्धित प्रत्यय कहते हैं; जैसे- काला + इमा = कालिमा ।

प्रश्न 9.
निम्नलिखित शब्दों में से प्रत्यय छाँटकर लिखिएलड़कपन, सीमित, लकड़हारा, यादगार, मिठाई, ठकुराइन।
उत्तर:
लड़का + पन, सीमा + इत, लकड़ी + हारा, याद + गार, मीठा + आई, ठाकुर + आइन।

प्रश्न 10.
समाज में ‘इक’ प्रत्यय जोड़ने पर सामाजिक बना। इसी प्रकार ‘इक’ प्रत्यय जोड़कर चार नए शब्द बनाइए।
उत्तर:
साप्ताहिक, लौकिक, मौखिक, वार्षिक।

प्रश्न 11.
‘दायक’ प्रत्यय लगाकर चार शब्द बनाइए।
उत्तर:
सुखदायक, दुखदायक, गुणदायक, वरदायक।

प्रश्न 12.
‘इत’ प्रत्यय लगाकर चार शब्द बनाइए।
उत्तर:
आनंदित, बाधित, चालित, दुखित।

प्रश्न 13.
‘ईय’ प्रत्यय जोड़कर चार शब्द बनाइए।
उत्तर:
अनुकरणीय, शोचनीय, वंदनीय, दयनीय।

प्रश्न 14.
“एरा’ प्रत्यय लगाकर चार शब्द बनाइए।
उत्तर:
ममेरा, चचेरा, सपेरा, लुटेरा।

प्रश्न 15.
निम्नलिखित प्रत्ययों से दो-दो शब्द बनाइएत्व, गीर, आनी, इया, ईय, ऐला, आवट, ता, औती, आहट।
उत्तर:
त्व = मनुष्यत्व, बंधुत्व। गीर = राहगीर, आलमगीर। आनी = जिठानी, सेठानी। इया = आढ़तिया, खटिया। ईय = पठनीय, दर्शनीय। ऐला = बनैला, विषैला। आवट = लिखावट, दिखावट। ता = योग्यता, पात्रता। औती = कटौती, फिरौती। आहट = घबराहट, चिकनाहट।।

प्रश्न 16.
निम्न में उपसर्ग और प्रत्यय छाँटकर लिखिए: वैज्ञानिक, बेरोजगारी, अमानवीय, निर्ममता, अनगढ़पन अपमानित, असामाजिक।
उत्तर:
वैज्ञानिक = वि + ज्ञान + इक। बेरोजगारी = बे + रोजगार + ई। अमानवीय = अ + मानव + ईय। निर्ममता = निर् + मम + ता। अनगढ़पन = अन + गढ़ + पन। अपमानित = अप + मान + इत। असामाजिक = अ + समाज + इक।

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण शब्द-रचना

प्रश्न 17.
निम्न शब्दों में दो-दो प्रत्यय जड़े हैं, उन्हें छाँटकर मूल शब्द से अलग करके लिखिए:
दुकानदारी, जिल्दसाजी, दिखावटी, मानवीयता सामाजिकता।
उत्तर:
दुकानदारी = दुकान + दार + ई। जिल्दसाजी = जिल्द + साज + ई। दिखावटी = दिखा + आवट + ई। मानवीयता = मानव + ईय + ता। सामाजिकता = समाज + इक + ता।

प्रश्न 18.
दिए गए मूल शब्दों में उपयुक्त प्रत्यय जोड़कर शब्द बनाइए
(क) सुन्दर
(ख) पढ़
उत्तर:
(क) सुन्दर+ता = सुन्दरता।
(ख) पढ़+आई = पढ़ाई।

प्रश्न 19.
दिए गए मूल शब्दों में उपयुक्त प्रत्यय जोड़कर शब्द बनाइए
(क) झगड़ा
(ख) धन
उत्तर:
(क) झगड़ा + आलू = झगड़ालू।
(ख) धन + वान् = धनवान्।

प्रश्न 20.
दिए गए मूल शब्दों में उपयुक्त प्रत्यय जोड़कर शब्द बनाइए
(क) महत्
(ख) वृद्ध
उत्तर:
(क) महत्त्व = महत्त्व।
(ख) वृद्धत्व = वृद्धत्व।.

प्रश्न 21.
निम्नलिखित शब्दों में विद्यमान प्रत्यय, उपसर्ग एवं मूल शब्द छाँटिए
उत्तर:
1. निरीह – उपसर्ग – निर्, मूलशब्द – ईह।
भावित – मूलशब्द – भाव, प्रत्यय – इत।

2. आर्थिक – अर्थ, मूलशब्द – अर्थ, प्रत्यय – इक।
उपहार- उपसर्ग – उप, मूलशब्द – हार।

3. अनंत – उपसर्ग – अन्, मूलशब्द – अंत।
पौराणिक – मूलशब्द – पुराण, प्रत्यय – इक।

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण शब्द-रचना

4. गौरव – मूलशब्द – गुरु, प्रत्यय – अव।
अत्यंत – उपसर्ग – अति, मूलशब्द – अन्त।

5. अध्यादेश – उपसर्ग – अधि, मूलशब्द – आदेश।
पाठक – मूलशब्द – पाठ, प्रत्यय – अक।

6. आध्यात्मिक – उपसर्ग – अधि, मूलशब्द – आत्म।
न्यून – उपसर्ग – नि, मूलशब्द – ऊन, प्रत्यय – इक।

7. निर्धन- उपसर्ग – निर्, मूलशब्द – धन,
यौगिक- मूलशब्द – योग, प्रत्यय – इक।

8. संसार – उपसर्ग – सम्, मूलशब्द – सार।
बालक – मूलशब्द – बाल, प्रत्यय – क।

9. प्रशासन -उपसर्ग – प्र, मूलशब्द – शासन।
दूरी – मूलशब्द – दूर, प्रत्यय – ई।

10. अप्रिय – उपसर्ग – अ, मूलशब्द – प्रिय।
वृद्धा – मूलशब्द – वृद्ध, प्रत्यय – आ।

11. नैतिक – मूलशब्द – नीति, प्रत्यय – इक।
आहार – उपसर्ग – आ, मूलशब्द – हार।

12. पढ़ना – मूलशब्द – पढ़, प्रत्यय – ना।
निर्बल – उपसर्ग – निर्, मूलशब्द – बल।

13. विदित – मूलशब्द – विद्। प्रत्यय – इत।
अनुमान – उपसर्ग – अनु, मूलशब्द – मान।

14. लुटिया – मूलशब्द – लोटा, प्रत्यय – इया।
विज्ञान – उपसर्ग – वि, मूलशब्द – ज्ञान।

15. भौगोलिक – मूलशब्द – भूगोल, प्रत्यय – इक।
अपव्यय – उपसर्ग – अप, मूलशब्द – व्यय।

16. लेखा – मूलशब्द – लेख, प्रत्यय – आ।
संतोष – उपसर्ग – सम्, मूलशब्द – तोष।

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण शब्द-रचना

(iii) समास

बहुविकल्पात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
समास के कितने भेद हैं
(अ) छः
(ब) चार
(स) पाँच
(द) तीन
उत्तर:
(अ) छः

प्रश्न 2.
तत्पुरुष समास में कौन-सा पद प्रधान होता है
(अ) प्रथम
(ब) द्वितीय
(स) समस्त
(द) तृतीय
उत्तर:
(ब) द्वितीय

प्रश्न 3.
किस समास में पहला पद संख्यावाचक होता है
(अ) द्वंद्व समास में
(ब) द्विगु समास में
(स) कर्मधारय समास में
(द) तत्पुरुष समास में
उत्तर:
(ब) द्विगु समास में

प्रश्न 4.
‘सप्तसिंधु’ शब्द में समास का क्या नाम है
(अ) द्विगु समास
(ब) बहुव्रीहि समास
(स) कर्मधारय समास
(द) द्वंद्व समास
उत्तर:
(अ) द्विगु समास

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण शब्द-रचना

प्रश्न 5.
जिस समस्त पद का पहला पद अव्यय हो, उसे कहा जाता है
(अ) बहुव्रीहि
(ब) द्विगु
(स) कर्मधारय
(द) अव्ययीभाव
उत्तर:
(द) अव्ययीभाव

प्रश्न 6.
‘लोकप्रिय’ शब्द में समास है-
(अ) तत्पुरुष
(ब) द्विगु
(स) कर्मधारय
(द) बहुव्रीहि
उत्तर:
(अ) तत्पुरुष

प्रश्न 7.
‘यथाशक्ति’ शब्दों में समास है
(अ) अव्ययीभाव
(ब) कर्मधारय
(स) द्विगु
(द) द्वन्द्व
उत्तर:
(अ) अव्ययीभाव

प्रश्न 8.
द्वन्द्व समास का उदाहरण है
(अ) रावण
(ब) माता-पिता
(स) घनश्याम
(द) त्रिलोकी
उत्तर:
(ब) माता-पिता

प्रश्न 9.
‘राजपुरुष’ शब्द में समास है
(अ) कर्मधारय
(ब) द्विगु
(स) तत्पुरुष
(द) द्वन्द्व
उत्तर:
(स) तत्पुरुष

प्रश्न 10.
द्विगु समास का उदाहरण है
(अ) शेरदिल
(ब) शूलपाणि
(स) प्रतिदिन
(द) सप्तर्षि
उत्तर:
(द) सप्तर्षि

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण शब्द-रचना

प्रश्न 11.
‘चतुर्भुज’ शब्द में समास है
(अ) बहुव्रीहि
(ब) द्विगु
(स) कर्मधारय
(द) अव्ययीभाव
उत्तर:
(अ) बहुव्रीहि

रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए

  1. सूरदास ………….. के भक्त थे। (पीतांबर, नीलकंठ, चतुर्मुख)
  2. मेरी …………… परीक्षा अक्टूबर में होगी। (वार्षिक, तिमाही, अर्धवार्षिक)
  3. सेना के जवानों को …………. देखते ही जोश आ जाता है। (तिरंगा, हिमालय, गंगा)
  4. हमारी संस्कृति में ………………. सर्वप्रथम पूजे जाते (लंबोदर, नीलकंठ, विष्णु)
  5. लंका के राजा ………… ने राम की पत्नी का हरण किया। (दशानन, विभीषण, कुंभकरण)

उत्तर:

  1. पीतांबर
  2. अर्द्धवार्षिक
  3. तिरंगा
  4. लंबोदर
  5. दशानन।।

अतिलघु/लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 12.
समास का अर्थ बताइए।
उत्तर:
विभक्तिविहीन दो या दो से अधिक शब्दों के सार्थक योग को समास कहते हैं।

प्रश्न 13.
समास कितने प्रकार के होते हैं, नाम लिखिए।
उत्तर:
समास छः प्रकार के होते हैं-

  1. तत्पुरुष
  2. अव्ययीभाव
  3. कर्मधारय
  4. द्विगु
  5. द्वंद्व
  6. बहुव्रीहि।

प्रश्न 14.
कर्मधारय और द्विगु समासों का अन्तर लिखिए और उदाहरण दीजिए।
उत्तर:
कर्मधारय समास में पहला पद विशेषण और दूसरा पद विशेष्य होता है, जैसे- नीलकमल। द्विगु समास में पहला पद संख्यावाचक होता है, जैसेत्रिशूल = त्रि+शूल। दोनों में यही अंतर है।

प्रश्न 15.
बहुव्रीहि समास किसे कहते हैं, उदाहरण सहित समझाइए।
उत्तर:
बहुव्रीहि समास में विशेष अर्थ प्रधान होता है, जैसे- दशानन, दश हैं आनन जिसके अर्थात् रावण। यहाँ तीसरा अर्थात् विशेष अर्थ प्रधान है।

प्रश्न 16.
तत्पुरुष समास के कितने भेद हैं? लिखिए।
उत्तर:
तत्पुरुष समास के कर्म कारक से अधिकरण तक छः भेद हैं।

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण शब्द-रचना

निम्न शब्दों के समस्त पद बनाकर समास का नाम लिखिए

प्रश्न 17.

  1. नील है जो कमल,
  2. शक्ति के अनुसार

उत्तर:

  1. नील कमल – कर्मधारय
  2. यथा शक्ति – अव्ययीभाव

प्रश्न 18.

  1. दान के लिए पात्र
  2. बिना डर के।

उत्तर:

  1. दानपात्र – तत्पुरुष।
  2. निडर – अव्ययीभाव।

प्रश्न 19.

  1. सीता और राम
  2. तीन फलों का समूह।

उत्तर:

  1. सीताराम – द्वन्द्व।
  2. त्रिफला – द्विगु।

प्रश्न 20.

  1. चार मुख हैं जिसके वह
  2. रेखा से अंकित।

उत्तर:

  1. ब्रह्मा – बहुव्रीहि।
  2. रेखांकित- तत्पुरुष।

प्रश्न 21.

  1. शक्ति के अनुसार
  2. सुख और दुख।

उत्तर:

  1. यथाशक्ति – अव्ययीभाव
  2. सुख-दुख- द्वन्द्व।

प्रश्न 22.
निम्नलिखित समस्त पदों का समास-विग्रह करके समास का नाम बताइए:
चक्रधर, तिरंगा, पाप-पुण्य, नीलकंठ, दूध-दही, बारहसिंगा, सतसई।
उत्तर:
चक्रधर = चक्र धारण करता है जो, विष्णु (बहुव्रीहि समास) तिरंगा = तीन हैं रंग जिसके भारतीय ध्वज तीसरा अर्थ प्रधान है अतः बहुव्रीहि समास है। पाप-पुण्य = पाप और पुण्य (वंद्व समास) नीलकंठ = नीला है कंठ जिसका, शिवजी, शंकर (बहुव्रीहि समास) दूध-दही = दूध और दही, (द्वंद्व समास) बारहसिंगा = बारह हैं सींग जिसके एक पशु, तीसरा अर्थ प्रधान = (बहुव्रीहि समास) सतसई = सात सौ दोहों का समूह = एक पुस्तक (बहुव्रीहि समास)।

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण शब्द-रचना

प्रश्न 23.
निम्नलिखित समासों की परिभाषा लिखिएअव्ययीभाव, द्विगु, कर्मधारय, बहुव्रीहि।
उत्तर:
अव्ययीभाव – जिसका पहला पद अव्यय है जैसे- प्रतिदिन। विग – जिसका पहला पद संख्यावाची हो, जैसे- पंचरत्न। कर्मधारय – जिसका पहला पद विशेषण और दूसरा पद विशेष्य हो, उसे कर्मधारय समास कहते हैं। जैसे- नीलगाय = नीली गाय। बहव्रीहि = जिसका अन्य अर्थ प्रधान हो, जैसे- चतुर्मुख चार मुख हैं जिसके, ब्रह्मा।

प्रश्न 24.
निम्नलिखित के समस्तपद बनाकर उनके समास का नाम लिखिएघन जैसा श्याम, दूषित है जो कर्म, शुभ है जो आगमन, चंद्र जैसा मुख, भवरूपी सागर, जो राजा है और ऋषि भी,
मृग के समान नयन, नौ रत्नों का समूह।
उत्तर:
घनश्याम = कर्मधारय।
दुष्कर्म = कर्मधारय।
शुभागमन = कर्मधारय।
चन्द्रमुख = कर्मधारय।
भवसागर = कर्मधारय।
राजर्षि = कर्मधारय।
मृगनयन = कर्मधारय।
नवरत्न = द्विग।।

प्रश्न 25.
निम्नलिखित शब्दों के विग्रह दो प्रकार से होकर दो भिन्न समासों का बोध कराते हैं। विग्रह कर नामोल्लेख कीजिए : पीतांबर, पुरुषोत्तम, घनश्याम, चतुर्भुज।
उत्तर:
पीतांबर = पीत+अंबर है जो कर्मधारय = पीत है अंबर जिसका; श्रीकृष्ण = बहुव्रीहि। पुरुषोत्तम = पुरुष में जो उत्तम = कर्मधारय। उत्तम पुरुष है जो, राम = बहुव्रीहि। घनश्याम = श्याम घन = कर्मधारय। श्याम घन जैसे हैं जो, श्रीकृष्ण = बहुव्रीहि। चतुर्भुज = चार हैं भुजा जिसकी, विष्णु = बहुव्रीहि। चार भुजाओं का समाहार = द्विगु।

प्रश्न 26.
तत्पुरुष समास किसे कहते हैं? उदाहरण सहित समझाइए।
उत्तर:
जिस समास में उत्तर पद प्रधान होता है तथा दोनों पदों के बीच से द्वितीया से सप्तमी विभक्ति तक के कारक चिह्नों का लोप होता है, वहाँ तत्पुरुष समास होता है । जैसे – गृहगत = घर को गया हुआ, रेखांकित = रेखा से अंकित, दानपात्र = दान के लिए पात्र, धर्मभ्रष्ट = धर्म से भ्रष्ट, राजदरबार = राजा का दरबार, जलमग्न = जल में मग्न (डूबा हुआ)।

प्रश्न 27.
अव्ययीभाव समास किसे कहते हैं? उदाहरण सहित समझाइए।
उत्तर:
जिस समास में पहला पद अव्यय और दूसरा पद संज्ञा होता है, उसे अव्ययीभाव समास कहते हैं। जैसे यथाशक्ति = शक्ति के अनुसार, प्रतिदिन = दिन – दिन, निडर = बिना डर के, आमरण = मरणपर्यंत।

प्रश्न 28.
कर्मधारय समास किसे कहते हैं? उदाहरण सहित समझाइए।
उत्तर:
जिस समास में पहला पद विशेषण और दूसरा पद विशेष्य होता है, उसे कर्मधारय समास कहते हैं। जैसेनीलकमल = नील है जो कमल, पीतवसन = पीत है जो वसन, चंद्रमुख = चंद्र के समान मुख, रक्तकमल = रक्त है जो कमल, सुपुत्र = अच्छा पुत्र।

प्रश्न 29.
द्विगु समास किसे कहते हैं? उदाहरण सहित समझाइए।
उत्तर:
जिस समास में पहला पद संख्यावाची और दूसरा पद संज्ञा होता है, वहाँ द्विगु समास होता है। जैसेत्रिभुवन = तीन भुवनों का समूह, त्रिफला = तीन फलों का समूह, अष्टकोण = आठ कोणों का समूह।

प्रश्न 30.
वंद्व समास किसे कहते हैं? उदाहरण सहित समझाइए।
उत्तर:
जिस समास में दोनों पदों की प्रधानता होती है तथा दोनों पदों के बीच ‘और’ शब्द का लोप होता है, वहाँ वंद्व समास होता है। जैसे- मातापिता = माता और पिता, राजा-प्रजा = राजा और प्रजा। सुख-दुख = सुख और दुख। सीताराम = सीता और राम।

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण शब्द-रचना

(iv) संधि

बहुविकल्पात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
‘उज्ज्वल’ शब्द का सन्धि-विच्छेद होगा
(अ) उत् + ज्वल
(ब) उज् + ज्वल
(स) उज्ज + वल
(द) उ + ज्वल
उत्तर:
(अ) उत् + ज्वल

प्रश्न 2.
‘भावुक’ शब्द का सन्धि-विच्छेद है
(अ) भा + वुक
(ब) भो + उक
(स) भाव + उक
(द) भ + उक
उत्तर:
(ब) भो + उक

प्रश्न 3.
‘प्रत्याशी’ शब्द का सन्धि विच्छेद है
(अ) प्र + त्याशी
(ब) प्रत्या + शी
(स) प्रति + आशी.
(द) प्रत्य + अशी
उत्तर:
(स) प्रति + आशी.

प्रश्न 4.
“निर्जन’ शब्द का सन्धि विच्छेद है
(अ) नि + र्जन
(ब) न + इर्जन
(स) निज + रन
(द) निः + जन
उत्तर:
(द) निः + जन

प्रश्न 5.
‘उल्लेख’ शब्द का सन्धि विच्छेद है
(अ) उत् + लेख
(ब) उल् + लेख
(स) उल्ले + ख
(द) उल्ल् + ईख
उत्तर:
(अ) उत् + लेख

प्रश्न 6.
उद्भव शब्द का सही संधि-विच्छेद है-
(अ) उद्+भाव
(ब) उत+भव
(स) उत्+भव
(द) उद+भव
उत्तर:
(स) उत्+भव

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण शब्द-रचना

प्रश्न 7.
संधि के कितने प्रकार हैं-
(अ) दो
(ब) चार
(स) पाँच
(द) तीन
उत्तर:
(द) तीन

प्रश्न 8.
ध्वनियों (वर्णों) के मेल को कहते हैं|
(अ) समास
(ब) संधि
(स) उपसर्ग
(द) प्रत्यय
उत्तर:
(ब) संधि

प्रश्न 9.
किस शब्द में विसर्ग संधि नहीं हुई है|
(अ) दुरवस्था
(ब) अतएव
(स) महोदय
(द) अंतश्चेतना
उत्तर:
(स) महोदय

प्रश्न 10.
व्यंजन सन्धि का उदाहरण है
(अ) नीरस
(ब) शंकर
(स) नायक
(द) अन्वेषण
उत्तर:
(ब) शंकर

रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए

  1. स्वर संधि का उदाहरण है ……………… । (न्यून, उद्यान, उल्लास, निश्चय)
  2. अयादि संधि का उदाहरण है ………..। (निष्काम, भावुक, रामायण)
  3. विसर्ग संधि का उदाहरण होगा …………. (विनय, पवित्र, निश्छल)
  4. व्यंजन संधि का उदाहरण है ……….. (निरक्षर, अन्वेषी, जगन्नाथ)
  5. यण संधि का उदाहरण है ……….। (षडानन, सत्कार, प्रत्येक)

उत्तर:

  1. न्यून
  2. भावुक
  3. निश्छल
  4. जगन्नाथ
  5. प्रत्येक।

अतिलघु/लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 11.
संधि किसे कहते हैं?
उत्तर:
दो वर्षों के मेल से ध्वनि में जो विकार उत्पन्न होता है, उसे संधि कहते हैं।

प्रश्न 12.
संधि कितने प्रकार की होती है?
उत्तर:
संधि तीन प्रकार की होती है:

  1. स्वर संधि
  2. व्यंजन संधि
  3. विसर्ग संधि।

प्रश्न 13.
स्वर संधि और व्यंजन संधि में अंतर लिखें।
उत्तर:
स्वर संधि में स्वर का स्वर से मेल होता है जबकि व्यंजन संधि में व्यंजन का व्यंजन से अथवा व्यंजन का स्वर से मेल होता है।

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण शब्द-रचना

प्रश्न 14.
स्वर संधि की परिभाषा एवं उसके भेद लिखिए।
उत्तर:
जहाँ दो स्वरों के मेल से विकार उत्पन्न होता है, वहाँ स्वर संधि होती है। यथा- महा + आशय = महाशय, अंबु + उर्मि = अम्बूर्मि। इसके पाँच भेद होते हैं-

  1. दीर्घ संधि
  2. गुण संधि
  3. वृद्धि संधि
  4. यण संधि
  5. अयादि संधि।

प्रश्न 15.
व्यंजन संधि की परिभाषा एवं कुछ उदाहरण लिखिए।
उत्तर:
व्यंजन के साथ व्यंजन अथवा स्वर से मेल होने पर जो विकार उत्पन्न होता है, उसे व्यंजन संधि कहते हैं। जैसे-
(क) सत् + चरित्र = सच्चरित्र,
(ख) शरत् + चंद्र = शरच्चंद्र,
(ग) उत् + लेख = उल्लेख।

प्रश्न 16.
विसर्ग संधि की परिभाषा एवं कुछ उदाहरण लिखिए।
उत्तर:
विसर्ग के साथ स्वर अथवा व्यंजन से मेल होने पर जो विकार उत्पन्न होता है, उसे विसर्ग सन्धि कहते हैं। जैसे-
(क) निः + जन = निर्जन
(ख) दु: + लभ = दुर्लभ
(ग) पयः + धर = पयोधर।

प्रश्न 17.
यण संधि की परिभाषा उदाहरण सहित लिखिए।
उत्तर:
इ ई उ ऊ या ऋ के परे असमान स्वर हो तो इ ई का य, उ ऊ, का व और ऋका र हो जाता है। जैसे – यदि + अपि = यद्यपि, प्रति + उपकार = प्रत्युपकार, मात्र + आज्ञा = मात्राज्ञा।

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण शब्द-रचना

प्रश्न 18.
अयादि संधि की परिभाषा सोदाहरण समझाइए।
उत्तर:
ए ऐ ओ औ से परे असमान स्वर हो, तो ए का अय, ऐ का आय, ओ का अव, औ का आव हो जाता है। जैसे- ने + अन = नयन, नै + इका = नायिका, पो + अन = पवन, पौ + अक = पावक।।

निम्न शब्दों में सन्धि अथवा सन्धि विच्छेद कर सन्धि का नाम बताइये

प्रश्न 19.

  1. परोपकार
  2. पयोधर।

उत्तर:

  1. पर + उपकार – गुण सन्धि।
  2. पयः + धर – विसर्ग सन्धि।

प्रश्न 20.

  1. यदि + अपि
  2. दिक् + अम्बर।

उत्तर:

  1. यद्यपि – यण सन्धि
  2. दिगम्बर – व्यंजन सन्धि।

प्रश्न 21.

  1. मातृ + आज्ञा
  2. पो + अन।

उत्तर:

  1. मात्राज्ञा – यण् सन्धि।
  2. पवन – अयादि सन्धि।

प्रश्न 22.

  1. जगदीश
  2. शयन

उत्तर:

  1. जगत + ईश – व्यञ्जन सन्धि।
  2. शे + अन – अयादि सन्धि।

प्रश्न 23.
संधि-विच्छेद कीजिए- भावुक, परोपकार, भानूदय, दिगंबर, अन्वेषण, अत्यधिक, प्रत्याशी, उद्भट, उल्लेख, उज्ज्वल, मधुरेश, उच्छृखल, विद्यार्थी।
उत्तर:
भावुक = भो + उक, पर + उपकार, भानु + उदय, दिक् + अम्बर, अनु + एषण, अति + अधिक, प्रति + आशी, उत् + भट, उत् + लेख, उत् + ज्वल, मधुर + ईश, उत् + श्रृंखल, विद्या + अर्थी।

प्रश्न 24.
संधि कीजिए – अति + अधिक, एक + एक, परि + छेद, उत् + गार, अभि+सेक, भाः + कर, उत् + लेख, निः + आशा, अधः + वस्त्र, मनः + योग।
उत्तर:
अति + अधिक = अत्यधिक, एक + एक = एकैक, परि + छेद = परिच्छेद, उत् + गार = उद्गार, अभि + सेक = अभिषेक, भाः + कर = भास्कर, उत् + लेख = उल्लेख, निः + आशा = निराशा, अधः + वस्त्र = अधोवस्त्र, मनः + योग = मनोयोग।

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण शब्द-रचना

(v) तत्सम एवं तद्भव

बहुविकल्पात्मक प्रश्न 

प्रश्न 1.
‘आम्र’ शब्द का तद्भव रूप है
(अ) आमी
(ब) आम
(स) अमिया
(द) अमन
उत्तर:
(ब) आम

प्रश्न 2.
‘घृत’ शब्द का तद्भव रूप है
(अ) मक्खन
(ब) घीया
(स) घर
(द) घी।
उत्तर:
(द) घी।

प्रश्न 3.
‘कूप’ शब्द का तद्भव रूप है
(अ) तालाब
(ब) कूपा
(स) कुआँ
(द) बावड़ी
उत्तर:
(स) कुआँ

प्रश्न 4.
‘तीरथ’ शब्द का तत्सम रूप होगा
(अ) तीर्थ
(ब) तैरना
(स) तुरई
(द) तीर्थाटन
उत्तर:
(अ) तीर्थ

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण शब्द-रचना

प्रश्न 5.
‘गर्मी’ शब्द का तत्सम रूप होगा
(अ) गरमाई
(ब) गरम
(स) ग्रीक
(द) ग्रीष्म
उत्तर:
(द) ग्रीष्म

प्रश्न 6.
‘आँसू’ शब्द का तत्सम रूप होगा
(अ) रुदन
(ब) अश्क
(स) ॲसुआ
(द) अश्रु
उत्तर:
(द) अश्रु

प्रश्न 7.
‘आखर’ शब्द का तत्सम रूप होगा
(अ) आँख
(ब) अक्ष
(स) अक्षर
(द) अक्षि
उत्तर:
(स) अक्षर

रिक्तस्थानों की पर्ति कीजिए

  1. व्यक्ति अपने ………… का स्वयं जिम्मेदार है। (कर्म, काम, व्यवहार)
  2. केवल …………. से ही व्यक्ति का सम्मान नहीं होता। (धन, बल, विद्या)
  3. साधु पुरुष सबका ……….. चाहते हैं। (हित, भलाई, समृद्धा)
  4. सूर्योदय के साथ ही ………. दूर हो जाता है। (रात, अँधेरा, कोहरा)
  5. आज्ञापालन ही सबसे बड़ी ……… है। (गुरु-भक्ति, गुरु-सेवा)

उत्तर:

  1. व्यवहार
  2. धन
  3. हित
  4. अँधेरा
  5. गुरु-सेवा।

अतिलघु/लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 8.
हिंदी शब्द-निर्माण के कितने आधार हैं? बताइए।
उत्तर:
हिंदी शब्द निर्माण के चार प्रमुख आधार हैं
(अ) उत्पत्ति के आधार पर,
(ब) रचना के आधार पर,
(स) अर्थ के आधार पर,
(द) प्रयोग के आधार पर।

प्रश्न 9.
उत्पत्ति के आधार पर हिंदी शब्द-निर्माण को कितने भागों में बाँटा जाता है?
उत्तर:
उत्पत्ति के आधार पर हिंदी शब्दों को पाँच भागों में बाँटा जाता है:
(क) तत्सम
(ख) तद्भव
(ग) देशज
(घ) विदेशी
(ङ) संकर।

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण शब्द-रचना

प्रश्न 10.
तत्सम और तद्भव शब्द किन्हें कहते हैं?
उत्तर:
संस्कृत भाषा के शब्दों का जब हिंदी भाषा में ज्यों का त्यों प्रयोग होता है तो उन्हें ‘तत्सम’ कहा जाता है। जैसे – तीर्थ, कर्म, पवन, सर्प आदि। तद्भव शब्द वे हैं जो हिंदी में संस्कृत (तत्सम) शब्दों से विकसित या उत्पन्न होकर हिंदी में प्रयुक्त होते हैं जैसे – तीर्थ से तीरथ, कर्म से करम या काम, अक्षि से आँख।

प्रश्न 11.
निम्नलिखित तद्भव शब्दों के तत्सम रूप लिखिए
अगम – अगम्य, अजान – अज्ञान, घोड़ा – घोटक, कातिक – कार्तिक, घी – घृत, चमड़ा – चर्म, उजला – उज्ज्व ल, औसर – अवसर, खीर – क्षीर, गाँठ – ग्रंथि, डंक-दंश, पत्थर – प्रस्तर, आँसू – अश्रु, आग – अग्नि, गधा – गर्दभ, कड़वा – कटु, चाँदनी – चन्द्रिका, किरन – किरण, घर – गृह, जाँघ – जंघा, चौथा – चतुर्थ, जस – यश, चूरन – चूर्ण, काम – कर्म, किवाड़ – कपाट, उल्लू – उलूक, चौथ – चतुर्थी, चौदह – चतुर्दश, ऊँचा – उच्च, छाता – छत्र, ओठ – ओष्ठ, कछुआ – कच्छप, काठ – काष्ठ, कान – कर्ण, अकाज – अकार्य, अमोल – अमूल, अचरज – आश्चर्य, अच्छर – अक्षर, अमिय – अमृत, अँधेरा- अंधकार, असीस – आशिष, आसराआश्रय, आधा – अर्द्ध, कपूत – कुपुत्र, गेहूँ- गोधूम, गोबर – गोमय, ईख- इक्षु, गाय – गौ, जेठ- ज्येष्ठ, ताँबा – ताम्र, बत्ती- वर्तिका, थल – स्थल, जमुना – यमुना, बारात – वरयात्रा, दूध- दुग्ध, दूब – दूर्वा, भंग-भग्न, दीया – दीप, नीम-निम्ब, तीरथ – तीर्थ, धान – धान्य, रात-रात्रि, नंगा-नग्न, रीता-रिक्त, नरम-नम्र, रीछ-ऋक्ष, सेठ-श्रेष्ठी, नाक-नासिका, सुई-सूची, पत्ता-पत्र, साँप-सर्प, सींग-शृंग, पलंग-पर्यंक, साँकल| श्रृंखला, पूँछ-पुच्छ, हाथी-हस्ति, राजपूत-राजपुत्र, मिट्टी-मृत्तिका, छीन-क्षीण, धूरि – धूलि, भौंरा-भ्रमर, रस्सी – रज्जु, मूंछ-श्मश्रु, सूखा-शुष्क, ससुर-श्वसुर, लौंग-लवंग, सावन-श्रावण, घिन-घृणा, धुआँ-धूम्र, उछाह-उत्साह, पंथ-पथ, पंगत-पंक्ति, बछड़ा-वत्स, बहू-वधू, बच्चा-वत्स, बड़-वट, बुड्ढा -वृद्ध, पानी-पानीय, पूत-पुत्र, पीठ-पृष्ठ, मोती-मौक्तिक, मक्खी -मक्षिक, मोर-मयूर।

(vi) देशी, विदेशी एवं संकर शब्द

लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
‘देशज’ शब्द किसे कहते हैं? उदाहरण दीजिए।
उत्तर:
किसी भी भाषा के वे शब्द जिनकी व्युत्पत्ति, स्रोत आदि का पता न हो तथा जिन्हें जनता द्वारा आवश्यकतानुसार गढ़ लिया गया हो, ‘देशज’ शब्द कहलाते हैं। इनके अतिरिक्त उन शब्दों को भी देशज कहा जाता है जिनकी व्युत्पत्ति या स्रोत का कोई पता नहीं होता अथवा जो शब्द अन्य भारतीय भाषाओं से आकर हिन्दी में प्रयुक्त होते हैं। जैसे-
(अ) ध्वनि के आधार पर अपनी गढंत से बने शब्द- ऊधम, अंगोछा, खचाखच, गड़गड़ाना, चहचहाना, चिंघाड़ना, बड़बड़ाना, लपलपाना, मिमियाना, हिनहिनाना, बलबलाना, खटपट, खर्राटा, खिड़की, चुटकी, झंडा, झगड़ा, चिमटा, चाट, चुटकी, खुरपा, छलछलाना, टटू, ठठेरा, बटलोई, बाप, बुद्धू, भोला, मकई, मुक्का, लड़की, लुग्दी, लोटा, लोटपोट, ढाँचा, डोर, दीदी, पटाखा, चट्टी, घेवर आदि।

(ब) द्रविड़ भाषाओं के शब्द-अनल, कज्जल, नीर, पंडित, माला, मीन, काच, कटी, चिकना, ताला, सुँगी, डोसा, इडली आदि।

(स) कोल, संथाल आदि जातियों की भाषा से बने शब्द-कदली से केला, कर्पास से कपास, सरसों, कोड़ी, तम्बू, परवल, बाजरा, भिंडी आदि।

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण शब्द-रचना

प्रश्न 2.
‘विदेशी’ शब्द किसे कहते हैं? उदाहरण सहित समझाइए।
उत्तर:
विदेशी शब्द – जो शब्द राजनीतिक, आर्थिक, धार्मिक एवं सांस्कृतिक कारणों से किसी भाषा में अन्य देशों को भाषाओं से आ जाते हैं, उन्हें विदेशी शब्द कहते हैं। हिंदी भाषा में पुर्तगाली, फ्रांसीसी, अंग्रेजी, तुर्की, अरबी, फारसी, चीनी, डच, जर्मनी, जापानी, तिब्बती, रूसी, यूनानी आदि भाषाओं के शब्दों का प्रयोग भी होता है जैसे –
(क) पुर्तगाली शब्द – आलू, आया (नौकरानी), आलपिन, अगस्त, अचार, अन्नानास, इस्पात, कनस्तर, कमीज, कमरा, कारबन, गमला, गोभी, गोदाम, चाबी, तौलिया, नीलाम, पीपा, पादरी, पिस्तौल, फीता, बस्ता, बटन, बाल्टी, पपीता, प्याला, पतलून, मेज, लबादा, संतरा, साबुन।

(ख) फ्रांसीसी शब्द – अंग्रेज, काजू, कारतूस, कूपन, टेबुल, मेयर, मार्शल, मीनू, रेस्ट्राँ, सूप आदि।

(ग) अंग्रेजी शब्द – वियर, एक्स-रे, क्रिकेट, क्लर्क, कापी, केमरा, चैक, टायर, ट्यूब, ट्रक, डॉक्टर, पेन, प्लेटफार्म, पाउडर, फिल्म, फाइल, बैंक, बुश्शर्ट, मास्टर, रेडियो, रेल, शर्ट, सूट, सिलैंडर, स्कूटर आदि।

(घ) तुर्की भाषा के शब्द – आका, उर्दू, काबू, खाँ, कैंची, कुर्की, कलंगी, कालीन, खंजर, चिक, चोगा, तमाशा, तोप, बारूद, बीबी, बाबर्ची, मुगल, लाश आदि।

(ङ) अरबी भाषा के शब्द – अक्ल, अजीब, अदालत, आजाद, आदमी, इज्जत, इलाज, इनाम, इस्तीफा, औलाद, कमाल, कब्जा, कुर्सी, किताब, कीमत, गरीब, जलसा, जवाब, जुर्माना, तारीख, ताकत, तराजू, दौलत, नतीजा, नशा, फकीर, फैसला, बहस, मदद, लिफाफा, वकील, शतरंज, शादी, हलवाई, हिसाब, हिम्मत, हुक्म आदि।

(च) फारसी भाषा के शब्द – अखबार, अमरूद, आराम, आसमान, कमर, कमीना, कुश्ती, खराब, खर्च, खून, गवाह, गुब्बारा, गुलाब, जेब, जगह, जमीन, जलेबी, तनख्वाह, दर्जी, दवा, दीवार, नमक, बीमार, मजदूर मलाई, यार, शेर, शराब, सूखा, सूद, सेर, सुल्तान आदि।

(छ) चीनी – चाय, लीची, लोकाट, तूफान।

(ज) डच – तुरुप, बम, चिड़िया, ड्रिल।

(झ) जर्मनी- नात्सी, नाजीवाद, किंडर गार्टन।

(ट) जापानी- रिक्शा, सायोनारा।

(ठ) तिब्बती- लामा, डाँडी।

(ड) रूसी – जार, सोवियत, रूबल, स्पुतनिक, बुजुर्ग।

(ढ) यूनानी – एकेडमी, एटम, एटलस, टेलीफोन, बाइबिल।

RBSE Class 8 Hindi व्याकरण शब्द-रचना

प्रश्न 3.
संकर शब्द किसे कहते हैं? उदाहरण सहित बताइए।
उत्तर:
संकर शब्द – हिंदी में प्रयुक्त वे शब्द जो दो अलग-अलग भाषाओं के शब्दों को मिलाकर बना लिए गए हैं, संकर शब्द कहलाते हैं। जैसे – टिकटघर – टिकिट (अंग्रेजी) + घर (हिंदी) नेकचलन – नेक (फारसी) + चलन (हिंदी) बेढंगा = बे (फारसी) + ढंगा (हिंदी) रेलगाड़ी = रेल (अंग्रेजी) + गाड़ी (हिंदी) कवि-दरबार = कवि (संस्कृत) + दरबार (फारसी) जाँचकर्ता = जाँच (फारसी) + कर्ता (संस्कृत)

Leave a Comment