RBSE Class 8 Hindi रचना पत्र-लेखन

Rajasthan Board RBSE Class 8 Hindi रचना पत्र-लेखन

RBSE Solutions for Class 8 Hindi

1. व्यक्तिगत अथवा पारिवारिक पत्र

प्रश्न 1.
आप अपने को जयपुर में रहकर पढ़ने वाले अंशुल मानकर अपने पिताजी से 500 रुपये मँगवाने के लिए पत्र लिखिए।
उत्तर:

ए-47, वैशाली नगर,
जयपुर
दि. 2. 8. 20

परम आदरणीय पिताजी,
सादर चरण-स्पर्श।
आपका पत्र मिला। पढ़कर हार्दिक प्रसन्नता हुई। मेरी पढ़ाई यहाँ ठीक प्रकार से चल रही है। घर से आते समय जो रुपये आपने दिए थे, विद्यालय की फीस एवं कुछ नई पुस्तकें लेने में खर्च हो गए हैं । कमरे का मासिक किराया देने की तिथि भी नजदीक आ गई है। अभी एक माह और घर न आ सकूँगा। इसलिए यह पत्र प्राप्त होते ही पाँच सौ रुपये भेज दें तो अति उत्तम रहेगा। मैं यहाँ आपकी इच्छा के अनुसार ही स्वास्थ्य के प्रति भी ध्यान दे रहा हूँ। पूजनीया माताजी को मेरा चरण-स्पर्श, छोटू को प्यार।

आपका आज्ञापालक पुत्र
अंशुल

प्रश्न  2.
आप अपने को जोधपुर में पढ़ने वाले जयराम मानकर अपने अर्धवार्षिक परीक्षाफल के बारे में अपने पिताजी को पत्र लिखिए।
उत्तर:

45, शिव विहार कॉलोनी,
एयरपोर्ट रोड,
जोधपुर
दि. 11-10-20

आदरणीय पिताजी,
सादर चरण-स्पर्श।
आपका पत्र मिला। आपके स्नेह-वचन पढ़कर मन गद्गद् हो गया। आपने मेरे परीक्षाफल के बारे में जानना चाहा है। यह आपके आशीर्वाद का ही फल है कि इस बार मुझे अर्धवार्षिक परीक्षा में 80% अंक प्राप्त हुए हैं । अंग्रेजी, हिंदी एवं गणित में 85-85 अंक मिले हैं। आपका ऐसा ही आशीर्वाद रहा तो वार्षिक परीक्षा में प्रदेश की मेरिट में स्थान लाऊँगा। मैं पूर्ण मेहनत कर रहा हूँ। खाने का भी विशेष ध्यान रख रहा हूँ। समय मिलने पर खेलता भी हूँ। पूजनीया माताजी को सादर प्रणाम।

आपका पुत्र
जयराम

प्रश्न  3.
आप अपने को मयंक चौहान मानकर अपने छोटे भाई को बुरे लड़कों से दूर रहकर अपनी पढ़ाई पर ध्यान देने के लिए पत्र लिखिए ।
उत्तर:

ए-1, स्टेशन रोड,
बजाज नगर,
जयपुर।
दि. 20-12-20

परम प्रिय विनीत,
स्नेहयुक्त आशीर्वाद।
तुम्हारा पत्र मिला। मैं पढ़ाई में व्यस्त था, इसलिए समय पर उत्तर नहीं लिख पाया था। इसका मुझे दुःख है। मैं यहाँ तुम्हारे और तुम्हारी पढ़ाई के बारे में ही सोचता रहता हूँ। तुम जिस विद्यालय में पढ़ रहे हो उसमें पुस्तकालय अत्यन्त सुंदर है। यह तुम्हें पता ही होगा। तुम वहाँ खाली पीरियड में अवश्य ही कुछ-न-कुछ पढ़ा करो। विद्यालय के बुरे छात्रों से कोई मतलब मत रखना। मेरी पुरानी किताबों का पिताजी को पता है, उनसे निकलवा लेना। मैं जब आऊँगा तो तुम्हारे लिए कुछ अच्छी पुस्तकें लेता आऊँगा।

तुम्हारा बड़ा भाई,
मयंक चौहान

प्रश्न  4.
आप बस्सी (जयपुर) निवासी उदयभानु हैं। अपने बड़े भाई की शादी में आने के लिए अपने मित्र को पत्र लिखिए।
उत्तर:

गाँधी नगर
(जयपुर)
दिनांक 9-5-20

प्रिय मित्र प्रमोद,
सप्रेम नमस्कार।
मैं यहाँ कुशलपूर्वक हूँ और तुम्हारी कुशलता की प्रार्थना भगवान से करता रहता हूँ। तुम्हें यह जानकर प्रसन्नता होगी कि मेरे बड़े भाई का शुभ विवाह 17 जुलाई, 20 को संपन होगा। बारात 17 जुलाई, 20 को प्रातः हमारे घर से कोटपुतली जाएगी । मैं तुम्हें इस शुभ अवसर पर निमंत्रण दे रहा हूँ। मुझे आशा है कि तुम विवाह समारोह में अवश्य ही सम्मिलित होगे। तुम्हारे आगमन की प्रतीक्षा में,

तुम्हारा मित्र,
उदयभानु

RBSE Class 8 Hindi रचना पत्र-लेखन

2. प्रार्थना-पत्र

प्रश्न  5.
अपने को वेदप्रताप मानते हुए अस्वस्थता के कारण अपने प्रधानाध्यापक को अवकाश हेतु प्रार्थना पत्र लिखिए।
उत्तर:
सेवा में,
श्रीमान् प्रधानाध्यापक महोदय,
आदर्श विद्या मंदिर, चिड़ावा।

मान्यवर,
सादर निवेदन है कि अस्वस्थतावश मैं आज दिनांक 15.9.20 को विद्यालय आने में असमर्थ हूँ। अतः आप से अनुरोध है कि मुझे एक दिन का अवकाश प्रदान करने की कृपा करें। मैं आपका सदैव आभारी रहूँगा। दिनांक – 15.9.20.

आपका आज्ञाकारी शिष्य
वेदप्रताप मीणा
कक्षा 8 स

प्रश्न  6.
शैक्षिक भ्रमण हेतु अपने प्रधानाध्यापक महोदय से अनुमति प्राप्त करने के लिए प्रार्थना-पत्र लिखिए।
उत्तर:

सेवा में,
श्रीमान् प्रधानाध्यापक महोदय,
रा. उ. प्रा. वि., किशनगढ़।

मान्यवर,

सविनय निवेदन है कि हम कक्षा 8 अ के सभी छात्र शैक्षिक भ्रमण पर अजमेर जाना चाहते हैं । वहाँ का भ्रमण करने पर हमें एच. एम. टी. घड़ी के कारखाने की जानकारी के साथ-साथ वहाँ के प्रमुख दर्शनीय स्थलों का भौगोलिक व ऐतिहासिक ज्ञान भी प्राप्त होगा । अतः निवेदन है कि हमें इस शैक्षिक भ्रमण की अनुमति प्रदान करते हुए इतिहास के शिक्षक महोदय को मार्ग-दर्शक के रूप में भेजने की कृपा करें। दिनांक-12 अगस्त, 20

आपके आज्ञाकारी शिष्य
कक्षा 8 अ के समस्त छात्र

प्रश्न  7.
आप सूरतगढ़ निवासी रोहित नंदन हैं। आपके पिताजी का स्थानांतरण यहाँ से जयपुर हो गया है। अपने विद्यालय के प्रधानाचार्य महोदय को स्थानांतरण प्रमाणपत्र (टी.सी.) के लिए प्रार्थना-पत्र लिखिए।
उत्तर:
सेवा में,

श्रीमान् प्रधानाचार्य महोदय,
राजकीय उ. मा. विद्यालय, सूरतगढ़।

विषय-स्थानांतरण प्रमाण-पत्र (टी.सी.) के संबंध में।
मान्यवर,
विनम्र निवेदन है कि मेरे पिताजी न्याय-विभाग में कार्यरत हैं । उनका स्थानांतरण सूरतगढ़ से जयपुर हो गया है। मुझे भी अपने पिताजी के साथ जयपुर जाना है । अतः श्रीमानजी से अनुरोध है कि मुझे अपने विद्यालय से स्थानांतरण प्रमाण-पत्र दिलवाने की कृपा करें, ताकि मैं जयपुर के राजकीय विद्यालय में प्रवेश लेकर अपना अध्ययन जारी रख सकूँ । इस कृपा के लिए मैं सदैव आपका आभारी रहूँगा । दिनांक -25 दिसंबर, 20

आपका आज्ञाकारी शिष्य
रोहित नंदन
कक्षा 8 अ

प्रश्न  8.
अपने को भरत कुमार मानते हुए बड़े भाई की शादी में जाने के लिए अवकाश हेतु प्रार्थना-पत्र लिखिए।
उत्तर:
सेवा में,
श्रीमान् प्रधानाध्यापक महोदय,
आदर्श विद्या मंदिर, डीग।
महोदय,
विनम्र निवेदन है कि मेरे बड़े भाई साँवरमल का शुभ विवाह दिनांक 24 मार्च, 20 को है। बारात डीग से भरतपुर जायेगी । मेरा बारात में सम्मिलित होना आवश्यक है। अतः श्रीमानजी से प्रार्थना है कि मुझे दिनांक 23 मार्च, 20 से 25 मार्च, 20 तक तीन दिन का अवकाश प्रदान करने की कृपा करें। धन्यवाद। दिनांक-23 मार्च, 20

आपका आज्ञाकारी शिष्य
भरत कुमार
कक्षा 8 स

प्रश्न  9.
क्रिकेट मैच खेलने की अनुमति प्राप्त करने हेतु अपने प्रधानाचार्य जी को प्रार्थना-पत्र लिखिए।
उत्तर:
सेवा में,
श्रीमान् प्रधानाचार्य महोदय
रा. उच्च माध्यमिक विद्यालय,
पाली।

महोदय,
सविनय निवेदन है कि हम कक्षा 8 (अ) के छात्र कक्षा 8 (ब) के छात्रों के साथ एक क्रिकेट मैच खेलना चाहते हैं । इस मैत्रीपूर्ण मैच के लिए विद्यालय के खेल-मैदान का हम सब मध्यांतर के बाद उपयोग करना चाहते हैं । अतएव आपसे प्रार्थना है कि हमें आगामी सप्ताह में दिनांक 12.11.20 को मध्यांतर के बाद खेल-मैदान पर क्रिकेट मैच खेलने की अनुमति प्रदान करने की कृपा करें । आपकी अति कृपा होगी। दि. 4 नवम्बर, 20

आपके शिष्यगण
कक्षा-8 (अ) के सभी छात्र

RBSE Class 8 Hindi रचना पत्र-लेखन

3. बधाई-पत्र

प्रश्न  10.
आप अलवर निवासी अरुण कुमार हैं। अपने मित्र अवधेश को स्काउट गाइड रैली में राष्ट्रपति पुरस्कार मिलने पर बधाई पत्र लिखिए।।
उत्तर:

27 ख, आवास विकास कॉलोनी,
अलवर
26 फरवरी, 20

प्रिय अवधेश,
नमस्कार!
आज समाचार-पत्र में राष्ट्रपति पुरस्कार पाने वाले स्काउटों में तुम्हारा नाम देखकर कितना हर्ष हुआ, शब्दों में प्रकट नहीं कर सकता। स्काउट कार्यक्रम में तुम्हारी रुचि प्रारंभ से ही थी। मुझे विश्वास था कि तुम्हारी लगन और परिश्रम का सुफल तुमको अवश्य प्राप्त होगा। हमारे मित्र समुदाय को तुम पर गर्व है। मुझे विश्वास है कि स्काउटिंग जैसे पवित्र और सेवाभावी मिशन के माध्यम से तुम समाज और देश की महान सेवा करोगे। इस अवसर और उपलब्धि पर मेरी हार्दिक बधाई स्वीकार करो।

तुम्हारा मित्र,
अरुण कुमार

प्रश्न  11.
आप जयपुर निवासी माया प्रसाद हैं। अपने दौसा निवासी मित्र रवि को छात्र संसद के चुनाव में अध्यक्ष पद पर निर्वाचित होने पर बधाई पत्र लिखिए।
उत्तर:

676, आदर्श नगर, जयपुर
20 सितम्बर, 20
प्रिय मित्र रवि,

सप्रेम नमस्कार।
तुम्हारा कुशल-पत्र प्राप्त हुआ। यह जानकर बड़ी प्रसन्नता हुई कि तुम छात्र-संसद के अध्यक्ष पद पर निर्वाचित हुए हो। इस सफलता के लिए मेरी हार्दिक बधाई स्वीकार करो। मेरा विचार है कि विद्यालयों में इस प्रकार के क्रियाकलाप बड़े उपयोगी हैं। प्रजातंत्रीय व्यवस्था में भावी नागरिकों को इस प्रकार का प्रशिक्षण प्राप्त होना परम आवश्यक है। मुझे पूर्ण विश्वास है कि तुम अपने पद की गरिमा और उसके उत्तरदायित्व को सफलतापूर्वक वहन करोगे और छात्र-कल्याण में अपना योगदान दोगे।
शुभकामनाओं सहित,

तुम्हारा
मायाप्रसाद

प्रश्न  12.
अपने को दौसा निवासी नीरजा मानते हुए अपनी बड़ी बहिन के लिए नीट परीक्षा में सफल होने पर बधाई-पत्र लिखिए।
उत्तर:

हनुमान नगर, दौसा
17 फरवरी, 20

आदरणीय बहिन प्रतिभा,
सादर नमस्कार।।

आपका प्रसन्नता प्रदान कर देने वाला पत्र प्राप्त हुआ। नीट परीक्षा में आपकी सफलता से सारे परिवार को अपार प्रसन्नता हुई। आपने प्रतिभा नाम सार्थक किया है। पिताजी की चिरकालीन आशा आज पूरी हो गई। वे आपको ‘डॉक्टर’ देखना चाहते थे। आपने दिखा दिया कि पुत्रियों का पिता होना कम सौभाग्य की बात नहीं । जब आप अपना शिक्षण पूरा करके एम. बी. बी. एस. की उपाधि से विभूषित होंगी और आपके नाम के पूर्व ‘डॉक्टर’ अंकित होगा तो हमारा परिवार अत्यंत गौरवान्वित होगा। पिताजी और माँ के शुभ आशीषों के साथ आपको मेरी हार्दिक बधाई। समस्त मंगलकामनाओं सहित,

आपकी बहिन
नीरजा

प्रश्न  13.
आप अपने को धौलपुर निवासी कौशल्या जैन मानते हुए अपनी सहेली मधु को उसके जन्म-दिवस पर बधाई-पत्र लिखिए।
उत्तर:

2, मोहन नगर, धौलपुर,
22 अगस्त, 20

प्रिय मधु,
हार्दिक बधाई।

तुम्हारा पत्र मिला, जिसके माध्यम से तुम्हारे जन्म-दिवस के आयोजन का निमंत्रण प्राप्त हुआ। ऐसे शुभ अवसर पर मुझे उपस्थित होना ही चाहिए, किंतु मलेरिया से पीड़ित होने के कारण मैं नहीं आ सकूँगी। क्या करूँ, विवश हूँ । मेरी हार्दिक बधाई स्वीकार करो । मेरी परम प्रिय सहेली को प्रभु दीर्घायु प्रदान करें, यही मेरी हार्दिक आकांक्षा है । मेरी तुच्छ भेंट को स्वीकार करके मन से मेरी उपस्थिति अंकित कर लेना ।

तुम्हारी
कौशल्या जैन

प्रश्न  14.
तैराकी प्रतियोगिता में सफलता हेतु अपने मित्र विनोद को बधाई-पत्र लिखिए ।
उत्तर:

6, पंचवटी, चित्तौड़गढ़
12 जुलाई, 20

प्रिय मित्र विनोद,
हार्दिक बधाई।

कल समाचार-पत्र में प्रादेशिक तैराकी प्रतियोगिता में तुम्हारी सफलता का समाचार पढ़कर और चित्र में तुम्हें पुरस्कार ग्रहण करते देखकर मन गद्गद् हो उठा। आखिर तुम्हारा श्रम और तुम्हारी लगन रंग ले ही आई। तुम प्रदेश के गौरव हो। हम सभी मित्रों के गर्व का आधार हो। इस सुअवसर पर मेरी हार्दिक बधाई स्वीकार करो।। मुझे विश्वास है कि शीघ्र ही तुम राष्ट्रीय स्तर पर भी अपनी सफलता अंकित कराओगे। तुमको और तुम्हारे परिवार को पुनः हार्दिक बधाई। मिलने की आशा के साथ,

तुम्हारा मित्र
संजय कुमार

RBSE Class 8 Hindi रचना पत्र-लेखन

Leave a Comment