RBSE Class 7 Sanskrit व्याकरण विशेषण

RBSE Solutions for Class 7 Sanskrit

Rajasthan Board RBSE Class 7 Sanskrit व्याकरण विशेषण

संज्ञा व सर्वनाम की विशेषता बताने वाले शब्द विशेषण कहलाते हैं। जैसे- कृष्णः, पीतः, सुन्दरः, एकः, मधुरम् आदि। विशेषण के छः भेद हैं-

RBSE Class 7 Sanskrit व्याकरण विशेषण

  1. गुणवाचक विशेषण – किसी वस्तु के गुण तथा तुलनावाचक शब्द गुणवाचक विशेषण होते हैं। जैसेसुन्दरः बालकः। रम्यतरः, कृष्णः आदि।
  2. संख्यावाचक विशेषण – यथा-एकः छात्रः। पञ्च बालिका: आदि।
  3. परिमाणवाचक विशेषण – यथा-अल्पं जलम्, क्रोशमितम् आदि।
  4. संकेतवाचक विशेषण – जो विशेषण संज्ञा की ओर संकेत करते हैं, वे संकेतवाचक विशेषण होते हैं। जैसे-सः बालकः, सा बालिका आदि।
  5. व्यक्तिवाचक विशेषण – यथा-भारतीयः पुरुषः।
  6. विभागवाचक विशेषण – यथा-प्रत्येकं जनम्।

संस्कृत में विशेष्य के अनुसार ही विशेषण में लिंग, वचन व विभक्ति प्रयुक्त होती है। जैसे- उत्तमः पुरुषः, उत्तमा स्त्री, उत्तमं धनम्। एकः छात्रः, एका छात्राः, एकं फलम्।

RBSE Class 7 Sanskrit व्याकरण विशेषण

अभ्यासार्थ प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1.
अधोलिखितेषु पदेषु विशेषणविशेष्यपदानि पृथक्-पृथक् चित्वा लिखत।
उत्तर:
RBSE Class 7 Sanskrit व्याकरण विशेषण 1

RBSE Class 7 Sanskrit व्याकरण विशेषण

Leave a Comment